पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

क्या कहा?! पटकथा लेखन से संबंधित शब्द और अर्थ

प्रश्न चिन्ह

माहिर पटकथा लेखक कहते हैं कि पटकथा लिखना सीखने के सबसे अच्छे तरीकों में से एक है ऐसी पटकथाओं को पढ़ना जो पहले ही बनाई जा चुकी हैं। ऐसा करते समय आपके सामने पटकथा लेखन कुछ अपरिचित शब्द आये होंगे, विशेष रूप से अगर आप इस कला में नए हैं तो ऐसा जरूर हुआ होगा। हमने आपके लिए एक छोटी शब्दावली तैयार की है ताकि पटकथा से संबंधित कोई अनजान शब्द या संक्षिप्त रूप सामने आने पर आप इसे देख सकें। निश्चित रूप से, अगर आप अपनी पटकथा लिखने वाले हैं तो भी इन्हें जानना अच्छा होता है!

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

  • गतिविधि

    आमतौर पर गतिविधि से दिखाना संवाद के माध्यम से कहने से ज्यादा बेहतर होता है। गतिविधि दृश्य का विवरण होता है यह कि चरित्र क्या कर रहा है, और अक्सर ध्वनि का विवरण भी होता है।

  • हवाई शॉट

    अगर आपकी पटकथा में कोई हवाई शॉट डालना बहुत ज़रुरी है तो अन्य निर्देशक और कैमरा के निर्देशों की तरह इसे भी बहुत संयम से प्रयोग करें। हवाई शॉट का मतलब है कि दर्शक किसी चीज़ को ऊपर से देखता है।

  • एंगल ऑन

    एक कैमरा शॉट जो निर्देशक को यह बताने के लिए प्रयोग किया जाता है कि हम एक ही दृश्य में हैं, लेकिन किसी विशेष चीज पर फोकस करने के लिए शॉट बदल रहे हैं। कैमरे की स्थितियों को केवल तभी प्रयोग करें जब यह जरुरी होती हैं, नहीं तो पटकथा का प्रवाह खराब हो सकता है। कैमरे के कोण अक्सर स्पेक स्क्रिप्ट की बजाय शूटिंग स्क्रिप्ट में प्रयोग किये जाते हैं।

  • बीट

    किसी पटकथा में बीट के कई मतलब हो सकते हैं, लेकिन जब आप इसे पटकथा में लिखा हुआ देखते हैं तो इसका मतलब है एक छोटा विराम।

  • बी.जी.

    पृष्ठभूमि, इसे हमेशा पूरा लिखा जाता है या छोटे अक्षरों में संक्षेप में लिखा जाता है। इसे दृश्य की मुख्य गतिविधि के विपरीत पृष्ठभूमि में होने वाली गतिविधि का वर्णन करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

  • चरित्र

    गतिविधि विवरण में पहली बार आने पर चरित्र का नाम पूरे बड़े अक्षरों में दिखाई देता है। बाद के गतिविधि विवरण में नाम को सामान्य तरीके से लिखा जा सकता है, लेकिन चरित्र के बोलते समय इसे बड़े अक्षरों में होना चाहिए।

  • क्लोज ऑन/इंसर्ट

    शॉट का विवरण, जो किसी गतिविधि, व्यक्ति, या वस्तु पर क्लोज अप के लिए कहता है जिससे थोड़े समय के लिए कैमरे का पूरा ध्यान उसपर आ जाता है।

  • निरंतर

    स्थान के विवरण के अंत में दिन या रात के बजाय, आपको निरंतर दिखाई दे सकता है। यह एक ऐसी गतिविधि के बारे में बताता है जो समय में किसी रुकावट के बिना एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाता है।

  • कॉन्ट्राज़ूम

    यह अल्फ्रेड हिचकॉक द्वारा मशहूर की गयी एक कैमरा तकनीक है, जिसमें कैमरा ज़ूम तो करता है, लेकिन विषय के आकार में कोई बदलाव नहीं होता, जो परिप्रेक्ष्य में विकृति का प्रभाव देता है। इसे हिचकॉक ज़ूम या डॉली ज़ूम भी कहा जाता है।

  • क्रॉल

    यह आरोपित टेक्स्ट के बारे में बताता है जो स्क्रीन पर किसी भी निर्दिष्ट दिशा में चलता है।

