पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पटकथा में असरदार संवाद लिखने के टॉप 5 उपाय

टॉप 5 उपाय पटकथा में असरदार संवाद लिखने के

इंसान अजीब तरीके से बातचीत करते हैं — हम बात करते समय "हम्म," "उम्म," और "जैसे" शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। हम रुकते हैं, दूसरी तरफ देखते हैं, और थोड़ी बेसिर-पैर की बातें करते हैं। ज़्यादातर हम एक-दूसरे से आमने-सामने बात नहीं करते। हम टेक्स्ट भेजते हैं, मैसेज करते हैं, सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं, और हम फोन पर बाते करते हैं जो अब काफी कम हो रहा है। पटकथा लेखक होने के नाते, हमें इंसानों के बीच होने वाली बातचीत को ज़्यादा से ज़्यादा सच्चे, अच्छे और प्रेरणादायक तरीके से पेश करने में समर्थ होना चाहिए। और यह आसान नहीं है और काफ़ी मुश्किल काम हो सकता है, तो यहाँ कुछ उपाय दिए गए हैं जो अपने संवाद पर मेहनत करते समय आपके ज़रूर काम आएंगे!

SoCreate सदस्यताएँ जल्द ही आ रही हैं!

बीटा परीक्षण भरे हुए हैं, लेकिन आपकी सदस्यता सेवा शुरू होने के बाद आप अधिसूचित होने के लिए साइन अप कर सकते हैं।

  • पटकथा संवाद के लिए उपाय 1: यथार्थवादी गुमराह करने वाला हो सकता है

    हर कोई "यथार्थवादी संवाद" बनाने की कोशिश करता है और इसकी प्रशंसा करता है, लेकिन क्या सच में ऐसी कोई चीज़ होती है? असली ज़िन्दगी में, हम कभी भी उतने बुद्धिमान या सटीक नहीं होते जितना कि पटकथा के लिए ज़रूरी होता है। असली परिस्थितियों में, लोगों के पास हमेशा बोलने के लिए कुछ बहुत दिलचस्प नहीं होता। लोग संवाद को "यथार्थ या वास्तविक" के रूप में तब देखते और बताते हैं, जब संवाद किसी समय के लिए सही लगता है, और जब इसके बारे में कोई चीज़ सच्ची लगती है। "जूनो" में किशोरों की अजीबोग़रीब भाषा असली ज़िन्दगी में किशोरों के बीच होने वाली बातचीत से बहुत अलग है, लेकिन कहानी की दुनिया में यह काम करती है। किसी चीज़ को असली बनाने में न फंसें, बल्कि इसके बजाय यह सोचें कि आप जिस दुनिया की कहानी कह रहे हैं, उसके लिए यह सच्ची और ईमानदार महसूस होती है या नहीं।

  • पटकथा संवाद के लिए उपाय 2: बिल्कुल सीधी बात?

    ऐसा बहुत कम होता है जब लोग जो मन में आया वो बोलते हैं या अपने अंदर की सारी बात बता देते हैं। बिल्कुल सतही संवादों से बचने की कोशिश करें। अक्सर, हमारे चरित्रों को कहानी के लिए ज़रूरी विवरण देने की ज़रूरत पड़ती है, लेकिन एक लेखक होने के नाते, यह हमारा काम है कि वो विवरणात्मक संवाद विवरणों से भरा हुआ न लगे। यहाँ पर हमें रचनात्मक होना पड़ता है और बहुत ज़्यादा भारी-भरकम भाषा का इस्तेमाल किये बिना अपने संवाद में ज़रूरी चीज़ें कहने के लिए बारीकियों और अंतर्निहित पहलुओं का इस्तेमाल करना पड़ता है।

  • पटकथा संवाद के लिए उपाय 3: कम सबसे अच्छा होता है

    अक्सर हमें देखने के मिलता है कि संवाद जितना कम होता है उतना ही बेहतर होता है। संवाद उद्देश्यपूर्ण होना चाहिए, और बेकार की चीज़ों को काट दिया जाना चाहिए। जहाँ कहीं भी संभव हो संवाद की जगह गतिविधि और कल्पना का इस्तेमाल करें। अक्सर, जो चल रहा है उसके बारे में बताने के लिए चरित्रों के संवाद बोलने के बजाय गतिविधि का इस्तेमाल करना ज़्यादा असरदार होता है।

  • पटकथा संवाद के लिए उपाय 4: इसे बहुत आसान न बनाएं

    यह मेरे लिए बड़ी बात है। मुझे हमेशा ख़ुद को याद दिलाना पड़ता है कि मुझे जोखिम बढ़ाना होना, तनाव बढ़ाना होगा, और सबसे ज़रूरी, संघर्ष बढ़ाना होगा। अपने किरदारों के लिए संवाद बहुत आसान न बनाएं। ऐसी स्वाभाविक जगहों की तलाश करें जहाँ आपके संवाद में संघर्ष शुरू हो सकता है। हो सकता है किसी चीज़ को लेकर दूसरे किरदार आपके मुख्य किरदार को परेशान कर रहे हों, या शायद कोई उस बारे में बात करने से इंकार कर देता है जिसके बारे में आपका मुख्य चरित्र बात करना चाहता है और उसकी जगह दूसरी बात करना शुरू करके इसे टाल देता है। असली ज़िन्दगी में, बहुत सारी बातचीत बेकार और बोझिल होती हैं, लेकिन पटकथा में इनसे बचने की ज़रूरत होती है। अपने संवाद में तनाव और संघर्ष शामिल करना चीज़ों को आगे बढ़ाने और ज़रूरी गतिविधि करने के लिए प्रेरित करने का शानदार तरीका हो सकता है।

