पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

अपनी पटकथा में ऐसे चरित्र कैसे लिखें जिनसे लोगों का मन न भरे

अपनी पटकथा में ऐसे चरित्र लिखें जिनसे लोगों का मन न भरे

किसी सफल पटकथा के कई अलग-अलग पहलू होते हैं: इसमें कहानी, संवाद, परिवेश होते हैं। पटकथा में जो चीज़ मुझे सबसे ज़रूरी लगती है और जिसके साथ मैं शुरुआत करती हूँ वो है, चरित्र। मेरे मामले में, कहानी के ज़्यादातर आईडिया एक विशेष मुख्य चरित्र के साथ शुरू होते हैं जिसके साथ मैं ख़ुद को जोड़ पाती हूँ। यहाँ पर ऐसे चरित्र लिखने के लिए कुछ उपाय बताये गए हैं जिन्हें आपके दर्शक ज़रूर पसंद करेंगे!

  • अपनी पटकथा के चरित्रों को शुरू से जानें

    वास्तव में लिखना शुरू करने से पहले की प्रक्रिया के ज़्यादातर हिस्से में मैं अपने चरित्रों की रूपरेखा तैयार करती हूँ। इस रूपरेखा में वो सभी चीज़ें शामिल होती हैं जो उन्हें जानने के लिए मुझे ज़रूरी लगती हैं, जिसमें उनकी जीवनी संबंधी जानकारी से लेकर कहानी के महत्वपूर्ण बीट्स तक सबकुछ शामिल है। इस चरण के दौरान मैं अपने चरित्रों के लिए महत्वपूर्ण भावनात्मक आर्क्स भी लिखती हूँ, जिससे मुझे पटकथा के उतार-चढ़ाव का पता लगाने में मदद मिलती है। अपनी पटकथा में चरित्रों के लिए यह काम करने पर आपको उनके बारे में ज़्यादा विवरण मिल सकता है, साथ ही साथ आप प्रत्येक चरित्र के लक्ष्यों और उसकी इच्छाओं को अच्छी तरह समझ पाते हैं।

  • पटकथा के चरित्रों के लिए स्पष्ट प्रेरणा और लक्ष्य

    जैसा कि मैंने पहले ही बताया, लिखने से पहले की प्रक्रिया में आपको अपने चरित्रों की इच्छाओं को अच्छी तरह से जानने में मदद मिल सकती है, लेकिन अपनी पटकथा में, आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत होती है कि आपके चरित्र की प्रेरणाएं और लक्ष्य दर्शकों को अच्छी तरह से समझ आए। प्रेरणा और लक्ष्यों के बारे में सोचते समय, अपने आपसे यह सवाल करना मददगार होता है कि, "आपका चरित्र क्या चाहता है, और कौन सी चीज़ उन्हें वो पाने से रोक रही है?" इसके बाद यह पता लगाएं कि आप उन चीज़ों को अपने दृश्यों में स्थापित कर सकते हैं या नहीं।

  • अपनी पटकथा में हर चरित्र का उद्देश्य बनाएं

    इस बात का ध्यान रखें कि आपके सभी चरित्रों का पटकथा में होने का कोई कारण हो। हर चरित्र का कोई विशेष उद्देश्य होना चाहिए जो कहानी को आगे बढ़ाता है। क्या आपकी पटकथा में कोई ऐसा चरित्र है जो कहानी के लिए महत्वपूर्ण नहीं है? ऐसी स्थिति में उन्हें अपनी पटकथा से निकालना या उनके संवादों और गतिविधियों को किसी दूसरे चरित्र को देना सही होता है।

  • अपनी कहानी के चरित्रों में दोष डालें

    जिन चरित्रों में दोष या असुरक्षाएं होती हैं वो कहीं ज़्यादा इंसानी लगते हैं और उनके साथ ख़ुद को जोड़ पाना ज़्यादा आसान होता है। ज़िन्दगी में कोई भी बिल्कुल सही नहीं होता, और न ही आपकी पटकथा के चरित्रों को ऐसा होना चाहिए। अपने चरित्रों को असफल बनाने या उनसे गलतियां करवाने से न डरें।

