पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

एक उत्तेजक घटना कैसे लिखें

एक उत्तेजक घटना कैसे लिखें

क्या आपको लगता है कि शुरुआत में आपकी कहानियां काफी धीमी होती हैं? अपना पहला अंक लिखते समय, क्या आप बस जल्दी-जल्दी लिखकर इसके रोमांचक एक्शन तक पहुंचना चाहते हैं? क्या आपको ऐसे फीडबैक मिले हैं कि आपकी कहानी की शुरुआत काफी धीमी है? अगर ऐसा है तो आपको अपनी उत्तेजक घटना पर करीब से एक नज़र डालने की ज़रूरत हो सकती है! अगर आप सोच रहे हैं कि "वो क्या होता है?" तो आगे पढ़ना जारी रखें क्योंकि आज मैं आपको एक उत्तेजक घटना लिखने के बारे में सबकुछ बताने वाली हूँ!

अपनी जगह पर बने रहें! हम नए लोगों से लेकर पेशेवरों तक, सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने के बहुत करीब आ गए हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

"उत्तेजक घटना आपके नायक के जीवन में बलों के संतुलन को पूरी तरह से बिगाड़ देती है।"

पटकथा लेखन गुरु रॉबर्ट मैकी

"यह रहा इसका सिद्धांत: जब कोई कहानी शुरू होती है, तो जीवन संतुलन में होता है। हाँ, आपके हीरो को कोई समस्या हो सकती है, लेकिन वो समस्या उसके जीवन में हमेशा से थी - जो अभी भी बनी रहती है। उसके बाद उत्प्रेरक सारा संतुलन बिगाड़ देता है और चरित्र को एक नई समस्या, ज़रूरत, लक्ष्य, इच्छा, या मिशन देता है। केंद्रीय चरित्र बाकी की फ़िल्म में संतुलन वापस लाने की कोशिश में लगा रहता है।"

डेविड ट्रॉटियर, "द स्क्रीनराइटर्स बाइबिल"

उत्तेजक घटना क्या है?

चाहे यह पटकथा हो, पायलट स्क्रिप्ट हो, या फिर उपन्यास, सभी कहानियों में एक ऐसा क्षण आता है जहाँ से कहानी की असली शुरुआत होती है, जिसे अक्सर उत्तेजक घटना, उत्प्रेरक, बड़ी घटना या ट्रिगर के रूप में जाना जाता है। यह रोमांचक घटना एक महत्वपूर्ण घटना है, जो कहानी को गति देने के लिए आपके नायक को उसकी सामान्य स्थिति से बाहर निकालकर किसी दूसरी परिस्थिति में धकेल देती है। यही वो चीज़ है जो नायक को एक ऐसे रास्ते पर चलने के लिए मजबूर कर देती है, जिसे दर्शक बाकी की कहानी में फॉलो करते हैं जब तक कि हीरो अपने बाहरी लक्ष्य (आंतरिक लक्ष्य) तक नहीं पहुंच जाता।

बहुत महत्वपूर्ण है न?

अपनी उत्तेजक घटना कैसे खोजें

सभी कहानियां अलग होती हैं, और कभी-कभी इस क्षण का पता लगा पाना बहुत मुश्किल हो सकता है। आप अपनी कहानी की शुरुआत में उस महत्वपूर्ण पल की तलाश कर रहे होते हैं, जहाँ से कोई वापसी नहीं होती। वो कौन सी चीज़ है जो एक श्रृंखला में घटनाओं की प्रतिक्रिया शुरू करती है, और एक बार होने के बाद, आपका मुख्य चरित्र इससे भागकर नहीं जा सकता?

