पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पारंपरिक पटकथा में रोमांटिक कॉमेडी लिखने के 4 उपाय

टॉप 4 उपाय रोमांटिक कॉमेडी लिखने के

मुझे रॉम-कॉम कुछ ख़ास पसंद नहीं हैं। लो मैंने ये कह दिया।

रॉम-कॉम मेरी कुछ सबसे कम पसंदीदा शैलियों में से एक है, और इसके कुछ कारण हैं।

  1. इस शैली में विविधता की कमी है

  2. इनका अनुमान लगाना बहुत आसान होता है

  3. मैं बहुत कम ही प्यार-मोहब्बत वाली चीज़ें सह सकती हूँ!

तो, अगर ये शैली मुझे पसंद नहीं है तो फिर इसके लिए मैं आपको क्या उपाय बता सकती हूँ? मैं आपको सोचने के लिए ऐसी चीज़ें देने जा रही हूँ जो मैंने कुछ बेहतरीन और सबसे हटके रॉम-कॉम फ़िल्मों में देखी हैं!

  • पारंपरिकता तोड़ें

    ज़रा "प्रीटी वुमन" के बारे में सोचिये। किसने सोचा होगा कि एक वेश्या और जॉन की कहानी आगे चलकर सबसे मशहूर रोमांस फ़िल्मों में से एक बन जाएगी। लेकिन फिर भी ये बनी! और इसका श्रेय मैं इसके कथानक को देती हूँ, जो अनोखा और परंपरा से हटकर है। "प्रीटी वुमन" कोई ऐसी फ़िल्म नहीं है जहाँ बस दो लोग एक-दूसरे से मिलते हैं, इसके बाद उनके बीच फ़ालतू की शरारतें और तमाशा होता है, और अंत में उन्हें प्यार हो जाता है। यह फ़िल्म हमें वेश्यावृत्ति, साथ ही साथ रिचर्ड गेयर के किरदार की बिज़नेस की दुनिया दिखाती है। यह वेश्यावृत्ति के धंधे में काम करने वाली औरतों के साथ होने वाले बर्ताव के बारे में बताती है, और दिखाती है कि जब ग़रीब तबक़े का कोई इंसान बड़े लोगों के बीच जाता है तो क्या होता है। यह देखना उनके रिश्ते के अलावा भी अपने आपमें दिलचस्प है!

    एक ऐसी शैली जहाँ हमें हर समय एक ही तरह की कहानियां देखने को मिलती हैं, ऐसे में अपारंपरिक रास्ते पर चलने वाला रॉम-कॉम सबसे अलग दिखाई देता है!

  • लीग से हटकर चीज़ें करें

    रॉम-कॉम का फ़ॉर्मूला परखा और आजमाया हुआ है। इसमें एक सेट-अप होता है, किरदार एक दूसरे से मिलते हैं, मुश्किलें आती हैं, ऐसी परिस्थिति पैदा होती है जहाँ कुछ न कुछ करने की ज़रूरत पड़ती है और आख़िरकार, सबकुछ सही हो जाता है। लोगों को प्यार हो जाता है; और हम अपने-अपने घर जाते हैं!

    अगर आप लीग से हटकर कुछ करते हैं जिसकी दर्शकों को उम्मीद नहीं है तो आप अपनी फ़िल्म को ज़्यादा रोमांचक बना सकते हैं। हो सकता है कोई किरदार कुछ ऐसा कर दे जिसकी हमें उम्मीद नहीं है, या किसी बाहरी ताकत की वजह से कुछ अलग हो जाए, लेकिन उन तरीकों के बारे में गौर से सोचना बहुत ज़रूरी है जो हमें रॉम-कॉम के घिसे-पीटे फ़ॉर्मूले से अलग राह पर ले जाती हैं!

  • अपने किरदारों को मज़बूत बनाएं

    रॉम-कॉम की बात आने पर, पूरा कथानक दो पात्रों पर आधारित होता है जो कई कठिनाई और मुश्किलों से गुजरते हैं और अंत में उन्हें एक-दूसरे से प्यार हो जाता है। यह फ़ॉर्मूला काम करने के लिए, हमें लोगों को पसंद करने की ज़रूरत होती है!

    मैं यह नहीं कहती कि हर एक पात्र ऐसा होना चाहिए जिसे पसंद किया जा सके, ये सच नहीं है, लेकिन उनका दिलचस्प होना ज़रूरी है! उन्हें मनोरंजक बनाएं; उन्हें ऐसा बनाएं कि दर्शक उनके बारे में ज़्यादा जानना चाहें!

  • इसे समावेशी बनाएं!

    समावेशी बनें और ऐसे किरदारों की कहानियां लिखें जो हमें अक्सर रॉम-कॉम में देखने को नहीं मिलते! “लव साइमन”, “इज़ंट इट रोमांटिक,” और “व्हाट मेन वांट” जैसी हाल में आयी सभी फ़िल्में अनोखेपन को अपनाती हैं और ऐसे किरदार दिखाती हैं जो रॉम-कॉम की शैली में कुछ अलग सा लाते हैं।

    समलैंगिक जोड़ों पर विचार करिये, जैसे ब्रायन वेन पीटरसन द्वारा लिखी गयी "बट आई एम अ चियरलीडर! बट आई एम अ चियरलीडर!" मेरी पसंदीदा फ़िल्मों में से एक है, जिसकी कहानी हाई स्कूल की एक चियरलीडर पर आधारित है, जिसके माता-पिता उसके समलैंगिक होने का इलाज करवाने के लिए उसे रूपांतरण उपचार के लिए भेज देते हैं। यह रॉम-कॉम जैसी नहीं लगती, लेकिन मैं आपको भरोसा दिलाती हूँ, ये रॉम-कॉम ही है! यह मज़ेदार फ़िल्म है, मुख्य किरदार को अंत में अपना प्यार मिला जाता है। यह फ़िल्म इस शैली को उलट देती है और इसकी हंसी उड़ाती है, इसकी कहानी एक अनोखे परिवेश में शुरू होती है, और मुख्य प्रेम कहानी के अलावा दूसरे पहलुओं को भी दिखाती है।

