पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

वैश्विक दर्शकों के लिए कैसे लिखें

वैश्विक दर्शकों के लिए

वैश्विक दर्शकों के लिए लिखना कई अलग-अलग लेखकों के लिए एक चुनौती है। आप अपने लेखन को एक अंतर्राष्ट्रीय पाठक के साथ अनुरूप बनाने के लिए कैसे अनुकूलित कर सकते हैं? क्या आप इस तरीके से लिखते हैं जिसकी वजह से अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में गलतफहमियां, या उससे भी बुरा, अपराध होने की संभावना है? आज, हम आपको वैश्विक दर्शकों के लिए लिखने के सर्वोत्तम तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं।

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

अंतर्राष्ट्रीय दर्शकों के लिए लिखने के 6 उपाय

लेखन में अपने दर्शकों को जानना बहुत ज़रूरी होता है। हर कहानी सबके लिए नहीं बनी होती, लेकिन सर्वव्यापक विषय ऐसे होते हैं जो बस हिंदी-बोलने वाले दर्शकों से ज़्यादा लोगों को आकर्षित कर सकते हैं। कुछ ऐसा बनाने के लिए जिसे बहुत से लोग समझेंगे और उसकी परवाह करेंगे, आपको ऐसी किसी भी चीज़ से बचना होगा जो उनके रास्ते में आ सकती है, जैसे कि क्षेत्रीय-विशिष्ट भाषा या गलत अनुवाद।

अंतर्राष्ट्रीय दर्शकों के लिए लिखते समय आपको कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को जानने की ज़रूरत होती है!

1. लेखन सरल और स्पष्ट रखें

वैश्विक दर्शकों के लिए लिखते समय, चीज़ों को सरल रखना ज़रूरी है। छोटे, सीधे और पूरे वाक्यों में लिखें और संकुचन के प्रयोग से बचें। रूपकों या मुहावरों का इस्तेमाल किए बिना वो कहें जो आप कहना चाहते हैं।

आपको वाक्यांश क्रियाओं पर भी दोबारा विचार करना चाहिए। जब एक क्रिया किसी प्रकथन के साथ जुड़कर एक नया अर्थ बनाती है तब उसे वाक्यांश क्रिया कहते हैं। उदाहरण के लिए, दिल तोड़ दिया बनाम निराश।

जेनिफर इस बात से परेशान थी कि उसने एमिली का दिल तोड़ दिया।

यह वाक्य हिंदी न बोलने वाले वक्ताओं को भ्रमित कर सकता है क्योंकि वो "दिल तोड़ने" को शाब्दिक रूप से ले सकते हैं। क्या एमिली का सचमुच दिल तोड़ा जा रहा है? भ्रम से बचने के लिए आप वाक्यांश क्रिया को ज़्यादा विशिष्ट क्रिया में बदल सकते हैं।

जेनिफर इस बात से परेशान थी कि उसने एमिली को निराश कर दिया।

आपने वाक्य को ज़्यादा स्पष्ट अर्थ के साथ लिखा है, जिससे वैश्विक दर्शकों के लिए इसे समझना आसान हो गया है।

2. सांस्कृतिक अंतर और संदर्भ समझें

सभी संस्कृतियों में उनके अपने अंतर और समानताएं हैं। जो हम किसी अन्य संस्कृति के बारे में नहीं जानते हैं या उनके बारे में सोचते हैं, वो अक्सर हमारी समझ के रास्ते में आ सकता है। उदाहरण के लिए, कुछ एशियाई और दक्षिण अमेरिकी संस्कृतियां एक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए मिलकर काम करने को महत्व देती हैं। वे व्यक्तिगत ज़रूरतों से ज़्यादा समूह की ज़रूरतों को महत्व देते हैं। अमेरिकी और उत्तरी यूरोपीय संस्कृतियों में, व्यक्ति को ज़्यादा महत्व दिया जाता है। वो संस्कृतियाँ व्यक्तिगत उपलब्धि पर ज़्यादा केंद्रित हैं। इस अंतर को न समझना किसी वैश्विक पाठक को भ्रमित कर सकता है, जिन्हें ऐसा लग सकता है कि अमेरिकी स्वार्थी होते हैं और केवल अपनी परवाह करते हैं।