कौन सी चीज़ एक अच्छी उत्तेजक घटना बनाती है

इस दृश्य को अच्छा बनाने के लिए कई चीज़ें होती हैं, लेकिन यहाँ पर कुछ सामान्य दिशानिर्देश दिए गए हैं:

1) यह अप्रत्याशित होनी चाहिए

यानी कोई ऐसी चीज़ होनी चाहिए जो अचानक से चरित्रों के सामने आकर खड़ी हो जाए और उन्हें पूरी तरह से चौंका दे। यह उनकी सामान्य स्थिति से बाहर होती है। किताबें पढ़ते समय या फ़िल्म देखते समय हमें अक्सर ये पल तब दिखाई देते हैं जब अचानक किसी को गोली मार दी जाती है या चाकू घोंप दिया जाता है। इस तरह के दृश्य इसलिए कारगर होते हैं क्योंकि वो हमें पूरी तरह से हैरान कर देते हैं और हमें प्रतिक्रिया देने के लिए मजबूर करते हैं। हमें नहीं पता होता कि वो आदमी ज़िंदा बचेगा या नहीं, इसलिए हम उसे देखने में पूरी तरह खो जाते हैं जो बच जाता है। यह घटना कहानी को आगे बढ़ाती है।

2) इसे सबकुछ बदल देना चाहिए

यह पल आने के बाद, कोई दूसरी चीज़ मायने नहीं रखती। उस वक़्त के बाद से सबकुछ बदल जाता है। हमारे हीरो को अपनी गतिविधियों के परिणामों का सामना करना ही होगा। हो सकता है उन्हें वो परिणाम अच्छा न लगे, लेकिन उन्हें उसे स्वीकार करना होगा। ज़िंदा रहने के लिए, उन्हें नए कौशल सीखने होंगे या बाधाओं को पार करना होगा।

3) पीछे जाने का कोई रास्ता नहीं होना चाहिए

कभी-कभी लोग ट्रिगर को किसी कहानी को पूरा करने के तरीके के रूप में इस्तेमाल करने की कोशिश करते हैं। वो कहते हैं कि, 'ओह हाँ, मेरा चरित्र तो हमेशा से आख़िर में X ही करने वाला था…' यह अच्छा नहीं होता। किसी ट्रिगर को कुछ भी सही नहीं करना चाहिए। यह अगला अध्याय सेटअप करने के लिए होता है। इसलिए, उत्तेजक घटना के बाद जो कुछ भी होता है, उसे पूरी तरह अप्रत्याशित होना चाहिए।

4) इसपर भरोसा किया जा सके

इस बात का ज़्यादा से ज़्यादा ध्यान रखें कि वो परिदृश्य कुछ ऐसा होना चाहिए जो सचमुच हो सकता है। कथानक की इस डिवाइस का इस्तेमाल करने के लिए बस ऐसे ही कुछ भी लाने की कोशिश न करें। इसके बजाय, इस बात का ध्यान रखें कि परिदृश्य के आसपास की परिस्थितियां असली ज़िन्दगी की घटनाएं हों, कम से कम उस शैली में जिसमें आप अपनी कहानी लिख रहे हैं। विभिन्न प्रकार की कहानियों से अलग-अलग अपेक्षाएँ की जाती हैं।

5) इसे सरल रखें

उत्प्रेरक को समझाने में बहुत ज़्यादा समय लगाकर अपने आपको और अपनी कहानी को धीमा न करें। किसी पटकथा को तेज़ी से समझने का सबसे अच्छा तरीका है कि इसे छोटा और अच्छा रखा जाए। उस क्षण को सही से करने और जल्दी पूरा करने पर ध्यान दें।

अन्य तत्व जो सभी बेहतरीन उत्तेजक घटनाओं में समान होते हैं

सभी बेहतरीन उत्तेजक घटनाओं में एक नायक होता है, जो आराम से और बिना किसी तकलीफ के अपनी ज़िन्दगी जी रहा होता है। यह एक ऐसा व्यक्ति होता है, जिसे अपनी ज़िन्दगी में पहले कभी किसी मुसीबत का सामना नहीं करना पड़ा है।

  • वो एक टिक-टिक करती हुई घड़ी बनाते हैं; इसमें एक तरह की जल्दबाज़ी होती है या ऐसा लगता है कि किरदार के पास समय की कमी है और उसे जल्द से जल्द इसपर काम करना होगा या इसका सामना करना होगा।

  • यह एक तरह का संघर्ष है जिसे पार करने की ज़रूरत होती है।

  • ये वो सारी बाहरी चीज़ें होती हैं जो मुख्य किरदार के साथ हो रही होती हैं और उन्हें किसी तरह की कार्यवाही करने पर मजबूर करती हैं।

