पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

फ़िल्म इतिहास में यह महीना – नवंबर राउंडअप

  • इतिहास में इस दिन

    टाइटैनिक

    पटकथा

    • जेम्स कैमेरॉन

    टाइटैनिक -

    "टाइटैनिक" शानदार चीज़ों से बनी फ़िल्म है: शानदार कहानी, शानदार लागत, और शानदार मुनाफ़ा। यह आज ही के दिन टोक्यो में रिलीज़ हुई थी और आगे चलकर इसने दुनिया भर में $2 बिलियन से ज़्यादा की कमाई की। यह उस समय की सबसे महँगी फ़िल्म थी, और साथ ही वो पहली फ़िल्म थी जो कमाई के मामले में बिलियन डॉलर तक पहुंची थी, हालाँकि स्टूडियो के कार्यकारियों को शुरुआत में ऐसा लगा कि इससे कोई मुनाफ़ा नहीं होगा। लेखक और निर्देशक जेम्स कैमेरॉन को हमेशा से जहाज़ के मलबों में दिलचस्पी थी और वो ख़ुद समुद्र के अंदर जाकर टाइटैनिक देखना चाहते थे। इसलिए, हॉलीवुड से थोड़ी फंडिंग पाने और कहानी की पिच देने के बाद, उन्होंने यही किया और 20th सेंचुरी फॉक्स को उस दृश्य के लिए पैसे देने के लिए मनाया जिसमें गोताखोर असली जहाज़ के मलबे के बीच से रोज़ का नेकलेस ढूंढकर लाते हैं।

  • इतिहास में इस दिन

    अरेस्टेड
        डेवलपमेंट

    निर्माता

    • मिशेल हर्विट्ज़

    अरेस्टेड डेवलपमेंट -

    मिशेल हर्विट्ज़ की "अरेस्टेड डेवलपमेंट" का प्रसारण 2003 में आज ही के दिन शुरू हुआ था। यह शो फॉक्स पर तीन सीज़न के लिए चला, इसके बाद 2013 में नेटफ्लिक्स पर इसे दोबारा लाया गया। इसे ज़्यादा दर्शक नहीं मिले, लेकिन इसे समीक्षकों की सराहना ज़रुर मिली और अपने कलाकारों और मज़ाकिया लेखन के लिए इसने एक विशेष वर्ग को अपना प्रशंसक भी बनाया। इस कॉमेडी शो में एक अमीर और बिखरे हुए परिवार की कहानी दिखाई गयी है, जिसे उस घर का बेटा माइकल ब्लथ चलाता है, क्योंकि अपने पिता के जेल जाने के बाद उसे मजबूरी में पारिवारिक चीज़ों की बागडोर अपने हाथ में लेनी पड़ती है। दो दर्ज़न से ज़्यादा लेखकों को इसके एपिसोड का श्रेय दिया गया है, जिसे छह प्राइमटाइम एमी अवार्ड्स और गोल्डन ग्लोब मिले थे। टाइम मैगज़ीन ने इसे अब तक के सबसे अच्छे टीवी शो में से एक बताया है।

  • इतिहास में इस दिन

    टोक्यो स्टोरी

    पटकथा

    • कोगो नोडा
    • यासुजिरो ओज़ू

    टोक्यो स्टोरी -

    1937 की अमेरिकी फ़िल्म "मेक वे फॉर टुमारो" से प्रेरित होकर कोगो नोडा और यासुजिरो ओज़ू ने 103 दिन में "टोक्यो स्टोरी" की पटकथा लिखी थी। इसमें एक बुजुर्ग जोड़े की कहानी दिखाई गयी है, जो अपने बच्चों से मिलने के लिए टोक्यो जाते हैं, लेकिन वहां उनकी विधवा बहू को छोड़कर बाकी सब उन्हें अनदेखा कर देते हैं। "मेक वे फॉर टुमारो" की कहानी भी इससे काफ़ी मिलती-जुलती थी, लेकिन इसमें अवसाद-युग की थीम को ज़्यादा शामिल किया गया था। समीक्षक इस फ़िल्म को ओज़ू की बेहतरीन कृति मानते हैं, और साइट एंड साउंड मैगज़ीन ने अपने अंतिम डायरेक्टर्स पोल के दौरान इसे आज तक की सबसे अच्छी फ़िल्म का दर्ज़ा दिया था।

