पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

किंडरगार्टन के बच्चों को लिखना कैसे सिखाएं

यदि आप सोच रहे हैं कि किंडरगार्टन के बच्चों को लिखना कैसे सिखाया जाए तो आप सही जगह आये हैं। जहाँ लिखना सीखने का एक हिस्सा ABC लिखने के लिए ज़रूरी मोटर कौशलों को विकसित करना है, वहीं किंडरगार्टनर उससे भी आगे बहुत कुछ करने में सक्षम हैं।

जब आपके किंडरगार्टनर लिखने और अक्षर बनाने की सामान्य क्रियाविधि सीख लेते हैं तब उनके लिए यह सीखने का समय होता है कि उन अक्षरों और शब्दों को प्रयोग कैसे किया जाता है।

किंडरगार्टनर तीन अलग-अलग प्रकार के लेखन सीखते हैं, जिनमें राय, सूचनात्मक और कथात्मक शामिल हैं।

यह ब्लॉग कथात्मक पर फोकस करेगा, जिसे कहानी कहने की कला के रूप में भी जाना जाता है।

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

कहानी कहने की कला से बच्चे अपनी कल्पनाओं का प्रयोग कर सकते हैं और अपने दिमाग से विचारों को कागज़ पर उतार सकते हैं। चाहे यह वर्णों की श्रृंखला, कुछ चित्रों, साधारण वाक्यों के माध्यम से हो, या फिर बस अस्पष्ट लेखों के माध्यम से, किंडरगार्टन में होने पर इन सभी चीज़ों को लेखन की प्रक्रिया का हिस्सा माना जाता है।

चाहे आप अपने ख़ुद के बच्चे को पढ़ा रहे हों या फिर पूरी क्लास को, नीचे, किंडरगार्टन के बच्चों को लिखना सिखाने के बारे में ज़्यादा जानें, साथ ही जानें कि उन्हें किसी चीज़ को लेकर उत्साहित कैसे किया जा सकता है, और क्या अपेक्षा की जा सकती है।

सिखाएं किंडरगार्टन के बच्चों को लिखना

किंडरगार्टन के बच्चों को लिखना सिखाने के लिए उपाय

किंडरगार्टन को लिखना सिखाते समय, सबसे पहली चीज़ जो आपको याद रखनी है वो यह कि चित्र बनाने और यहाँ तक कि बोलकर लिखने को भी लेखन के रूप में माना जाता है। इसलिए, अगर आपको लगता है कि कथात्मक कहानी कहने की कला उन बच्चों की पहुंच से दूर है जो अपना नाम तक ठीक से लिखना नहीं जानते तो दोबारा सोचें!

किंडरगार्टन के बच्चों के लिए, कहानी बताना सीखना बड़ी बात है, भले ही यह कोई डूडल या कुछ वाक्यों की हो। इस उम्र के बच्चे के लिए यह बहुत शक्ति देने वाला काम हो सकता है।

वर्णमाला, अपना नाम लिखना, और रंगों को लिखना और पहचानना सीखने के बाद कथात्मक लेखन आम तौर पर लेखन का वो पहला रूप होता है जो किंडरगार्टनर सीखेंगे।

लेखन का यह रूप एक बच्चे के लिए राय लिखने की तुलना में ज़्यादा सरल होता है क्योंकि यह उनके अपने अनुभव पर आधारित है।

लेकिन आप इस लेखन पाठ्यक्रम को कहाँ सिखाना शुरू करते हैं? किंडरगार्टन को कथात्मक लेखन सिखाने के लिए यहाँ कुछ उपाय दिए गए हैं।

पता करें कि आपका किंडरगार्टनर कथात्मक लेखन के लिए तैयार है या नहीं

आपका किंडरगार्टनर कथात्मक लेखक के लिए तैयार है या नहीं यह पता लगाने के लिए ख़ुद से ये सवाल करें:

  • क्या आपका किंडरगार्टनर अपने वर्णों की ध्वनियां जानता है?

