पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

वर्चुअल रियलिटी के लिए कैसे लिखें, पटकथा लेखन की अगली सीमा

पटकथा लेखन का भविष्य वर्चुअल लग रहा है, कम से कम अगर आप पटकथा लेखक ब्रायन यंग से पूछें तो उन्हें तो ऐसा ही लगता है। इसलिए, हम आपको वर्चुअल रियलिटी एप्लीकेशन के लिए पटकथा लिखने के लिए तैयार होने में आपकी मदद करने के लिए आज यहाँ मौजूद हैं। नया होने के बावजूद, ब्रायन को ऐसा सचमुच लगता है कि कहानी कहने की कला VR की दिशा में आगे बढ़ रही है।

हैलो पटकथा लेखक! क्या आप SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर आजमाने वाले पहले लोगों में से एक बनना चाहते हैं? इस पेज से बाहर निकले बिना,

ब्रायन एक पॉडकास्टर, लेखक, और वेबसाइट के लिए पत्रकार भी हैं, जिनमें HowStuffWorks.com, SyFy.com, और StarWars.com (क्या नौकरी है, है न!) शामिल हैं, जहाँ वह रुझानों को बारीकी से देखते हैं और समझते हैं कि आगे क्या आने वाला है।

"जहाँ तक पटकथा लेखन के भविष्य की बात है, यह देखकर बहुत हैरानी होती है कि कहानी कहने की कला में वर्चुअल रियलिटी की परिस्थितियां कितना प्रभाव डाल रही हैं," ब्रायन ने कहा। "डेविड गोयर अपनी वाडेर इम्मॉर्टल सीरीज़ के लिए ILMXLab के साथ काम कर रहे हैं। शुरुआत में, उन्होंने इसे एक [पारंपरिक] पटकथा की तरह लिखा था और फिर जैसे ही उन्होंने हेडसेट लगाया और VR अनुभव प्राप्त किया, उन्हें एहसास हुआ कि यह बहुत ज़्यादा था और उन्हें इसे थोड़ा कम करना था।”

जहाँ तक पटकथा लेखन के भविष्य की बात है, यह देखकर बहुत हैरानी होती है कि कहानी कहने की कला में वर्चुअल रियलिटी की परिस्थितियां कितना प्रभाव डाल रही हैं ... यह माध्यम बहुत अलग है क्योंकि आपको दर्शक का फोकस चुनने का मौका नहीं मिलता। आपको एक ऐसी कहानी बनानी पड़ती है जिसे दर्शक अनुभव कर सकता है।
ब्रायन यंग
पटकथा लेखक और पत्रकार

और जब मैंने पहली बार वर्चुअल रियलिटी के लिए पटकथा लिखी तो मेरे साथ ठीक इसका उल्टा हुआ। यह किसी फ़िल्म के लिए VR पटकथा नहीं थी, बल्कि एक मार्केटिंग वीडियो की VR पटकथा थी। हालाँकि, सीरीज़ बनाने के बाद मुझे यह समझ आया कि हम लगभग कुछ नहीं कह रहे थे।

कहानी अभी भी ज़रुरी होती है - चाहे दर्शक इसे वर्चुअल तरीके से अनुभव करे या 2D में।

यदि आपने कभी वर्चुअल रियलिटी के लिए पटकथा लिखने पर विचार नहीं किया तो मैं आपको ख़ुद को विस्तृत करने के लिए और अपनी कहानी कहने की क्षमताओं को 2D से आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करुँगी। यह निश्चित रूप से आपके लिए एक सीखने का अवसर होगा, क्योंकि यह लिखने का एक बिल्कुल अलग तरीका है: कहानी बताने वाला होने के बजाय, आप अनुभव का निर्माण करने वाले बन जाते हैं, जहाँ कहानी इसे अनुभव करने वाले व्यक्ति के साथ होती है, और अब आपको उन्हें इसे बताने की ज़रुरत नहीं पड़ती। इसे समझना थोड़ा मुश्किल है। इसलिए यहाँ आपके लिए कुछ बिंदु दिए गए हैं।

