पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पटकथा में दृश्यों के बीच कैसे परिवर्तन करें

करें पटकथा में दृश्यों के बीच परिवर्तन

आराम से बैठकर अपनी पहली पटकथा का ड्राफ्ट लिखते समय, आपने अपने दिमाग में सभी चीज़ों की योजना बनाई होती है, लेकिन आप कितनी बार रूककर दृश्यों के बीच परिवर्तन करने के बारे में सोचते हैं? आपको परिवर्तनों का कितना ध्यान देना चाहिए? क्या बस इतना बताना काफी नहीं है कि आप अगले दृश्य पर जा रहे हैं? वैसे भी हमें परिवर्तनों की ज़रुरत क्यों पड़ती है? आपके सवाल हैं, और मेरे जवाब! आज मैं आपको बताने वाली हूँ कि किसी पटकथा में दृश्यों के बीच परिवर्तन कैसे किया जाता है।

हमारे साथ बने रहिये! हम जल्दी ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

दृश्य परिवर्तन क्या है?

परिवर्तन मूल रूप से संपादकों को यह निर्देश देता है कि एक शॉट से अगले शॉट में कैसे जाना है। सबसे लोकप्रिय परिवर्तन कट टू आसान है और पाठक को तुरंत अगले दृश्य पर जाने का निर्देश देता है। पहले के समय में, पटकथा लेखक हर दृश्य के बीच कट टू लिखा करते थे, लेकिन आजकल, जब तक आप कोई दूसरा परिवर्तन निर्दिष्ट नहीं करते यह दर्शाता है कि आप अगले दृश्य पर जा रहे हैं। पटकथा लेखकों को इसपर भी विचार करना पड़ता है कि कैसे उनकी कहानी एक दृश्य से दूसरे पर प्रवाहित होती है, और यह केवल पटकथा के तकनीकी परिवर्तन के शब्दों से संबंधित नहीं होता।

मैं दृश्य परिवर्तन कैसे लिखूं?

परिवर्तनों के तकनीकी पहलू के लिए, उन्हें हमेशा बड़े अक्षरों में रखा जाता है, उनके बाद एक कॉलन आता है, और उन्हें दायीं तरफ के मार्जिन में रखा जाता है।

पटकथा में दृश्य परिवर्तन का उदाहरण

नीचे दिया गया पटकथा का भाग पटकथा लेखक एलेक्स गारलैंड के "28 डेज़ लेटर" से लिया गया है और यहाँ इसका प्रयोग केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए किया गया है।

"28 दिन बाद" की पटकथा का भाग

रसोई के अंदर – रात

जिम अंदर आकर, दरवाज़े के पास खड़ा हो जाता है। वो कमरे में चारों तरफ देखता है। दिवार पर, बच्चे की कार की फीकी ड्राइंग फ्रेम में है। काउंटर के ऊपर, कुकरी बुक के शेल्फ पर, एक एल्बम पर हाथ से लिखा गया लेबल है: "माँ की मनपसंद रेसिपीज़"।

जिम फ्रिज के पास जाता है। दरवाज़े पर जिम की अपने माता-पिता के साथ बाँहों में बाँहें डाले हुए और कैमरे को देखकर मुस्कुराती हुई तस्वीर चिपकी है। जिम अपना कूरियर बैग पहने हुए अपनी माउंटेन बाइक पर है।

फ़्लैश कट टू:

जब जिम की माँ शॉपिंग बैग लिए हुए अंदर आती हैं तो वो रसोई के किचन पर बैठा होता है। जिम बैग के पास जाता है और उसमें से एक ऑरेंज जूस का डब्बा निकाल लेता है, जिसे वो सीधे मुंह के पास लगाकर गटकना शुरू कर देता है।

उसके डैड गार्डन से अंदर आते हैं।

जिम के डैड

मुझे भी एक गिलास दो, दे सकते हो?

