पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक नील राइट

संस्कृति और चरित्र: पश्चिम और पूर्व में कहानी कहने की कला में अंतर

संस्कृति और चरित्र

पश्चिम और पूर्व में कहानी कहने की कला में अंतर

काल्पनिक और असली ज़िन्दगी दोनों में लोगों की दोषपूर्ण प्रकृति और विशेषताओं के पीछे संस्कृति का बहुत बड़ा योगदान होता है। अक्सर हम संस्कृति को काफी सतही तौर पर देखते हैं, जैसे हमारे पहने जाने वाले कपड़े और विशेष सांस्कृतिक उत्सव या खेल समारोह। लेकिन ये उससे कहीं ज़्यादा गहरा है। हम जिस संस्कृति में जन्म लेते हैं, वही हमारे आसपास की दुनिया को देखने के हमारे नजरिये को आकार देती है — भले ही हमें इसका एहसास हो या न हो। यह उस लेंस को ख़राब कर देती है, जिससे हम ज़िन्दगी को अनुभव करते हैं और हमारे आदर्शों और व्यवहार को प्रभावित करती है।

अपनी जगह पर बने रहें! हम जल्दी ही, नए लोगों से लेकर पेशेवरों तक सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए अपना SoCreate पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

उदाहरण के लिए, पश्चिमी और दूरस्थ संस्कृतियों के बीच के अत्यधिक अंतर को ही ले लीजिये। पश्चिम में, इंसानों को खाना बुरा माना जाता है। जबकि पापुआ न्यू गिनी में, अंतिम संस्कार में मरे हुए को खाना प्यार का प्रतीक माना जाता है। अमेरिकी लोग नियमित रूप से अपने खाने और फ़ास्ट-फ़ूड रेस्टोरेंट में करोड़ों किलोग्राम बीफ खाते हैं, जबकि भारत में, गायों को पवित्र माना जाता है। इन विशाल अंतरों को ध्यान में रखते हुए, यह जानकर कोई हैरानी नहीं होनी चाहिए कि दुनिया के हमारे मॉडल संस्कृति से प्रभावित होते हैं। और वही संस्कृति हमारी कहानियां कहने के तरीके को प्रभावित करती है।

स्टोरीटेलिंग की विकासवादी भूमिका

हम जिन भी मानवीय समाजों को जानते हैं वो बोलकर या लिखकर, किसी न किसी रूप में कहानियां कहते हैं। अलग-अलग संस्कृतियों में, कहानियां सांस्कृतिक मानदंडों और सबकों को शामिल करने के तरीके के रूप में प्रतीत होती हैं और यह पता लगाने में लोगों की मदद करती हैं कि किसी विशेष वातावरण में व्यवस्था को नियंत्रित या पुनर्स्थापित करने के लिए उन्हें क्या करने की ज़रूरत है।

कहानियां लगभग हमेशा बड़े-बूढ़ों द्वारा सुनाई जाती हैं, जो कहानी के माध्यम से बच्चों को यह बताने की कोशिश करते हैं कि जीवन में क्या सही है और क्या गलत, क्या मूल्यवान है और क्या नहीं, और साथ ही वो इस बात पर ज़ोर देते हैं कि अच्छे नागरिक कैसे व्यवहार करते हैं। इसलिए, कहानियां अक्सर नैतिक सबक सिखाती हैं, दंड और पुरस्कार देती हैं, और वो ऐसा इस तरह से करती हैं जिससे उनकी मूल संस्कृति का पता चले। और वयस्क (कहानीकार) अपने ख़ुद के संदेश जोड़कर अक्सर कहानियों में फेर-बदल करते रहते हैं।

जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, हमारे दिमाग का विकास हो रहा होता है और यह हमारे आसपास की दुनिया से जानकारी लेता है। इसलिए, बच्चे जो कुछ भी देखते हैं, वो उनके तंत्रिका मार्गों को आकार देता है। ऐसा माना जाता है कि जीवन के पहले सात वषों में ये तंत्रिका आकार ख़ास तौर पर महत्वपूर्ण होते हैं।