वर्चुअल रियलिटी में पटकथा लेखन के उपाय

एक ऐसी कहानी लिखें जिसमें VR दर्शक केवल कुछ मिनटों से ज़्यादा समय के लिए भाग लेना चाहता हो।

अगर आपने VR हेडसेट लगाया है तो आपका इसे निकालने का भी मन हो सकता है। शायद आप बोर हो जाएँ, परेशान हो जाएँ, या आपको मोशन सिकनेस की समस्या आ जाए, लेकिन फ़िल्म देखते समय आप वैसा कोई अनुभव नहीं करना चाहेंगे। याद रखें कि वर्चुअल रियलिटी कहानी कहने से ज़्यादा दर्शक को इसमें हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित करने के बारे में है। इसी तरह…

सोचें कि दर्शक आपकी VR पटकथा में कैसे हिस्सा लेगा।

क्या दर्शक बस कोई ऐसा है जो केवल यह देखने के लिए आपकी दुनिया में आ जाता है कि उसके आसपास क्या चल रहा है? फिर भी, शायद वो कोई भूमिका निभाते हैं या ख़ुद को कोई भूमिका दे सकते हैं। अगर किसी कक्षा में आपके दर्शक का दृष्टिकोण यह है कि कक्षा छात्रों से भरी पड़ी है जो उसे घूर रहे हैं तो शायद वो सोचेंगे कि वो शिक्षक हैं या प्रेजेंटेशन देने वाले कोई छात्र हैं। जब आप उन्हें कक्षा में पीछे रखते हैं तो अब शायद वो कोई शरारती बच्चा हैं जिसे कोने में बैठने के लिए कहा गया है। जिस तरह से दर्शक आपकी कहानी के साथ इंटरैक्ट करने और कथानक को समझने की अपनी क्षमता का अनुभव करता है, उसी तरह उसका दृष्टिकोण बदल जाता है। वो इस कहानी को थर्ड-पर्सन (दूर से देखने वाला) के दृष्टिकोण से देख रहे हैं या फर्स्ट-पर्सन (इच्छुक प्रतिभागी) के दृष्टिकोण से? ऊपर ब्रायन ने जिस "वाडेर इम्मॉर्टल" सीरीज़ का उल्लेख किया है, वो VR अनुभव में फर्स्ट-पर्सन प्रतिभागिता का बहुत अच्छा उदाहरण है।

सोचें कि आपका दर्शक आपकी VR कहानी में कैसा अनुभव करेगा।

अगर आप इस बात पर नियंत्रण नहीं रखते हैं कि आपका दर्शक कहाँ जाता है या क्या देखता है तो आप यह कैसे सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें पूरी कहानी और आवश्यक विवरण मिल पाए? आपको अनुभव के सभी छह सतहों (सामने, पीछे, दाएं, बाएं, ऊपर, और नीचे) को देखते हुए, दृश्यात्मक संकेतों, संवाद और दिशात्मक ध्वनि का प्रयोग करने की आवश्यकता होगी। इसमें परिवेश को उससे कहीं ज़्यादा पूर्ण होने की ज़रुरत पड़ेगी जितना कि आप पारंपरिक पटकथा में देखते हैं। आपको एक कथावाचक या कम से कम एक परिचय की आवश्यकता हो सकती है, जैसे "हेनरी" नामक ओक्युलस का यह शॉर्ट, जिसे उत्कृष्ट इंटरैक्टिव प्रोग्राम के लिए एमी मिला था।

मेरे मार्केटिंग VR सीरीज़ में एक चीज़ गलती से शामिल हो गयी थी, जो दर्शक को यह सूचना दे सकती थी कि उसे कहाँ देखना है। यह फिल्मांकन के दौरान हमारे ऊपर से उड़ने वाला एक हवाई जहाज़ था, और जब मैंने प्रयोगकर्ताओं को वीडियो का अनुभव करते हुए देखा, तो मुझे पता चला कि संकेत मिलने पर वो सभी ऊपर देखने लगे। अगर आप अपनी कहानी में जानबूझकर इस तरह के संकेत डालते हैं तो इससे मदद मिलेगी।