    उन्हें वर्णों द्वारा बनाई जाने वाली ध्वनियों को पर्याप्त रूप से समझना चाहिए ताकि वो शब्दों को बाहर निकाल सकें और उन्हें कागज़ पर लिखने का प्रयास कर सकें। यदि वे अभी तक वर्णों की ध्वनियों को नहीं जानते तो भी वो कहानी बता सकते हैं। उन्हें चित्र बनाकर कहानी सुनाने दें; फिर, आप उनके लिए कैप्शन दे सकते हैं।

  • क्या आपका किंडरगार्टनर चित्र बना सकता है?

    चूँकि, बच्चों को डूडल बनाना अच्छा लगता है, हमें ऐसा लगता है कि वो किसी आईडिया को बताने के लिए वो सबकुछ चित्र के रूप में दर्शा सकते हैं जो उनके दिमाग में है। लेकिन, ऐसा हमेशा नहीं होता। सबसे पहले, इस बात का ध्यान रखें कि किंडरगार्टनर जानी-पहचानी चीज़ों को बनाने में सहज हो, जैसे स्टिक फिगर, जानवर, और दूसरी चीज़ें। उन्हें परिचित और उत्साहित होने में मदद करने के लिए उन्हें पिक्चर बुक दिखाएं, फिर कथात्मक कहानी कहने की कला में जाने से पहले उन्हें कुछ प्राथमिक आकृतियां बनाना सिखाएं।

  • क्या आपका किंडरगार्टनर वाक्य लेखन की मूलभूत चीज़ें जानता है?

    हम किंडरगार्टन के बच्चों से यह उम्मीद नहीं कर सकते कि वर्णमाला सीखने के तुरंत बाद वो पूर्ण वाक्य लिखना शुरू कर देंगे क्योंकि उन्हें समझ नहीं आता कि वाक्य क्या होता है। इससे पहले कि वो कहानी बनाने के लिए वाक्यों को एक साथ जोड़ने की कोशिश शुरू करें, उन्हें यह सिखाना न भूलें कि कौन से शब्दों से एक वाक्य बनता है।

किंडरगार्टनर को सिखाएं कि किसी कहानी का प्रारंभ, मध्य, और अंत कैसे ढूंढा जाता है

अपने किंडरगार्टनर को प्रारंभ, मध्य, और अंत के विचार से परिचित करवाने के लिए सरल कहानी की किताबों का प्रयोग करें।

एक साथ चार्ट बनाकर उन्हें समझाएं कि हर कहानी कैसे शुरू होती है, आगे बढ़ती है, और फिर ख़त्म होती है, जिसे छात्र देख सकते हैं।

एक साथ कुछ कहानियां पढ़ें, और प्रत्येक कहानी के बाद, उन्हें कहानी के प्रारंभ, मध्य और अंत के बारे में बताने के लिए कहें।

इस उद्देश्य के लिए मेंटर टेक्स्ट का इस्तेमाल करने पर विचार करें क्योंकि इन कहानियों को लेखन की अन्य मूलभूत चीज़ों के बारे में बताने के लिए दोबारा भी प्रयोग किया जा सकता है।

कहानी का चित्रण करें

अब अपने किंडरगार्टनर को कहानी सुनाने का मौका देने का समय आ गया है!

सबसे पहले, उन्हें कुछ पैमाने दें। उनके लिए कुछ ऐसे लेखन संकेत चुनें, जिससे वो ख़ुद को जोड़ पाएं, जैसे, स्कूल के लिए तैयार होने की प्रक्रिया। बच्चों को यह दिनचर्या समझ आती है और उनके लिए इसे याद करके चित्र बनाना ज़्यादा आसान होगा। बाद में, कहानियां लिखने में ज़्यादा उन्नत होने पर, आप उन्हें अपनी पसंद का विषय चुनने के लिए कह सकते हैं ताकि वो लेखन परियोजना में ज़्यादा संलग्न हो सकें।

इसके बाद, उनसे बात करें कि जब वे स्कूल के लिए तैयार होते हैं तो क्या होता है। प्रक्रिया में प्रत्येक चरण को नाम दें, और उन्हें यह समझने में मदद करें कि उन चीज़ों को शुरू से अंत तक कैसे रखा जाता है।

किसी साथी के साथ काम करते हुए, प्रत्येक बच्चे को यह कहानी बनाने की अनुमति दें। किसी सहपाठी के साथ अपनी ड्राइंग साझा करने से उन्हें पेज पर बनाई गई कहानी के लिए शब्द देने में मदद मिलेगी।