  • पटकथा संवाद के लिए उपाय 5: अलग-अलग आवाज़ें

    हम सबने इसके बारे में पहले भी सुना है। आपके किरदारों की अलग-अलग आवाज़ें होनी चाहिए; वो सभी सुनने में एक जैसे नहीं लगने चाहिए। हमने किसी कारण से ही इसके बारे में पहले भी सुना है। यह अच्छी सलाह है! अगर मुझे ऐसा कोई फ़ीडबैक मिलता है कि मेरे किरदार सुनने में एक जैसे लगते हैं तो मैं "आवाज़ों" का संपादन शुरू कर देती हूँ। मैं अपने मुख्य चरित्र के साथ शुरू करूँगी और इस बात पर ध्यान दूंगी कि मेरे दिमाग में वो कैसे बोलते हैं, कभी-कभी मैं उनके बात करने तरीके के महत्वपूर्ण पहलुओं पर नोट्स भी बनाती हूँ। इसके बाद, मैं उनकी हर एक लाइन को सही तरीके से समायोजित करती हूँ, और हर किरदार के लिए यह प्रक्रिया दोहराती हूँ।

संवादों की वजह से परेशान न हों! उम्मीद है, संवाद लिखने में मुश्किलें आने पर इन उपायों से आपको मदद मिलेगी। आपके लिए शुभकामनाएं और लिखने का आनंद लें!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

टॉप 4 उपाय रोमांटिक कॉमेडी लिखने के

पारंपरिक पटकथा में रोमांटिक कॉमेडी लिखने के 4 उपाय

मुझे रॉम-कॉम कुछ ख़ास पसंद नहीं हैं। लो मैंने ये कह दिया। रॉम-कॉम मेरी कुछ सबसे कम पसंदीदा शैलियों में से एक है, और इसके कुछ कारण हैं। 1. इस शैली में विविधता की कमी है 2. इनका अनुमान लगाना बहुत आसान होता है 3. मैं बहुत कम ही प्यार-मोहब्बत वाली चीज़ें सह सकती हूँ! तो, अगर ये शैली मुझे पसंद नहीं है तो फिर इसके लिए मैं आपको क्या उपाय बता सकती हूँ? मैं आपको सोचने के लिए ऐसी चीज़ें देने जा रही हूँ जो मैंने कुछ बेहतरीन और सबसे हटके रॉम-कॉम फ़िल्मों में देखी हैं! पारंपरिकता तोड़ें: ज़रा "प्रीटी वुमन" के बारे में सोचिये। किसने सोचा होगा कि एक वेश्या और जॉन की कहानी आगे...

टॉप 6 हॉरर स्क्रीनप्ले लिखने के उपाय

पारंपरिक पटकथा में हॉरर स्क्रीनप्ले लिखने के 6 उपाय

हॉरर! यह एक ऐसी शैली है जो अगर अच्छी हुई तो बहुत अच्छी है, लेकिन अगर गलती से यह बुरी हुई तो यह बहुत ज़्यादा बुरी हो सकती है। तो, कोई इंसान अच्छी हॉरर मूवी कैसे लिखता है? एक हॉरर लेखक को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? आपको कैसे पता चलेगा कि आपकी हॉरर कहानी किसी और के लिए डरावनी है या नहीं? अपने अंदर के स्टीफन किंग को बाहर निकालने के लिए और अपनी अगली हॉरर पटकथा लिखने में आपकी मदद करने के लिए यहाँ पर कुछ उपाय दिए गए हैं...

पारंपरिक पटकथा में टेक्स्ट मैसेज लिखें

पारंपरिक पटकथा में टेक्स्ट मैसेज कैसे लिखें

ओह, 21वीं सदी की ज़िन्दगी। इसमें कोई उड़ती हुई कारें नहीं हैं, और हम अभी भी धरती पर ही रहने के लिए मज़बूर हैं। हालाँकि, अब हम टेक्स्ट से बातचीत कर सकते हैं, जो एक ऐसी चीज़ है जिसने हमारे पूर्वजों को ज़रूर प्रभावित किया होता। हमें आधुनिक समय में स्थापित अपनी पटकथाओं में बातचीत करने के तरीके में हुए ऐसे महत्वपूर्ण बदलावों पर बहुत ध्यानपूर्वक विचार करना चाहिए। तो आज, मैं यहाँ पटकथा में टेक्स्ट मैसेज लिखने के बारे में बात करने वाली हूँ! आप इसे कैसे फॉर्मेट करते हैं? यह कैसा दिखाई देना चाहिए? टेक्स्ट मैसेजों के लिए कोई स्टैंडर्ड फॉर्मेटिंग नहीं है, तो ये उन चीज़ों में से एक है जिसके मामले में...