पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

वो गतिविधियां जो तेज़ी से आपकी रचनात्मकता ख़त्म कर देंगी

जब आप कहानीकार होते हैं, तो रचनात्मकता आपकी जीवनदायिनी होती है! रचनात्मकता एक घर के पौधे की तरह है, और आपको इसे विकसित करने, पोषण करने और पानी देने की आवश्यकता है। तो आप इसे मारने के लिए चीजें क्यों कर रहे हैं? अपने घर के पौधों को मत मारो, और अपनी रचनात्मकता को मत मारो! लिखना मुश्किल है? आप इन गतिविधियों में भाग ले सकते हैं जो कुल रचनात्मकता हत्यारे हैं।

लाइन में अपनी जगह पकड़ो, पटकथा लेखक! हम SoCreate स्क्रीन राइटिंग सॉफ़्टवेयर को लॉन्च करने के करीब पहुंच रहे हैं, सीमित संख्या में बीटा परीक्षक।

वो गतिविधियां जो तेज़ी से आपकी रचनात्मकता ख़त्म कर देंगी

तुलना करना

थियोडोर रुज़वेल्ट ने एक बहुत अच्छी बात कही थी कि "तुलना ख़ुशियाँ चुरा लेती है।" अपनी और अपने लेखन की दूसरे के साथ तुलना करने पर आपको क्या मिल जाएगा? तुलना करने पर आपके मन में बस यही ख्याल आते हैं कि "मैं यह नहीं हूँ" या "मैं वो नहीं हूँ," और ऐसी नकारात्मकता आपकी रचनात्मक क्षमता ख़त्म कर सकती है। अगर आप दूसरों की तरह बनने में बहुत ज़्यादा व्यस्त रहते हैं तो आप अपनी रचनात्मकता बाहर नहीं निकालते; बल्कि आप किसी और की तरह बनने की कोशिश में लग जाते हैं। क्या आपका काम सबसे अलग नहीं है? तो फिर आप दूसरों के साथ इसकी तुलना करने में क्यों उलझे रहते हैं। यह अतुलनीय होना चाहिए।

बहुत ज़्यादा विश्लेषण करना या ख़ामियां निकालना

अपना पहला ड्राफ्ट लिखते समय, आपको बस इसे लिखना होता है। इस बारे में ज़्यादा न सोचें कि आप क्या कर रहे हैं या कोई चीज़ काम कर रही है या नहीं। बहुत ज़्यादा विश्लेषण करने पर आपकी रचनात्मकता में रुकावट आती है। वैसे भी पहला ड्राफ्ट पूरा होने के बाद आप चीज़ों का विश्लेषण करने या उन्हें बदलने में समय देने वाले हैं, इसलिए अभी इसे रहने दें। बहुत ज़्यादा विश्लेषण करने पर आपको अपना लेखन पूरा करने में मुश्किल होगी, और आप अधूरी चीज़ को अच्छा नहीं बना सकते।

परिपूर्णतावाद

कभी-कभी मेरे अंदर परिपूर्णतावाद घुस जाता है और मुझे ऐसा लगता है कि मैं कुछ नहीं लिख सकती क्योंकि मेरी लिखी हुई कोई चीज़ सबसे अच्छी नहीं होगी। जब आपको ऐसा महसूस होना शुरू होता है तो आपको इस भावना को तुरंत रोक देना होता है! दुनिया की कोई चीज़ सर्वश्रेष्ठ नहीं है! हमारी ख़ामियां ही हमें इंसान बनाती हैं और चीज़ों को दिलचस्प रखती हैं। इससे ही कहानियां रोचक बनती हैं। कमियों को सराहना चाहिए, न कि उन्हें कोसना चाहिए। परिपूर्णतावाद आपकी रचनात्मकता को बर्बाद करने का निश्चित तरीका है। आपको यह याद रखने की ज़रुरत है कि ऐसी कोई चीज़ नहीं है जिसमें कोई कमी न हो, और दोबारा लिखकर चीज़ों को कभी भी सुधारा जा सकता है! SoCreate ने पुरस्कार विजेता लेखकों के साक्षात्कार लिए हैं जो अपने न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर्स को देखते हैं और कहते हैं कि उनमें भी वो कुछ चीज़ें बदलना चाहेंगे।

नियम का पालन

मुझे गलत न समझें; लिखते समय नियम और सिद्धांतों की समझ होना ज़रुरी है (ख़ासकर पटकथा लिखते समय)। नियम जानना ज़रुरी है ताकि आप उन्हें अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर सकें और ज़रुरत पड़ने पर उन्हें अपने हिसाब से मोड़ सकें या बदल सकें। नियमों पर बहुत ज़्यादा टिके रहने से कहानी कहने की आपकी कला को नुकसान हो सकता है और आप उदासीन हो सकते हैं और आपका काम नकली लग सकता है। नियमों को ख़ुद का मार्गदर्शन करने दें और अपने लिए काम करने दें। अगर वो आपके लिए कोई काम नहीं करते या आपके लिए रुकावट बनते हैं तो उनके साथ खेलें, या उन्हें बाहर फेंक दें!

