पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

अपनी पटकथा में सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए 5 चरण

अपनी पटकथा में सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए 5 चरण

अक्सर किसी फ़िल्म का अंत किसी भी दूसरे पहलू से कहीं ज़्यादा महत्वपूर्ण हो सकता है। पटकथाएं अपने अंत की वजह से अच्छी और बुरी हो सकती हैं। कोई बहुत अच्छी फ़िल्म भी अपने ख़राब अंत की वजह से बर्बाद हो सकती है, और अच्छी तरह सोचा-समझा हुआ अंत किसी सामान्य फ़िल्म को भी बेहतरीन बना सकता है। अगर आप अपनी पटकथा का अंत अच्छा नहीं रखते तो आपके मज़बूत हुक और हैरानी भरे मोड़ सब भुला दिए जायेंगे, तो यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जो आपकी पटकथा को अच्छी जगह पर ख़त्म करने में मदद करेंगे!

  • अपनी पटकथा का सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए चरण 1: चीज़ों की अच्छी तरह से योजना बनाएं

    जब आप लिखना शुरू करते हैं उस समय तक, आपको पहले ही यह पता होना चाहिए कि आपकी पटकथा कैसे ख़त्म होने वाली है। अगर आपको पता होता है कि आप अपनी पटकथा में कहाँ जाने वाले हैं तो इससे आप भरोसा करने लायक मोड़ और संतोषजनक क्षण लिखने में समर्थ हो पाएंगे क्योंकि आपको शुरुआत में ही और पूरी कहानी के दौरान उन चीजों का आधार तैयार करने का समय मिला होता है।

  • अपनी पटकथा का सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए चरण 2: आंतरिक और बाहरी

    अंत के बारे में सोचते समय, इस बात का ध्यान रखें कि आंतरिक साथ ही बाहरी रूप से, आपके मुख्य पात्र के साथ क्या हो रहा है। संतोषजनक अंत हासिल करने के लिए आपको दोनों में संतुलन बनाकर रखना होगा। जैसे उदाहरण के लिए, "फ्रोज़ेन" में, जब एल्सा को अपनी बनायी हुई तेज़ ठंड को रोकने की ज़रूरत पड़ती है, तब आतंरिक और बाहरी दोनों सीधे एल्सा से जुड़ जाते हैं। और वो अपनी बहन के लिए अपने प्यार की ताकत को पहचानकर ऐसा कर पाती है। यह पात्र के लिए आंतरिक क्षण और बाहरी क्षण दोनों था क्योंकि उसके बाद सर्दियां ख़त्म होने लगती हैं।

    "जुरासिक वर्ल्ड" में, ओवेन और क्लेयर को चारों तरफ भागने वाले सभी डायनासोरों को रोकने/दूर करने का रास्ता खोजना था, लेकिन अंत में, उन्हें पता चलता है कि वो एक अच्छी टीम हैं और एक साथ मज़बूत हैं। अपनी पटकथा के अंत में आपको भावनात्मक नतीजा रखना चाहिए, और बाहर चल रही सभी चीज़ों की वजह से इसके बारे में नहीं भूलना चाहिए।

  • अपनी पटकथा का सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए चरण 3: क्रमहीन तरीके से लिखने की कोशिश करें

    कभी-कभी मैं बिल्कुल क्रम में पटकथा लिखती हूँ और, कभी-कभी क्रमहीन तरीके से लिखना पसंद करती हूँ। अगर आप एक प्रभावशाली अंत बनाने के बारे में सोच रहे हैं जो शुरुआत से जुड़ा हुआ हो तो मैं आपको पहले पटकथा के शुरुआत के दस पन्ने और अंत के दस पन्ने लिखने की सलाह दूंगी और उसके बाद आप वहां से बाकी की चीज़ें लिख सकते हैं। शुरुआत और अंत लिखने से यह अच्छी तरह से पता चल जाता है कि आप कहाँ जा रहे हैं और जैसे-जैसे आप पटकथा में बाकी की चीज़ें लिखते हैं आपको इसके बारे में सोचने का मौका मिलता है कि अंत कितना अच्छा है।

  • अपनी पटकथा का सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए चरण 4: शैली पर नज़र डालें

    अपनी पटकथा के अंत के बारे में सोचने की कोशिश करते समय, उसी शैली की दूसरी फ़िल्मों को देखना और उनके अंत पर विचार करना मददगार साबित हो सकता है। इस शैली में क्या एक समान है? शैली में किस तरह का अंत पारंपरिक अंत से अलग होगा?

  • अपनी पटकथा का सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए चरण 5: दर्शक क्या चाहते हैं?