  • क्रॉसफेड

    डिसॉल्व की तरह ही, क्रॉसफेड में एक दृश्य फेड आउट होता है और दूसरा फेड इन होता है – जो आम तौर पर बीच में एक काली स्क्रीन के साथ होता है। डिसॉल्व में शॉट के बीच में कोई काला क्षण नहीं होता है।

  • कट टू

    वो परिवर्तन जिसे एक फ्रेम के दौरान दृश्यों को बदलने के लिए प्रयोग किया जाता है।

  • डिसॉल्व टू

    वो परिवर्तन जो दर्शाता है कि एक दृश्य फेड आउट हो रहा है और दूसरा फेड इन हो रहा है, इसे अक्सर समय बीतने के बारे में बताने के लिए प्रयोग किया जाता है।

  • डॉली

    डॉली किसी कैमरे को एक स्थान के चारों ओर घूमने की अनुमति देती है और आमतौर पर पहियों वाली तिपाई के समान होती है।

  • ECU

    अत्यधिक क्लोज अप।

  • स्थापन शॉट

    एक ऐसा शॉट जिसे आमतौर पर स्थिति को स्थापित करने के लिए प्रयोग किया जाता है, यह अक्सर फिल्म की शुरुआत में प्रयोग होता है।

  • EXT. / INT.

    एक्सटेरियर, बाहर होता है। इंटीरियर, अंदर होता है। निर्माता इन विवरणों को निर्माण की लागत के बारे में बताने के लिए प्रयोग करता है।

  • फेड टू

    यह परिवर्तन फिल्म में किसी प्रमुख गतिविधि के अंत को दर्शाता है, और यह कि इसके आगे का दृश्य दिनों, महीनों, या सालों बाद आता है। आमतौर पर, फेड टू के बाद एक रंग आता है, जैसे फेड टू ब्लैक।

  • फेवर ऑन

    शॉट में किसी वस्तु, चरित्र, या गतिविधि को केंद्रित किया जाता है।

  • फ्लैशबैक

    अतीत में हुई किसी आगामी गतिविधि या संवाद को दर्शाता है। जरुरत पड़ने पर, आप फ्लैशबैक से बाहर निकलने के लिए वर्तमान दिन लिख सकते हैं। अपनी पटकथा में फ्लैशबैक लिखने के लिए यहाँ हमारे पास आपके लिए एक संपूर्ण गाइड मौजूद है।

  • फ्रीज फ्रेम

    फ्रेम कुछ समय के लिए चलना बंद हो जाता है। इसे तब प्रयोग किया जा सकता है जब कोई दृश्य तस्वीर बन जाता है।

  • इंसर्ट

    अगर आपको अपनी पटकथा में कुछ विशेष दिखाना है, जो दर्शकों के देखने के लिए एक महत्वपूर्ण विवरण है, तो उसका निर्देश देने के लिए "इंसर्ट" का प्रयोग करें। उदाहरण के लिए, "इंसर्ट चालक के लाइसेंस का क्लोज़ अप।" हालाँकि, आप किसी वस्तु का महत्व दिखाने के लिए अपनी गतिविधि के विवरण में उस वस्तु को बड़े अक्षरों में भी लिख सकते हैं। इसे किफायत से इस्तेमाल करें।

  • इंटरकट बिटवीन

    यह दर्शाता है कि एक समय में लगातार दो या उससे ज्यादा दृश्य दिखाए जायेंगे।

  • इनटू फ्रेम/इनटू व्यू

    कैमरा स्थिर होने पर गतिविधि, चरित्र, या वस्तु फ्रेम में आती है।

  • जंप कट टू

    ऐसा परिवर्तन जो निरंतर तत्वों को एक साथ जोड़ता है, जिससे समय में आगे बढ़ने का प्रभाव आता है। ये कट एक ही विषय और एक ही या बहुत समान कैमरे की स्थिति को प्रदर्शित करते हैं, जिनके बीच कोई परिवर्तन नहीं होता लेकिन वे अगले फ्रेम पर चले जाते हैं।

  • मैच कट टू

    दृश्यों के बीच एक परिवर्तन जो पिछले दृश्य की गतिविधि के अंत को अगले दृश्य की गतिविधि की शुरुआत से मिलाता है। उदाहरण के लिए, एक औरत किसी हमलावर के अंदर चाकू घुसाती है, जो एक शेफ द्वारा अपने कटिंग बोर्ड पर मांस के टुकड़े को काटने से मिलाता है।

  • मोंटाज

    A शॉट्स का एक क्रम जो किसी चरित्र या चरित्रों को समय के साथ कई गतिविधियां पूरा करते हुए दिखाता है। यहाँ मोंटाज लिखने के बारे में संपूर्ण गाइड पाएं।

  • MOS

    शांति का क्षण।

  • O.S. या O.C.

