पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

पटकथा में चरित्रों के विकास के लिए अनुभवी टीवी लेखक रॉस ब्राउन के उपाय

अनुभवी टीवी लेखक और रचनात्मक लेखन के प्रोफेसर रॉस ब्राउन, SoCreate के साथ इस साक्षात्कार में रहस्यमयी से लेकर सांसारिक चीज़ों तक चरित्र के विकास के लिए अपने महत्वपूर्ण उपायों के बारे में बताते हैं, जिसपर अपने चरित्र की सूची बनाते समय पटकथा लेखक को विचार करना चाहिए।

आपने "स्टेप बाय स्टेप" और "द कॉस्बी शो" जैसे बेहद लोकप्रिय कार्यक्रमों के साथ रॉस का नाम देखा होगा, लेकिन अब वह सांता बारबरा में एंटिऑक विश्वविद्यालय के MFA प्रोग्राम के निर्देशक के रूप में अपना ज़्यादातर समय दूसरे लेखकों को अपने विचारों को स्क्रीन पर लाना सिखाने में समय बिताते हैं।

ब्राउन ने हमें बताया कि, "आपको हर चरित्र को अलग से सोचने की ज़रुरत नहीं होती है। आपको अपने चरित्रों के संपूर्ण समूह को एक पारिस्थितिकी तंत्र के रूप में सोचने की ज़रुरत होती है, और यह सोचना होता है कि उनमें से प्रत्येक चरित्र दूसरे पर क्या दबाव डालता है।"

अपने चरित्रों की सूची बनाने के बजाय, वो अपने किरदारों को एक पहिये के रूप में देखने का सुझाव देते हैं, जहाँ मुख्य किरदार बीच में होना चाहिए और सहायक किरदार उसके चारों तरफ़ होने चाहिए। "ख़ुद से पूछिए कि उनमें से प्रत्येक सहायक चरित्र आपके मुख्य चरित्र के ऊपर किस तरह से अलग-अलग चुनौती, दबाव, मांग इत्यादि डालता है। और इससे आपको अपने मुख्य चरित्र के साथ-साथ सहायक चरित्रों का विकास करने में भी मदद मिलेगी।"

अगर आप चरित्र को कुछ ऐसा बनाने की कोशिश करते हैं जो वो नहीं है तो वो पटकथा या चरित्र के लिए बिल्कुल भी काम नहीं करेगा। आपको हर चरित्र को अलग से सोचने की ज़रुरत नहीं होती है। आपको अपने चरित्रों के संपूर्ण समूह को एक पारिस्थितिकी तंत्र के रूप में सोचने की ज़रुरत होती है, और यह सोचना होता है कि उनमें से प्रत्येक चरित्र दूसरे पर क्या दबाव डालता है।
रॉस ब्राउन

"चरित्र का विकास बहुत दिलचस्प होता है। कुछ तरीकों से, यह बिल्कुल स्वाभाविक लगता है," ब्राउन ने कहा। "मैं यह कोशिश करता हूँ कि चरित्र मुझसे बातें करें। मुझे पता है यह थोड़ा अजीब लगता है, लेकिन अगर आप चरित्र को कुछ ऐसा बनाने की कोशिश कर रहे हैं जो वो नहीं है तो वो पटकथा या चरित्र के लिए बिल्कुल भी काम नहीं करेगा।"

हाल के एक ब्लॉग पोस्ट "अपनी पटकथा में ऐसे किरदार कैसे लिखें जिनसे आपके दर्शकों का मन न भरें," में हमने ऐसे चरित्रों को लिखने के पांच उपायों के बारे में ज़्यादा विस्तार से बताया है जो आपके दर्शकों को बहुत पसंद आएंगे:

  1. अपने चरित्रों को शुरू से जानें

  2. अपने चरित्रों के लिए स्पष्ट प्रेरणा और लक्ष्य बनाएं

  3. अपनी पटकथा में हर चरित्र के लिए एक उद्देश्य रखें

  4. अपने चरित्रों में कमियां डालें

  5. आपका जुनून ही आपके चरित्र की ताकत है

कई लेखकों के लिए, कहानियां कथानक के बजाय चरित्र के साथ शुरू होती हैं, जिससे चरित्र का विकास करना कहीं ज़्यादा ज़रुरी हो जाता है। आपके चरित्र के विकास की प्रक्रिया कैसे शुरू होती है?