जिम

(डब्बा खाली करते हुए, ना में सिर हिलाता है)

यह खाली है।

कट बैक टू:

जिम उनकी तस्वीर पर उनके चेहरे को हल्के हाथों से छूता है।

जिम दरवाज़े की ओर पीठ करके खड़ा है, जिसपर एक बड़ा फ्रॉस्टेड-ग्लास पैनल लगा है।

ग्लास पैनल से, चाँद की हल्की रोशनी में एक काला साया मंडराता हुआ दिखाई देता है, जिसे जिम नहीं देखता है।

सामान्य दृश्य परिवर्तन क्या हैं?

फेड इन/फेड आउट

अपने नाम के अनुसार, दृश्य को अंदर या बाहर धीरे-धीरे गायब करता है—इसे मुख्य रूप से हमें कहानी के अंदर और बाहर ले जाने के लिए पटकथाओं की शुरुआत और अंत में प्रयोग किया जाता है। डिसॉल्व टू की तरह काम करता है, लेकिन डिसॉल्व आम तौर पर पटकथा में कहीं भी प्रयोग किया जाता है और समय बीतना दर्शाता है।

जंप कट

जंप कट एक आकस्मिक परिवर्तन है, जिसे आम तौर पर समय की प्रगति दिखाने के लिए प्रयोग किया जाता है। ज़्यादातर परिवर्तनों के विपरीत, जो दृश्यों के बीच सहज और सरल संबंध बनाना चाहते हैं, जंप कट चौंकाने वाला होता है और ध्यान आकर्षित करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

मैच कट

मैच कट एक ऐसा परिवर्तन है, जो दो दृश्यों के बीच के संबंध को दर्शाता है। दो दृश्यों की गतिविधि सुचारू रूप से मिलती है, उदाहरण के लिए, एक दृश्य में कोई बच्चा फ्रिसबी फेंकता है, और अगले दृश्य में अख़बार को किसी के पोर्च पर फेंकते हुए दिखाया जाता है। हवा के माध्यम से उड़ने वाली उन दोनों चीज़ों की गतिविधि को मिलाना एक मैच कट होगा।

वाइप

अगर आप किसी भी बेसिक फ़िल्म एडिटिंग सॉफ्टवेयर से परिचित हैं तो आपने शायद इसे देखा होगा। वास्तव में, वाइप तब होता है जब एक शॉट को स्क्रीन से मिटाकर अगला शॉट दिखाया जाता है। यह तिरछा, क्षैतिज या किसी आकृति के रूप में हो सकता है। इसे सबसे लोकप्रिय रूप से "स्टार वॉर्स" फ़िल्मों में प्रयोग करते हुए देखा जाता है।

ये कई परिवर्तनों में से बस कुछ हैं। कुछ परिवर्तनों को अब बहुत कम ही प्रयोग किया जाता है, इसलिए मैंने उन्हें शामिल नहीं किया है। इस सूची और फ़िल्मों की अपनी जानकारी से, मुझे यकीन है, आप बता सकते हैं कि अब अधिकांश फ़िल्मों में ज़्यादा या दिखाई देने वाले परिवर्तन अक्सर प्रयोग नहीं किये जाते हैं। फ़िल्म उद्योग अब एक ऐसी दिशा में जा चुका है, जहाँ ज़्यादा हल्के और कम ध्यान दिए जाने वाले परिवर्तनों को ज़्यादा पसंद किया जाता है।

दृश्य परिवर्तन कब प्रयोग करें?

