पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

बच्चों के लिए पटकथा लेखन

बच्चों के लिए पटकथा लेखन

आजकल के बच्चे अलग-अलग स्रोतों से बहुत सारा मीडिया प्रयोग करते हैं। देखने के लिए यूट्यूब और टिकटॉक मौजूद होने के बावजूद, क्या बच्चे अभी भी टेलीविज़न और फ़िल्मों के बारे में सोचते हैं? जी हाँ, और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कितने सारे बच्चे टीवी और फ़िल्मों के लिए पटकथाएं लिखना चाहते हैं। यह मेरा सौभाग्य है कि मुझे अलग-अलग उम्र के बच्चों को पटकथा लेखन पढ़ाने का मौका मिला, और वो सब इससे काफी प्रभावित थे! पटकथा लेखन की ज़्यादातर किताबें पेशेवर लेखकों या ज़्यादा अनुभवी लोगों को ध्यान में रखकर लिखी जाती हैं, इसलिए उनके बजाय, बच्चों को पटकथा लेखन का परिचय देने के लिए इन छह चरणों का प्रयोग करें, और कुछ ही समय में वो अपनी ख़ुद की पटकथाएं लिखना शुरू कर देंगे!

बच्चों को SoCreate बहुत पसंद आएगा! इस पेज से बाहर निकले बिना, सॉफ्टवेयर के लिए लाइन में उनकी जगह बचाकर रखें।

पता करें कि उन्हें कौन सी फ़िल्में और टीवी पसंद है और क्यों

बच्चों को पटकथा लेखन की तकनीक सिखाते समय, मैं हमेशा उनसे पूछती हूँ कि उन्हें कौन से शो या फ़िल्में पसंद हैं। उनके जवाबों में मार्वल मूवीज़, एनिमेटेड मूवीज़ या उनके माता-पिता की मनपसंद पुरानी फ़िल्में शामिल हो सकती हैं। यह समझना आवश्यक है कि वे किस सामग्री पर प्रतिक्रिया करते हैं और पता करें कि ऐसा क्यों है। उन्हें अपने पसंदीदा शोज़ और फ़िल्में क्यों पसंद हैं? क्या ऐसी चीज़ें हैं जो उन्हें अपने पसंदीदा शो के बारे में पसंद नहीं हैं? उन्हें कौन सी फ़िल्म पसंद नहीं है और क्यों? उन्हें अपनी राय सामने रखने का मौका देने पर उन्हें इस बारे में गंभीर रूप से सोचने में मदद मिलती है कि कौन सी चीज़ मजबूत चरित्र बनाती है, तीन अंक की संरचना कैसे प्रयोग की जाती है, और कौन सी चीज़ों से अच्छी कहानियां बनती हैं। यह जानना कि उन्हें क्या पसंद है और क्या नहीं, उन्हें अपने स्वयं के रचनात्मक कौशल में सुधार करने के लिए मार्गदर्शन कर सकते हैं।

बच्चों को याद दिलाएं कि कोई भी कहानीकार बन सकता है

हमारी लोकप्रिय संस्कृति आज भी फ़िल्मों और टेलीविज़न से बहुत प्रभावित है। बच्चों और किशोरों को पॉप संस्कृति की बहुत अच्छी समझ होती है और इसलिए उन्हें फ़िल्मों और टीवी शो की अच्छी समझ होती है, भले ही उन्हें इसका एहसास न हो।

बच्चों से उनके पसंदीदा शो और फ़िल्मों के बारे में बात करना कहानी की संरचना की एक मजबूत समझ प्रदर्शित कर सकता है। वे खराब तरीके से विकसित चरित्रों और अच्छी तरह से विकसित चरित्रों के बीच अंतर बता सकते हैं। वे उन तत्वों को समझते हैं जो एक विश्वसनीय काल्पनिक दुनिया बनाते हैं। ये आईडिया बच्चों के मन में स्वाभाविक रूप से आते हैं, इसलिए पटकथा लेखन पढ़ाते समय आपको उन्हें इस बात का एहसास कराना होगा कि उन्हें इन चीज़ों के बारे में पहले से पता है।

उन्हें इस बात का एहसास कराना कि वे पहले से ही कहानी कहने और पटकथा लेखन के मूल सिद्धांतों को समझते हैं, उन्हें यह विश्वास करने की शक्ति देता है कि वो अपनी ख़ुद की कहानियां बता सकते हैं। उसके बाद, बच्चे सोच-विचार कर सकते हैं और उन मुद्दों, चरित्रों या विचारों के बारे में स्क्रिप्ट बना सकते हैं जिन्हें वे स्क्रीन पर प्रदर्शित करना चाहते हैं।

