पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

दयालु बनें और लिखते रहें

दयालु बनें और लिखते रहें

हाल ही में मेरी मुलाक़ात एक थके-हारे लेखक से हुई थी। असल में, मैं ऐसे कई सारे लेखकों से मिली हूँ, और भरोसा करिये – मैं समझ सकती हूँ कि आप इतना थक कैसे जाते हैं। करियर के रूप में लेखन का चुनाव करना कोई आसान रास्ता नहीं है, और अपने जीवन में दूसरे कामों का चुनाव करने वाले ज़्यादातर लोगों की तुलना में, इस काम में आपको समय-समय पर हार का सामना करना पड़ता है। इसलिए आपको अपनी चमड़ी मोटी करनी पड़ती है, तेज़ सुधार और जादुई औषधियां बेचने वाले लोगों को कॉल करना पड़ता है, और उन बलिदानों को लेकर ख़ुद से ईमानदार रहना पड़ता है जो सफल होने के लिए आपको करने की ज़रूरत पड़ती है। लेकिन इस बातचीत ने मुझे याद दिलाया कि कभी भी किसी किताब को उसके कवर से नहीं आंकना चाहिए और अन्य लेखकों के साथ अपनी चर्चा में हमेशा रचनात्मक होने का लक्ष्य रखना चाहिए।

आपको वो वाक्य याद होगा...

"दयालु बनें, क्योंकि आपसे मिलने वाला हर इंसान कोई न कोई लड़ाई लड़ रहा होता है, जिसके बारे में आप कुछ नहीं जानते।"

हाल की बातचीत इसका सबसे अच्छा उदाहरण थी कि क्यों आपको कभी यह अंदाज़ा नहीं लगाना चाहिए कि किसी और का जीवन आपसे ज़्यादा आसान है। "ओह, वो भाग्यशाली थे," या "ओह, खैर, वो पैदाइशी अमीर थे," या "लेकिन उनके पास कनेक्शन थे," आदि। यह सूची बढ़ती ही जाती है कि क्यों लेखक ख़ुद से कहते हैं कि कोई और सफलता पा सकता है, लेकिन वो नहीं। ऑनलाइन दिखने वाली "हाईलाइट रील" कभी भी पूरी कहानी नहीं बताती।

इसलिए, हमेशा दयालु रहें। उन लेखकों से नाराज़गी दिखाने का क्या फायदा जो आपके जैसी ही लड़ाई लड़ रहे हैं? वो आपकी तरफ हैं, और यह किसी को अच्छा महसूस नहीं कराता है।

यह विशेष चर्चा स्क्रिप्ट समन्वयक मार्क गैफेन के साथ एक साक्षात्कार पर केंद्रित थी। वह एक लेखक के रूप में प्रतिनिधित्व प्राप्त करने के बारे में बात कर रहे थे, और फिर उसे छोड़कर वो उस हिस्से पर आगे बढ़ गए जहाँ लेखक ने पहले ही हॉलीवुड में कुछ कनेक्शन बना लिए हैं और काम पा लिया है, और अब वो किसी एजेंट या मैनेजर की तलाश में हैं।

अब, इसका यह मतलब नहीं है कि आप भी इतनी तेज़ी से आगे बढ़ सकते हैं, और न ही मार्क ऐसे आगे बढ़े थे। अपनी वर्तमान नौकरी पाने के लिए सीढ़ियां चढ़ने में उन्हें एक दशक से ज़्यादा का समय लग गया, उन्हें बहुत सारा काम करना पड़ा और कई-कई रातों तक वो सो नहीं पाए, और ज़ाहिर तौर पर, उनकी किस्मत ने भी थोड़ा साथ दिया। वो कम से कम 2002 से लेखक बनने पर काम आकर रहे थे, और उसके बाद 2014 में 12 साल बाद उन्हें अपना पहला लेखन क्रेडिट मिला। वह बिना किसी को जाने कॉलेज से निकलकर लॉस एंजेल्स चले गए और 100 से अधिक जगहों पर अपना बायोडेटा फैक्स किया। उन्हें बस "द बर्नी मैक शो" से जवाब मिला, इस तरह वहाँ से उन्होंने कैमरा सहायक के रूप में शुरुआत की। लगभग दो दशक बाद भी वो फुल-टाइम लेखन नहीं कर रहे हैं। इसके बजाय, वह एक ग्राफ़िक उपन्यासकार के रूप में अपने लेखन को जारी रखते हुए स्क्रिप्ट समन्वय के माध्यम से अपना रिज्यूमे और कनेक्शन बनाते हैं। आप उनके IMDb पेज पर उनके सफ़र पर एक नज़र डाल सकते हैं। हालाँकि, उन्हें देखकर ऐसा लग सकता है कि वह उद्योग में बहुत अच्छे मुक़ाम पर पहुंच गए हैं, लेकिन वहाँ तक पहुंचने के लिए उन्हें जो कुछ भी करना पड़ा उसकी वास्तविकता काफी अलग है।