  • इतिहास में इस दिन

    लॉस
         ऑलवाइडेडोस

    पटकथा

    • लुइस अलकोरिज़ा
    • लुइस बेन्यूल

    लॉस ऑलवाइडेडोस -

    लैटिन अमेरिकी सिनेमा की उत्कृष्ट कृति मानी जाने वाली, "लॉस ऑलवाइडेडोस" (या यूएस में "द यंग एंड द डैम्ड") आज ही के दिन प्रीमियर हुई थी और शुरुआत में इसे लोगों और प्रेस की बहुत कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा था, जिन्होंने फ़िल्म को "बेहद बेरंग" कहा था। स्पेनियार्ड लुइस बेन्यूल ने इसकी कहानी लिखी थी और इसे निर्देशित भी किया था, जो मेक्सिको शहर में बच्चों की गरीबी के बारे में दिखाती है। आलोचकों को यह बिल्कुल अच्छा नहीं लगा कि कोई विदेशी मेक्सिको की गरीबी और अपराध की समस्या को सबके सामने उजागर कर रहा है। 2002 में, मेक्सिको की नेशनल ऑटोनोमस यूनिवर्सिटी के फ़िल्म वेयरहाउस में किसी ने इसका वैकल्पिक "अच्छा अंत" खोजा था। 2005 में इस फ़िल्म को सीमित मात्रा में दर्शकों के लिए दोबारा पर्दे पर लाया गया और 2019 के कांस फ़िल्म फ़ेस्टिवल में इस फ़िल्म का पुनर्स्थापित संस्करण प्रस्तुत किया गया।

  • इतिहास में इस दिन

    द प्रोड्यूसर्स

    पटकथा

    • मेल ब्रुक्स

    द प्रोड्यूसर्स -

    साल भर पहले पेंसिल्वेनिया में बेहद खराब प्रीमियर के बाद, "द प्रोड्यूसर्स" को आज के दिन व्यापक स्तर पर लोगों के सामने पेश किया गया। यह दो बेवकूफ निर्माताओं की कहानी है जो हिटलर के बारे में एक बेकार नाटक का निर्माण करके बूढ़ी औरतों से पैसे निकालने के लिए उन्हें ठगने की कोशिश करते हैं, लेकिन वो नाटक बहुत सफल हो जाता है। उस समय के दर्शकों को हिलटर पर बनी कॉमेडी फ़िल्म में कोई हंसी नहीं दिखाई दी, लेकिन आगे चलकर मेल ब्रुक्स को अकादमी पुरस्कारों और राइटर्स गिल्ड ऑफ़ अमेरिका - पूर्व में सर्वश्रेष्ठ पटकथा का पुरस्कार मिला। स्वीडन में, इस फ़िल्म को "स्प्रिंगटाइम फॉर हिटलर" के नाम से रिलीज़ किया गया, जहाँ ये इतनी ज़्यादा लोकप्रिय हुई कि उस देश में मेल ब्रुक्स की अगली सभी फिल्मों के नाम में "स्प्रिंगटाइम फॉर …” जोड़ा जाने लगा ("स्प्रिंगटाइम फॉर शेरिफ" - ब्लेज़िंग सैडल्स; "स्प्रिंगटाइम फॉर स्पेस" – स्पेसबॉल्स; "स्प्रिंगटाइम फॉर फ्रेंकस्टीन"- यंग फ्रेंकस्टीन)।