    ऑफ स्क्रीन, या ऑफ कैमरा, जो किसी ऐसी गतिविधि या संवाद को दर्शाता है जो दिखाई देने वाले फ्रेम के बाहर होता है।

  • पैन

    पैन का मतलब है स्थिर स्थिति में मौजूद कैमरे को बाएं से दाएं, ऊपर से नीचे या इसके विपरीत घुमाना।

  • पैरेंथेटिकल

    कोष्ठकों में, संवाद से पहले लेकिन चरित्र के नाम के बाद, जो अभिनेता के लिए निर्देशों को दर्शाता है कि उसे अपना संवाद कैसे बोलना है।

  • पुल बैक

    कैमरा विषय, वस्तु या गतिविधि से दूर जाता है।

  • पुल फोकस

    कैमरे का फोकस एक विषय, वस्तु या गतिविधि से दूसरे पर जाता है।

  • पुश इन

    कैमरा विषय, वस्तु या गतिविधि की तरफ जाता है।

  • POV

    पॉइंट ऑफ व्यू।

  • दृश्य

    कोई घटना जो एक स्थान या समय में होती है। अगर हम एक दृश्य से दूसरे पर जाते हैं तो एक स्लग लाइन नए स्थान को दर्शायेगा, चाहे यह कोई नया कमरा हो, या नया समय (अर्थात, 10 मिनट बाद)।

  • शूटिंग स्क्रिप्ट

    किसी पटकथा का अंतिम प्रारूप जिसमें निर्माण टिप्पणियां शामिल होती हैं और जिसे पटकथा से फिल्म बनाने के लिए निर्माण कर्मचारियों, अभिनेताओं और निर्देशक द्वारा प्रयोग किया जाता है।

  • स्पेक स्क्रिप्ट

    स्टूडियो सिस्टम के बाहर, पटकथा लेखक के लिए लिखी गयी पटकथा जिसे इसे लिखने के लिए नियुक्त नहीं किया गया है। कोई पटकथा लेखक स्पेक पटकथाएं लिखने का चुनाव कर सकता है और बाद में उनपर विचार करने के लिए उन्हें स्टूडियो में भेज सकता है।

  • स्लग लाइन

    दृश्य की शुरुआत में पूरे बड़े अक्षरों में लिखा गया टेक्स्ट जिसमें INT. या EXT., स्थान और दिन का समय शामिल होता है।

  • स्मैश कट टू

    तबाही या भावनात्मक परिवर्तनों को दर्शाने के लिए प्रयोग किया जाता है, इस तेज परिवर्तन को भुतही फिल्म में प्रयोग किया जा सकता है, जैसे जब हत्यारा पीड़ित के ऊपर चाकू तानता है, और इस हैवानियत से पहले ही कैमरा स्मैश कट होकर तितलियों से भरे एक सुंदर बगीचे में चला जाता है।

  • स्टॉक शॉट

    किसी अन्य स्रोत, जैसे समाचार क्लिप, ऐतिहासिक फुटेज, या दूसरी फिल्मों से फुटेज डालने के लिए प्रयोग किया जाता है।

  • सुपर/सुपर टाइटल/टाइटल

    वर्तमान शॉट पर आरोपित किया जाता है। उदाहरण के लिए, स्क्रीन पर शीर्षक, स्थान विवरण, या समय बीतना दर्शाया जा सकता है।

  • स्विश पैन

    एक परिवर्तन शॉट जहाँ कैमरा अक्सर पीछे से एक ब्लर निर्मित करते हुए, किसी एक वस्तु, गतिविधि या विषय से तेजी से किसी दूसरी पर जाता है।

  • टाइट ऑन

    नाटकीय प्रभाव के लिए प्रयोग की गयी कैमरे की दिशा, जहाँ किसी व्यक्ति, वस्तु या गतिविधि को करीब से दिखाया जाता है।

  • टाइम कट

    जब आप समान दृश्य या स्थान में किसी बाद के समय पर जाना चाहते हैं तो इसे अपनी पटकथा में शामिल करें।

  • ट्रैकिंग शॉट

    किसी ट्राईपॉड पर स्थिर रखा होने के बजाय, कैमरा विषय के पीछे जाता है।

  • परिवर्तन

    एक दृश्य से दूसरे दृश्य पर जाने के लिए प्रयोग किया जाने वाला स्टाइल।

  • V.O.