लिखने का काम पाना आसान नहीं है और हॉलीवुड कनेक्शन पर टिका हुआ है। मार्क ने अपने कुछ अन्य साक्षात्कारों में इसका उल्लेख किया है और इस बारे में बताते हैं कि कैसे उन्होंने अपने करियर की शुरुआत में हॉलीवुड में संबंध बनाए, जब हमारे पास वैसी तकनीक भी नहीं थी जैसी आज के समय में है। यह आश्चर्यजनक है कि इंडस्ट्री में आने का हर किसी का सफ़र कितना अलग होता है। वैसे, मुझे आशा है कि आप यह जानने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल पर उनकी प्लेलिस्ट ज़रूर देखेंगे कि आज वो जहाँ हैं वहाँ कैसे पहुंचें!

हिप-पॉकेट प्रतिनिधित्व पर मार्क का वीडियो साक्षात्कार इस बारे में बताता है कि कैसे आज तक उन्हें पूरा प्रतिनिधित्व नहीं मिलता है जब तक कि वो अपना ख़ुद का काम नहीं ढूंढ लेते जिसमें एजेंट उनसे पैसे कमा सकता है। हम विभिन्न अनुभव स्तरों के लिए प्रतिनिधित्व के विषय पर कई पोस्ट पेश करते हैं (और जैसा कि आप देखेंगे, किन्हीं भी दो लोगों का सफ़र एक जैसा नहीं होता है!)

पटकथा लेखन एजेंटों के विषय पर, हमारी वेबसाइट पर ढेर सारी सामग्रियां मौजूद हैं।

  • पटकथा लेखन एजेंट: वो किसलिए होते हैं और उन्हें कैसे पाएं

    यह पोस्ट नेटवर्किंग, उत्सवों, फ़ेलोशिप और रेफरल रूट पर जाने का सुझाव देता है।

  • IMDb प्रो के प्रयोग से एजेंट कैसे खोजें

    इस पोस्ट में, पटकथा लेखिका एश्ली स्टॉर्मो उन एजेंटों को खोजने के लिए IMDb प्रो का प्रयोग करने की अपनी रणनीति के बारे में बताती हैं जो उनके समान काम का प्रतिनिधित्व करते हैं।

  • साहित्यिक एजेंट कैसे खोजें

    यह पोस्ट चर्चा करता है कि एजेंट उन लेखकों में क्या खोज रहे हैं जिनका वे प्रतिनिधित्व करेंगे।

  • पटकथा लेखन इंटर्नशिप

    हमारे पास इंटर्नशिप अवसरों वाला एक पेज भी है, जिसे उद्योग से संबंधित पदों के साथ निरंतर रूप से अपडेट किया जाता है, जिनमें से कई रिमोट और पार्ट-टाइम हैं, इसलिए आप जहाँ हैं वहीं से काम करना शुरू कर सकते हैं।