सांस्कृतिक संदर्भ को लेकर और अन्य संस्कृतियां किसी देश की विशिष्ट प्रथाओं को कैसे समझ सकती हैं इसे लेकर सजग रहें। संभव हो तो थोड़ा स्पष्टीकरण दें।

3. मीट्रिक प्रणाली बनाम इम्पीरियल इकाइयाँ

वैश्विक दर्शकों के लिए लिखते समय मापन की इकाइयों जैसी साधारण चीज़ भी अंतर्राष्ट्रीय पाठकों को उलझन में डाल सकती है। एक अमेरिकी होने के नाते, मैं हमेशा मापों को इम्पीरियल इकाइयों के रूप में सोचती हूँ। इंच, फीट, यार्ड। हालाँकि, मीट्रिक प्रणाली दुनिया भर में सबसे व्यापक रूप से प्रयोग की जाने वाली माप प्रणाली है। इसलिए, जब आप लिख रहे होते हैं और वैश्विक दर्शकों तक पहुंचने का प्रयास कर रहे होते हैं, तो आपके द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले किसी भी माप को उसके अनुसार समायोजित करना आवश्यक हो सकता है। अपने विशिष्ट दर्शकों को ध्यान में रखें।

4. अपनी मुद्रा पर ध्यान दें

मुझे लगता है कि ज़्यादातर अमेरिकी लेखकों के बीच यह एक आम गलती है। हम "डॉलर" या "सेंट" कहते हैं, और यह नहीं जानते कि अन्य देश भी उन शब्दों का उपयोग करते हैं। वैश्विक दर्शकों के लिए, "डॉलर" और "सेंट" यह समझने के लिए पर्याप्त नहीं हैं कि आप किस मुद्रा के बारे में बात कर रहे हैं। अमेरिकी, कनाडाई और ऑस्ट्रेलियाई मुद्राओं के बीच अंतर करने के लिए USD, CAD, या AUD का इस्तेमाल करने का प्रयास करें।

5. फोन नंबर के फॉर्मेट बताएं

अक्सर, कोई व्यक्ति बिना सोचे-समझे अपना 10 अंकों का फोन नंबर लिख देता है। उसमें क्षेत्र का कोड और नंबर शामिल होता है। वैश्विक दर्शकों के लिए लिखते समय, संख्या की शुरुआत में अपने देश का कोड शामिल करना महत्वपूर्ण होता है! उदाहरण के लिए, यूएस में, यह +1 है, और ब्राज़ील में, यह +55 है।

6. शब्दजाल, अलंकार, और रूढ़ोक्ति से बचें

वैश्विक दर्शकों के लिए लेखन का एक बड़ा हिस्सा एक भाषा को दूसरी भाषा में अनुवाद करने की चुनौती है। प्रत्येक भाषा में अपने ख़ुद के अलंकार, खिचड़ी भाषा और रोजमर्रा की बातचीत होती है। इसके बारे में जागरूक होना महत्वपूर्ण है और साथ ही जानें कि यह किसी अन्य भाषा में कैसे अनुवादित होती है या कैसे गैर-देशी वक्ता इसे नहीं समझ सकते हैं। उदाहरण के लिए, "a swing and a miss" या "home run" दोनों बेसबॉल शब्द हैं जिनका इस्तेमाल अमेरिकी अक्सर रोजमर्रा की बातचीत में करते हैं, और बेसबॉल एक अमेरिकी खेल भी है, इसलिए ये कहावतें अच्छी तरह से अनुवादित नहीं होंगी। जब आप इसे इस दृष्टिकोण से देखना शुरू करते हैं तो आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि आप अपने लेखन में कितनी रूढ़ोक्तियों का इस्तेमाल करते हैं! 