पश्चिमी परिदृश्य

पश्चिमी बच्चों को इस तरह से बड़ा किया जाता है कि व्यक्तिवाद की संस्कृति में वो ख़ुद को एक अलग व्यक्ति के रूप में देखते हैं। दुनिया में स्वयं की यह धारणा एक अनोखी विशेषता है, जिसके बारे में माना जाता है कि इसकी शुरुआत लगभग 2,500 साल पहले प्राचीन ग्रीस में हुई थी। पश्चिमी लोग जीवन को अपने चुनावों और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के माध्यम से भी देखते हैं और दुनिया को अलग-अलग हिस्सों और टुकड़ों में बना हुआ देखते हैं।

कुछ मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, पश्चिमी स्टोरीटेलिंग का मॉडल ग्रीक के पथरीले और पहाड़ी परिदृश्य का उत्पाद है — जो बड़े पैमाने पर कृषि के लिए कुछ ख़ास उपयुक्त नहीं था। इसलिए, प्राचीन ग्रीस में सफलता पाने के लिए विभिन्न प्रकार के छोटे व्यवसायों के माध्यम से अपने दम पर कुछ करना ज़रूरी था, जैसे मछली पकड़ना, खाल बेचना, या जैतून का तेल बनाना।

इसलिए, ग्रीक के लिए, आत्म-निर्भरता सफलता की कुंजी थी। और अपने आसपास के क्षेत्रों में महारत हासिल करने के लिए उनके लिए व्यक्तिवाद का सिद्धांत सर्वोपरि था। यह एक आदर्श सिद्धांत नहीं है, लेकिन निश्चित रूप से बहुत आकर्षक है - और इससे यह समझा जा सकता है कि कैसे ग्रीक लोगों के साथ शुरू होकर पश्चिम में 'व्यक्तिगत' के सिद्धांत की उत्पत्ति हुई।

ज़ाहिर तौर पर, ग्रीक लोगों ने एक सांस्कृतिक केंद्र बिंदु के रूप में सर्व-शक्तिशाली व्यक्ति की प्रशंसा करनी शुरू कर दी। उन्होंने व्यक्तिगत महिमा, सर्वश्रेष्ठता और प्रगति की भी सराहना की। अंत में, ग्रीक लोगों ने एक ऐसी महान प्रतियोगिता की शुरुआत की, जो व्यक्ति से व्यक्ति की प्रतिस्पर्धा का प्रदर्शन करती है, जिसे आज भी हम ओलंपिक्स के रूप में जानते हैं । ग्रीक लोगों ने लोकतंत्र और व्यक्तिगत मतदान अधिकारों के प्रारंभिक रूपों का भी प्रयोग किया था, और उन्होंने अपनी पौराणिक कथाओं में, आत्ममोह और आत्म-प्रेम के खतरों के बारे में भी ज़िक्र किया।

सबसे महत्वपूर्ण, यह मुख्य संदेश था कि प्रगति और आत्म-विश्वास के माध्यम से, व्यक्ति अपनी ख़ुद की नियति और शक्ति का सबसे बड़ा विजेता बन सकता है और अपने मनपसंद जीवन का चुनाव कर सकता है। इन आदर्शों के जाग्रत होने पर, व्यक्ति दास-स्वामियों, अत्याचारियों और यहाँ तक कि ईश्वर की बेड़ियों को भी तोड़कर रख सकता है।

पूर्वी परिदृश्य

सुदूर पूर्व में चीज़ें बहुत अलग हैं। कोरिया और जापान की मातृ संस्कृति, चीन, यूरेशियन महाद्वीप के सबसे दूर स्थित है और पहाड़ों और रेगिस्तानों से अलग की हुई है। ग्रीक लोगों के लिए, चीनी सभ्यता की कोई भी झलक, शायद सिल्क रोड पर व्यापारियों और यात्रियों की अफवाहें और गपशप थी।