    अगर हम इस शैली में विविधता की बात कर रहे हैं तो अपने मुख्य पात्रों के रूप में दूसरी नस्लों और जातियों से आने वाले लोगों के बारे विचार करें, या फिर अंतर्जातीय संबंधों के बारे में सोचें! हाल ही मैंने नेटफ्लिक्स पर "ऑलवेज़ बी माई मेबी" देखी, और यह मुझे बहुत पसंद आयी! यह बहुत मज़ेदार और प्यारी है। जहाँ रॉम-कॉम की आलंकारिक भाषा और संरचना के मामले में यह काफी पारंपरिक है, वहीं (स्पॉइलर) एक मुख्य किरदार के कीनू रीव्स के साथ लड़ाई करने के अनोखेपन से मैं बहुत हैरान भी थी। यह एक बहुत अच्छी, अलग, मज़ेदार फ़िल्म है जो ज़्यादातर विविध किरदारों पर केंद्रित है। हमें इस शैली में ऐसी और ज़्यादा फ़िल्मों की ज़रूरत है!

उम्मीद करती हूँ कि रॉम-कॉम लिखने के संबंध में यह ब्लॉग आपको सोचने के लिए कुछ चीज़ें दे पाया होगा! एक ऐसे इंसान की बात सुनिये जो इस शैली का बहुत बड़ा प्रशंसक नहीं है: लोगों की उम्मीदों से कुछ अलग लिखने के बारे में सोचने पर आपको एक ऐसी पटकथा लिखने में मदद मिल सकती है जो निश्चित रूप से भीड़ से अलग होगी!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

लेखक के अवरोध को दूर करें

अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

लेखक के अवरोध को दूर करें - अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

चलिए, हम सभी मान लेते हैं कि हम ऐसी स्थिति में रह चुके हैं। आखिरकार, आप आराम से बैठकर लिखने का समय निकालते हैं। आप पेज खोलते हैं, कीबोर्ड पर उंगली रखते हैं, और इसके बाद...कुछ नहीं। एक भी रचनात्मक विचार आपके दिमाग में नहीं आता। लेखक का भयानक अवरोध एक बार फिर से वापस आ गया, और आप अटक गए। यह याद रखना जरुरी है कि आप ऐसे अकेले नहीं हैं! दुनिया भर के लेखक हर दिन इस अवरोध का सामना करते हैं, लेकिन इस खालीपन की भावना पर काबू पाकर आगे बढ़ना संभव है! यहाँ अपनी रचनात्मकता को दोबारा प्रवाहित करने के लिए हमारे 10 पसंदीदा उपाय दिए गए हैं: 1. किसी अलग जगह लिखने का प्रयास करें। क्या आप हमेशा अपने डेस्क पर लिखते हैं? या अपने किचन टेबल पर लिखते हैं? इसे बदलें! ...

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

हमारे पिछले ब्लॉग पोस्ट में, हमने आपको पटकथा लेखन के पहले 10 पन्नों के बारे में "मिथक" या वास्तव में कहें तो तथ्य के बारे में बताया। ऐसा नहीं है कि केवल वे महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की बात आती है तो निश्चित रूप से वो सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। इसपर ज्यादा जानकारी पाने के लिए कृपया हमारे पिछले ब्लॉग पर जाएँ: "मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?" अब जबकि हमें उनकी महत्ता के बारे में अच्छी समझ है तो चलिए उन कुछ तरीकों के बारे में जानते हैं जिनका ध्यान रखकर हम अपनी पटकथा के पहले कुछ पन्नों को शानदार बना सकते हैं! 1. वो दुनिया तैयार करें जिसके चारों ओर आपकी कहानी घूमती है। अपने पाठकों को कुछ संदर्भ प्रदान करें। दृश्य तैयार करें। ...
6

करने के उपायमजबूतलेखन लक्ष्य

मजबूत लेखन लक्ष्य निर्धारित करने के 6 उपाय

चलिए मान लेते हैं कि हम सभी ऐसी स्थिति में रह चुके हैं। हम अपने लिए लेखन के लक्ष्य निर्धारित करने का प्रयास करते हैं, और हम पूरी तरह से विफल हो जाते हैं। जब आपके पास एक दूसरी फुल-टाइम नौकरी होती है, आपको परिवार का ध्यान रखना पड़ता है, या आपके पास दुनिया के सबसे बड़े भटकाव, अर्थात इंटरनेट, का कोई भी एक्सेस होता है तो अपनी पटकथा पर काम करना मुश्किल हो सकता है। आपको बुरा महसूस करने की कोई जरुरत नहीं है; यह हम सबके साथ होता है। चलिए भविष्य की ओर देखते हैं और निराशा की उन भावनाओं को पीछे छोड़ना शुरू करते हैं! चलिए इन 6 उपायों के प्रयोग से कुछ मजबूत लेखन संबंधी लक्ष्य निर्धारित करते हैं! 1. एक कैलेंडर बनाएं - हालाँकि ऐसा लग सकता है कि यह बहुत ज्यादा समय ले रहा है, लेकिन...

टिप्पणियां