पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

क्या आप स्लग लाइन में केवल दिन और रात के विवरण इस्तेमाल कर सकते हैं?

क्या आप स्लग लाइन में केवल दिन और रात के विवरण इस्तेमाल कर सकते हैं?

कोई भी लेखक आपको यह बता सकता है कि पारंपरिक पटकथा लेखन एक अलग तरीके का लेखन है। अपने ख़ुद के नियमों, संरचना, मानक फॉर्मेट और अपेक्षाओं की वजह से, शुरुआत में पटकथा लेखन मुश्किल लग सकता है। पटकथा लेखन की एक अनूठी विशेषता है, दृश्य की हेडिंग, जिसे स्लग लाइन के रूप में जाना जाता है। वो किसी दृश्य की सेटिंग को दर्शाते हैं। क्या दृश्य हेडिंग के कोई अन्य इस्तेमाल हैं? क्या स्लग लाइन को सामान्य दिन और रात के बजाय विवरणों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है? स्लग लाइन के बारे में और जानने के लिए आगे पढ़ें!

अपनी जगह पर बने रहें! हम जल्द ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

दृश्य हेडिंग या स्लग लाइन की परिभाषा

दृश्य हेडिंग किसी पटकथा में टेक्स्ट की छोटी लाइन होती है, जो दृश्य में नई सेटिंग का परिचय देती है। इसकी मास्टर हेडिंग में तीन अलग-अलग भाग होते हैं, जिसमें बताया जाता है कि स्थान आंतरिक है या बाहरी, दृश्य कहाँ हो रहा है, और दिन का समय क्या है। यह कुछ उद्देश्यों को पूरा करता है: 1) यह दृश्य की कल्पना करने में पाठक की मदद करता है, और 2) हर दृश्य के दिन के समय और स्थान के आधार पर स्पेक स्क्रिप्ट पढ़ने वाले व्यक्ति के लिए बजट का बेहतर आईडिया पाने में मदद करना। उदाहरण के लिए, रात में शूटिंग करना कहीं ज़्यादा महंगा होता है।

पारंपरिक पटकथा फॉर्मेट में दृश्य हेडिंग/स्लग लाइन का उदाहरण

आप किसी फ़िल्म या टेलीविज़न स्क्रिप्ट में इस तरह से दृश्य हेडिंग या स्लगलाइन फॉर्मेट करते हैं।

स्क्रिप्ट स्निपेट - स्लगलाइन का उदाहरण

कार्ल के घर के अंदर - दिन

स्लग लाइन में सारे बड़े अक्षर होते हैं और इन्हें छोटा रखना सबसे अच्छा होता है। ये आम तौर पर दो में से एक तरीके से काम करते हैं, मास्टर हेडिंग के रूप में या सबहेडिंग के रूप में।

पटकथा में मास्टर हेडिंग

मास्टर हेडिंग स्लग लाइन का प्रमुख कार्य है। इस प्रकार का शीर्षक दृश्य शुरू करता है और पाठक को बताता है कि यह घर के अंदर (INT.) है या बाहर (EXT.), प्राथमिक स्थान, और दिन का समय क्या है। स्थान की लेबलिंग को स्पष्ट रखें, अनावश्यक विवरण न डालें। जहाँ तक दिन के समय की बात है, आप कहानी के अनुसार ज़्यादा से ज़्यादा विशिष्ट हो सकते हैं, इसलिए निःसंकोच दिन, रात, भोर, शाम, सुबह, दोपहर आदि का इस्तेमाल करें।

पटकथा में सबहेडिंग

मास्टर हेडिंग रखने के बाद, लेखक एक अलग दृश्य बनाए बिना मास्टर दृश्य हेडिंग के साथ विशेष विवरण में पाठक को सचेत करने के लिए एक सबहेडिंग या सेकेंडरी दृश्य हेडिंग का इस्तेमाल कर सकता है। यह सेकेंडरी हेडिंग एक बड़े स्थान के अंदर स्थान में परिवर्तन को दर्शा सकती है।

मास्टर लोकेशन के अंदर सेकेंडरी लोकेशन में जाने पर

जब चरित्र किसी घर के दूसरे कमरे में जाते हैं तो आपने अक्सर सबहेडिंग का इस्तेमाल होते हुए देखा होगा। इसका एक उदाहरण है:

स्क्रिप्ट स्निपेट - सेकेंडरी लोकेशन का स्लगलाइन उदाहरण

कार्ल के घर के अंदर - बेडरूम - दिन

कार्ल अपने गंदे कमरे में कुछ ढूंढता है। वो कपड़ों के ढेर के नीचे देखता है। वो एक खाली कॉफ़ी मग बाहर निकालता है और ख़ुश हो जाता है।