चित्र को लेबल दें

अब जब आपके किंडरगार्टनर ने किसी कहानी का चित्रण कर लिया है तो प्रत्येक हिस्से को लेबल देने का समय आ गया है। यह उनके कथात्मक पाठ का लेखन तत्व है, और इससे उन्हें यह याद करने में मदद मिलती है कि चित्र में क्या हो रहा है।

अपने छात्र को कहानी में प्रत्येक चित्र के लिए एक से दो शब्द निर्दिष्ट करने दें। उन्हें उन शब्दों का उच्चारण करना चाहिए जिनका वे उपयोग करना चाहते हैं। उदाहरण के लिए, "खाना," "ड्रेस," और "बस।"

कहानी लिखें

इसके बाद, अपने किंडरगार्टनर को शुरुआत, मध्य और अंत कैसे लिखना है, यह दिखाने के लिए अपनी कहानी के चित्रण का प्रयोग करें।

अब तक, किंडरगार्टनर बच्चों को मेंटर टेक्स्ट या किताबों में दिए गए कुछ आवश्यक पारगमन शब्दों से परिचित हो जाना चाहिए, जिसे उन्होंने पहले पढ़ा था। पहले, उसके बाद, और अंत में जैसे शब्दों का इस्तेमाल करके उन्हें दिखाएं कि प्रत्येक चित्र के लिए एक वाक्य कैसे निर्दिष्ट किया जाता है।

उदाहरण के लिए, "पहले, मैं खाता हूँ। उसके बाद, मैं कपड़े पहनता हूँ। अंत में, बस पर चढ़ जाता हूँ।"

यहाँ कुछ शब्दों या अक्षरों को जानबूझकर बाहर करना ठीक है ताकि आप छात्रों को बाद में उनकी ड्राफ्ट कहानी को संशोधित करने का तरीका दिखा सकें। किंडरगार्टनरों को यह जानने की जरूरत है कि लेखन एक ऐसी प्रक्रिया है जो पहली कोशिश में कभी भी परिपूर्ण नहीं होती है। बाद में संपादन करने में कोई बुराई नहीं है।

एक बार किंडरगार्टनर शुरुआत, मध्य और अंत के रूप में तीन वाक्यों को लिखने में महारत हासिल कर लेते हैं तो आप उन्हें कहानी की नई अवधारणाओं जैसे, परिचय और समापन वाक्यों से परिचित करा सकते हैं।

अपनी कहानी संपादित करें

किसी किंडरगार्टनर को पहला ड्राफ्ट लिखने की अवधारणा सिखाने में एक या दो दिन लगेंगे, लेकिन एक बार जब वे ऐसा कर लेते हैं, तो फिर संपादन पर आगे बढ़ने का समय आ जाता है!

सबसे पहले, उन्हें दिखाएं कि उनके काम को फिर से कैसे पढ़ा जाता है। देखें कि क्या वे अपनी तीन-वाक्य की कहानी में अपने से कोई गलती पकड़ सकते हैं, फिर उन्हें दिखाएं कि उस गलती को नोट करने के लिए चिह्न कैसे बनाया जाता है।

उसके बाद, प्रत्येक शब्द पर जाकर, उन्हें दिखाएं कि अपनी कहानी को दोबारा कैसे लिखा जाता है, ताकि उनसे कुछ छूटे नहीं।

अंत में, उन्हें अंतिम ड्राफ्ट दिखाएं।

किंडरगार्टन में लेखन कैसा दिखता है?

माता-पिता अक्सर इस बात को लेकर उत्सुक होते हैं कि किंडरगार्टन कक्षा में जाने से पहले उनके बच्चों को क्या पता होना चाहिए और किंडरगार्टन के बाद उनके बच्चे का लेखन कैसा दिखना चाहिए।

अधिकांश किंडरगार्टनर इस ग्रेड में प्रवेश करने पर लिखना नहीं जानते होंगे। किंडरगार्टन में, वे पूर्व-लेखन पर ध्यान केंद्रित करेंगे, जो वर्णमाला लिखना, सुनना सीखना और कक्षा में बोलने का कौशल विकसित करना होता है।