चरित्र में रहें,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

एक आकर्षक लॉगलाइन बनाएं

एक ना भुलाये जा सकने वाले लॉगलाइन के साथ कुछ सेकंड में पाठक को आकर्षित करें।

एक आकर्षक लॉगलाइन कैसे बनाएं

अपनी 110 पेज की पटकथा को एक वाक्य में लिखना आसान नहीं होता है। अपनी पटकथा के लिए लॉगलाइन लिखना एक कठिन काम हो सकता है, लेकिन एक पूर्ण और अच्छी लॉगलाइन उन सबसे बहुमूल्य मार्केटिंग उपकरणों में से एक है, जो अपनी पटकथा बेचने के लिए आवश्यक होती है। आज के "कैसे करें" पोस्ट में उल्लेखित युक्तियों से एक आकर्षक लॉगलाइन बनाएं और पाठकों को मोहित करें! एक ना भुलाये जा सकने वाले लॉगलाइन के साथ कुछ सेकंड में पाठक को आकर्षित करें। लॉगलाइन क्या है? कल्पना करिये कि अपनी नयी स्क्रिप्ट के बारे में किसी को बताने के लिए आपके पास केवल दस सेकंड का समय है। आप उन्हें क्या बताएँगे? आपकी पूरी कहानी का यह संक्षिप्त, सरल विवरण ही आपका लॉगलाइन है। विकिपीडिया के अनुसार लॉगलाइन ...
Ashlee Stormo: A Day in the Life of an Aspiring Screenwriter - The Outlining Process

पटकथा लेखिका एश्ली स्टॉर्मो के साथ, पटकथा की सबसे अच्छी रूपरेखा के 18 चरण

हम यह दिखाने के लिए महत्वाकांक्षी लेखिका एश्ली स्टॉर्मो के साथ एकजुट हुए हैं कि पटकथा लेखन के सपने असली दुनिया में कैसे लगते हैं। इस हफ़्ते, वो रूपरेखा बनाने की प्रक्रिया, और उन 18 चरणों के बारे में बताने वाली हैं जिनकी मदद से आप पटकथा लिखना शुरू करने से पहले अपनी कहानी की योजना बना सकते हैं। "हैलो दोस्तों! मेरा नाम एश्ली स्टॉर्मो है, और SoCreate के साथ मिलकर मैं आपको दिखाने वाली हूँ कि एक महत्वाकांक्षी पटकथा लेखिका के रूप में मेरी ज़िन्दगी कैसी है, और आज मैं आपको बताऊंगी कि मैं किसी पटकथा के लिए रूपरेखा कैसे तैयार करती हूँ। समय के साथ मुझे इस बात का एहसास हुआ...
Screenwriter Bryan Young Tells Writers How to Get Through Act 2 Problems

पारंपरिक पटकथा में दूसरे अंक की समस्याओं को कैसे दूर करें

मैंने एक बार सुना था कि पटकथा का दूसरा अंक ही आपकी असली पटकथा होती है। यह एक सफर है, चुनौती है, और आपकी पटकथा और भावी फ़िल्म का सबसे लम्बा हिस्सा है। आपकी पटकथा के 60 पन्नों या 50 प्रतिशत (या उससे ज़्यादा) के आसपास आने वाला, दूसरा अंक आम तौर पर, आपके किरदार और आपके लिए, सबसे मुश्किल हिस्सा होता है। और इसका मतलब है कि यही वो जगह है जहाँ चीज़ें गलत दिशा में जा सकती हैं। समय के साथ मैंने कुछ उपाय सीखे हैं, जिन्हें आपके साथ शेयर करके मुझे ख़ुशी होगी ताकि आप उस स्थिति से बच सकें जिसे अक्सर "दूसरे अंक के दबाव" के रूप में जाना जाता है...

टिप्पणियां