पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

किसी कहानी में बाहरी और आंतरिक संघर्ष के उदाहरण

किसी कहानी में बाहरी और आंतरिक संघर्ष के उदाहरण

जीवन में संघर्ष होना अनिवार्य है। यह इंसान होने का हिस्सा है। और इसीलिए शक्तिशाली कहानियां बनाने के लिए फिक्शन में संघर्ष का इस्तेमाल किया जा सकता है। संघर्ष अक्सर बदलाव के लिए उत्प्रेरक का काम करता है, और हम किसी भी कहानी में एक चरित्र आर्क में बदलाव देखना चाहते हैं।

समस्याएं आने पर, दो मुख्य प्रकार के संघर्ष उत्पन्न होते हैं: बाहरी और आंतरिक। बाहरी संघर्ष लोगों और समूहों के बीच उत्पन्न होता है। आंतरिक संघर्ष किसी व्यक्ति या समूह के अंदर उत्पन्न होता है।

अपनी जगह पर बने रहें! हम जल्द ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

मजबूत पटकथा और उपन्यास आंतरिक और बाहरी दोनों तरह के आकर्षक संघर्षों की परस्पर क्रिया से निर्मित होते हैं। केवल बाहरी संघर्ष वाली कहानी सतही और केवल एक्शन के नाम पर एक्शन रखने वाली लग सकती है, जबकि केवल आंतरिक संघर्ष वाली कहानी में बहुत ज़्यादा दिमाग लगाना पड़ सकता है और यह रोचक भी नहीं होती है।

नीचे, मैंने आपको संघर्ष के कुछ मुख्य प्रकारों और फ़िल्म एवं टेलीविज़न में कहानी के संघर्षों के उदाहरण का इस्तेमाल करके संघर्ष वाली कहानी लिखने के बारे में बताया है।

आंतरिक संघर्ष की परिभाषा

आंतरिक संघर्ष किसी चरित्र के भीतर मनोवैज्ञानिक रूप से होने वाला संघर्ष है। आंतरिक संघर्ष असली ज़िन्दगी के कई अलग-अलग कारकों की वजह से हो सकता है, जिनमें भय, क्रोध, ईर्ष्या, लालच, जलन, गर्व, शर्म, अपराधबोध, आक्रोश, प्रेम या नैतिक संघर्ष शामिल हैं।

आंतरिक संघर्ष के उदाहरण

आंतरिक संघर्ष लिखना सीख पाना लेखकों के लिए मुश्किल हो सकता है। बहुत ज़्यादा आंतरिक संघर्ष होने पर नायक बहुत निष्क्रिय तरीके से काम कर सकता है, जबकि उनके आसपास या उनके साथ चीज़ें होती रहती है और वो उनपर कोई कार्यवाही नहीं करते। आंतरिक संघर्ष को सही तरीके से शामिल करने पर यह चरित्र के निर्माण और कहानी में ड्रामा लाने में बहुत अच्छा हो सकता है।

यहाँ पर फ़िल्म और टेलीविज़न में आंतरिक संघर्ष के कुछ बेहतरीन उदाहरण दिए गए हैं:

  • क्रेज़ी एक्स गर्लफ्रेंड

    रेचल ब्लूम और एलाइन ब्रोश मैकेना की पटकथा

    नायिका, रेबेका बंच, इस तरह आंतरिक संघर्ष का अनुभव करती है कि यह अक्सर कॉमेडिक, म्यूज़िकल और बिल्कुल नयापन लिए हुए होता है। रेबेका काम, जीवन, रिश्तों में तनाव, और बॉर्डरलाइन पर्सनालिटी डिसऑर्डर का पता चलने की वजह से संघर्ष कर रही होती है। इस म्यूज़िकल ड्रामेडी में उसकी भावनाओं और संघर्षों को अक्सर गानों के माध्यम से व्यक्त किया जाता है।

  • फाइट क्लब

    जिम उहल्स की पटकथा

    यह फ़िल्म नैरेटर के आंतरिक संघर्ष को लेती है और इसे चलती-फिरती बाहरी अभिव्यक्ति में बदल देती है। फ़िल्म की शुरुआत में, दर्शकों को वॉयस-ओवर के माध्यम से पता चलता है कि नैरेटर अपने नीरस सामान्य जीवन में अधूरा महसूस करता है। फ़िल्म के कथानक में वो करिश्माई और अराजक टायलर डर्डन से मिलता है, जो नैरेटर को एक फाइट क्लब में लाता है, जिससे नैरेटर के सुस्त जीवन में एक्शन, अराजकता और विनाश का समावेश होता है। फ़िल्म के अंत में हमें पता चलता है कि स्पॉइलर टायलर डर्डन वास्तव में नैरेटर के आंतरिक संघर्षों की अभिव्यक्ति है।