आप नहीं चाहेंगे कि प्रत्येक दृश्य में कोई विशिष्ट परिवर्तन हो; यह ज़रुरी नहीं है। आप परिवर्तनों को अपनी पटकथा में महत्वपूर्ण क्षणों के लिए बचाकर रखने की कोशिश करना चाहेंगे, जब आप चाहते हैं कि दर्शकों को पता चले कि कोई परिवर्तन हो रहा है। हर फ़िल्म के लिए सभी परिवर्तन उपयुक्त नहीं होते हैं। परिवर्तन चुनते समय आपको पटकथा की शैली और लहज़े, साथ ही साथ अपनी ख़ुद की शैली को भी ध्यान में रखना होगा। आपको अपनी पटकथा की दृश्यात्मक कहानी कहने की क्षमता को बढ़ाने के लिए परिवर्तन प्रयोग करना चाहिए, न कि इसमें रूकावट बनने, इसे उलझाने, या अव्यवस्थित करने के लिए।

वाइप जैसे अस्वाभाविक परिवर्तन को अक्सर पुराना माना जाता है। हालाँकि, बहुत ज़्यादा प्रयोग करने पर सभी परिवर्तन आपकी फ़िल्म को पुराने ज़माने का बनाएंगे। कुछ पेशेवर लोग नए पटकथा लेखकों को परिवर्तन के प्रयोग से दूर रहने की सलाह देते हैं। फिर भी, मुझे लगता है कि सही जगह पर इस्तेमाल किया गया परिवर्तन किसी पटकथा में दिलचस्प सिनेमाई क्षण बना सकता है और इसे हतोत्साहित करना ज़रुरी नहीं है। बस उन्हें कम मात्रा में प्रयोग करें, और केवल उन क्षणों के लिए रखें जिनपर ज़ोर देने की ज़रुरत है!

दृश्यों में परिवर्तन करते समय विचार करने योग्य अन्य चीज़ें

जैसा कि NoFilmSchool.com पर एक लेख में बताया गया है, तकनीकी चीज़ों के अलावा दृश्यों के बीच परिवर्तन करते समय अन्य बातों पर भी विचार करना ज़रुरी है। दृश्यों के बीच परिवर्तन करने में मदद करने वाली अन्य चीज़ों में शामिल हैं:

आकार

कैमरे के फोकस क्षेत्र पर विचार करें, और पाठक (और आख़िर में दर्शक) को अपने दिमाग में फ़िल्म देखने में पर्याप्त रूप से व्यस्त रखने के लिए दृश्यों के बीच में चौड़े और कसे हुए शॉट के बीच बदलाव करें।

ध्वनि

एक दृश्य से दूसरे दृश्य में ऑडियो संकेतों का प्रयोग करने से पाठक (या दर्शक) को यह संकेत मिल सकता है कि हम एक नए दृश्य और एक नयी जगह पर हैं। ऑडियो, चाहे संगीत हो या कोई अन्य ध्वनि, आम तौर पर प्रीलैप में प्रयोग किया जाता है, यानी ऑडियो पहले सीन के एक शॉट से दूसरे सीन के अगले शॉट में कट होने से पहले शुरू होता है। यह एक ओवरलैप बनाता है, जो अच्छी तरह से परिवर्तन करता है।

सवाल और जवाब

अगले दृश्य में जवाब के वादे के साथ, किसी दृश्य को एक सवाल के साथ छोड़ दें।

थीम

अगला दृश्य शुरू करने के लिए किसी अन्य विषयगत छवि का प्रयोग करके उस छवि पर ध्यान लाएं, जिसके साथ आपने दर्शकों को पिछले दृश्य में छोड़ा है।

परिवर्तनों का प्रयोग करने का कोई उद्देश्य होना चाहिए और इसे कभी भी अपनी पटकथा में बस यह दर्शाने के लिए नहीं डालना चाहिए कि आप एक दृश्य से दूसरे में जा रहे हैं। अब हमेशा कट टू का प्रयोग करना ज़रुरी नहीं है, और आपको यह भी सोचना चाहिए कि आप जो परिवर्तन प्रयोग कर रहे हैं, वो आपकी बताई जाने वाली कहानी को बेहतर बना रहा है या उसे कमतर कर रहा है। किसी भी पटकथा लेखन उपकरण की तरह, तकनीकी परिवर्तनों का संयम से उपयोग करें, लेकिन दृश्यों के संदर्भ में केवल कट को ही नहीं, बल्कि दृश्य परिवर्तनों को भी हमेशा ध्यान में रखें - मुझे उम्मीद है, इस ब्लॉग से आपको परिवर्तनों के बारे में जानने में मदद मिली होगी। लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