ऐसा भी ज़रुरी नहीं है कि दर्शक के पास केवल एक 360-डिग्री का दिखाई देने वाला क्षेत्र हो। मैंने डायमेंशन गेट की एक हॉरर शॉर्ट देखी थी (लेकिन मैं अभी भी यही सोचती हूँ कि काश मैंने उसे नहीं देखा होता, क्योंकि अब मैं ज़िन्दगी भर के लिए डर गयी हूँ) जिसने मुझे बेडरूम से कॉरिडोर में ला दिया था। दोनों शॉट में, मुझे बिस्तर पर औरत दिखाई देती है, जो शायद कोई सपना देख रही होती है। लेकिन कॉरिडोर में लाकर, फिल्मकार मुझे चारों ओर देखने का संकेत देते हैं और साथ ही मेरा तनाव भी बढ़ाते हैं। मैंने सीढ़ियों से नीचे देखा। मैंने सीढ़ियों के ऊपर देखा। कुछ नहीं था। मैं वापस बेडरूम में आ गयी। कुछ नहीं था, लेकिन अब मुझे डर लग रहा है क्योंकि वे मुझे बता रहे हैं कि कुछ बदलने वाला है। मैं वापस कॉरिडोर में आ जाती हूँ, और ... हे भगवान, मुझे वापस सीढ़ियों के ऊपर देखने के लिए मजबूर मत करो। बाकी का आप ख़ुद देख सकते हैं। वैसे, अगर आपको हॉरर पसंद है तो अपनी अगली पटकथा लिखने के लिए VR आपके लिए बहुत अच्छा माध्यम है।

VR के लिए पटकथा लिखते समय आपको एक प्रकार का संतुलन बनाये रखने की ज़रुरत होती है ताकि आप इस बात का ध्यान रख सकें कि आपकी कहानी में काफी कुछ चलता रहे और आप एक ऐसी दुनिया बनाएं जिसमें दर्शक डूब सके, लेकिन साथ ही आपको दर्शक से बहुत ज़्यादा मेहनत भी नहीं करवानी होती है। भाग लेने के लिए बस चारों ओर देखना ही काफी है, और उसमें भी बहुत मेहनत करनी पड़ सकती है।

अब एक वर्चुअल रियलिटी पटकथा लिखें।

अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि वर्चुअल रियलिटी के लिए सबसे अच्छी पटकथा कैसे लिखी जा सकती है, मेरी राय में, कुछ उदाहरण दूसरों से बेहतर हैं।

ऊपर बताई गयी कंपनी, डायमेंशन गेट, के पास "3 am" नाम की कहानी के लिए शॉर्ट फ़िल्म की वर्चुअल रियलिटी पटकथा का एक उदाहरण है। लेखक इयन टासन बताते हैं कि 360-डिग्री कैमरा कहाँ है और उसके बाद दर्शक के दृष्टिकोण से प्रत्येक दृष्टिकोण का विवरण देते हैं। उन्होंने इन विवरणों को वहां रखा है जहाँ आम तौर पर दृश्य का विवरण होता है। यह स्पष्ट है।

वर्चुअल रियलिटी पटकथा का संक्षिप्त भाग

फेड इन:
बेडरूम के अंदर – रात

***360° कैमरा (सेंट्रल POV) मंद रोशनी वाले बेडरूम के बीच में है***

आगे का POV - मैरी - महिला, 25, ब्लॉन्ड - क्वीन साइज़ बेड पर चादर ओढ़कर सो रही है। उसके बगल में नाईट स्टैंड पर एक डिजिटल घड़ी सुबह के 2:59 बजे का समय दिखाती है। एक बंद अलमारी बिस्तर के पैरों के पास है।

पीछे का POV - एक लड़की की पेंटिंग। उसका चेहरा भावशून्य है और उसकी आँखें ऊपर की तरफ देख रही हैं।

