पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

पटकथा लेखन में पौराणिक कथाओं का प्रयोग कैसे करें

पौराणिक कथा परंपरा पर आधारित कहानी होती है, जो हमारी दुनिया और मानवीय स्थिति को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है। स्वर्गीय जोसेफ कैंपबेल के आने तक, हॉलीवुड को शायद यह अंदाज़ा नहीं था कि सिल्वर स्क्रीन पर इसकी कहानियां प्राचीन पौराणिक कथाओं पर आधारित हैं। लेकिन आज, दुनिया भर के कहानीकार यह मानते हैं कि ज़्यादातर महान कहानियों में एक पैटर्न होता है, चाहे उन्हें मंच पर प्रस्तुत किया जाए, सोप ओपेरा में प्रस्तुत किया जाए, या फिर किसी ब्लॉकबस्टर सुपरहीरो फ़िल्म के रूप में। आप भी इस पौराणिक पैटर्न को अपने फायदे के लिए प्रयोग कर सकते हैं।

आप शायद पहले से ही अनजाने में कुछ पौराणिक संरचनाओं को अपनी कहानियों और किरदारों में शामिल कर रहे होंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि हम दुनिया को जिस नज़र से देखते हैं, उसमें पौराणिक कहानियां बहुत गहराई में समाई हुई हैं। जब आप संबंधित पौराणिक आदर्शों की अच्छी समझ पा लेते हैं तो आप अपने किरदारों और उनके सफर को ज़्यादा रोचक बनाने के लिए उनका प्रयोग कर सकते हैं।

हमारे साथ बने रहिये! हम जल्दी ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

हमने इस विषय पर लेखक और पटकथा लेखक फिल कूसिनो का साक्षात्कार लिया क्योंकि उन्होंने 1990 में कैंपबेल के साथ किताब लिखी थी। "द हीरोज़ जर्नी: जोसेफ कैंपबेल ऑन हिज़ लाइफ एंड वर्क" में कैंपबेल ने अपनी पौराणिक खोज को याद करते हैं। कूसिनो के नाम पर 20 से अधिक पटकथा लेखन क्रेडिट भी हैं, जिनमें "द हीरोज़ जर्नी" डाक्यूमेंट्री पर सह-लेखन का क्रेडिट भी शामिल है।

"पौराणिक कथा के बारे में सोचने का एक तरीका यह है कि यह एक पवित्र कहानी होती है," कूसिनो ने बताना शुरू किया। "यह एक ऐसी कहानी होती है, जिस पर अक्सर एक पूरी संस्कृति आधारित होती है।"

ये कहानियां और उनके अनोखे पात्र दुनिया भर से और किसी भी समय से आ सकते हैं: ग्रीक देवी-देवताओं, और राक्षसों, परियों और कल्पित बौनों, नॉर्स के युद्ध के देवताओं, पूर्वी यूरोप की चुड़ैलों और पिशाचों, सुदूर पूर्वी ड्रैगन, अमेरिका में पाए गए सोने के शहरों, और मिस्र में भूमि के नीचे की दुनिया के बारे में सोचें। हालाँकि, अर्थ और शैली में कुछ शब्द थोड़े-बहुत अलग हो सकते हैं, लेकिन लोककथाएँ, किंवदंतियाँ और परीकथाएँ आपको अपनी अगली पटकथा का आधार तैयार करने के लिए शानदार प्रेरणा प्रदान कर सकती हैं। आख़िरकार, इन कहानियों को हर समय में और दुनिया भर में हमें बताया गया है ताकि हमें अकेलापन कम करने में मदद मिल सके।