मोंटाज़। हम सभी देखने पर इसे जान जाते हैं, लेकिन असल में वहां क्या हो रहा होता है? मैं अपनी पटकथा में मोंटाज़ कैसे फॉर्मेट करूँ? अगर मेरा मोंटाज़ एक से ज्यादा स्थानों में हो रहा है तो क्या होगा? यहाँ मोंटाज़ लिखने के बारे में कुछ उपाय और सुझाव दिए गए हैं जिनसे मुझे अपने लेखन में मदद मिली है। वास्तव में मोंटाज़ क्या होता है? मोंटाज़ छोटे दृश्यों या पलों का संग्रह होता है जिसे तेजी से समय का बीतना दिखाने के लिए एक साथ जोड़ा जाता है। आमतौर पर, मोंटाज़ में बहुत कम, या बिल्कुल संवाद नहीं होते हैं। मोंटाज़ का इस्तेमाल समय को संक्षिप्त करने के लिए किया जा सकता है और छोटी अवधि में हमें कहानी का बड़ा हिस्सा बताया जा सकता है। मोंटाज़ का प्रयोग कई स्थानों पर मौजूद चरित्रों को ऐसी चीजें करते हुए दिखाने के लिए किया जा ...

अपनी पटकथा में

कहानी का मोड़ लिखें

कहानी का मोड़! अपनी पटकथा में मोड़ कैसे लिखें

यह सब एक सपना था? वो असल में उसका बाप था? पूरे समय हम पृथ्वी ग्रह पर थे? फ़िल्मों में कहानी के मोड़ का एक लंबा-चौड़ा इतिहास रहा है, और इसका अच्छा कारण भी है। किसी फ़िल्म के मोड़ से पूरी तरह से हैरान होने से ज़्यादा मज़ेदार और क्या हो सकता है? कहानी का अच्छा मोड़ चाहे जितना भी मज़ेदार क्यों न हो, लेकिन हम सभी इसके विपरीत अनुभव के बारे में भी बहुत अच्छी तरह से जानते हैं, जहाँ हमें बहुत पहले ही कहानी में आने वाले मोड़ का पता चल जाता है। तो, आप अपना ख़ुद का असरदार मोड़ कैसे लिखते हैं? यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जिनकी मदद से आप अपनी पटकथा में...
प्रश्न चिन्ह

क्या कहा?! पटकथा लेखन से संबंधित शब्द और अर्थ

माहिर पटकथा लेखक कहते हैं कि पटकथा लिखना सीखने के सबसे अच्छे तरीकों में से एक है ऐसी पटकथाओं को पढ़ना जो पहले ही बनाई जा चुकी हैं। ऐसा करते समय आपके सामने कुछ अपरिचित शब्द आये होंगे, विशेष रूप से अगर आप इस कला में नए हैं तो ऐसा जरूर हुआ होगा। हमने आपके लिए एक क्विक रीड तैयार किया है ताकि ऐसे किसी अनजान शब्द या संक्षिप्त रूप के सामने आने पर आप इसे देख सकें। निश्चित रूप से, अगर आप अपनी पटकथा लिखने वाले हैं तो भी इन्हें जानना अच्छा होता है! गतिविधि - आमतौर पर गतिविधि से दिखाना संवाद के माध्यम से कहने से ज्यादा बेहतर होता है। गतिविधि दृश्य का विवरण होता है यह कि चरित्र क्या कर रहा है, और अक्सर ध्वनि का विवरण भी होता है। एंगल ऑन - एक कैमरा शॉट जो निर्देशक को यह बताने ...