  • इतिहास में इस दिन

      रेजिंग
        बुल

    पटकथा

    • पॉल श्रेडर
    • मार्डीक मार्टिन

    रेजिंग बुल -

    राष्ट्रीय फिल्म रजिस्ट्री में संरक्षण के लिए चुनी जाने वाली पहली फिल्म, "रेजिंग बुल," को मार्टिन स्कॉर्सेस की उत्कृष्ट कृति माना जाता है, लेकिन इन सबकी शुरुआत उस कहानी से हुई थी जिसका रॉबर्ट डी नीरो ने पुरज़ोर तरीके से समर्थन किया था और मार्डीक मार्टिन और पॉल श्रेडर ने पर्दे के लिए इसे पटकथा में तब्दील किया था। शुरुआत में, स्टूडियो ने यह कहकर पटकथा को नकार दिया था कि यह एक्स-रेटेड और हिंसक है, और इसे ज़्यादा दर्शक नहीं मिलेंगे। उसके थोड़े समय के बाद, डी नीरो और स्कॉर्सेस ने कहानी दोबारा तैयार करने के लिए सेंट मार्टिन द्वीप पर दो हफ़्ते बिताये, और बाकी की चीज़ें अब इतिहास हैं। हालाँकि, डी नीरो और स्कॉर्सेस को इसकी पटकथा का श्रेय नहीं दिया गया।

  • इतिहास में इस दिन

    नेटवर्क

    पटकथा

    • पैडी चयफ़्स्की

    नेटवर्क -

    पैडी चयफ़्स्की की "नेटवर्क" को अकादमी पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ पटकथा के पुरस्कार से नवाज़ा गया था, और WGA ने इसे आज तक की 10 सबसे अच्छी पटकथाओं में शुमार किया है। यह एक न्यूज़ नेटवर्क की व्यंग्यात्मक कहानी है जो बुरी रेटिंग्स से जूझ रही है। इसकी सबसे मशहूर लाइन, "मैं बिल्कुल पागल हूँ, और मैं अब इसे और बर्दाश्त नहीं करूंगा," को बाद की कई फिल्मों और टीवी शो में दोहराया गया है। रॉटेन टोमैटोज़ पर यह फ़िल्म 92% "फ्रेश" रेटिंग बनाए हुए है।

  • इतिहास में इस दिन

    अनब्रेकेबल

    पटकथा

    • एम. नाईट श्यामलन

    अनब्रेकेबल -

    एम. नाईट श्यामलन द्वारा लिखी और निर्देशित की गयी "अनब्रेकेबल" एक डिकंस्ट्रक्टेड सुपर-हीरो फिल्म है, और आज तक की सबसे फायदेमंद स्पेक स्क्रिप्ट डील्स में से एक है। इसकी पटकथा के लिए डिज्नी ने श्यामलन को $5 मिलियन दिए थे, जो उनकी सुपर-हिट फ़िल्म "द सिक्स्थ सेंस" के लिए किये गए भुगतान का दोगुना था। "द सिक्स्थ सेंस" की अत्यधिक सफलता के दौरान बिक्री घट गयी थी, जिसकी वजह से डिज्नी को लगा कि उनके हाथ में एक और बड़ी फ़िल्म आ गयी है। इस फ़िल्म ने $75 मिलियन के निर्माण बजट पर $248 मिलियन की कमाई की थी।

  • इतिहास में इस दिन

    बेन हर

    पटकथा

    • कार्ल ट्यूनबर्ग
    • ल्यू वालेस

    बेन हर -

    "बेन हर" ल्यू वालेस के 1880 के उपन्यास पर आधारित थी, जिसे कार्ल ट्यूनबर्ग ने फ़िल्म की पटकथा में बदला था, जो 1959 की सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली फ़िल्म बनी, और आज तक अकादमी पुरस्कारों में 11 ऑस्कर जीतने वाली तीन फिल्मों में से एक बनी हुई है (उस साल इसे 15 में से 12 श्रेणियों में नॉमिनेट किया गया था)। बाद के ड्राफ्ट में "अत्यधिक-आधुनिक" संवादों को सामान्य बनाने के लिए चार और लेखकों को परियोजना में लाया गया था, जिनमें नाटककार मैक्सवेल एंडरसन, नाटककार एस.एन. बेहरमन, लेखक गोर विडाल और कवि और नाटककार क्रिस्टोफर फ्राई शामिल थे। 230 पन्नों की अंतिम पटकथा तैयार होने से पहले इसके 12 संस्करण लिखे गए थे।