बायां POV - एक खाली फर्श।

दायां POV - ड्रेसर के ऊपर एक म्यूज़िक बॉक्स वाली मूर्ति रखी है।

बीट।

***म्यूज़िक बॉक्स की धुन दाएं POV से बजती है (संगीत दाएं हेडफोन स्पीकर से बजता है)***

जैसे-जैसे मूर्ति घूमती है, म्यूज़िक बॉक्स बजना शुरू होता है।

डिजिटल घड़ी में सुबह के 3 बजे दिखाई देता है।

अलमारी का दरवाज़ा अपने से खुल जाता है।

एक अदृश्य ताकत मैरी के ऊपर पड़ी हुई चादर को थोड़ा खींचती है।

मैरी आँखें खोलती है और धीरे से अपना सिर उठाती है।

उसे घूमती हुई मूर्ति दिखाई देती है।

डिजिटल घड़ी में उसे सुबह के 3 बजे दिखाई देता है।

कमरे में चारों तरफ बच्चों के फुसफुसाने की आवाज़ गूंजती है।

मैरी

(डरते हुए)

हैलो?

मैंने इन दृष्टिकोण दृश्य विवरणों को दृष्टि के पैन से मैच करने के लिए रंग से कोड करते हुए भी देखा है। हर दृष्टिकोण के लिए दृश्य का विवरण बताने के बजाय, लेखक पटकथा की शुरुआत में बाएं, दाएं, ऊपर, नीचे, आगे, और पीछे को रंगों से कोडित कर देता है, इसके बाद, दृश्य विवरण के प्रत्येक भाग को उन रंगों से मैच करता है। उदाहरण के लिए, हर हरी चीज़ दर्शक के पीछे होगी, और हर पीली चीज़ दर्शक के बायीं तरफ होगी। हालाँकि, मुझे ऐसा लगता है कि इससे पढ़ने में आसानी हो सकती है, लेकिन यह चीज़ों को थोड़ा मुश्किल भी बना सकता है और शूटिंग स्क्रिप्ट में इसे बदलने की ज़रुरत पड़ सकती है। मैं आपको वो प्रयोग करने के लिए कहूँगी, जो आपको सबसे ज़्यादा समझ आता है और आपकी कहानी को सबसे अच्छे से बताता है। यहाँ यूनिवर्सिटी ऑफ़ नॉर्थ कैरोलिना स्कूल ऑफ़ आर्ट्स का कलर-कोडेड VR पटकथा का उदाहरण दिया गया है।

कुल मिलाकर, याद रखें कि VR प्रतिभागी के लिए एक निमंत्रण है।

"यह माध्यम बहुत अलग है क्योंकि इसमें आपको अपने दर्शक का फोकस चुनने का मौका नहीं मिलता," ब्रायन ने आगे कहा। "आपको एक ऐसी कहानी बनानी पड़ती है। जिसे दर्शक अनुभव कर सकता है। लेखन का वो स्तर बहुत अलग है, लेकिन यह अभी भी पटकथा लेखन में निहित है, और इसके लिए प्रयोग की जाने वाली फॉर्मेटिंग भी काफी हद तक मिलती-जुलती है।"

जैसे आप कोई पटकथा लिखने की कोशिश करने से पहले बहुत सारी पटकथाएं पढ़ते हैं, उसी तरह मैं आपको कई वर्चुअल रियलिटी शॉर्ट फ़िल्में अनुभव करने के लिए कहूँगी, ताकि आप समझ सकें कि क्या काम करता है और क्या काम नहीं करता है। काफी नया माध्यम होने कि वजह से, इस विषय पर बहुत सारे विशेषज्ञ नहीं हैं, लेकिन इसमें बहुत सी कोशिशें की जा रही हैं। तो क्यों न इसके अग्रदूतों में से एक बना जाए!