रसोईघर

कार्ल हाथ में मग लेकर रसोईघर की तरफ भागता है, और तुरंत कॉफ़ीमेकर के पास जाता है। जैसे ही वो इसे चालू करता है, बत्ती गुल हो जाती है। कार्ल चीख पड़ता है, और गुस्से में बेसमेंट के दरवाज़े की तरफ बढ़ता है।

समय का बीतना दिखाने के लिए

अगर मास्टर लोकेशन समान रहता है तो सबहेडिंग पिछले दृश्य के बाद से समय का बीतना भी दर्शा सकती है। जैसा कि यहाँ देखा गया है:

स्क्रिप्ट स्निपेट - समय बीतने का स्लगलाइन उदाहरण

कार्ल के घर के अंदर - बेडरूम - दिन

कार्ल अपने गंदे कमरे में कुछ ढूंढता है। वो कपड़ों के ढेर के नीचे देखता है। वो एक खाली कॉफ़ी मग बाहर निकालता है और ख़ुश हो जाता है।

रसोईघर

कार्ल हाथ में मग लेकर रसोईघर की तरफ भागता है, और तुरंत कॉफ़ीमेकर के पास जाता है। जैसे ही वो इसे चालू करता है, बत्ती गुल हो जाती है। कार्ल चीख पड़ता है, और गुस्से में बेसमेंट के दरवाज़े की तरफ बढ़ता है।

बाद में

अस्त-व्यस्त कार्ल रसोईघर में वापस आता है। ऐसा लगता है वो कोई जंग लड़कर आया है। वो कॉफ़ीमेकर के पास जाता है और बटन दबाता है। कॉफ़ी बननी शुरू हो जाती है। राहत से उसके कंधे झुक जाते हैं।

किसी चरित्र पर फोकस लाने के लिए

सबहेडिंग किसी प्रकार के शॉट का संकेत भी दे सकते हैं या मास्टर दृश्य के अंदर किसी विशेष चरित्र पर ध्यान खींच सकते हैं। उदाहरण के लिए:

स्क्रिप्ट स्निपेट - चरित्र पर फोकस का स्लगलाइन उदाहरण

कार्ल के घर के अंदर - बेडरूम - दिन

कार्ल अपने गंदे कमरे में कुछ ढूंढता है। वो कपड़ों के ढेर के नीचे देखता है। वो एक खाली कॉफ़ी मग बाहर निकालता है और ख़ुश हो जाता है।

रसोईघर

कार्ल हाथ में मग लेकर रसोईघर की तरफ भागता है, और तुरंत कॉफ़ीमेकर के पास जाता है। जैसे ही वो इसे चालू करता है, बत्ती गुल हो जाती है। कार्ल चीख पड़ता है, और गुस्से में बेसमेंट के दरवाज़े की तरफ बढ़ता है।

बाद में

अस्त-व्यस्त कार्ल रसोईघर में वापस आता है। ऐसा लगता है वो कोई जंग लड़कर आया है। वो कॉफ़ीमेकर के पास जाता है और बटन दबाता है। कॉफ़ी बननी शुरू हो जाती है। राहत से उसके कंधे झुक जाते हैं।

जैसे ही मशीन उसके मग में कॉफ़ी भरती है - तड़!

एक बड़ा सा गोल्डन रिट्रीवर किचन की कुर्सी को गिराते हुए अंदर चला आता है। कार्ल चौंककर, हवा में अपने हाथ लहराता है, जिसकी वजह से मग ज़मीन पर गिर जाता है।

कार्ल पर

उसकी आँखें डर से फैल जाती हैं। वो साइलेंट स्लो-मोशन में नहीं चिल्लाता है।

ध्यान दें: सबहेडिंग चाहे जो भी करे, उन सबमें बड़े अक्षरों में अपनी ख़ुद की लाइन पर लिखी हुई, एक समान फॉर्मेटिंग होनी चाहिए।

मेरा उदाहरण कोई ख़ास कलात्मक नहीं था, इसलिए मास्टर हेडिंग और सबहेडिंग को काम करते हुए देखने के लिए, एनबीसी के हैनिबल की पायलट स्क्रिप्ट देखें। पहले कुछ पेज उचित पारंपरिक पटकथा फॉर्मेट के साथ सबहेडिंग के उदाहरणों से भरे हुए हैं।

