पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे खोजें

खोजें अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा

आपने शायद किसी को यह कहते सुना होगा कि, "वो उच्च अवधारणा वाली फ़िल्म है," लेकिन इसका वास्तव में क्या मतलब होता है? इतने सारे कार्यकारी और स्टूडियो उच्च अवधारणा वाले काम की तलाश में क्यों हैं? आज मैं आपको समझाने वाली हूँ कि असल में उच्च अवधारणा का क्या मतलब होता है और साथ ही आपको यह भी बताऊंगी कि आप अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे ढूंढ सकते हैं।

हमारे साथ बने रहिये! हम जल्दी ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

उच्च अवधारणा का क्या मतलब है?

किसी "उच्च अवधारणा" वाली फ़िल्म का विचार किसी यादगार और अनोखे हुक का मूलभूत पहलू होता है। यह फ़िल्म किसी चरित्र के बजाय विचार या दुनिया से प्रेरित होती है। इसे बताना आसान होता है, और सबसे बड़ी बात कि यह असली होती है। एक उच्च-अवधारणा कहानी किसी परिचित विचार, आदर्श, या कभी-कभी किसी जाने-पहचाने व्यक्ति पर केंद्रित होगी। उच्च-अवधारणा वाले काम किसी भी शैली में हो सकते हैं, लेकिन ये अक्सर एक्शन, रोमांच और कॉमेडी होते हैं और व्यापक दर्शकों तक पहुंचने के लिए बने होते हैं।

उच्च-अवधारणा वाले विचार का संकेत यह है कि जब भी कोई इसे सुनता है तो वो इसे तुरंत समझ जाता है, इसे मन में सोच सकता है, और आपसे यह भी पूछ सकता है कि इस विचार पर अब तक कुछ बना क्यों नहीं।

उच्च अवधारणा वाली कई फ़िल्में "अगर ऐसा होता तो?" के सवाल का जवाब देती हैं। जैसे, "अगर हम डायनासोर थीम वाला पार्क बनाते तो कैसा होता?" या, "अगर भूतों से छुटकारा पाने के लिए नाशक जैसा कोई व्यवसाय होता तो क्या होता?"

उच्च अवधारणा वाली फ़िल्मों के कुछ उदाहरण हैं:

  • हुक (1991)

    जेम्स वी. हार्ट, निकल कैसल और मालिया स्कॉच मार्मो की पटकथा

    अगर पीटर पैन बड़ा हो जाता तो क्या होता?

  • एनचांटेड (2007)

    बिल केली की पटकथा

    एनिमेटेड डिज्नी की राजकुमारी असली लाइव-एक्शन न्यूयॉर्क में आ जाती है।

  • यस्टरडे (2019)

    रिचर्ड कर्टिस की पटकथा, जैक बार्थ की कहानी

    एक संगीतकार को अचानक पता चलता है कि वह अकेला ऐसा व्यक्ति है जिसे बीटल्स याद है।

लॉगलाइन और उच्च अवधारणा वाली पिच के बीच का अंतर

लॉगलाइन आपकी फ़िल्म का एक-दो वाक्य का सारांश होता है। मुझे पता है, बहुत से लेखकों को अपनी परियोजनाओं को केवल एक वाक्य में संक्षेप में पेश करने में मुश्किल होती है। लॉगलाइन लिखना अपने आप में एक कौशल है। उच्च-अवधारणा वाली पिच और भी छोटी होती है! मैं आपको अपनी परियोजना को कुछ शब्दों में बताने के बारे में बात कर रही हूँ। उच्च-अवधारणा वाली पटकथा वास्तव में आपके आईडिया को सारा काम करने देती है।

उदाहरण के लिए, लॉगलाइन में हो सकता है:

"जब एक आदमी रहस्यमयी तरीके से जानवरों की तरह अपने हाथ-पैर पर चलना शुरू कर देता है, तो उसका वफादार कुत्ता अपने मालिक की बीमारी का इलाज खोजने के लिए मानवीय दुनिया में काम करने जाता है।"

वहीं उच्च अवधारणा वाली पिच कह सकती है:

"एक ऐसी दुनिया की कल्पना करिये जहाँ कुत्ते काम पर जाते हैं और इंसान घर पर रहते हैं।"

अपनी पटकथा को उच्च अवधारणा वाला कैसे बनाएं:

अपनी मौजूदा पटकथा को उच्च अवधारणा वाली पटकथा बनाने का कोई सरल सूत्र या तरीका नहीं है, जब तक कि इसे उसी तरह से शुरू न किया गया हो। आपको अपने आईडिया को वापस विचार-मंथन वाले चरण में ले जाना होगा और इसे और ज़्यादा एक्स्प्लोर करना होगा। हर चीज़ पर सवाल उठाने के साथ शुरुआत करें।

  • क्या होता है यह जानने के लिए "अगर ऐसा होता तो?" वाले सवाल पूछें। अगर आप अवधि बदल देते तो क्या होता? अगर यह अंतरिक्ष में होता तो क्या होता? अगर आप जो सोच रहे हैं ठीक उसका उल्टा होता तो क्या होता? अगर आप दूसरे किरदारों पर केंद्रित होते तो क्या होता? अगर आपके किरदार बिल्कुल विपरीत होते तो क्या होता?

  • आप किस तरह से जोखिम बढ़ा सकते हैं?