"इसमें बहुत सारे प्रयोग की ज़रुरत पड़ने वाली है," ब्रायन ने अंत में कहा। "इसके लिए एक अलग तरह की लिखने की मानसिकता की ज़रुरत पड़ेगी, लेकिन वही भविष्य है।"

भविष्य अभी है,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पटकथा में विदेशी भाषा कैसे लिखें

हॉलीवुड, बॉलीवुड, नॉलीवुड … 21वीं सदी में हर जगह फिल्में बन रही हैं। और जैसे-जैसे फिल्म उद्योग बढ़ता है, हमारी और अधिक अलग-अलग आवाज़ें सुनने की इच्छा भी बढ़ती है, भले ही हम उन भाषाओं को नहीं समझते हैं। लेकिन सख्त पटकथा फॉर्मेटिंग के साथ, अपनी कहानी की प्रामाणिकता को बढ़ाने के लिए, और साथ ही इसे पढ़ने योग्य और स्पष्ट बनाने के लिए आप विदेशी भाषा का प्रयोग कैसे करते हैं? डरे नहीं, अपनी पटकथा में विदेशी भाषा के संवाद डालने के कुछ सरल तरीके मौजूद हैं, किसी अनुवाद की जरुरत नहीं। विकल्प 1: जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दर्शक विदेशी भाषा समझता है या नहीं जब दर्शक के लिए यह जरुरी नहीं होता कि वो चरित्र द्वारा बोले जाने वाले संवाद (शायद यह बस दृश्य के लिए टोन सेट कर रहा होता ...
How to Write a Screenplay With Little or No Dialogue, According to Screenwriter Doug Richardson

मौन पर वापसी: थोड़े या बिना किसी संवाद वाली पटकथा कैसे लिखें

शॉर्ट फिल्मों से लेकर फीचर फिल्मों तक, आजकल ऐसी फिल्में बनाई जा रही हैं जिनमें थोड़े संवाद से लेकर कोई भी संवाद नहीं होते हैं। और इन फिल्मों की पटकथा अक्सर इसका सबसे अच्छा उदाहरण होती है कि पटकथा कैसी होनी चाहिए, जो दिखाने का नहीं बल्कि बताने का प्रदर्शन है। हमने पटकथा लेखक डग रिचर्डसन ("बैड बॉयज़," "डाई हार्ड 2," "होस्टेज") से पूछा कि उनके अनुसार थोड़े संवाद या बिना किसी संवाद वाली पटकथा लिखने में सफल होने के लिए क्या महत्वपूर्ण है। उन्होंने हमें बताया, "ओह, यह बहुत आसान है। थोड़े या बिना किसी संवाद वाली पटकथा कैसे लिखें, और पाठक की दिलचस्पी कैसे बनाये रखें? यह बहुत आसान चीज है। एक ऐसी कहानी बताएं जो पाठक को पेज पलटने पर मजबूर कर दे।"पटकथाएं फिल्म का नक्शा होती हैं, ...

पारंपरिक पटकथा के लगभग हर एक भाग के लिए पटकथा लेखन के उदाहरण

पारंपरिक पटकथा के लगभग हर एक भाग के लिए पटकथा लेखन के उदाहरण

जब आप पहली बार पटकथा लिखना शुरू करते हैं तो आप जल्दी में होते हैं! आपके पास बहुत अच्छा आईडिया होता है, आप इसे टाइप करने के लिए बेसब्र होते हैं। शुरुआत में, यह समझ पाना मुश्किल हो सकता है कि पारंपरिक पटकथा के विभिन्न पहलु कैसे दिखाई देने चाहिए। इसलिए, यहाँ पर पारंपरिक पटकथा के मुख्य भागों के लिए पटकथा लेखन के पांच उदाहरण दिए गए हैं! शीर्षक पेज: आपके शीर्षक पेज पर कम से कम जानकारी मौजूद होनी चाहिए। यह बहुत ज़्यादा भरा हुआ नहीं लगना चाहिए। सबसे पहले आपको शीर्षक (बड़े अक्षरों में), उसके बाद अगली लाइन में "लेखक," उसके नीचे लेखक का नाम, और नीचे बायीं तरफ़...