पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

अपनी पटकथा में भावना कैसे डालें

डालें अपनी पटकथा में भावना

क्या आपने कभी भी अपनी पटकथा पर काम करते हुए ख़ुद से यह पूछा है, "इसमें भावना कहाँ है?" "क्या फ़िल्म देखते वक़्त किसी को कुछ महसूस होगा?" ऐसा हममें से बहुत सारे लोगों के साथ होता है! जब आप संरचना पर, कथानक के बिंदु A से B पर जाने पर, और अपनी कहानी की सभी कार्यप्रणालियों के काम करने पर केंद्रित होते हैं तो आप पा सकते हैं कि आपकी पटकथा में कुछ भावनात्मक बीट्स गायब हो गए हैं।

हमारे साथ बने रहिये! हम जल्दी ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

तो आज, मैं आपको कुछ ऐसी तकनीकों के बारे में बताने वाली हूँ, जिससे आप अपनी पटकथा में भावना डालना सीख सकते हैं! आप संघर्ष, क्रिया, संवाद और तुलना के माध्यम से अपनी पटकथा में भावनाओं का संचार कर सकते हैं, और मैं आपको बताऊंगी कि यह कैसे किया जाता है।

संघर्ष कैसे ढूंढें

जब कभी मुझे ऐसा लगता है कि मेरी पटकथा में भावनाओं की कमी है तो सबसे पहले मैं संघर्ष के स्रोत ढूंढती हूँ। हम सभी जानते हैं कि संघर्ष को आपकी पटकथा को आगे बढ़ाना चाहिए, इस तरह यह आपके किरदारों को परिवर्तन के साथ-साथ बदलती भावनात्मक अवस्थाओं से गुज़रने के लिए प्रेरित करती है। आप अपने किरदारों को भावनात्मक रूप से अस्थिर होते हुए देख सकते हैं, और यह इस बात का संकेत है कि आपकी पटकथा में कोई ऐसा स्थान है जहाँ आप और संघर्ष डाल सकते हैं। क्या आपका मुख्य किरदार हर दृश्य से उसी भावनात्मक अवस्था में निकलता है, जिसमें उसने प्रवेश किया था? यह इस बात का संकेत हो सकता है कि संघर्ष में कुछ छूट रहा है। आप अपने किरदार की भावनात्मक स्थिति को नीरस होने से बचाने के लिए अपने दृश्यों को बारी-बारी से सकारात्मक और नकारात्मक आवेशों के साथ शुरू और ख़त्म कर सकते हैं।

उपन्यास न लिखें

आपका अपनी पटकथा में भावना का वर्णन करने का मन हो सकता है, लेकिन पटकथा लिखना उपन्यास लिखने जैसा नहीं होता। यह आसान रास्ता अपनाने पर आपकी पटकथा देखने और पढ़ने में नौसिखिया लग सकती है। पटकथा लेखकों को बस किरदार की भावना को बताना नहीं, बल्कि उसे दिखाना भी पड़ता है। एक अच्छी पटकथा गतिविधियों के माध्यम से किरदार की भावनाओं को ज़ाहिर करती है। "सारा दुखी है" लिखने के बजाय, पटकथा लेखक कह सकता है, "सारा अपने आंसुओं को रोकती है।"

मजबूत गतिविधि की क्रियाओं से नायक/नायिका की गतिविधियों में भावनात्मक विशेषताएं डालने में मदद मिल सकती हैं और हमें, यानी दर्शकों को, उनसे हमदर्दी हो सकती हैं। पैर घसीट कर चलना, दांत दिखाना, घूरना, अकड़ना और दुबकना जैसे सभी शब्दों के भावनात्मक अर्थ हो सकते हैं।