  • मुख्य चरित्र उत्तेजक घटना के लिए जिस तरह से प्रतिक्रिया करता है/जिस तरह से उससे निपटता है, उससे दर्शकों को उसके बारे में ज़्यादा पता चलता है।

  • वो पाठक या दर्शक के मन में एक सवाल पैदा करते हैं, उन्हें यह सोचने पर मजबूर कर देते हैं कि अब आगे क्या होगा।

सर्वश्रेष्ठ उत्तेजक घटना लिखने का का कोई एक सरल फॉर्मूला नहीं है, और आपको यह समझने में मुश्किल भी आ सकती है कि आपकी कहानी का वो कौन सा पल है जो सभी घटनाओं को गति देता है। हालाँकि, अपने मुख्य चरित्र को जानने और समझने पर उत्तेजक घटना पर प्रकाश डालने में मदद मिल सकती है।

अपने चरित्रों को जानें

कोई प्रभावशाली कहानी लिखने के लिए यह समझना बहुत ज़रूरी है कि आपके नायक को कौन सी चीज़ प्रेरित करती है! उत्तेजक घटना वो पहला क्षण है, जब पाठक या दर्शकों को यह पता चलता है कि आपके चरित्र का स्टोरी आर्क क्या हो सकता है।

  • उत्तेजक घटना से पहले वो क्या चाहते हैं?

  • उत्तेजक घटना उनकी योजनाओं को कैसे प्रभावित करती है?

  • आपका मुख्य चरित्र उत्तेजक घटना को अन्य चरित्रों से अलग तरीके से कैसे संभालता है?

अपने मुख्य चरित्र के व्यक्तित्व और यह जिस तरह से उनके आसपास की घटनाओं पर असर डालता है उसके बारे में विचार करने का समय निकालकर आपको अपनी उत्तेजक घटना को समझने में मदद मिल सकती है।

फ़िल्मों में उत्तेजक घटना के उदाहरण

  • द हैंगओवर

    जॉन लुकास और स्कॉट मूर की पटकथा

    बैचलर पार्टी मनाने निकला दोस्तों का एक समूह एक रात की मौज-मस्ती के बाद सुबह हैरान-परेशान उठता है और उन्हें पता चलता है कि उनका दोस्त, दूल्हा, गायब हो गया है।

  • जॉस

    पीटर बेंकले, कार्ल गॉटलिब और हॉवर्ड सैकलर की पटकथा

    देर रात बिना कपड़ों के तैरने के लिए गयी नौजवान महिला को एक शार्क मार डालता है।

  • हैरी पॉटर एंड द सॉर्सरर्स स्टोन

    स्टीव क्लोव्स की पटकथा

    हैग्रिड हैरी पॉटर को बताता है कि वो एक जादूगर है और उसे जादूगरों के स्कूल में स्वीकार कर लिया गया है, लेकिन उसे जादुई दुनिया के बारे में कुछ पता नहीं होता है।

  • विली वोंका एंड द चॉकलेट फैक्ट्री

    रोनाल्ड डल की पटकथा

    एक गरीब परिवार के दयालु लड़के, चार्ली, को विली वोंका की चॉकलेट फैक्ट्री में जाने के लिए एक सुनहरा टिकट मिलता है।

  • सुपरबैड

    सेठ रोगन और इवान गोल्डबर्ग की पटकथा

    हाई स्कूल के सीनियर, सेठ और इवान, एक बड़ी पार्टी के लिए शराब ख़रीदने के लिए राज़ी हो जाते हैं।

जैसा कि आप देख सकते हैं, इन घटनाओं के बिना, इन फ़िल्मों का कोई कथानक ही न होता। किरदार हमेशा की तरह अपनी ज़िन्दगी बिताते रहते। हैरी पॉटर हॉगवर्ट्स न गया होता, और "जॉस" के छोटे से शहर में एक सुंदर शांतिपूर्ण समुद्र तट पर जाने का मौसम चल रहा होता।