  • टॉय स्टोरी

    एंड्रयू स्टैंटन, जॉस व्हेडन, जोएल कोहेन और एलेक सोकोलो की पटकथा

    यह फ़िल्म एक ऐसी दुनिया को दिखाती है जहाँ खिलौनों के अंदर संवेदना है और उन्हें पता है कि वो एक खेलने की चीज़ हैं, लेकिन उनमें से एक अपनी इस पहचान को स्वीकार नहीं करता और कहानी को आगे बढ़ाता है। बज़ लाइटईयर के अंदर हमेशा यह आंतरिक संघर्ष चलता रहता है कि वो एक खिलौना नहीं बल्कि असली स्पेस रेंजर है। इसके परिणामस्वरूप, बज़ का आंतरिक संघर्ष वुडी के लिए एक प्रेरक कारक के रूप में काम करता है, क्योंकि पूरी फ़िल्म में वो बज़ को यही समझाता रहता है कि असल में वो एक खिलौना है।

बाहरी संघर्ष की परिभाषा

साहित्यिक दृष्टि से, बाहरी संघर्ष तब होता है जब बाहरी ताकतें चरित्र के हितों का विरोध करती हैं। यह एक खलनायक के साथ संघर्ष हो सकता है या कई सहायक संघर्ष हो सकते हैं। बाहरी संघर्ष को आम तौर पर पहचानना आसान होता है क्योंकि इसमें अन्य लोग शामिल होते हैं और यह कहानी में प्राथमिक संघर्ष होता है। आंतरिक संघर्ष को पहचानना कठिन है क्योंकि यह आपके भीतर चल रहा होता है।

बाहरी संघर्ष के उदाहरण

यह मुख्य संघर्ष ज़्यादातर फ़िल्म के संपूर्ण कथानक से संबंधित होता है, जिससे कहानी आगे बढ़ती है। बाहरी संघर्ष को केंद्रीय चरित्र के रास्ते में आने वाली बाधा के रूप में माना जा सकता है। ये बाधाएं कई आकार और रूप ले सकती हैं, जैसे कि अन्य चरित्र, जानवर, प्रकृति, समाज, तकनीक, अलौकिक, या यहाँ तक कि समय का बीतना भी। कभी-कभी, ये सभी बाधाएं एक बड़े संघर्ष के विषय में बदल जाती हैं। फ़िल्मों में अलौकिक शक्तियों के साथ संघर्ष, प्रकृति के साथ संघर्ष, व्यक्तियों के बीच का संघर्ष और व्यक्ति एवं समाज के बीच का संघर्ष सबसे ज़्यादा दिखाई देता है।

यहाँ पर फ़िल्म और टेलीविज़न में बाहरी संघर्ष के कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

  • जुरासिक पार्क

    डेविड कोएप और माइकल क्रिचटन की पटकथा

    निश्चित रूप से, "जुरासिक पार्क" में बाहरी संघर्ष डायनासोर का बाहर निकलना और चरित्रों के जीवन को खतरे में डालना है। यह एक व्यक्ति और प्रकृति के बीच के संघर्ष का उदाहरण है, जो एक सामान्य प्रकार का संघर्ष है जिसे "जॉस," "द बर्ड्स," और "क्यूजो" जैसी दूसरी फ़िल्मों में भी देखा जा सकता है।

  • द हंगर गेम्स

    गैरी रॉस, सुज़ैन कॉलिन्स और बिली रे की पटकथा

    पहली और दूसरी हंगर गेम्स फ़िल्मों में मुख्य रूप से चरित्र और चरित्र के बीच का बाहरी संघर्ष दिखाया गया है। हंगर गेम्स के प्रतियोगियों को एक-दूसरे को तब तक मारना होता है जब तक सिर्फ एक विजेता नहीं बच जाता, इसलिए अलग-अलग चरित्र एक-दूसरे के लिए शारीरिक खतरा पैदा करते हैं। हालाँकि, अन्य फ़िल्में लोगों और समाज के पहलुओं को दिखाती हैं, तीसरी फ़िल्म इसे आगे एक संघर्ष के रूप में प्रयोग करती है। हंगर गेम्स के विजेता उस समाज के ख़िलाफ़ विद्रोह में शामिल हो जाते हैं, जिन्होंने इस तरह के गेम्स के सिद्धांत की स्थापना की थी। इस तरह के बाहरी संघर्ष दिखाने वाली दूसरी फ़िल्मों में "द मेज़ रनर" फ्रैंचाइज़ी, "द डाइवर्जेंट" फ्रैंचाइज़ी, और "बैटल रॉयल" शामिल हैं।