भावनात्मक संवाद महत्वपूर्ण है

अपने चरित्र की भावनाओं को व्यक्त करने के लिए अपने संवाद में अवसर खोजें। कभी-कभी लोग अपने वास्तविक अर्थ के विपरीत कहते हैं। कभी-कभी लोग किसी बेकार की चीज़ पर गुस्सा हो जाते हैं, लेकिन वे वास्तव में किसी और बात से परेशान होते हैं। कभी-कभी लोग कोई ज़रुरी बात कहने से बचने के लिए बेकार की बातें करते हैं। अपने किरदार के बात करने का तरीका विकसित करते समय लोगों के संवाद करने के और भावना ज़ाहिर करने के सभी अलग-अलग तरीकों को ध्यान में रखें। इसे सरल तरीके से कहे बिना बताएं कि उसके अंदर छिपी हुई बात क्या है? अपने मुख्य किरदार वाले कुछ संवादों को देखें और समझें कि वो अपनी भावनात्मक अवस्था कैसे ज़ाहिर करते हैं। क्या वो अपने गुस्से को छिपाते हैं या अपनी भावनाओं को साफ़ तौर पर बताते हैं? आपको अपने किरदार की भावनाओं को स्पष्ट करने के अवसर मिल सकते हैं।

कोष्ठक को लेकर संयम रखें

आप अपने चरित्र के संवाद से पहले एक कोष्ठक रखकर यह व्यक्त कर सकते हैं कि वो कोई बात किस तरह से कह रहे हैं। तो, अगर आप चाहते हैं कि आपका किरदार अपनी लाइन "शांतिपूर्वक" या "गुस्से में" कहे, तो ऐसा करने का यह एक तरीका हो सकता है। मैं आपको समझदारी के साथ कोष्ठकों का प्रयोग करने की सलाह दूंगी, क्योंकि, उससे ऐसा लग सकता है कि आप पेज से निर्देशन करने की कोशिश कर रहे हैं। ज़्यादातर समय, भावना विषय-वस्तु और क्रिया द्वारा संवाद में निर्मित होनी चाहिए।

अपने स्थानों और किरदारों की तुलना करें

अपने दृश्य में होने वाली चीज़ों पर अच्छी तरह गौर करें और अपने किरदार की भावनाओं को बेहतर बनाने या ज़्यादा अच्छे से दिखाने के लिए अवसरों की तलाश करें। क्या आपका किरदार परेशान है, लेकिन किसी ऐसी जगह पर है जिसे आम तौर पर ख़ुशनुमा माना जाता है, जैसे, मनोरंजन पार्क या किसी बच्चे के जन्मदिन की पार्टी? किरदार की भावनात्मक स्थिति को किसी विरोधभासी स्थान से जोड़ने पर इस बारे में कुछ दिलचस्प निकलकर आ सकता है कि किरदार उस स्थान या दूसरों के साथ कैसे इंटरैक्ट करता है। इस तकनीक का सही तरीके से प्रयोग करने पर यह दर्शकों का तनाव बढ़ा सकती है या किरदार की असहज स्थिति से दर्शकों को हंसा सकती है।

या जैसे, दो बहनें अपनी माँ के अंतिम संस्कार में हैं; एक इधर-उधर भागकर चीज़ें व्यवस्थित कर रही है, इस बात का ध्यान रख रही है कि सब लोग ठीक से हों, और वहीं दूसरी बहन अकेले बैठकर शराब पी रही है। दो किरदारों को एक ही परिस्थिति के लिए अलग-अलग प्रतिक्रियाएं करते हुए दिखाने पर हमें इस बात का अंदाज़ा लग सकता है कि वो किस तरह की इंसान हैं, जिससे दर्शकों को एक के लिए हमदर्दी और दूसरी के लिए गुस्सा महसूस हो सकता है।