  • आपका आईडिया ज़्यादा दृश्यात्मक कैसे हो सकता है?

  • आप अपने मुख्य चरित्र के लिए संघर्ष कैसे बढ़ा सकते हैं? आप उसके सामने क्या चुनौती ला सकते हैं?

  • आप अपने नायक/नायिका को ऐसा कैसे बना सकते हैं, जिससे ज़्यादा जुड़ाव और हमदर्दी हो सके?

  • क्या आपका आईडिया किसी जानी-पहचानी चीज़ पर आधारित है? क्या सेठ ग्राहम-स्मिथ द्वारा लिखित "अब्राहम लिंकन: वैम्पायर हंटर" की तरह इसे अनोखा बनाने के लिए इसमें नाटकीय मोड़ डालने का कोई तरीका है?

अपने आईडिया को खींच-तानकर देखें। देखें यह कितनी दूर तक जा सकता है। उधेड़-बुन करते रहें जब तक कि आपकी अवधारणा असली नहीं लगने लगती।

उच्च अवधारणा वाली चीज़ लिखना मुश्किल लग सकता है, लेकिन मूल रूप से, यह एक ऐसा आईडिया होता है जो असली, अत्यधिक दृश्यात्मक, और बताने में आसान होता है। क्या आपकी लिखी जाने वाली प्रत्येक पटकथा उच्च अवधारणा वाली होनी चाहिए? अगर आपके लिए यह असंभव महसूस होता है तो ऐसा करना ज़रुरी नहीं है। हॉलीवुड के उच्च अवधारणा के प्रेम से लेखकों को यह सीख लेनी चाहिए कि अपने ख़ुद के दृष्टिकोण से अलग तरीके से लिखना महत्वपूर्ण होता है। ऐसी कहानियां सुनाएं जो आपके लिए महत्वपूर्ण हों, जहाँ आपका अद्वितीय दृष्टिकोण शामिल हो। किसी लोकप्रिय विचार की लहर में बहने की कोशिश न करें; उसपर ध्यान केंद्रित करें जिसे लेकर आप जुनूनी हैं। उम्मीद है, इस ब्लॉग से आपको "उच्च अवधारणा" की अवधारणा पर थोड़ी जानकारी मिली होगी, और उम्मीद है, यह आपको असली और अनोखा बनने के लिए प्रोत्साहित करेगा! लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

डालें अपनी पटकथा में भावना

अपनी पटकथा में भावना कैसे डालें

क्या आपने कभी भी अपनी पटकथा पर काम करते हुए ख़ुद से यह पूछा है, "इसमें भावना कहाँ है?" "क्या फ़िल्म देखते वक़्त किसी को कुछ महसूस होगा?" ऐसा हममें से बहुत सारे लोगों के साथ होता है! जब आप संरचना पर, कथानक के बिंदु A से B पर जाने पर, और अपनी कहानी की सभी कार्यप्रणालियों के काम करने पर केंद्रित होते हैं तो आप पा सकते हैं कि आपकी पटकथा में कुछ भावनात्मक बीट्स गायब हो गए हैं। तो आज, मैं आपको कुछ ऐसी तकनीकों के बारे में बताने वाली हूँ, जिससे आप अपनी पटकथा में भावना डालना सीख सकते हैं! आप संघर्ष, क्रिया, संवाद और तुलना के माध्यम से...
How to Develop Great Characters in Your Screenplay, with Writer Bryan Young

3 का नियम, साथ ही आपकी पटकथा में चरित्र के विकास के लिए और ज़्यादा उपाय

पटकथा में चरित्रों के विकास के लिए सभी मार्गदर्शकों में से पटकथा लेखक, ब्रायन यंग, से मैंने इन दो उपायों के बारे में कभी नहीं सुना था। ब्रायन एक पुरस्कार विजेता कहानीकार हैं, जो फ़िल्मों, पॉडकास्ट, किताबों और StarWars.com, Scyfy.com, HowStuffWorks.com, आदि पर पोस्ट लिखने के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने अपने समय में बहुत कुछ पढ़ा और लिखा है, इसलिए कहानी कहने की कला के फॉर्मूले की बात आने पर उन्होंने यह पता लगा लिया है कि उनके लिए कौन सी चीज़ कारगर साबित होती है। उनके चरित्र विकास के उपायों पर ध्यानपूर्वक विचार करके देखें कि वो आपके काम के हैं या नहीं...

अपनी पटकथा में

कहानी का मोड़ लिखें

कहानी का मोड़! अपनी पटकथा में मोड़ कैसे लिखें

यह सब एक सपना था? वो असल में उसका बाप था? पूरे समय हम पृथ्वी ग्रह पर थे? फ़िल्मों में कहानी के मोड़ का एक लंबा-चौड़ा इतिहास रहा है, और इसका अच्छा कारण भी है। किसी फ़िल्म के मोड़ से पूरी तरह से हैरान होने से ज़्यादा मज़ेदार और क्या हो सकता है? कहानी का अच्छा मोड़ चाहे जितना भी मज़ेदार क्यों न हो, लेकिन हम सभी इसके विपरीत अनुभव के बारे में भी बहुत अच्छी तरह से जानते हैं, जहाँ हमें बहुत पहले ही कहानी में आने वाले मोड़ का पता चल जाता है। तो, आप अपना ख़ुद का असरदार मोड़ कैसे लिखते हैं? यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जिनकी मदद से आप अपनी पटकथा में...