कैंपबेल ने मोनोमिथ शब्द के पीछे के विचार की खोज की थी, जो उनके इस सिद्धांत के बारे में बताता है कि सभी महान कहानियों के कथानक में एक सामान्य पैटर्न मौजूद होता है, चाहे वो किसी भी देश या संस्कृति से आये हों। हम सभी उस मोनोमिथ का अपने जीवन में अनुभव करते हैं, जो इस सामान्य संरचना पर आधारित कहानियों को हमारे लिए इतना आकर्षक और प्रासंगिक बनाता है। आम तौर पर, हम (या आपके किरदार) किसी बदलाव के रास्ते पर निकलते हैं, और कुछ चीज़ें निश्चित रूप से हमारे साथ होती हैं। हम साथियों से मिलते हैं, बाधाओं को पार करते हैं, डर का सामना करते हैं, और हम सभी को अपने किरदारों (या ख़ुद) को विकसित होते हुए देखने के लिए इन चरणों से गुज़रना पड़ता है।

कूसिनो ने बताया, "पौराणिक कथा आपको आधार देती है। इसलिए, आधार ही वो जगह है जहाँ सारा अर्थ छिपा होता है। उसपर बनी हुई कहानी कथानक होती है।"

कैंपबेल की मोनोमिथ, या द हीरोज़ जर्नी को अपनी पटकथा का आधार मानें।

द हीरोज़ जर्नी

*ग्रैंड वैली स्टेट यूनिवर्सिटी लाइब्रेरी से

  • साधारण दुनिया

    यह नायक की असली दुनिया है, जहाँ नायक के पास किसी चीज़ की कमी है या उससे कुछ छीन लिया गया है।

  • रोमांच की पुकार

    अपना लक्ष्य हासिल करने के लिए, नायक के सामने कोई चुनौती या रोमांच लाया जाता है।

  • पुकार अस्वीकार करना

    नायक उस पुकार पर ध्यान नहीं देना चाहता लेकिन आख़िर में उच्च आह्वान या प्रेरणा की वजह से तैयार हो जाता है।

  • गुरु से मुलाक़ात

    नायक किसी ऐसे व्यक्ति से मिलता है जो उसे सलाह देता है, लेकिन वो व्यक्ति नायक के साथ उसके सफर पर नहीं जा सकता।

  • दहलीज़ पार करना

    नायक काम पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है और इस नयी वास्तविकता में प्रवेश करता है।

  • परीक्षा, साथी और दुश्मन

    इस नयी वास्तविकता में, नायक कई लोगों के माध्यम से नियम सीखता है जो उसे नयी जानकारी देते हैं, और नायक अपनी वास्तविक विशेषताओं को प्रकट करना शुरू करता है।

  • सबसे अंदरूनी गुफा में जाना

    नायक और उसके साथी एक ऐसी खतरनाक जगह पर पहुंच जाते हैं जहाँ सफर का उद्देश्य छिपा होता है।

  • सबसे बड़ी परीक्षा

    नायक शारीरिक या मानसिक रूप से, जीवन या मृत्यु की परिस्थिति का सामना करता है।

  • पुरस्कार, या तलवार पाना

    नायक बच जाता है और वो चीज़ पा लेता है जिसकी उसे तलाश थी।

  • वापसी

    नायक को अपने कामों के परिणामों और अपने पुराने जीवन में वापस जाने या ना जाने के फैसले का सामना करना पड़ता है।

  • पुनर्जीवन

    अपने नए रूप में आने से पहले नायक को एक आख़िरी परीक्षा देनी पड़ती है।

  • अमृत के साथ वापसी

    नायक अपने खोजे गए ख़ज़ाने, प्रेम, आज़ादी, या बुद्धिमानी के साथ अपने सफर से वापस लौटता है। अगर हम किसी हारे हुए नायक के साथ काम कर रहे हैं तो हम उसे वापस अपनी गलतियाँ दोहराते हुए देखते हैं।

अपनी इस यात्रा के दौरान, आपका नायक दूसरे पारंपरिक मूल पात्रों से मिलेगा, और आपको अपनी पटकथा में संदर्भों के रूप में प्रयोग करने के लिए इनका अध्ययन करना चाहिए। ज़ाहिर तौर पर, वो अलग लग सकते हैं और उनके अलग-अलग उद्देश्य हो सकते हैं। फिर भी, कैंपबेल कहते हैं कि हम अपने सफर – और फ़िल्मों में – जिन लोगों से मिलते हैं वो किसी निश्चित मूल आदर्श में अच्छी तरफ से फिट होते हैं।