    आजकल के दर्शक बहुत बुद्धिमान हैं और वो आपकी कहानी की शुरुआत में ही अंत का अनुमान लगाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने ऐसी चीज़ों की उम्मीद करना सीख लिया है जो अप्रत्याशित हैं, इसलिए अगर आप उन्हें उलझाने या हैरान करने के बारे में सोच रहे हैं तो बहुत सावधानी से आगे बढ़ें। ऐसा अंत न लिखें जो दर्शकों को हैरान करने के उद्देश्य से ही लिखा गया है क्योंकि फिर संभावना यह होती है कि A) यह बिल्कुल भी हैरानी भरा नहीं होगा, या B) यह संतोषजनक नहीं होगा। हालाँकि दर्शक के दृष्टिकोण से कहानी का अंत सोचना अच्छा होता है, लेकिन फिर भी ऐसा अंत लिखना सबसे अच्छा होता है जिसपर आप भरोसा करते हैं। आपने जो दुनिया बनाई है उसके लिए किस तरह का अंत अच्छा होगा? जब आप कुछ ऐसा लिखते हैं जिसपर आपको पूरा भरोसा है, और इसके बाद कहानी को सही अंत देते हैं तो दर्शक भी इसे समझ पाएंगे।

अंत मुश्किल हो सकता है, लेकिन उम्मीद है, अपनी पटकथा का अंत लिखने की कोशिश करते समय आपको इन उपायों से मदद मिलेगी! लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

टॉप 5 उपाय पटकथा में असरदार संवाद लिखने के

पटकथा में असरदार संवाद लिखने के टॉप 5 उपाय

इंसान अजीब तरीके से बातचीत करते हैं — हम बात करते समय "हम्म," "उम्म," और "जैसे" शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। हम रुकते हैं, दूसरी तरफ देखते हैं, और थोड़ी बेसिर-पैर की बातें करते हैं। ज़्यादातर हम एक-दूसरे से आमने-सामने बात नहीं करते। हम टेक्स्ट भेजते हैं, मैसेज करते हैं, सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं, और हम फोन पर बाते करते हैं जो अब काफी कम हो रहा है। पटकथा लेखक होने के नाते, हमें इंसानों के बीच होने वाली बातचीत को ज़्यादा से ज़्यादा सच्चे, अच्छे और प्रेरणादायक तरीके से पेश करने में समर्थ होना चाहिए। और यह आसान नहीं है और काफ़ी मुश्किल काम हो सकता है, तो यहाँ कुछ...

टॉप 4 उपाय रोमांटिक कॉमेडी लिखने के

पारंपरिक पटकथा में रोमांटिक कॉमेडी लिखने के 4 उपाय

मुझे रॉम-कॉम कुछ ख़ास पसंद नहीं हैं। लो मैंने ये कह दिया। रॉम-कॉम मेरी कुछ सबसे कम पसंदीदा शैलियों में से एक है, और इसके कुछ कारण हैं। 1. इस शैली में विविधता की कमी है 2. इनका अनुमान लगाना बहुत आसान होता है 3. मैं बहुत कम ही प्यार-मोहब्बत वाली चीज़ें सह सकती हूँ! तो, अगर ये शैली मुझे पसंद नहीं है तो फिर इसके लिए मैं आपको क्या उपाय बता सकती हूँ? मैं आपको सोचने के लिए ऐसी चीज़ें देने जा रही हूँ जो मैंने कुछ बेहतरीन और सबसे हटके रॉम-कॉम फ़िल्मों में देखी हैं! पारंपरिकता तोड़ें: ज़रा "प्रीटी वुमन" के बारे में सोचिये। किसने सोचा होगा कि एक वेश्या और जॉन की कहानी आगे...

टॉप 6 उपाय हॉरर पटकथा लिखने के

पारंपरिक पटकथा लेखन में हॉरर पटकथा लिखने के 6 उपाय

हॉरर! एक ऐसी शैली है, जो अच्छी होने पर बहुत अच्छी होती है, लेकिन अगर ये बुरी हुई तो बहुत ज़्यादा बुरी हो सकती है। तो कोई इंसान अच्छी हॉरर फ़िल्म कैसे लिखता है? कौन सी चीज़ों पर ध्यान देना ज़रूरी होता है? आपको कैसे पता चलता है कि कोई पटकथा डरावनी है या नहीं? अपने स्टीफेन किंग के अवतार में आने के लिए यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं! 1) हॉरर पटकथा की संरचना जानें। क्या आपकी फ़िल्म हिंसक हत्या वाली फ़िल्म है? किसी दानव की फ़िल्म है? या किसी भूत की कहानी है? इसके जैसी दूसरी फ़िल्मों को अच्छी तरह से समझें। किसी ख़ास तरह की फ़िल्म को आप जितना...

टिप्पणियां