हम बस इतना बताना चाहते हैं कि कोई यह नहीं कह रहा कि पटकथा लेखन आसान है। यदि हमारी किसी भी सामग्री का यह मतलब निकलता है तो ऐसा शायद इसलिए क्योंकि यह आपके सफ़र पर दूसरा, तीसरा या नौवां चरण है। पटकथा लेखकों की कहानियों में हमें बस एक ही चीज़ समान मिली है कि उनमें से किसी को भी कुछ आसानी से नहीं मिला। और पता है क्या? यह आपकी सफलता को और भी ज़्यादा शानदार बना देता है।

दयालु बनें,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

Is It Hard to be a Screenwriter? Writer Robert Jury Answers

क्या पटकथा लेखक बनना मुश्किल है? लेखक रॉबर्ट जूरी जवाब देते हैं

पटकथा लेखक, निर्माता और निर्देशक रॉबर्ट जूरी ने अपनी कठिन मेहनत और दृढ़-संकल्प से हॉलीवुड की सीढ़ियां चढ़ी हैं। उन्होंने एलए वाली चीज की है, और वह लोवा शहर के अपने वर्तमान घर में रहते हुए भी एक सफल लेखक हैं। पिछले कुछ दशकों के दौरान, जूरी ने सीखा कि दृढ़ता और जुनून की जगह और कोई चीज नहीं ले सकती है। तो, जब हमने उनसे वो सवाल पूछा जो बहुत सारे महत्वाकांक्षी लेखक हमसे पूछते हैं कि, "क्या पटकथा लेखक बनना मुश्किल है?" तो हमें उनका जवाब बहुत अच्छा लगा। जूरी ने पटकथा रीडर के रूप में अपने करियर की शुरुआत की, वार्नर ब्रदर्स पिक्चर्स में प्रशिक्षण पाया और टचस्टोन पिक्चर्स...
How to Stay Inspired After Rejection, with Veteran TV Writer & Producer Ross Brown

अपने नजरिये में यह बदलाव करके पटकथा लेखक अस्वीकृति को ज़्यादा अच्छे से हैंडल कर सकते हैं

मिशिगन विश्वविद्यालय के एक अध्ययन से पता चलता है कि हमारा मस्तिष्क अस्वीकृति को वैसे ही महसूस करता है, जिस तरह से यह शारीरिक दर्द को महसूस करता है। दुर्भाग्य से, पटकथा लेखकों को बहुत सारा दर्द महसूस करने के लिए ख़ुद को तैयार करना पड़ता है। और आप ऐसा कैसे महसूस न करें, पन्नों पर अपना दिल और आत्मा उतारने के बाद, अगर कोई आपसे यह कहे कि यह उतना अच्छा नहीं है तो आपको कैसा लगेगा? हालाँकि, अस्वीकार होने की चुभन कभी आसान नहीं हो सकती (आख़िरकार, यह हमारे अंदर है), लेकिन फिर भी पटकथा लेखकों के लिए ऐसे तरीके मौजूद हैं, जिनसे वो इसे अच्छे से संभाल सकते हैं, और मनोरंजन के व्यापार में ऐसा कर पाना...
Screenwriter Linda Aronson Says It's Normal to Get Stuck, and Here's How to Get Back to Writing

क्या आपको अपने पटकथा कौशलों को लेकर बुरा महसूस हो रहा है? पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन, अपने पटकथा लेखन की उदासी से उबरने के 3 तरीके बताती हैं

किसी-किसी दिन आपके अंदर प्रेरणा की आग जलती है – आप पन्ने पर पन्ने भरे जाते हैं, और आपके दिमाग में न जाने कहाँ-कहाँ से शानदार संवादों के आईडिया आते रहते हैं। और कभी-कभी ऐसा होता है कि आपकी आँखों के सामने खाली पन्ने पड़े रहते हैं और ऐसे ही खाली पड़े रह जाते हैं। अगर ज़रुरत पड़ने पर आपके आसपास आपको प्रोत्साहित करने के लिए कोई मौजूद नहीं है तो अपने आपको पटकथा लेखन की उदासी के बादलों से बाहर निकालने के लिए पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन के इन तीन उपायों को बुकमार्क करने के बारे में सोचें। एरोनसन एक मशहूर पटकथा लेखिका, उपन्यासकार, नाटककार, एवं मल्टीवर्स...