पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

कौन सी चीज़ एक बेहतरीन कहानी बनाती है? 4 प्रमुख तत्व

कौन सी चीज़ एक बेहतरीन कहानी बनाती है?

4 प्रमुख तत्व

कथानक लिखना एक बात है, लेकिन एक अच्छी कहानी लिखना जो आपके मनचाहे दर्शकों को आपसे जोड़ सके, एक बड़ी चुनौती है। तकनीकी रूप से कहा जाए तो क्या हर बार कहानी बताने की कला में जीतने की कोई रेसिपी है? अपनी अगली परियोजना को अब तक की सबसे आकर्षक परियोजना बनाने के लिए किसी अच्छी कहानी के चार तत्वों का पता करें!

एक अच्छी कहानी दर्शकों को बांधे रखती है और उन्हें इससे जुड़ाव महसूस कराती है। जब कोई व्यक्ति किसी किताब या टीवी शो को इस एहसास के साथ ख़त्म करता है कि उसमें कुछ दिलचस्प, महत्वपूर्ण, या रोमांचकारी था, तो इसका मतलब है कि अगर बहुत कुछ नहीं तो लेखक ने कुछ तो किया है।

अपनी जगह पर बने रहें, पटकथा लेखक! हम जल्दी ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर शुरू करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

हर कहानी अलग होती है, चाहे यह उनका कथानक हो, शैली हो, या फिर चरित्र। पाठकों की अलग-अलग प्राथमिकताएं और राय होती है, और ऐसा कोई एक तत्व नहीं है जो किसी कहानी को बहुत अच्छा बनाता है। असल में, लगभग किसी भी अच्छी कहानी के आर्क में कम से कम चार मुख्य तत्व होंगे, जिन्हें सभी कहानी कहने के माध्यमों पर लागू किया जा सकता है।

सर्वव्यापक रूप से अच्छी कहानी के 4 मुख्य तत्व

अच्छी संरचना

अच्छी संरचना का मतलब है कि कथानक स्पष्ट और स्वाभाविक गति से आगे बढ़ता है। कहानियों को धाराप्रवाह तरीके से एक बीट से दूसरी बीट में जाना चाहिए। संरचना एक प्रवाह में आगे बढ़नी चाहिए और दर्शकों को बहुत ज़्यादा दिमाग लगाए बिना कहानी अच्छी तरह समझ आनी चाहिए। राइज़िंग एक्शन से क्लाइमेक्स और फिर फॉलिंग एक्शन तक, कथानक का हर तत्व तर्कसंगत लगना चाहिए।

मजबूत चरित्र

सभी कहानियों में आकर्षक और यादगार चरित्र होने चाहिए, जैसे कमियों वाले लोग, अद्वितीय लक्षण वाले चरित्र, और दिलचस्प लक्ष्य एवं प्रेरणा वाले चरित्र। इन चरित्रों को जो चीज़ आकर्षक बनाती है वो यह कि वो साधारण लोगों की तरह होते हैं। असली ज़िन्दगी में लोग जटिल, विरोधाभासी और अक्सर आश्चर्यजनक होते हैं। अपने चरित्रों को असली ज़िन्दगी के लोगों की तरह बहुमुखी बनाने पर इसकी बहुत संभावना होती है कि वो आपके पाठक पर गहरी छाप छोड़ेंगे।

प्रभावशाली नाटकीय सामग्री

अच्छी कहानियों को नाटकीय सामग्री की आवश्यकता होती है जो कहानी को आगे बढ़ाने के लिए पर्याप्त तनाव प्रदान करती है। नाटकीय घटनाक्रम ऐसे महसूस होने चाहिए कि उनका आपके चरित्रों पर वास्तविक परिणाम और प्रभाव पड़ता है। आपकी कहानी के केंद्र में संघर्ष होना चाहिए। नाटक बनाने की संभावनाओं को कम करके इससे बचने की कोशिश न करें। असली ज़िन्दगी में अच्छे ख़ासे नाटकीय क्षण होते हैं, इसलिए आपके दर्शक आपकी कहानी में भी वही देखना चाहते हैं।

जोड़ने वाली थीम

चारिस कास्त्रो स्मिथ और जेरेड बुश द्वारा लिखित, "एन्कैंटो," या जेसी एंड्रयूज और माइक जोन्स द्वारा लिखित "लुका" जैसी हालिया डिज्नी फ़िल्मों के बारे में सोचने पर, मैं इस बात से दंग रह जाती हूँ कि उनकी थीम कितनी शक्तिशाली थी। पारिवारिक संबंधों, पीढ़ीगत आघात, पहचान और स्वीकृति के थीम बिल्कुल स्पष्ट हैं। ये सभी बहुत शक्तिशाली हैं क्योंकि ये सार्वभौमिक हैं। वो दर्शकों से जुड़ पाते हैं क्योंकि हर कोई किसी न किसी तरह से ख़ुद को उनसे जोड़कर देख पाता है और उस समय को याद कर सकता है जब उन्होंने कुछ ऐसा ही महसूस किया था या ऐसी ही किसी चीज़ का सामना किया था।