चीन के विशाल खुले स्थान और उपजाऊ कृषि भूमि ग्रीस की परिस्थितियों से बिल्कुल अलग थे। विशाल कृषि क्षेत्रों की उपलब्धता के कारण बड़े समूह में काम करने की ज़रूरत पैदा हुई। जहाँ चीन में सफलता का मतलब शायद चावल या गेहूं की सिंचाई के काम के लिए किसी बड़े समुदाय में जगह बनाना और सबके साथ मिलकर काम करना था। छोटे-छोटे व्यवसायों के बजाय, जीवित रहने के लिए टीमवर्क और एक-दूसरे पर भरोसा ज़रूरी बन गया। कुछ मनोवैज्ञानिकों ने इसे 'नियंत्रण के सामूहिक सिद्धांत' के रूप में बताया है। और ऐसा माना जाता है कि इस तरह के भौगोलिक कारकों ने चीन और सुदूर पूर्व के स्वयं के सामूहिक आदर्श को जन्म दिया।

चीन के सबसे प्रसिद्ध दार्शनिक, कन्फ्यूशियस, अपने लेखन में इन सामूहिक आदर्शों का समर्थन करते हुए प्रतीत होते हैं, और श्रेष्ठ व्यक्ति का वर्णन करते हुए कहते हैं कि, "श्रेष्ठ व्यक्ति वही है जो अपनी बड़ाई नहीं करता बल्कि अपने गुणों को छिपाकर रखना पसंद करता है, क्योंकि वो एक मैत्रीपूर्ण सद्भाव पैदा करना चाहता है और संतुलन एवं सद्भाव की अवस्थाओं को सर्वोत्तम तरीके से बनाये रखना चाहता है।" ये सब प्राचीन ग्रीक के दार्शनिकों की बातों से बिल्कुल अलग है।

पूर्वी लोगों के लिए, सामूहिक प्रयास के माध्यम से ही दुनिया पर सफलतापूर्वक नियंत्रण पाया जा सकता है, जिसने चीनियों के वास्तविकता को देखने के तरीके को भी आकार दिया है। उनके लिए, अस्तित्व परस्पर जुड़ी शक्तियों का एक क्षेत्र है - और ग्रीक लोगों की तरह वो उसे अलग-अलग टुकड़ों और भागों के रूप में नहीं देखते हैं। और वास्तविकता के इन बिल्कुल अलग दृष्टिकोणों से अलग-अलग तरह की कहानियां बाहर निकलती हैं।

संकट। संघर्ष। समाधान?

ग्रीक कहानियों में आम तौर पर तीन अंक होते हैं, या अरस्तू ने जिन्हें 'शुरुआत,' 'मध्य,' और 'अंत' का नाम दिया है, जिन्हें कभी-कभी 'संकट', 'संघर्ष' और 'समाधान' के चरणों के रूप में भी जाना जाता है। ग्रीक कहानियों में आम तौर पर मुख्य नायक के रूप में एक अकेला हीरो होता है, जो अपने सफर के दौरान शैतानों से लड़ता है और आख़िर में ख़ज़ाने के साथ घर लौटने के लिए बड़ी-बड़ी बाधाओं पर जीत हासिल करता है।

या दूसरे शब्दों में, ग्रीक कहानियां व्यक्ति के एक ग्रीक आदर्श को साकार करती हैं, जो आम तौर पर साहसी होता है और अगर मन बना ले तो सबकुछ बदल सकता है। इस तरह की कहानियां बचपन में पश्चिमी दिमाग को प्रभावित करती हैं, और कुछ अध्ययनों से पता चला है कि जब बच्चों को कहानी बनाने के लिए कहा जाता है तो वो कम उम्र से ही अवचेतन रूप से ग्रीक मॉडल का पालन करते हैं।

चीन का दृष्टिकोण बहुत अलग है। उदाहरण के लिए, आधुनिक समय तक, चीनी साहित्य में कोई आत्मकथाएँ मौजूद नहीं हैं। और अगर वो आती भी हैं तो उनकी कोई आवाज़ या राय नहीं होती और इसे लगभग जीवन पर विचार करने वाले एक दर्शक के दृष्टिकोण से बताया जाता है, न कि सीधे उस व्यक्ति के दृष्टिकोण से जो इसे बता रहा होता है।

इसी तरह काल्पनिक कहानियों में, सीधे कारण और प्रभाव के पैटर्न का पालन करने के बजाय, पूर्वी कहानियां कई अलग-अलग चरित्रों का रूप लेती हैं, जो अक्सर विरोधाभासी तरीकों से कथानक के ड्रामा को दर्शाते हैं। इससे पाठक को एक ऐसी स्थिति में रखने की कोशिश की जाती है, जहाँ उन्हें अपने से यह पता लगाना और समझना पड़ता है कि असल में क्या हुआ था।