"किसी प्राचीन पौराणिक कथा का कोई चरित्र एक संपूर्ण संस्कृति का चेहरा या व्यक्तित्व हो सकता है," कूसिनो ने बताया। "यदि आप पुराने इंग्लैंड के बारे में सोचते हैं, तो आपके दिमाग में कौन आता है? किंग आर्थर। कुछ मूल प्रारूप संबंधी विचारों को आकार देने के लिए, शक्ति देने के लिए आपको किसी चेहरे की ज़रुरत होती है। इसलिए यह सब एक चरित्र में व्यक्त किया जाता है।”

कैंपबेल के चरित्र आदर्श:

  • नायक

    नायक कहानी को बढ़ाता है। उनके अंदर कमियां होती हैं, लेकिन वो अच्छे होते हैं और उन्हें पसंद किया जाता है, और सफर के अंत तक वो एक बदलाव से गुज़रते हैं। वो दूसरों की ज़रुरतों के लिए अपनी ख़ुद की ज़रुरतों का बलिदान करते हैं।

  • गुरु

    यह व्यक्ति नायक को कुछ सिखाकर और उसकी रक्षा करके उसके सफर में उसकी मदद करेगा। गुरु नायक को आगे की यात्रा के लिए तैयार करता है और अक्सर उसे उस यात्रा पर जाने के लिए मनाता है।

  • द्वार संरक्षक

    यह चरित्र नायक के अलावा किसी और को नयी वास्तविकता में प्रवेश करने से रोकता है। उनसे आगे निकलकर या उनका साथी बनकर, किसी तरह से उनपर काबू पाना ज़रुरी होता है। वे सफर के लिए नायक की प्रतिबद्धता परखेंगे।

  • अग्रदूत

    अग्रदूत हीरो को कार्यवाही करने के लिए प्रेरित करता है। यह चरित्र आम तौर पर चुनौती का भी खुलासा करता है।

  • छाया

    यह नकारात्मक चरित्र या शक्ति, नायक को चुनौती देने के लिए ख़ुद को दुश्मनों और खलनायक के रूप में पेश करती है। उन्हें प्रभावशाली विरोधी होना चाहिए।

  • छलिया

    छलिया अक्सर हीरो और कहानी में हास्य प्रदान करता है, लेकिन शरारती भी होता है। वो बदलाव लाना चाहते हैं, और अक्सर चरित्र की कमियां बताने या उन्हें उजागर करने में मदद करते हैं।

  • आकार बदलने वाला चरित्र

    आकार बदलने वाला चरित्र अक्सर नायक के विपरीत लिंग का होता है और एक अस्थिर बल का काम करता है, जिसकी वजह से तनाव और संदेह पैदा होता है।

ज़ाहिर तौर पर, कुछ पौराणिक कथाएं ज़्यादा विशिष्ट संरचनाएं और आदर्श रूप प्रदान करती हैं, लेकिन आप इन्हें ऐसी कहानियां बनाने के लिए शुरुआती बिंदुओं के रूप में प्रयोग कर सकते हैं, जो सभी संस्कृतियों और पृष्ठभूमि के लोगों को ख़ुद से जोड़ती हैं। आपके किरदारों को संरचना का पूरी तरह से पालन करने की ज़रुरत नहीं है - वास्तव में, चीज़ों को दिलचस्प बनाए रखने के लिए, उन्हें कभी-कभी रास्ते से भटकने दें या किसी अलग मूलरूप आदर्श वाले व्यक्ति से मिलने दें। उदाहरण के लिए, वो किसी ऐसे व्यक्ति से मिल सकते हैं, जिसमें एकाधिक मूलरूप आदर्श होते हैं।