एक अच्छी कहानी अपनी थीम विकसित करने में समय लेती है, लेकिन यह उसे ज़रूरत से ज़्यादा इस्तेमाल नहीं करती। दर्शकों को थीम पर अपना दिमाग खपाने की ज़रूरत नहीं है।

माध्यम के अनुसार बेहतरीन कहानियों के तत्व

एक बेहतरीन कहानी कहने के चार तत्वों के अलावा, जिनके बारे में मैंने ऊपर बताया है, विभिन्न माध्यमों की अपनी विशिष्ट सर्वोत्तम कार्यप्रणालियां भी होती हैं। उदाहरण के लिए, एक बहुत अच्छी पटकथा लिखना कोई ऐसा उपन्यास लिखने से बहुत अलग होता है जिसे पाठक नीचे नहीं रख पाते।

कौन सी चीज़ों से एक बेहतरीन कहानी बनती है?

  • एक अच्छा नायक

    शानदार फ़िल्मों में ऐसे मुख्य चरित्र होते हैं जो दर्शकों को आकर्षित करते हैं और पूरी फ़िल्म के दौरान उनका समर्थन करने पर मजबूर करते हैं। उन्हें ख़ुद से जोड़ने लायक और कमियों वाला होना चाहिए, लेकिन उन्हें अपनी कमियां दूर करनी आनी चाहिए और आख़िर में वही करना चाहिए जो सही है।

  • नायक के विरोध में एक खलनायक

    एक अच्छी फ़िल्म में नायक को हराने के लिए एक अच्छी तरह से लिखे गए खलनायक की ज़रूरत होती है। किसी यादगार कहानी में खलनायक भी नायक की तरह ही विकसित होता है। जोनाथन नोलन, क्रिस्टोफर नोलन और डेविड एस. गोयर द्वारा लिखित "द डार्क नाइट" में जोकर और बैटमैन समान और विपरीत ताकतों की तरह महसूस होते हैं, जो अनिवार्य रूप से संघर्ष में एक साथ आते हैं। जोकर के माध्यम से, हम बैटमैन के बारे में अधिक जानते हैं। हम उसकी नैतिकता के बारे में सीखते हैं और यह भी कि वह किन सीमाओं को पार नहीं करेगा। ये दोनों किरदार एक-दूसरे का सबसे नाटकीय रूप सामने लाते हैं, जो देखने लायक है।

कौन सी चीज़ किसी टेलीविज़न शो को बेहतरीन बनाती है?

  • बढ़ने और बदलने वाले चरित्र

    टीवी शोज़ को चरित्रों के आर्क लिखने में अच्छा-ख़ासा समय बिताना चाहिए। अच्छी तरह से सोच-समझकर बनाये गए चरित्र आर्क से ऐसा लगता है कि यह चरित्र किसी चीज़ से गुज़र रहा है और उसकी वजह से बदल रहा है। विंस गिलिगन द्वारा निर्मित संपूर्ण "ब्रेकिंग बैड" के दौरान वाल्टर व्हाइट का विकास अच्छी तरह से तैयार किए गए चरित्र का एक उत्कृष्ट उदाहरण है, जिसका आर्क बहुत अच्छे से तैयार किया गया है।

  • मजबूत योजना

    बहुत अच्छे टेलीविज़न शोज़ में अक्सर ऐसे कथानक होते हैं जिनके लिए पहले से एक स्पष्ट योजना तैयार की जाती है। सीज़न वन में ही, लेखक को पता होता है कि तीसरे या चौथे सीज़न तक चीज़ें कहाँ जाएंगी। अच्छे कथानक वाला टेलीविज़न शो इसे बेहतरीन बनाने के लिए पर्याप्त नहीं है। इसमें निरंतर रूप से ऐसी चीज़ें होनी चाहिए जो कई सीज़न के लिए विश्वसनीय तरीके से कथानक को बदलती और संचालित करती हैं।

कौन सी चीज़ किसी उपन्यास को बेहतरीन बनाती है?

  • मजबूत शुरुआत

    एक बहुत अच्छा उपन्यास पाठक को पहले पन्ने पर ही बाँध लेता है। फिक्शन और नॉनफिक्शन दोनों किताबों के लिए एक मजबूत ओपनिंग होना ज़रूरी है। आप पाठक को अपनी किताब नीचे रखने का बहाना नहीं देना चाहते। एक उपन्यास को पहले दो पन्नों के भीतर पाठक को उसकी दुनिया में डुबो देना चाहिए।

  • कहानी के मजबूत स्वर

    महान साहित्य में एक विशिष्ट कथात्मक आवाज होनी चाहिए जिससे आपको यह आभास हो कि आप जानते हैं कि कहानी कौन कह रहा है। परिप्रेक्ष्य से कोई फर्क नहीं पड़ता, कहानी का स्वर हमेशा सुसंगत और मजबूत होता चाहिए।

कौन सी चीज़ बच्चों की कहानी को बेहतरीन बनाती है?