साल की शुरुआत आम तौर पर किंडरगार्टन के शुरुआती लेखन कौशल सीखने के साथ होगी, जैसे कि सही से पेंसिल पकड़ना, बड़े अक्षरों और छोटे अक्षरों की आकृतियां बनाकर अपनी ABC लिखना, उन अक्षरों को बोलना, और पूरे शब्दों को बनाने के लिए अक्षरों को जोड़ना। साल के अंत तक, सामान्य तौर पर, आपका बच्चा सभी नहीं तो ज़्यादातर वर्णमाला के अक्षर सीख जाता है।

किंडरगार्टनरों को उन शब्दों के लिए खाली रिक्त स्थान भरने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, जिन्हें वे अक्षरों की ध्वनि का उपयोग करके नहीं बता सकते हैं, जिसे "आविष्कृत वर्तनी" कहा जाता है। मूल रूप से, आपके किंडरगार्टनर का लक्ष्य अपनी बात समझाना होता है।

पहली कक्षा में जाने से पहले किंडरगार्टनर को ज़्यादातर अक्षरों का उच्चारण करने में, उन ध्वनियों को लिखित अक्षर के साथ जोड़ने में, सामान्य शब्दों को बोलने में, तीन अक्षर के व्यंजन-स्वर-व्यंजन शब्द लिखने में, और अपने नाम लिखने में समर्थ होना चाहिए। उन्हें इस बात की भी मूलभूत समझ होगी कि बड़े अक्षरों का प्रयोग कब करना है और अवधि व अल्पविराम जैसे विराम चिह्नों का प्रयोग कैसे किया जाता है।

वे शब्दों और डूडल के मिश्रण का प्रयोग करके कहानियां बताना शुरू कर देंगे, जो लेखन की दिशा में एक बड़ा कदम है। वे कौन, क्या, कहाँ और क्यों जैसे शब्दों को समझने लगेंगे, जो कहानी लिखने में उनकी मदद कर सकता है।

किंडरगार्टनर यह भी सीख सकते हैं कि "शोध" कैसे किया जाता है, जो इस उम्र के बच्चे के लिए कठिन लगता है, लेकिन इसका बस इतना सा मतलब है कि वो उस चीज़ को याद रखना सीखेंगे जो उन्होंने उन किताबों से सीखी है जो उन्हें पढ़कर सुनाई गई थी। शोध में "मेंढक किस रंग का था?" या "लड़के का नाम क्या था?" जैसे सवालों के जवाब देना शामिल हो सकता है।

किंडरगार्टनर लिखने के लिए कैसे प्रेरित होते हैं?

क्लास में न होने पर, लेखन उपकरणों को हमेशा पास में रखना किंडरगार्टन के बच्चों को लिखने के लिए प्रेरित करने का सबसे अच्छा तरीका है।

बच्चों को खेलने और प्रयोग करने के लिए पेंसिल, क्रेयॉन, मार्कर, रंगीन और लाइन वाले कागज़ और पैमाना उपलब्ध कराएं।

किंडरगार्टनर से ऐसे सवाल पूछें जो चित्र और लेबल के माध्यम से कहानी बताने में उनकी मदद कर सकें।

अपने किंडरगार्टनर को इन नए और महत्वपूर्ण लेखन कौशलों को सीखने का समय दें, जिसमें पेंसिल को तेज़ करना, पढ़ना और बहुत कुछ मिटाना शामिल है। लिखने का समय पन्ने पर अक्षर उतारने से कहीं ज़्यादा है।

यह बताकर अपने किंडरगार्टनर को हमेशा प्रतिक्रिया दें कि वो क्या अच्छा कर रहे हैं और उनकी परियोजनाओं पर सवाल पूछें, जिससे पता चलता है कि आपको उनकी रचना में रूचि है।

आपका मदद करने का चाहे कितना भी मन क्यों न हो अपने किंडरगार्टनर के लिए आगे बढ़कर लिखने का काम न करें। इससे वो स्वतंत्र रूप से अपनी लेखन शैलियों में महारत हासिल करने के लिए अपने से प्रयास करने, विफल होने, और दोबारा प्रयास करने से हतोत्साहित होंगे।

उन्हें वर्तनी की गलतियां करने दें, क्योंकि वो केवल ध्वन्यात्मक जागरूकता विकसित कर रहे हैं।