    वॉइस ओवर, अर्थात चरित्र बोल रहा है, लेकिन हम उसे कैमरे पर नहीं देखते, या उसके मुंह को हिलते हुए नहीं देखते।

  • XLS

    अत्यधिक लम्बा शॉट, अर्थात कैमरा विषय, वस्तु या गतिविधि से बहुत दूर रखा गया होता है।

आखिरकार, अब यह आपके पास है! इस पटकथा लेखन की शब्दावली में सारे नहीं तो लगभग वो सभी प्रमुख पटकथा लेखन शब्द या संक्षेप शब्द शामिल किये गए हैं, जिन्हें आप किसी पटकथा में देखेंगे। अगर आपको कोई और ऐसा पटकथा लेखन से संबंधित शब्द मिलता है जो समझ नहीं आता तो हमें @SoCreate पर ट्वीट करें और मुझे इसके बारे में आपको बताकर खुशी होगी! पटकथा लेखन की इस शब्दावली को आसानी से एक्सेस करने के लिए, मैं आपको इस पृष्ठ को बुकमार्क करने की सलाह दूंगी।

अब कुछ पटकथाओं में खो जाइये!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पटकथा में विदेशी भाषा कैसे लिखें

हॉलीवुड, बॉलीवुड, नॉलीवुड … 21वीं सदी में हर जगह फिल्में बन रही हैं। और जैसे-जैसे फिल्म उद्योग बढ़ता है, हमारी और अधिक अलग-अलग आवाज़ें सुनने की इच्छा भी बढ़ती है, भले ही हम उन भाषाओं को नहीं समझते हैं। लेकिन सख्त पटकथा फॉर्मेटिंग के साथ, अपनी कहानी की प्रामाणिकता को बढ़ाने के लिए, और साथ ही इसे पढ़ने योग्य और स्पष्ट बनाने के लिए आप विदेशी भाषा का प्रयोग कैसे करते हैं? डरे नहीं, अपनी पटकथा में विदेशी भाषा के संवाद डालने के कुछ सरल तरीके मौजूद हैं, किसी अनुवाद की जरुरत नहीं। विकल्प 1: जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दर्शक विदेशी भाषा समझता है या नहीं जब दर्शक के लिए यह जरुरी नहीं होता कि वो चरित्र द्वारा बोले जाने वाले संवाद (शायद यह बस दृश्य के लिए टोन सेट कर रहा होता ...

पटकथा में 4 सामान्य संवाद संबंधी समस्याएं

पटकथाएं कसी हुई, सटीक, और पढ़ने में बिलकुल सहज होनी चाहिए, जो फ़िल्म इंडस्ट्री के दूसरे लोगों के लिए ब्लूप्रिंट का काम करती हैं। लेकिन पटकथा में कुछ ऐसी संवाद समस्याएं होती हैं, जो किसी भी पटकथा की शुद्धता को खराब कर देती हैं, और सबकुछ पाठक के सिर के ऊपर से चला जाता है। सौभाग्य से, अपनी पटकथा में संवाद की पंक्तियों को दोबारा लिखने के दौरान इन समस्याओं का पता लगाना आसान होता है। पटकथा की चार सामान्य संवाद समस्याओं (पटकथा में संवाद के उदाहरणों के साथ) के बारे में पढ़िये, जिन्हें आप अभी ढूंढ (ठीक कर) सकते हैं। आप एक पटकथा में मजबूत संवाद लिखना सीखेंगे, जो पाठक को सही तरीके से आगे बढ़ाएगी...

Actes, scènes et séquences - Quelle devrait être la durée de chaque section ?

Si je devais nommer mon adage préféré, c'est que les règles sont faites pour être enfreintes (la plupart d'entre elles - les limites de vitesse sont exemptées !), mais vous devez connaître les règles avant de pouvoir les enfreindre. Alors, gardez cela à l'esprit lorsque vous lisez ce que j'appellerais les "directives" de la synchronisation des actes, des scènes et des séquences d'un scénario. Il y a cependant une bonne raison à ces directives (tout comme les limitations de vitesse 😊), alors ne vous éloignez pas trop du standard ou vous pourriez payer le prix pour cela plus tard. Commençons par le début...