बच्चों को दृश्यात्मक रूप से सोचना और लिखना सिखाएं

पटकथा लेखन एक दृश्यात्मक माध्यम है, इस विचार को बच्चे समझते हैं और इससे जूझते भी हैं। शुरू-शुरू में लगभग सभी नए पटकथा लेखक इस अवधारणा के साथ संघर्ष करते हैं! अगर यह माध्यम आपके लिए नया है तो "दिखाओ, बताओ मत" की कहावत का अभ्यास करना आपके लिए कठिन हो सकता है। आपके दिमाग को लिखने के एक अलग तरीके के अनुकूल होना पड़ता है। किसी स्क्रिप्ट का कोई भाग पढ़ना, उस दृश्य से संबंधित स्टोरीबोर्ड दिखाना, और उसके बाद दृश्य का फ़िल्माया हुआ संस्करण दिखाना आपके लिए मददगार हो सकता है। इससे बच्चों को यह समझने में मदद मिल सकती है कि उनकी लिखी हुई चीज़ स्टोरीबोर्ड पर कैसी दिखेगी और उसके बाद दृश्य में कैसी फिल्माई जाएगी। इस तरह वो गतिविधियों और दृश्यों को विशिष्टता के साथ बताने की ज़्यादा सराहना कर पाएंगे।

पटकथा लेखन की शब्दावली और पटकथा की अन्य मूलभूत चीज़ों के बारे में बताएं

जब आपको लगता है कि बच्चे अपना पहला दृश्य लिखने की कोशिश करने के लिए तैयार हैं, तो उन्हें पटकथा लेखन की मूलभूत चीज़ों के बारे में बताएं। पटकथा के निम्नलिखित अनुभागों में से प्रत्येक के उदाहरणों को दर्शाने के लिए एक सरल पटकथा का प्रयोग करें।

शीर्षक

प्रत्येक दृश्य के लिए एक शीर्षक की आवश्यकता होती है, और अपना शीर्षक लिखने के लिए, आपको तीन चीज़ें जानने की आवश्यकता होती है:

  • दृश्य घर के अंदर हो रहा है या बाहर?

  • दृश्य का स्थान कहाँ है?

  • दृश्य दिन में हो रहा है या रात में?

जब वे इन सवालों का जवाब दे देते हैं, तब वे अपना शीर्षक लिख सकते हैं। आंतरिक दृश्यों के लिए उनसे INT. लिखवाये या बाहरी दृश्यों के लिए EXT. लिखवाएं, उसके बाद उन्हें वो विशेष स्थान लिखने के लिए कहें जहाँ वो दृश्य सेट है और उसके बाद दिन या रात में से कोई लिखने के लिए कहें।

दृश्य विवरण

उनके दृश्य के शीर्षक के नीचे, उन्हें वो लिखने के लिए कहें जो उस दृश्य में हो रहा है। उन्हें याद दिलाएं कि उन्हें दृश्यात्मक तरीके से सोचना होगा, जैसे उस पटकथा और फ़िल्मों के उदाहरण में दृश्य लिखे गए हैं जो आपने उन्हें दिखाए थे।

संवाद

उनके विवरण के नीचे, आप उन्हें संवाद की अवधारणा से परिचित करा सकते हैं। दृश्य में मौजूद लोग किस प्रकार की बातचीत कर रहे हैं? उन्हें इस बारे में सोचने के लिए प्रोत्साहित करें कि वे वास्तविक जीवन में अपने दोस्तों से कैसे बात करते हैं। या, अगर दृश्य में किसी चरवाहे का एक विशिष्ट चरित्र है, तो उसके बात करने का एक अलग तरीका होगा, जैसे "हाउडी!" उन्हें यह दिखाने की कोशिश करें कि चरित्रों के बोलने के अलग-अलग तरीके हो सकते हैं।

छोटी स्क्रिप्ट लिखें

एक पटकथा के मूल तत्वों से उनका परिचय कराने के बाद, उन्हें लिखना शुरू करने के लिए कहें! अगर आपके पास हर बच्चे के लिए एक पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर है तो सबसे अच्छा रहेगा। तब हर बच्चा स्वतंत्र रूप से अपनी ख़ुद की छोटी स्क्रिप्ट लिख सकता है। अगर ऐसा नहीं है तो उन्हें टाइप किये गए फॉर्मेट की नक़ल करके अपने हाथ से शॉर्ट लिखने के लिए कहें, या प्रशिक्षक टाइपिंग के साथ एक समूह के रूप में एक साथ लिखें।