रयूनोसुके अकुटागावा की 'इन ए बैंबू ग्रोव' इसका एक बहुत अच्छा उदाहरण है। इस कहानी में, एक पीड़ित की हत्या कर दी जाती है, और कई गवाह इस घटना का ब्यौरा देते हैं, जिनमें ख़ुद पीड़ित की आत्मा भी शामिल है। पूर्वी कहानियों में स्पष्ट, साफ़ अंत, या असली समापन बहुत कम देखने को मिलता है। पूर्वी साहित्य में हमेशा ख़ुशी-ख़ुशी रहने वाले अंत जाने-पहचाने नहीं हैं। इसके बजाय, पाठक को ख़ुद फैसला करना पड़ता है, और इस तरह से पूर्वी लोग कहानी का आनंद प्राप्त करते हैं।

कहानी का एकताकारी उद्देश्य

व्यक्तियों पर केंद्रित पूर्वी मूल की कुछ कहानियों में, साहसी कामों को सामूहिक तरीके से हासिल किया जाता है। पश्चिमी वीरता की कहानियों में, हीरो को बुराई के ख़िलाफ़ खड़ा दिखाया जाता है, सत्य की जीत होती है और प्यार की जीत होती है। लेकिन एशिया में, वीरता बलिदान के माध्यम से प्राप्त की जाती है, ख़ासकर अगर वो बलिदान परिवार और समुदाय की रक्षा और देखभाल करने में मदद करता है।

जापानियों के स्टोरीटेलिंग के एक रूप को किशोटेनकेत्सु के रूप में जाना जाता है। इसमें आम तौर पर चार अंक होते हैं। पहले अंक में, हमें चरित्रों से मिलाया जाता है। दूसरे अंक में, नाटक शुरू होता है। तीसरे अंक में आम तौर पर कोई मोड़ या कुछ अनोखा होता है। अंतिम अंक में, पाठक को कहानी के सभी भागों के बीच सामंजस्य ढूंढने की कोशिश करने के लिए इसे खुला छोड़ दिया जाता है।

पूर्वी मूल की कहानियों के बारे में पश्चिमी पाठकों को सबसे ज़्यादा हैरान करने वाली चीज़ों में से एक यह है कि उनका अंत अक्सर अस्पष्ट होता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि पूर्वी दर्शन में, जीवन को आम तौर पर जटिल के रूप में देखा जाता है, जिसमें कोई स्पष्ट जवाब नहीं होते।

पूर्वी संस्कृतियों के पाठकों को सामंजस्य की कथात्मक खोज में आनंद आता है। वहीं दूसरी तरफ, पश्चिमी लोगों को अकेले लोगों की सभी बाधाओं को पार करके जीत हासिल करने वाली कहानियां अच्छी लगती हैं। इन कहानियों का अंतर यह दर्शाता है कि दोनों संस्कृतियां परिवर्तन को अलग-अलग तरीके से समझती हैं। पश्चिमी लोगों को लगता है कि दुनिया छोटे-छोटे भागों से बनी है, जिसे कहानी में कोई आकस्मिक परिवर्तन आने पर वापस एक साथ लाने की ज़रूरत होती है। पूर्वी लोगों के लिए, जीवन आपस में जुड़े बलों का क्षेत्र है। आकस्मिक परिवर्तन होने पर, पूर्वी लोग इन जीवन शक्तियों को वापस सामंजस्य में लाने की कोशिश करते हैं ताकि वो सभी एक-साथ रह सकें।

और जहाँ दोनों पूर्व और पश्चिम अलग-अलग प्रकार की कहानियां कहते हैं, वहीं उन दोनों का अन्तर्निहित उद्देश्य समान होता है। पूर्व और पश्चिम दोनों ही कहानियों को नियंत्रण के सबक के रूप में बताते हैं। वो दुनिया में अपनी जगह खोजने के लिए, लोगों को दिशा दिखाने में मदद करने के लिए बनाई की गयी हैं। ऐसा लगता है कि हर जगह की कहानियां अराजकता में व्यवस्था लाने की कोशिश करती हैं। वो हमारे आस-पास की दुनिया की विस्मयकारी वास्तविकता को नियंत्रित करने के तरीके के रूप में काम करती हैं।