महान पौराणिक कथाओं का अध्ययन करने के लिए बहुत सारे संसाधन उपलब्ध हैं, जिनमें क्रिस्टोफर वोगलर की "द राइटर्स जर्नी: मिथिक स्ट्रक्चर फॉर राइटर्स" और मेरा अपना मनपसंद, माइथोलॉजी - स्पॉटिफाई ओरिजिनल पॉडकास्ट शामिल है।

कूसिनो ने अंत में कहा, "आप पौराणिक क्षेत्र में हैं, और यही वो जगह है जो [आपकी कहानी] को गूंज देता है। यह भावना देता है, रहस्य देता है, और एक ऐसी कहानी का एहसास देता है, जिसे संपूर्ण समय के दौरान बार-बार बताया गया है।"

हमने यह सब पहले सुन रखा है,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

खोजें अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा

अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे खोजें

आपने शायद किसी को यह कहते सुना होगा कि, "वो उच्च अवधारणा वाली फ़िल्म है," लेकिन इसका वास्तव में क्या मतलब होता है? इतने सारे कार्यकारी और स्टूडियो उच्च अवधारणा वाले काम की तलाश में क्यों हैं? आज मैं आपको समझाने वाली हूँ कि असल में उच्च अवधारणा का क्या मतलब होता है और साथ ही आपको यह भी बताऊंगी कि आप अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे ढूंढ सकते हैं। उच्च अवधारणा का क्या मतलब है? किसी "उच्च अवधारणा" वाली फ़िल्म का विचार किसी यादगार और अनोखे हुक का मूलभूत पहलू होता है। यह फ़िल्म किसी चरित्र के बजाय विचार या दुनिया से प्रेरित होती है। इसे बताना आसान होता है, और सबसे बड़ी बात...
How to Find the Meaning of a Story

अपनी पटकथा की कहानी में अर्थ कैसे ढूंढें

"महान कहानियां आपको दुनिया में कम अकेला महसूस कराती हैं।" - फिल कूसिनो। फिल कूसिनो के साथ SoCreate के साक्षात्कार में, मुझे कई "आ-हा" वाले पल मिले हैं, जो एक ऐसे कहानीकार हैं जिनके नाम पर बहुत सारे क्रेडिट्स दर्ज़ हैं। ज़ाहिर तौर पर, मुझे पता है कि हम किसी कारण से कहानियां कहते हैं, लेकिन ऊपर दिए गए अनमोल वचन के माध्यम से कूसिनो ने सचमुच मुझे इसका मतलब समझा दिया। कहानियां हमें इस दुनिया को और इस दुनिया में हमारी जगह को समझने में मदद करती हैं। और कहानियों से हमें पता चलता है कि हम अपने अनुभवों में अकेले नहीं हैं। दर्शक ख़ुद को ऐसी कहानियों में डूबा सकते हैं, जिससे वो ख़ुद को जोड़ पाते हैं...

करेंअपनी पटकथा में पिक्सर के कहानी के नियमों का प्रयोग

अपनी पटकथा में पिक्सर के कहानी के नियमों का प्रयोग कैसे करें

पिक्सर को विकसित किरदारों और कथानकों वाली विचारशील फ़िल्मों के लिए जाना जाता है, जो आपका दिल छू लेती हैं। वो एक के बाद एक मार्मिक सफल फ़िल्में कैसे बना लेते हैं? 2011 में, पिक्सर की पूर्व स्टोरीबोर्ड आर्टिस्ट, एमा कोट्स, ने कहानी के नियमों का एक संग्रह ट्वीट किया था, जो उन्होंने पिक्सर में काम करने के दौरान सीखा था। इन नियमों को "पिक्सर के कहानी के 22 नियम" के रूप में जाना जाता है। आज मैं आपके साथ ये नियम शेयर करने वाली हूँ, और साथ ही यह भी बताऊंगी कि पटकथा लिखते समय मैं उन्हें कैसे प्रयोग करती हूँ...