  • इतिहास में इस दिन

    वन फ्लू ओवर
       द ककूज नेस्ट

    पटकथा

    • लॉरेंस हौबेन
    • बो गोल्डमैन
    • केन केसी

    वन फ्लू ओवर द ककूज नेस्ट -

    लॉरेंस हौबेन और बो गोल्डमैन ने केन केसी के इसी नाम के उपन्यास के आधार पर "वन फ्लू ओवर द ककूज नेस्ट" की पटकथा लिखी थी। यह 40 सालों से भी ज़्यादा लंबे वक़्त में अकादमी पुरस्कारों के पांच सबसे बड़े पुरस्कार जीतने वाली पहली फ़िल्म थी, जिनमें सर्वश्रेष्ठ पिक्चर, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री और सर्वश्रेष्ठ पटकथा के पुरस्कार शामिल थे। कहा जाता है कि लेखक केसी ने कभी यह फ़िल्म नहीं देखी, क्योंकि वो फ़िल्म के लिए बदले गए कहानी के संस्करण से ख़ुश नहीं थे। इस फ़िल्म को अब तक की सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक माना जाता है।

  • इतिहास में इस दिन

    टॉय स्टोरी

    पटकथा

    • जॉस व्हेडन
    • एंड्रयू स्टैंटन
    • जोएल कोहेन और एलेक सोकोलो

    टॉय स्टोरी -

    जॉस व्हेडन, एंड्रयू स्टैंटन, जोएल कोहेन और एलेक सोकोलो द्वारा लिखी गयी, "टॉय स्टोरी," स्टैंटन, जॉन लैसेटर, पीट डॉकर, और जो रानफ्ट की एक कहानी पर आधारित है। यह पूरी तरह से कंप्यूटर एनिमेटेड पहली फ़िल्म थी और साथ ही पिक्सर की भी पहली फ़िल्म थी। 1988 में बनी कंप्यूटर एनिमेटेड शॉर्ट "टिन टॉय" की सफलता के आधार पर, डिज्नी ने यह फ़िल्म बनाने के लिए पिक्सर से संपर्क किया। फिल्म की असली अवधारणा में वेंट्रिलॅक्विस्ट डमी और वुडी नाम के विलेन के साथ, टिन्नी को नायक के रूप में पेश किया जाना था। पिक्सर के स्टोरी टीम के सदस्यों के पास फीचर लिखने का बहुत कम अनुभव था और वो रॉबर्ट मैकी के कहानी कहने के सिद्धांतों पर दिए गए तीन दिन के सेमिनार पर बहुत ज़्यादा निर्भर थे। बाद के ड्राफ्ट में वुडी के चरित्र को उस प्यारे काऊबॉय में बदल दिया गया, जिसे आज हम जानते हैं।

  • इतिहास में इस दिन

    रॉकी

    पटकथा

    • सिल्वेस्टर स्टेलॉन

    रॉकी -

    सिल्वेस्टर स्टेलॉन द्वारा लिखित और अभिनीत, "रॉकी," 1976 की सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली फ़िल्म थी, जबकि इसे केवल $1 मिलियन के निर्माण बजट में बनाया गया था। उस साल इसे सर्वश्रेष्ठ पिक्चर का ऑस्कर पुरस्कार दिया गया था और आगे चलकर इसके सात सीक्वल बने, जिनमें से छह स्टेलॉन ने लिखे थे। स्टेलॉन ने पहली पटकथा केवल तीन दिन में तैयार की थी, और स्टेलॉन ने फ़िल्म में उन्हें मुख्य भूमिका निभाने देने की शर्त के साथ यूनाइटेड आर्टिस्ट्स को यह पटकथा बेची थी। इस फ़िल्म में उनके परिवार ने भी छोटी-छोटी भूमिकाएं निभाई थीं।