  • बच्चों के साथ सम्मान से पेश आना

    बच्चों की किसी बेहतरीन कहानी को अपने दर्शकों को नीचा नहीं दिखाना चाहिए। बच्चों की कहानियों को इस बात का ध्यान रखने की ज़रूरत होती है कि बच्चे छोटे मनुष्य हैं और उन्हें ऐसी कहानी पेश करनी चाहिए जो सच्चाई को गलत ढंग से पेश नहीं करती। जब ऐसे थीम और विषयों की बात आती है, जिनसे बच्चों को वास्तव में निपटना पड़ता है तो बच्चों की कहानियों को उन्हें ईमानदारी और स्पष्टवादिता के साथ पेश करना चाहिए।

  • सोचने पर मजबूर करने वाले

    बच्चों की बेहतरीन कहानियों में कथानक, थीम, शब्दावली और अवधारणाएँ होनी चाहिए, जो बच्चों की सोच का विस्तार करती हैं। उन्हें बच्चों की कल्पनाओं को प्रज्वलित करना चाहिए और उन्हें उन विचारों का पता लगाने के लिए प्रेरित करना चाहिए जिनके बारे में उन्होंने पहले कभी नहीं सोचा था।

आपको यह ब्लॉग पोस्ट कैसा लगा? चीज़ें शेयर करना अच्छी बात है! इसलिए अगर आप इसे अपने मनपसंद सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करते हैं तो हमें बहुत अच्छा लगेगा।

अच्छी कहानियां बनाने के लिए कई तत्वों की ज़रूरत पड़ती है, और उन्हें माध्यम के आधार पर और बांटा जा सकता है। उम्मीद है, इस ब्लॉग ने आपको अपनी परियोजनाओं पर काम करने पर विचार करने के लिए तत्व प्रदान किए होंगे! लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

खोजें अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा

अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे खोजें

आपने शायद किसी को यह कहते सुना होगा कि, "वो उच्च अवधारणा वाली फ़िल्म है," लेकिन इसका वास्तव में क्या मतलब होता है? इतने सारे कार्यकारी और स्टूडियो उच्च अवधारणा वाले काम की तलाश में क्यों हैं? आज मैं आपको समझाने वाली हूँ कि असल में उच्च अवधारणा का क्या मतलब होता है और साथ ही आपको यह भी बताऊंगी कि आप अपनी पटकथा में उच्च अवधारणा कैसे ढूंढ सकते हैं। उच्च अवधारणा का क्या मतलब है? किसी "उच्च अवधारणा" वाली फ़िल्म का विचार किसी यादगार और अनोखे हुक का मूलभूत पहलू होता है। यह फ़िल्म किसी चरित्र के बजाय विचार या दुनिया से प्रेरित होती है। इसे बताना आसान होता है, और सबसे बड़ी बात...

करेंअपनी पटकथा में पिक्सर के कहानी के नियमों का प्रयोग

अपनी पटकथा में पिक्सर के कहानी के नियमों का प्रयोग कैसे करें

पिक्सर को विकसित किरदारों और कथानकों वाली विचारशील फ़िल्मों के लिए जाना जाता है, जो आपका दिल छू लेती हैं। वो एक के बाद एक मार्मिक सफल फ़िल्में कैसे बना लेते हैं? 2011 में, पिक्सर की पूर्व स्टोरीबोर्ड आर्टिस्ट, एमा कोट्स, ने कहानी के नियमों का एक संग्रह ट्वीट किया था, जो उन्होंने पिक्सर में काम करने के दौरान सीखा था। इन नियमों को "पिक्सर के कहानी के 22 नियम" के रूप में जाना जाता है। आज मैं आपके साथ ये नियम शेयर करने वाली हूँ, और साथ ही यह भी बताऊंगी कि पटकथा लिखते समय मैं उन्हें कैसे प्रयोग करती हूँ...

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की कहानियां पटकथा लेखकों को कहानी कहने की कला के बारे में क्या सीखा सकती हैं

बच्चों की किताबों, टेलीविज़न कार्यक्रमों, और फ़िल्मों के माध्यम से हम पहली बार कहानियों को जानते हैं। ये शुरूआती कहानियां दुनिया के लिए हमारी समझ और पारस्परिक प्रभाव को आकार देने में मदद करती हैं। बड़े होने के बाद उनकी अहमियत कम नहीं होती; बल्कि, बच्चों की कहानियों से हमें पटकथा लेखन के बारे में एक-दो चीज़ें सीखने में मदद मिल सकती है! सरल अक्सर बेहतर होता है - बच्चों की कहानियां हमें एक आईडिया लेकर, इसके आवश्यक अर्थ को बाहर निकालना सिखाती हैं। मैं आपको इसे बेहद आसान बनाने के लिए नहीं कह रही, बल्कि अपने आईडिया को सबसे सरल तरीके से ज़ाहिर करने की बात कर रही हूँ...