  • द वॉकिंग डेड

    रॉबर्ट किर्कमैन द्वारा निर्मित

    ज़ोंबी के प्रकोप के बाद के जीवन के बारे में एक पोस्ट-एपोकैलिकप्टिक टेलीविज़न शो होने के नाते, इस सीरीज़ ने शो को अपने 11वें और अंतिम सीज़न में लाने के लिए कई अलग-अलग प्रकार के अलौकिक संघर्षों का इस्तेमाल किया है। इसमें ज़ोम्बियों के सबको संक्रमित करने और मारने के निरंतर खतरे वाले संघर्ष के रूप में, लोगों और अलौकिक शक्तियों के बीच का संघर्ष देखा जा सकता है। सामान, जगह, और जीने के तरीके की वजह से लोगों का एक-दूसरे से खतरा लोगों के बीच के बाहरी संघर्ष को दर्शाता है। इसमें लोगों और समाज के बीच का संघर्ष भी दिखाया गया है, क्योंकि चरित्र ऐसे प्रतिद्वंद्वियों के ख़िलाफ़ लड़ते हैं, जो ऐसे समाज बना रहे हैं जिनसे वे असहमत हैं। यह टीवी शो सभी प्रकार के आंतरिक और बाहरी संघर्षों को एक्स्प्लोर करता है, क्योंकि ये सभी संघर्ष किसी शो को कई सीज़न तक चलाते हैं।

उम्मीद है, इन उदाहरणों से आपको कहानियों में दोनों प्रकार के संघर्षों के महत्व के बारे में पता चल गया होगा। गतिशील और हमारे-आपके जैसे लगने वाले चरित्रों के साथ एक रोमांचक फ़िल्म बनाने के लिए हमें दोनों तरह के संघर्ष की ज़रूरत होती है। अगली बार कोई फ़िल्म या टीवी शो देखते समय या कोई किताब पढ़ते समय, ध्यान दें और दिखाई देने वाले बाहरी और आंतरिक संघर्षों को चुनें! लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

खोजें अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा

अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे खोजें

आपने शायद किसी को यह कहते सुना होगा कि, "वो उच्च अवधारणा वाली फ़िल्म है," लेकिन इसका वास्तव में क्या मतलब होता है? इतने सारे कार्यकारी और स्टूडियो उच्च अवधारणा वाले काम की तलाश में क्यों हैं? आज मैं आपको समझाने वाली हूँ कि असल में उच्च अवधारणा का क्या मतलब होता है और साथ ही आपको यह भी बताऊंगी कि आप अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे ढूंढ सकते हैं। उच्च अवधारणा का क्या मतलब है? किसी "उच्च अवधारणा" वाली फ़िल्म का विचार किसी यादगार और अनोखे हुक का मूलभूत पहलू होता है। यह फ़िल्म किसी चरित्र के बजाय विचार या दुनिया से प्रेरित होती है। इसे बताना आसान होता है, और सबसे बड़ी बात...

कहें दृश्यात्मक रूप से कोई कहानी

दृश्यात्मक रूप से कोई कहानी कैसे कहें

पटकथा लिखने और किसी और चीज़ के बारे में लिखने में कुछ महत्वपूर्ण अंतर हैं। सबसे पहले, इसकी फॉर्मेटिंग बहुत अलग होती है और इसे जाने बिना (कम से कम, अभी के लिए) आप आगे नहीं बढ़ पाएंगे। पटकथाएं कला की दृश्यात्मक कृति के लिए ब्लूप्रिंट का काम करती हैं। पटकथाओं के लिए सहयोग की आवश्यकता होती है। ऐसी कहानी बनाने के लिए कई लोगों को एक साथ काम करने की ज़रुरत होती है जो स्क्रीन पर आती है। और इसका मतलब है कि आपकी पटकथा में दृश्यों के साथ एक आकर्षक कथानक, थीम और दृश्य होने चाहिए। मुश्किल लग रहा है? यह उपन्यास या कविता लिखने से अलग है, लेकिन हमारे पास कुछ ऐसे उपाय हैं...

अपनी पटकथा में ऐसे चरित्र लिखें जिनसे लोगों का मन न भरे

अपनी पटकथा में ऐसे चरित्र कैसे लिखें जिनसे लोगों का मन न भरे

किसी सफल पटकथा के कई अलग-अलग पहलू होते हैं: इसमें कहानी, संवाद, परिवेश होते हैं। पटकथा में जो चीज़ मुझे सबसे ज़रूरी लगती है और जिसके साथ मैं शुरुआत करती हूँ वो है, चरित्र। मेरे मामले में, कहानी के ज़्यादातर आईडिया एक विशेष मुख्य चरित्र के साथ शुरू होते हैं जिसके साथ मैं ख़ुद को जोड़ पाती हूँ। यहाँ पर ऐसे चरित्र लिखने के लिए कुछ उपाय बताये गए हैं जिन्हें आपके दर्शक ज़रूर पसंद करेंगे! अपनी पटकथा के चरित्रों को शुरू से जानें। वास्तव में लिखना शुरू करने से पहले की प्रक्रिया के ज़्यादातर हिस्से में मैं अपने चरित्रों की रूपरेखा तैयार करती हूँ। इस रूपरेखा में वो सभी चीज़ें शामिल होती हैं...