  • इतिहास में इस दिन

    फ्रैंकेंस्टीन

    पटकथा

    • गैरेट फोर्ड
    • फ्रांसिस एडवर्ड फरागो
    • रॉबर्ट फ्लोरे, जॉन रसेल

    फ्रैंकेंस्टीन -

    आज तक की सबसे प्रसिद्ध हॉरर कहानियों में से एक, "फ्रैंकेंस्टीन," को गैरेट फोर्ड और फ्रांसिस एडवर्ड फरागो ने पैगी वेबलिंग के नाटक से रूपांतरित किया था, जो मैरी शेली के उपन्यास पर आधारित था। रॉबर्ट फ्लोरे और जॉन रसेल ने भी इसकी पटकथा लिखने में मदद की थी, हालाँकि उन्हें इसका श्रेय नहीं दिया गया। इस फ़िल्म ने अनगिनत सीक्वल प्रेरित किये और इसे लाइब्रेरी ऑफ़ कांग्रेस द्वारा यूनाइटेड स्टेट्स फ़िल्म रजिस्ट्री में संरक्षण के लिए चुना गया।

  • इतिहास में इस दिन

     बाइसिकल
           थीव्स

    पटकथा

    • विटोरिया डी सेका, ओर्स्टे बियानकोली
    • सूसो सेची डी'अमिको, एडोल्फो फ्रैंकी
    • गेरार्डो गेरार्डी, जेरार्डो गुएरिएरी

    बाइसिकल थीव्स -

    इतालवी फ़िल्म "बाइसिकल थीव्स" को विटोरिया डी सेका, ओर्स्टे बियानकोली, सुसो सेची डी'अमिको, एडोल्फो फ्रैंकी, गेरार्डो गेरार्डी, और जेरार्डो गुएरिएरी द्वारा लुइजी बार्टोलिनी के लिखे एक उपन्यास से रूपांतरित किया गया था। इसकी कहानी एक पिता पर केंद्रित है जो पूरे रोम में अपनी चोरी हुई साइकिल ढूंढता है। लेखक दूसरे विश्वयुद्ध के बाद इटली में व्याप्त गरीबी और बेरोजगारी का चित्रण करना चाहते थे। इस फ़िल्म ने सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा की फ़िल्म के लिए मानद अकादमी पुरस्कार जीता था और साथ ही इसने साइट एंड साउंड मैगज़ीन की आज तक की सबसे अच्छी फ़िल्मों में भी अपनी जगह बनाई है।

  • इतिहास में इस दिन

    कैसाब्लांका

    पटकथा

    • जूलियस जे. एपस्टीन
    • फिलिप जी एपस्टीन
    • हावर्ड कोच

    कैसाब्लांका -

    कैसाब्लांका का फिल्मांकन शुरू होने पर, हावर्ड कोच और जुड़वाँ भाइयों, जूलियस जे. एपस्टीन और फिलिप जी एपस्टीन, द्वारा लिखित "कैसाब्लांका" की पटकथा में कोई अंत नहीं था। बाद में, तीनों लेखकों ने कहानी के एक अंत पर अपनी सहमति बनाई, जो मरी बर्नेट और जोन एलिसन के नाटक "एवरीबडी कम्स टू रिक" पर आधारित था, जिसे कभी निर्मित नहीं किया गया था। दोनों भाई हावर्ड कोच से अलग, एक साथ काम करते थे। इस फ़िल्म को उस साल का सर्वश्रेष्ठ पिक्चर का अकादमी पुरस्कार मिला था, साथ ही इसने सर्वश्रेष्ठ अनुकूलित पटकथा का पुरस्कार भी जीता था। अभिनेता हम्फ्रे बोगार्ट की प्रसिद्ध लाइन, "यहाँ मैं तुम्हें देख रहा हूँ", पटकथा में नहीं थी, लेकिन कहा जाता है कि वो अक्सर इंग्रिड बर्गमन को सेट पर पोकर खेलना सिखाते समय ये बोला करते थे।

  • इतिहास में इस दिन

    टेरेंस मैलिक

    • 76वां जन्मदिन मुबारक हो!