हालाँकि, ज़रूरी नहीं है कि उत्तेजक घटना कोई महान कहानी लिखने के लिए एकमात्र, सबसे ज़रूरी चीज़ हो, लेकिन फिर भी किसी भी पूरी कहानी के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण चीज़ होती है। एक स्पष्ट और यक़ीन करने योग्य उत्तेजक घटना आपकी कहानी को ज़्यादा असरदार और मजबूत बनाती है, जो आपके नायक को एक ऐसे रास्ते पर ले जाती है जहाँ से वापस लौटने का कोई तरीका नहीं होता। अपने नायक को जानना और उन्हें कार्रवाई के लिए प्रेरित करने वाली एक पर्याप्त रूप से उत्तेजक घटना लिखना, ये दोनों चीज़ें साथ-साथ चलती हैं। इसलिए गहराई में जाने से न डरें और अपने मुख्य चरित्र की प्रेरणाओं के बारे में थोड़ा विचार करें। अगर आप उनकी जगह होते, तो कौन सी चीज़ आपको कुछ करने के लिए उकसाती?

लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

How to Use Mythology in Storytelling

पटकथा लेखन में पौराणिक कथाओं का प्रयोग कैसे करें

पौराणिक कथा परंपरा पर आधारित कहानी होती है, जो हमारी दुनिया और मानवीय स्थिति को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है। स्वर्गीय जोसेफ कैंपबेल के आने तक, हॉलीवुड को शायद यह अंदाज़ा नहीं था कि सिल्वर स्क्रीन पर इसकी कहानियां प्राचीन पौराणिक कथाओं पर आधारित हैं। लेकिन आज, दुनिया भर के कहानीकार यह मानते हैं कि ज़्यादातर महान कहानियों में एक पैटर्न होता है, चाहे उन्हें मंच पर प्रस्तुत किया जाए, सोप ओपेरा में प्रस्तुत किया जाए, या फिर किसी ब्लॉकबस्टर सुपरहीरो फ़िल्म के रूप में। आप भी इस पौराणिक पैटर्न को अपने फायदे के लिए प्रयोग कर सकते हैं। आप शायद पहले से ही अनजाने में कुछ पौराणिक संरचनाओं को अपनी कहानियों...

खोजें अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा

अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे खोजें

आपने शायद किसी को यह कहते सुना होगा कि, "वो उच्च अवधारणा वाली फ़िल्म है," लेकिन इसका वास्तव में क्या मतलब होता है? इतने सारे कार्यकारी और स्टूडियो उच्च अवधारणा वाले काम की तलाश में क्यों हैं? आज मैं आपको समझाने वाली हूँ कि असल में उच्च अवधारणा का क्या मतलब होता है और साथ ही आपको यह भी बताऊंगी कि आप अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे ढूंढ सकते हैं। उच्च अवधारणा का क्या मतलब है? किसी "उच्च अवधारणा" वाली फ़िल्म का विचार किसी यादगार और अनोखे हुक का मूलभूत पहलू होता है। यह फ़िल्म किसी चरित्र के बजाय विचार या दुनिया से प्रेरित होती है। इसे बताना आसान होता है, और सबसे बड़ी बात...
How to Find the Meaning of a Story

अपनी पटकथा की कहानी में अर्थ कैसे ढूंढें

"महान कहानियां आपको दुनिया में कम अकेला महसूस कराती हैं।" - फिल कूसिनो। फिल कूसिनो के साथ SoCreate के साक्षात्कार में, मुझे कई "आ-हा" वाले पल मिले हैं, जो एक ऐसे कहानीकार हैं जिनके नाम पर बहुत सारे क्रेडिट्स दर्ज़ हैं। ज़ाहिर तौर पर, मुझे पता है कि हम किसी कारण से कहानियां कहते हैं, लेकिन ऊपर दिए गए अनमोल वचन के माध्यम से कूसिनो ने सचमुच मुझे इसका मतलब समझा दिया। कहानियां हमें इस दुनिया को और इस दुनिया में हमारी जगह को समझने में मदद करती हैं। और कहानियों से हमें पता चलता है कि हम अपने अनुभवों में अकेले नहीं हैं। दर्शक ख़ुद को ऐसी कहानियों में डूबा सकते हैं, जिससे वो ख़ुद को जोड़ पाते हैं...