कुछ ऐसा करना जो आपको पसंद नहीं है

हम सबको ऐसे काम करने पड़ते हैं जो हमें पसंद नहीं हैं या जिनसे हमें कोई उत्साह नहीं होता। यही ज़िन्दगी है। जहाँ तक कहानीकार बनने की बात आती है और ऐसी कहानी चुनने की बात आती है जो आप बताना चाहते हैं तो आपको कोई चीज़ इसलिए नहीं चुननी चाहिए क्योंकि आपको ऐसा लगता है कि दूसरों को यह पसंद आएगी या दूसरे इसके लिए प्रतिक्रिया करेंगे। अगर आप ऐसी कहानियां बताते हैं जो आपके और आपके अनुभवों के साथ गूंजती हैं तो सबसे अच्छा होगा। उन कहानियों पर काम करने से आपकी रचनात्मकता का विकास होगा जिन्हें लेकर आप जुनूनी हैं। अगर आप केवल यह सोचकर किसी सनक का पीछा कर रहे हैं या कोई कहानी बता रहे हैं क्योंकि आपको ऐसा लगता है कि बहुत सारे लोगों को यह पसंद आएगी या उसे बेचने में आसानी होगी तो इससे आपकी रचनात्मकता को कोई फायदा नहीं होता।

इन बुरी आदतों को छोड़ दें! आप और आपकी रचनात्मकता, रचनात्मकता ख़त्म करने वाली इन गतिविधियों में फंसने के नहीं बने हैं। यह जानना ज़रुरी है कि कौन सी चीज़ आपको रोकती है और अपने रास्ते में आने वाली किसी भी चीज़ से छुटकारा पाना बहुत महत्वपूर्ण है। लिखते रहें, अपने साथ दयालु रहें, और अपनी रचनात्मकता प्रवाहित होने दें!

रचनात्मकता प्रवाहित होने से याद आया, क्या आपने SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर आजमाने वाले पहले लोगों में से एक बनने के लिए साइन अप किया? । यह सॉफ्टवेयर पटकथा लेखन को फिर से मज़ेदार बनाने का वादा करता है, भारी-भरकम फॉर्मेटिंग सॉफ्टवेयर की निराशाओं को दूर करता है, और आपकी रचनात्मकता बढ़ाने में मदद करता है!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

लेखक के अवरोध को दूर करें

अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

लेखक के अवरोध को दूर करें - अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

चलिए, हम सभी मान लेते हैं कि हम ऐसी स्थिति में रह चुके हैं। आखिरकार, आप आराम से बैठकर लिखने का समय निकालते हैं। आप पेज खोलते हैं, कीबोर्ड पर उंगली रखते हैं, और इसके बाद...कुछ नहीं। एक भी रचनात्मक विचार आपके दिमाग में नहीं आता। लेखक का भयानक अवरोध एक बार फिर से वापस आ गया, और आप अटक गए। यह याद रखना जरुरी है कि आप ऐसे अकेले नहीं हैं! दुनिया भर के लेखक हर दिन इस अवरोध का सामना करते हैं, लेकिन इस खालीपन की भावना पर काबू पाकर आगे बढ़ना संभव है! यहाँ अपनी रचनात्मकता को दोबारा प्रवाहित करने के लिए हमारे 10 पसंदीदा उपाय दिए गए हैं: 1. किसी अलग जगह लिखने का प्रयास करें। क्या आप हमेशा अपने डेस्क पर लिखते हैं? या अपने किचन टेबल पर लिखते हैं? इसे बदलें! ...
20

पटकथा लेखन के बारे मेंप्रेरणादायकअनमोल वचन

पटकथा लेखन के बारे में 20 प्रेरणादायक अनमोल वचन

क्या आज आपको लिखने के लिए थोड़ी प्रेरणा की जरुरत है? पटकथा लेखन से संबंधित हमारे 20 पसंदीदा अनमोल वचन देखिये! "मुझे लगता है लेखक इसे लेकर बहुत चिंतित रहते हैं कि सबकुछ पहले ही कह दिया गया है। निश्चित रूप से यह पहले कहा गया है, लेकिन आपके द्वारा नहीं।" - आशा डॉर्नफेस्ट. "अच्छी फिल्म बनाने के लिए आपको केवल तीन चीजों की जरुरत है - स्क्रिप्ट, स्क्रिप्ट और स्क्रिप्ट।" - अल्फ्रेड हिचकॉक. "इस बात का ध्यान रखें कि आपकी स्क्रिप्ट बिलकुल तैयार हो। यदि यह पेज पर नहीं है तो यह स्क्रीन पर कभी भी जादू से नहीं दिखाई देगी।" - रिचर्ड ई. ग्रांट. "कहानी कहे बिना कोई भी संस्कृति विकसित नहीं हो सकती है। जब समाज बार-बार भड़कीली, खोखली और छद्म कहानियां सुनता है तो इसका पतन होता है। हमें सच्चे व्यंग और त्रासदी, ...
10

पटकथा लेखन के अनमोल वचनपटकथा लेखक की निराशाओं से बाहर निकलने के लिए

पटकथा लेखक की निराशाओं से बाहर निकलने के लिए पटकथा लेखन के 10 अनमोल वचन

"मैं क्या कर रहा हूँ? क्या मैंने जो लिखा है वो अच्छा है? मुझे नहीं पता कि यह पटकथा कहाँ जा रही है? क्या मुझे इसे आगे लिखते रहना चाहिए?" निराशा के बादलों के छाने के बाद ये कुछ ऐसी चीज़ें हैं जिनके बारे में मैं सोचती हूँ। लेखक के रूप में, हम सब कभी-कभी निराश और हताश हो जाते हैं। लिखना बहुत अकेलेपन वाला काम हो सकता है, और जिस चीज़ पर इस समय आप काम कर रहे हैं उसे पूरा करने के लिए उत्साहित या प्रेरित बने रहना मुश्किल हो सकता है। जब आप अपने लेखन को लेकर हतोत्साहित महसूस करते है तब दूसरे लेखकों के कुछ सुझाव आपके लिए बहुत असरदार साबित हो सकते हैं...