    टेरेंस मैलिक -

    लेखक, निर्माता और निर्देशक टेरेंस मैलिक आज 76 साल के हो गए। वह रिचर्ड गेरे अभिनीत अपनी फिल्म "डेज़ ऑफ़ हेवेन" के लिए शायद सबसे ज्यादा मशहूर हैं। मैलिक का अपना एक अलग स्टाइल है, जिसमें अक्सर दार्शनिक लहज़ा, चरित्र का वॉइसओवर और तर्क और अंतरात्मा की आवाज़ के बीच का द्वन्द शामिल होता है। उन्हें तीन बार ऑस्कर के लिए नॉमिनेट किया गया है, जिनमें से दो बार सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए और एक बार सर्वश्रेष्ठ अनुकूलित पटकथा के लिए ऑस्कर नॉमिनेशन शामिल हैं।

इस ब्लॉग में छवियों को संशोधित किया गया है, और मूल छवियां Wikimedia Commons में दिखाई गयी हैं।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पटकथा में 4 सामान्य संवाद संबंधी समस्याएं

पटकथाएं कसी हुई, सटीक, और पढ़ने में बिलकुल सहज होनी चाहिए। लेकिन कुछ ऐसी संवाद समस्याएं हैं जो किसी भी पटकथा की शुद्धता को खराब कर देती हैं, और सबकुछ पाठक के सिर के ऊपर से चला जाता है। सौभाग्य से, दोबारा लिखने के दौरान इन समस्याओं का पता लगाना आसान होता है। पटकथा की चार सामान्य संवाद समस्याओं के बारे में पढ़िये जिन्हें आप अभी ढूंढ (और ठीक कर) सकते हैं। हमने हाल ही में SoCreate में "गेट राइटिंग" की एक पृष्ठ की पटकथा प्रतियोगिता समाप्त की है, और इसके परिणाम बेहद आकर्षक हैं। जहाँ कुछ लेखकों ने यह शिकायत की कि केवल एक पृष्ठ पर अच्छी तरह से फॉर्मेट किये गए दृश्य को फिट करना बिलकुल असंभव है, वहीं दूसरों ने इसमें शानदार सफलता हासिल की। सफल लेखकों ने बेकार ...

पटकथा में विदेशी भाषा कैसे लिखें

हॉलीवुड, बॉलीवुड, नॉलीवुड … 21वीं सदी में हर जगह फिल्में बन रही हैं। और जैसे-जैसे फिल्म उद्योग बढ़ता है, हमारी और अधिक अलग-अलग आवाज़ें सुनने की इच्छा भी बढ़ती है, भले ही हम उन भाषाओं को नहीं समझते हैं। लेकिन सख्त पटकथा फॉर्मेटिंग के साथ, अपनी कहानी की प्रामाणिकता को बढ़ाने के लिए, और साथ ही इसे पढ़ने योग्य और स्पष्ट बनाने के लिए आप विदेशी भाषा का प्रयोग कैसे करते हैं? डरे नहीं, अपनी पटकथा में विदेशी भाषा के संवाद डालने के कुछ सरल तरीके मौजूद हैं, किसी अनुवाद की जरुरत नहीं। विकल्प 1: जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दर्शक विदेशी भाषा समझता है या नहीं जब दर्शक के लिए यह जरुरी नहीं होता कि वो चरित्र द्वारा बोले जाने वाले संवाद (शायद यह बस दृश्य के लिए टोन सेट कर रहा होता ...

अंक, दृश्य और घटनाक्रम - इनमें से प्रत्येक कितना लम्बा होना चाहिए?

अगर मुझे अपनी पसंदीदा कहावत कहनी हो तो ये यह होगा कि नियम तो टूटने के लिए ही बने होते हैं (ज्यादातर - लेकिन गति सीमाएं इसमें नहीं आती हैं!), लेकिन नियमों को तोड़ने से पहले आपके लिए उनको जानना चाहिए। इसलिए, जैसे-जैसे मैं आपको पटकथा में अंकों, दृश्यों और घटनाक्रमों के समय के बारे में "दिशानिर्देश" देती हूँ इसे दिमाग में रखते जाइये। इन दिशानिर्देशों के होने का एक अच्छा कारण है (बिलकुल गति सीमाओं की तरह 😊) इसलिए इसमें बहुत ज्यादा गलती न करें, नहीं तो बाद में आपको इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। चलिए बिलकुल ऊपर से शुरू करते हैं। एक 90-110-पृष्ठ की पटकथा मानक होती है और इससे डेढ़ से दो घंटे तक की फिल्म बनती है। टीवी नेटवर्क डेढ़ घंटे की फिल्म को ज्यादा पसंद कर सकते हैं ...

टिप्पणियां