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर उन बच्चों के लिए एक शानदार टूल है जो पटकथाएं लिखना चाहते हैं। यह बच्चों को अपनी कल्पना के घोड़े दौड़ने में मदद करेगा! SoCreate के सार्वजनिक रूप से उपलब्ध होने पर सूचित होने के लिए

पटकथा लेखन की कला और शिल्प की छानबीन जारी रखें

बच्चों की उम्र और रुचि के आधार पर, आप पटकथा लेखन के उद्देश्यों के लिए उन्हें दृश्यात्मक रूप से सोचने की आदत डलवाने के लिए और अधिक गतिविधियां कर सकते हैं। आप उनकी कहानी कहने की कला को प्रोत्साहित करने के लिए गेम खेल सकते हैं या उन्हें प्रेरित करने के लिए फ़िल्में देख सकते हैं। बड़े बच्चों के लिए आप एक सफल पटकथा लेखक बनने के लिए आवश्यक तकनीकी कौशल पर ज़्यादा ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

आपको यह ब्लॉग पोस्ट कैसा लगा? चीज़ें शेयर करना अच्छी बात है! इसलिए अगर आप इसे अपने मनपसंद सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करते हैं तो हमें बहुत अच्छा लगेगा।

बच्चे बहुत अच्छी कहानियां सुनाते हैं, और मुझे यह देखना बहुत अच्छा लगता है कि वो किस तरह के आईडिया सोचते हैं। जब बड़े लोग पेशेवर पटकथा लेखक बन जाते हैं, तो वो बस यही चाहते हैं कि बच्चों जैसी कल्पना कर सकें, इसलिए अगर आप अपने बच्चे को ज़िन्दगी की शुरुआत में ही लिखने के इस रास्ते पर चलाना शुरू कर सकते हैं तो बहुत अच्छा रहेगा। अगर वो पटकथा लेखन में करियर नहीं बनाना चाहते हैं तो भी बच्चे के विकास के लिए क्रिएटिव राइटिंग बहुत अच्छी गतिविधि है। उम्मीद है, इस ब्लॉग से आपको बच्चों को पटकथा लेखन सिखाने के बारे में कुछ सुझाव मिले होंगे!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

लिखवाएं बच्चों से कहानियां

बच्चों से कहानियां कैसे लिखवाएं

आख़िरकार, हम चाहते हैं कि सभी बच्चे लेखन कौशल सीखें और उनमें महारत हासिल करें। रचनात्मक लेखन बच्चों की कल्पनाओं को सक्रिय कर सकता है, मोटर कौशल में सुधार कर सकता है और उन्हें दूसरों से अलग सोचने में मदद कर सकता है। लेकिन अगर आपका बच्चा लिखना नहीं चाहता है या कहानी लिखना शुरू करना नहीं जानता है तो आप क्या करते हैं? लेखन गतिविधियों को अपने बच्चे की दैनिक दिनचर्या में शामिल करने के पाँच तरीके खोजें...

एक उत्तेजक घटना कैसे लिखें

एक उत्तेजक घटना कैसे लिखें

क्या आपको लगता है कि शुरुआत में आपकी कहानियां काफी धीमी होती हैं? अपना पहला अंक लिखते समय, क्या आप बस जल्दी-जल्दी लिखकर इसके रोमांचक एक्शन तक पहुंचना चाहते हैं? क्या आपको ऐसे फीडबैक मिले हैं कि आपकी कहानी की शुरुआत काफी धीमी है? अगर ऐसा है तो आपको अपनी उत्तेजक घटना पर करीब से एक नज़र डालने की ज़रूरत हो सकती है! अगर आप सोच रहे हैं कि "वो क्या होता है?" तो आगे पढ़ना जारी रखें क्योंकि आज मैं आपको एक उत्तेजक घटना लिखने के बारे में सबकुछ बताने वाली हूँ...

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की किताबों, टेलीविज़न कार्यक्रमों, और फ़िल्मों के माध्यम से हम पहली बार कहानियों को जानते हैं। ये शुरूआती कहानियां दुनिया के लिए हमारी समझ और पारस्परिक प्रभाव को आकार देने में मदद करती हैं। बड़े होने के बाद उनकी अहमियत कम नहीं होती; बल्कि, बच्चों की कहानियों से हमें पटकथा लेखन के बारे में एक-दो चीज़ें सीखने में मदद मिल सकती है! सरल अक्सर बेहतर होता है - बच्चों की कहानियां हमें एक आईडिया लेकर, इसके आवश्यक अर्थ को बाहर निकालना सिखाती हैं। मैं आपको इसे बेहद आसान बनाने के लिए नहीं कह रही, बल्कि अपने आईडिया को सबसे सरल तरीके से ज़ाहिर करने की बात कर रही हूँ...