  • आपका जुनून ही आपके चरित्र की ताकत है

    मुझे लगता है, यादगार चरित्र लिखने के बारे में जो सबसे महत्वपूर्ण सलाह मैं आपको दे सकती हूँ वो यह कि ऐसे चरित्रों और कहानियों के बारे में लिखें जिन्हें लेकर आप उत्साहित और जुनूनी हैं। अगर आप अपने चरित्रों में अपना जुनून डालते हैं, अगर आप उन्हें ध्यानपूर्वक बनाने में और उन्हें अस्तित्व में लाने के लिए अपना अच्छा-ख़ासा समय बिताते हैं तो दर्शक इसे ज़रूर देखेंगे और उनके साथ जुड़ पाएंगे। अगर आप अपने चरित्रों को जानते और उनसे प्यार करते हैं तो हम भी करेंगे!

उम्मीद है, इन उपायों से आपको ऐसे चरित्र लिखने में मदद मिलेगी जो लोगों को पसंद आएंगे और जिन्हें वो आसानी से नहीं भूलेंगे। लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

अपनी पटकथा में

कहानी का मोड़ लिखें

कहानी का मोड़! अपनी पटकथा में मोड़ कैसे लिखें

यह सब एक सपना था? वो असल में उसका बाप था? पूरे समय हम पृथ्वी ग्रह पर थे? फ़िल्मों में कहानी के मोड़ का एक लंबा-चौड़ा इतिहास रहा है, और इसका अच्छा कारण भी है। किसी फ़िल्म के मोड़ से पूरी तरह से हैरान होने से ज़्यादा मज़ेदार और क्या हो सकता है? कहानी का अच्छा मोड़ चाहे जितना भी मज़ेदार क्यों न हो, लेकिन हम सभी इसके विपरीत अनुभव के बारे में भी बहुत अच्छी तरह से जानते हैं, जहाँ हमें बहुत पहले ही कहानी में आने वाले मोड़ का पता चल जाता है। तो, आप अपना ख़ुद का असरदार मोड़ कैसे लिखते हैं? यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जिनकी मदद से आप अपनी पटकथा में...

पारंपरिक पटकथा में टेक्स्ट मैसेज लिखें

पारंपरिक पटकथा में टेक्स्ट मैसेज कैसे लिखें

ओह, 21वीं सदी की ज़िन्दगी। इसमें कोई उड़ती हुई कारें नहीं हैं, और हम अभी भी धरती पर ही रहने के लिए मज़बूर हैं। हालाँकि, अब हम टेक्स्ट से बातचीत कर सकते हैं, जो एक ऐसी चीज़ है जिसने हमारे पूर्वजों को ज़रूर प्रभावित किया होता। हमें आधुनिक समय में स्थापित अपनी पटकथाओं में बातचीत करने के तरीके में हुए ऐसे महत्वपूर्ण बदलावों पर बहुत ध्यानपूर्वक विचार करना चाहिए। तो आज, मैं यहाँ पटकथा में टेक्स्ट मैसेज लिखने के बारे में बात करने वाली हूँ! आप इसे कैसे फॉर्मेट करते हैं? यह कैसा दिखाई देना चाहिए? टेक्स्ट मैसेजों के लिए कोई स्टैंडर्ड फॉर्मेटिंग नहीं है, तो ये उन चीज़ों में से एक है जिसके मामले में...

पटकथा का सार लिखें

पटकथा का सार कैसे लिखें

पटकथा का सार लिखने में ऐसा क्या है जो मुझे इसमें इतनी परेशानी होती है? मुझे हाल ही में एक पटकथा का सार लिखना पड़ा था, और मुझे बताते हुए बहुत शर्मिंदगी हो रही है कि इसे पूरा करने में मुझे बहुत ज़्यादा समय लगा। मैं बैठकर यही सोचती रह गयी कि मुझे इसमें क्या शामिल करना चाहिए, मैं परियोजना की भावना को कैसे ज़ाहिर करूँ, और यह सबकुछ तब जबकि ये बस एक पन्ने तक सिमटा हुआ था। कोई भी असली लेखन का काम करने के बजाय मैंने ख़ुद को पहले से कहीं ज़्यादा बेकार में सोशल मीडिया पर खोया हुआ पाया। यह बहुत बुरा था, लेकिन प्यारे पाठकों, मैंने इतना सब इसलिए सहा ताकि...

टिप्पणियां