अब आप स्लगलाइन के बारे में सब कुछ जानते हैं! मास्टर हेडिंग से लेकर सबहेडिंग तक, वो पाठक को कोई महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए ख़ास तौर पर मददगार होते हैं। अगर यह आपके लिए नया है, तो कभी-कभी अलग-अलग सबहेडिंग आजमाएं! लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पारंपरिक पटकथा लेखन में बड़े अक्षरों का इस्तेमाल

पटकथा में बड़े अक्षर में रखी जाने वाली 6 चीज़ें

पारंपरिक पटकथा लेखन में बड़े अक्षरों का इस्तेमाल कैसे करें

पारंपरिक पटकथा फॉर्मेटिंग के कुछ दूसरे नियमों के विपरीत, बड़े अक्षरों का नियम पत्थर की लकीर नहीं है। जहाँ प्रत्येक लेखक की अलग शैली पटकथा लेखन के दौरान बड़े अक्षरों के उनके व्यक्तिगत इस्तेमाल को प्रभावित करेगी, वहीं ऐसी 6 आम चीज़ें हैं जिन्हें आपको अपनी फ़िल्म की पटकथा में बड़े अक्षरों में रखना चाहिए। अपनी पटकथा में पहली बार चरित्र का परिचय देते समय। बाद में, केवल अपने नाम के पहले अक्षर को बड़े अक्षर में रखें। चरित्र के संवाद के ऊपर उनके नाम। पटकथा लेखन में बड़े अक्षरों में दृश्य की हेडिंग और स्लग लाइन। "वॉयस-ओवर" और "ऑफ़-स्क्रीन" के लिए कैरेक्टर एक्सटेंशन। फेड इन, कट टू, इंटरकट, फेड आउट सहित पारंपरिक पटकथा लेखन ट्रांज़िशन। आधारभूत ध्वनियां, विज़ुअल इफेक्ट्स, या प्रॉप्स जिन्हें एक दृश्य में कैद करने की आवश्यकता होती है...

पारंपरिक पटकथा के लगभग हर एक भाग के लिए पटकथा लेखन के उदाहरण

पारंपरिक पटकथा के लगभग हर एक भाग के लिए पटकथा लेखन के उदाहरण

जब आप पहली बार पटकथा लिखना शुरू करते हैं तो आप जल्दी में होते हैं! आपके पास बहुत अच्छा आईडिया होता है, आप इसे टाइप करने के लिए बेसब्र होते हैं। शुरुआत में, यह समझ पाना मुश्किल हो सकता है कि पारंपरिक पटकथा के विभिन्न पहलु कैसे दिखाई देने चाहिए। इसलिए, यहाँ पर पारंपरिक पटकथा के मुख्य भागों के लिए पटकथा लेखन के पांच उदाहरण दिए गए हैं! शीर्षक पेज: आपके शीर्षक पेज पर कम से कम जानकारी मौजूद होनी चाहिए। यह बहुत ज़्यादा भरा हुआ नहीं लगना चाहिए। सबसे पहले आपको शीर्षक (बड़े अक्षरों में), उसके बाद अगली लाइन में "लेखक," उसके नीचे लेखक का नाम, और नीचे बायीं तरफ़...

पारंपरिक पटकथा लेखन में शीर्षक पेज कैसे फॉर्मेट करें

अच्छे से फॉर्मेट किये गए शीर्षक पेज के साथ अच्छा पहला प्रभाव छोड़ें।

पारंपरिक पटकथा लेखन में शीर्षक पेज कैसे फॉर्मेट करें

हालाँकि, आपकी पटकथा पाठक का ध्यान आकर्षित करने में सफल होगी या नहीं इसमें आपके लॉगलाइन और पहले 10 पेजों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, लेकिन अच्छी तरह फॉर्मेट किये गए शीर्षक पेज से ज्यादा बेहतर पहला प्रभाव किसी और चीज का नहीं पड़ता है। आप पटकथा के शीर्षक पेज के साथ अपनी पटकथा लिखने की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं जैसा कि कुछ सॉफ्टवेयर स्वचालित रूप से करते हैं, या अपने अंतिम ड्राफ्ट तक इसे छोड़ सकते हैं। "आपको कभी भी अपना अच्छा पहला प्रभाव छोड़ने का दूसरा मौका नहीं मिलता।" क्या आपको नहीं पता कि शीर्षक पेज से सर्वश्रेष्ठ, पहला प्रभाव कैसे बनाएं? डरने की कोई जरुरत नहीं है...