क्या आपको यह ब्लॉग पोस्ट पसंद आया? चीज़ें शेयर करना अच्छी बात है! इसलिए अगर आप इसे अपने मनपसंद सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करते हैं तो हमें बहुत अच्छा लगेगा।

सारांश

किसी अन्य देश में स्थित विशिष्ट दर्शकों के लिए लिखते समय, सांस्कृतिक प्रथाओं को समझने के लिए शोध करना ज़रूरी है। आपके लेखन का मुख्य लक्ष्य स्पष्ट होना चाहिए। आप चाहते हैं कि आपके दर्शक आपको समझें। उसके बाद, आप चाहते हैं कि आपका लेखन एक विशिष्ट दर्शक वर्ग को लक्षित हो। यानी आपको अपने काम में माप की इकाइयों, फोन नंबरों, मुद्राओं और सांस्कृतिक प्रथाओं को समायोजित करना पड़ सकता है। चीनी दर्शकों को जो चीज़ समझ आती है, ज़रूरी नहीं है कि यूरोपियन या लैटिन अमेरिकी दर्शकों को समझ आये। शोध करना महत्वपूर्ण है ताकि आप सीधे उससे बात कर सकें जिससे करना चाहते हैं।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

संस्कृति और चरित्र

पश्चिम और पूर्व में कहानी कहने की कला में अंतर

संस्कृति और चरित्र: पश्चिम और पूर्व में कहानी कहने की कला में अंतर

काल्पनिक और असली ज़िन्दगी दोनों में लोगों की दोषपूर्ण प्रकृति और विशेषताओं के पीछे संस्कृति का बहुत बड़ा योगदान होता है। अक्सर हम संस्कृति को काफी सतही तौर पर देखते हैं, जैसे हमारे पहने जाने वाले कपड़े और विशेष सांस्कृतिक उत्सव या खेल समारोह। लेकिन ये उससे कहीं ज़्यादा गहरा है। हम जिस संस्कृति में जन्म लेते हैं, वही हमारे आसपास की दुनिया को देखने के हमारे नजरिये को आकार देती है — भले ही हमें इसका एहसास हो या न हो। यह उस लेंस को ख़राब कर देती है, जिससे हम ज़िन्दगी को अनुभव करते हैं और हमारे आदर्शों और व्यवहार को प्रभावित करती है...

अनोखी कहानी बताने के लिए कहानी कहने की सांस्कृतिक तकनीकों का इस्तेमाल

अनोखी कहानी बताने के लिए कहानी कहने की सांस्कृतिक तकनीकों का इस्तेमाल कैसे करें

कहानी कहने की कला हम जो हैं उसका मूलभूत आधार है, लेकिन हम विविध और अलग हैं। हमारी अलग-अलग संस्कृतियां हमारे जीवन पर गहरा असर डालती हैं, और, इसकी वजह से, हमारे कहानियां बताने के तरीके में भी बदलाव आता है। संस्कृति न केवल यह निर्धारित करती है कि हम कौन सी कहानियां बताते हैं, बल्कि यह भी निर्धारित करती है कि हम उन्हें कैसे बताते हैं। दुनिया भर में कहानी कहने की कला की तकनीकें कैसे अलग हैं? अलग-अलग देश अपनी कहानियों में किन चीज़ों को अहमियत देते हैं? आज मैं आपको बताने वाली हूँ कि अलग-अलग देश किस तरह से फ़िल्म और टेलीविज़न में संस्कृति का प्रयोग करते हैं...
How to Use Mythology in Storytelling

पटकथा लेखन में पौराणिक कथाओं का प्रयोग कैसे करें

पौराणिक कथा परंपरा पर आधारित कहानी होती है, जो हमारी दुनिया और मानवीय स्थिति को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है। स्वर्गीय जोसेफ कैंपबेल के आने तक, हॉलीवुड को शायद यह अंदाज़ा नहीं था कि सिल्वर स्क्रीन पर इसकी कहानियां प्राचीन पौराणिक कथाओं पर आधारित हैं। लेकिन आज, दुनिया भर के कहानीकार यह मानते हैं कि ज़्यादातर महान कहानियों में एक पैटर्न होता है, चाहे उन्हें मंच पर प्रस्तुत किया जाए, सोप ओपेरा में प्रस्तुत किया जाए, या फिर किसी ब्लॉकबस्टर सुपरहीरो फ़िल्म के रूप में। आप भी इस पौराणिक पैटर्न को अपने फायदे के लिए प्रयोग कर सकते हैं। आप शायद पहले से ही अनजाने में कुछ पौराणिक संरचनाओं को अपनी कहानियों...