किरदारों और आपकी कहानी के साथ जुड़ने के लिए दर्शकों को भावना से भरपूर क्षणों की ज़रुरत होती है। किसी टीवी शो या फ़िल्म को अपना समय देने के लिए उन्हें भावनात्मक रूप से परिपूर्ण लेखन की आवश्यकता होती है। आप भावनात्मक प्रासंगिकता के अवसरों को खोकर अपनी पटकथा को कम नहीं करना चाहेंगे। मैं एक ऐसी इंसान हूँ जिसे अपनी पटकथाओं में सही भावनात्मक तारों को झकझोरने में तकलीफ होती है, इसलिए मैं एक बार अपनी पटकथा को ऐसे ज़रुर पढ़ती हूँ, जहाँ मैं बस भावना के लिए पढ़ती हूँ। हर बार अपनी पटकथा दोबारा लिखने के साथ ख़ुद से यह सवाल करना काफी मददगार साबित हो सकता है कि आपके किरदार का भावनात्मक सफर यथार्थवादी और दर्शकों के लिए स्पष्ट है या नहीं।

उम्मीद है, इस ब्लॉग से आपको अपनी पटकथा में भावनाओं को जोड़ने के बारे में कुछ सुझाव मिले होंगे! लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की किताबों, टेलीविज़न कार्यक्रमों, और फ़िल्मों के माध्यम से हम पहली बार कहानियों को जानते हैं। ये शुरूआती कहानियां दुनिया के लिए हमारी समझ और पारस्परिक प्रभाव को आकार देने में मदद करती हैं। बड़े होने के बाद उनकी अहमियत कम नहीं होती; बल्कि, बच्चों की कहानियों से हमें पटकथा लेखन के बारे में एक-दो चीज़ें सीखने में मदद मिल सकती है! सरल अक्सर बेहतर होता है - बच्चों की कहानियां हमें एक आईडिया लेकर, इसके आवश्यक अर्थ को बाहर निकालना सिखाती हैं। मैं आपको इसे बेहद आसान बनाने के लिए नहीं कह रही, बल्कि अपने आईडिया को सबसे सरल तरीके से ज़ाहिर करने की बात कर रही हूँ...

करेंअपनी पटकथा में पिक्सर के कहानी के नियमों का प्रयोग

अपनी पटकथा में पिक्सर के कहानी के नियमों का प्रयोग कैसे करें

पिक्सर को विकसित किरदारों और कथानकों वाली विचारशील फ़िल्मों के लिए जाना जाता है, जो आपका दिल छू लेती हैं। वो एक के बाद एक मार्मिक सफल फ़िल्में कैसे बना लेते हैं? 2011 में, पिक्सर की पूर्व स्टोरीबोर्ड आर्टिस्ट, एमा कोट्स, ने कहानी के नियमों का एक संग्रह ट्वीट किया था, जो उन्होंने पिक्सर में काम करने के दौरान सीखा था। इन नियमों को "पिक्सर के कहानी के 22 नियम" के रूप में जाना जाता है। आज मैं आपके साथ ये नियम शेयर करने वाली हूँ, और साथ ही यह भी बताऊंगी कि पटकथा लिखते समय मैं उन्हें कैसे प्रयोग करती हूँ...

फैनफिक्शन पटकथा कैसे लिखें

फैनफिक्शन पटकथा कैसे लिखें

"50 शेड्स ऑफ़ ग्रे," "आफ्टर," और "द इम्मोर्टल इंस्ट्रूमेंट्स" इन सबमें एक चीज़ समान है: ये सभी फैनफिक्शन का काम हैं जो आगे चलकर फ़िल्मों में तब्दील हुए! कभी-कभी फैनफिक्शन, फैन फिक्शन, फैनफिक, और फिक के रूप में लिखी गयी, इन कहानियों को फ़िल्म, किताब, या टेलीविज़न शो के रूप में पहले से मौजूद काल्पनिक कार्यों के प्रशंसकों द्वारा निर्मित काल्पनिक लेखन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। आज, मैं आपको बताने वाली हूँ कि अपनी ख़ुद की फैनफिक्शन पटकथा लिखते समय एक पटकथा लेखक को किन चीज़ों पर विचार करना चाहिए। फ़िल्म और टेलीविज़न उद्योगों में फैनफिक्शन क्या है...