जब आपको लगे कि आपका किंडरगार्टनर कुछ रचनात्मक प्रतिक्रिया के लिए तैयार है तो ओरियो दृष्टिकोण का प्रयोग करें – प्रशंसा करें, आलोचना करें, प्रशंसा करें। उन्हें बताएं कि वो क्या अच्छा कर रहे हैं, समझाएं कि वो अपनी कहानी को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए कौन से संपादन कर सकते हैं और फिर उन्हें वापस याद दिलाएं कि आपको उनकी कहानी में क्या अच्छा लगा। संपादन करने के लिए उनके साथ काम करें और जब वो इसे सही से कर लेते हैं तो उन्हें बधाई दें।

अंत में, अपने किंडरगार्टनर के साथ पढ़ना न भूलें और अक्सर लिखने और चित्र बनाने का अभ्यास करें।

क्या आपको यह ब्लॉग पोस्ट पसंद आया? इसे अपने मनपसंद सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करें! हमें बहुत अच्छा लगेगा।

निष्कर्ष

किंडरगार्टनर को लिखना सिखाना सीखकर, आप अपने छात्र पर हावी होने से बच पाएंगे और इसके बजाय उन्हें उनकी अपनी गति से आगे बढ़ने का अवसर देंगे। आपके किंडरगार्टनर के लेखन से जुड़ी मूलभूत चीज़ें सीखने के बाद कहानी कहने की कला में जाना रोमांचक होता है। कहानी सुनाना बच्चों में स्वाभाविक रूप से आता है, इसलिए उन्हें अपनी कल्पना के घोड़े दौड़ाने दें!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

लिखवाएं बच्चों से कहानियां

बच्चों से कहानियां कैसे लिखवाएं

आख़िरकार, हम चाहते हैं कि सभी बच्चे लेखन कौशल सीखें और उनमें महारत हासिल करें। रचनात्मक लेखन बच्चों की कल्पनाओं को सक्रिय कर सकता है, मोटर कौशल में सुधार कर सकता है और उन्हें दूसरों से अलग सोचने में मदद कर सकता है। लेकिन अगर आपका बच्चा लिखना नहीं चाहता है या कहानी लिखना शुरू करना नहीं जानता है तो आप क्या करते हैं? लेखन गतिविधियों को अपने बच्चे की दैनिक दिनचर्या में शामिल करने के पाँच तरीके खोजें...

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की किताबों, टेलीविज़न कार्यक्रमों, और फ़िल्मों के माध्यम से हम पहली बार कहानियों को जानते हैं। ये शुरूआती कहानियां दुनिया के लिए हमारी समझ और पारस्परिक प्रभाव को आकार देने में मदद करती हैं। बड़े होने के बाद उनकी अहमियत कम नहीं होती; बल्कि, बच्चों की कहानियों से हमें पटकथा लेखन के बारे में एक-दो चीज़ें सीखने में मदद मिल सकती है! सरल अक्सर बेहतर होता है - बच्चों की कहानियां हमें एक आईडिया लेकर, इसके आवश्यक अर्थ को बाहर निकालना सिखाती हैं। मैं आपको इसे बेहद आसान बनाने के लिए नहीं कह रही, बल्कि अपने आईडिया को सबसे सरल तरीके से ज़ाहिर करने की बात कर रही हूँ...

लिखें एनीमेशन के लिए

एनीमेशन के लिए कैसे लिखें

अगर आपको ऐसा लगता है कि लाइव-एक्शन पटकथा लेखन में बहुत ज़्यादा दृश्य इस्तेमाल होते हैं तो ज़रा रुक जाइये क्योंकि आपने अभी तक एनीमेशन के लिए लिखी गयी पटकथा नहीं देखी है! हालाँकि, कुछ लोग एनीमेशन को शैली कहना पसंद करते हैं, लेकिन मैं इसे कहानी कहने की कला का बिल्कुल अलग माध्यम मानती हूँ। आज हम जानने वाले हैं कि एनीमेशन के लिए कैसे लिखा जाता है, चाहे वो कोई एनिमेटेड टेलीविज़न शो हो या फिर फ़िल्म, और यह प्रक्रिया पारंपरिक पटकथा लेखन से अलग होती है...