लेखक का परिचय

नील राइट यूके में स्थित मैकगोवन ट्रांस्क्रिप्शंस नामक ट्रांसक्रिप्शन कंपनी में कॉपीराइटिंग एक्जीक्यूटिव हैं। उन्हें लिखना और पढ़ना बहुत पसंद है। वर्तमान में, वह अपने पहले उपन्यास 'पोएटिक स्पेसेस' पर काम कर रहे हैं।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

लिखें एनीमेशन के लिए

एनीमेशन के लिए कैसे लिखें

अगर आपको ऐसा लगता है कि लाइव-एक्शन पटकथा लेखन में बहुत ज़्यादा दृश्य इस्तेमाल होते हैं तो ज़रा रुक जाइये क्योंकि आपने अभी तक एनीमेशन के लिए लिखी गयी पटकथा नहीं देखी है! हालाँकि, कुछ लोग एनीमेशन को शैली कहना पसंद करते हैं, लेकिन मैं इसे कहानी कहने की कला का बिल्कुल अलग माध्यम मानती हूँ। आज हम जानने वाले हैं कि एनीमेशन के लिए कैसे लिखा जाता है, चाहे वो कोई एनिमेटेड टेलीविज़न शो हो या फिर फ़िल्म, और यह प्रक्रिया पारंपरिक पटकथा लेखन से अलग होती है...

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की किताबों, टेलीविज़न कार्यक्रमों, और फ़िल्मों के माध्यम से हम पहली बार कहानियों को जानते हैं। ये शुरूआती कहानियां दुनिया के लिए हमारी समझ और पारस्परिक प्रभाव को आकार देने में मदद करती हैं। बड़े होने के बाद उनकी अहमियत कम नहीं होती; बल्कि, बच्चों की कहानियों से हमें पटकथा लेखन के बारे में एक-दो चीज़ें सीखने में मदद मिल सकती है! सरल अक्सर बेहतर होता है - बच्चों की कहानियां हमें एक आईडिया लेकर, इसके आवश्यक अर्थ को बाहर निकालना सिखाती हैं। मैं आपको इसे बेहद आसान बनाने के लिए नहीं कह रही, बल्कि अपने आईडिया को सबसे सरल तरीके से ज़ाहिर करने की बात कर रही हूँ...
"कहानियां क्यों लिखें" के ग्राफ़िक पर जोनाथन मैबेरी, जीन बोमरन, और डग रिचर्डसन

कहानियां क्यों लिखें? ये 3 पेशेवर अपने जवाब से हमें जीवन दे रहे हैं

पिछले साल एक साक्षात्कार सत्र के दौरान हम पेशेवर रचनात्मक लोगों के इस प्रभावशाली-पैनल को किसी तरह एक साथ जुटाने में सफल हुए थे, और यहाँ कहानियों के विषय पर बहुत शानदार चर्चा हुई, विशेष रूप से इस बारे में कि हम कहानियां क्यों लिखते हैं। लिखने की प्रेरणा पाने के लिए नीचे साक्षात्कार से लिखने के लिए प्रेरणादायक अनमोल वचन पढ़ें या पांच मिनट समय निकालकर वीडियो साक्षात्कार देखें। इस चर्चा में अलग-अलग पृष्ठभूमियों से आने वाले हमारे कुछ पसंदीदा लेखक मौजूद थे। जोनाथन मैबरी न्यूयॉर्क टाइम्स के बेस्टसेलिंग सस्पेंस लेखक, कॉमिक बुक लेखक, नाटककार और शिक्षक हैं। मैबेरी की बेहद लोकप्रिय कॉमिक सीरीज़ पर आधारित नेटफ्लिक्स की सीरीज़ "वी-वॉर्स" 2019 में आयी थी। जीन वी. बोवेरमन पटकथा लेखिका, पाइपलाइन आर्टिस्ट्स की प्रमुख संपादिका...