पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अपने नजरिये में यह बदलाव करके पटकथा लेखक अस्वीकृति को ज़्यादा अच्छे से हैंडल कर सकते हैं

मिशिगन विश्वविद्यालय के एक अध्ययन से पता चलता है कि हमारा मस्तिष्क अस्वीकृति को वैसे ही महसूस करता है, जिस तरह से यह शारीरिक दर्द को महसूस करता है। दुर्भाग्य से, पटकथा लेखकों को बहुत सारा दर्द महसूस करने के लिए ख़ुद को तैयार करना पड़ता है। और आप ऐसा कैसे महसूस न करें, पन्नों पर अपना दिल और आत्मा उतारने के बाद, अगर कोई आपसे यह कहे कि यह उतना अच्छा नहीं है तो आपको कैसा लगेगा?

हैलो पटकथा लेखक! क्या आप SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर आजमाने वाले पहले व्यक्ति बनना चाहते हैं? इस पेज से बाहर निकले बिना,

हालाँकि, अस्वीकार होने की चुभन कभी आसान नहीं हो सकती (आख़िरकार, यह हमारे अंदर है), लेकिन फिर भी पटकथा लेखकों के लिए ऐसे तरीके मौजूद हैं, जिनसे वो इसे अच्छे से संभाल सकते हैं, और मनोरंजन के व्यापार में ऐसा कर पाना बहुत ज़रुरी है।

हमने अनुभवी टीवी लेखक और निर्माता रॉस ब्राउन ("स्टेप बाय स्टेप," "द फैक्ट्स ऑफ़ लाइफ," "द कॉस्बी शो") से पूछा कि वो एंटिओक विश्वविद्यालय में अपने रचनात्मक लेखन के MFA छात्रों को अस्वीकृति झेलने के लिए कैसे तैयार करते हैं, और उन्होंने बताया कि यह बस आपकी मानसिकता होती है।

"मुझे लगता है कि आपको यह तय करना होता है कि आप बस लिखना चाहते हैं, और इसलिए चाहे कोई इसे ख़रीदे या न ख़रीदे फिर भी आप पहले से सफल हैं। जब आपको बहुत बार अस्वीकृति का सामना करना पड़ता है तो प्रेरित रहना वास्तव में मुश्किल हो जाता है। आपको इसके बारे में हज़ारों कहानियां मिलेंगी कि हैरी पॉटर को कितनी बार अस्वीकार किया गया था, या स्टीफेन किंग को कितनी बार अस्वीकृति की सूचना मिली थी, लेकिन आप पहले से यह जानते हैं कि वो लोग अमीर और प्रसिद्ध बन चुके थे और इसलिए उनके लिए अस्वीकृति को स्वीकार करना आसान था, क्योंकि उनके पास पहले से सफलता थी," रॉस ने कहा।

हालाँकि, ये बहुत ज़्यादा सफलता पाने वाले लोगों के उदाहरण थे, लेकिन छोटी-छोटी सफलताएं देखने से भी आपको शुरूआती दर्द से गुज़रने में मदद मिल सकती है।

अस्वीकृति के दर्द से उबरने के लिए पटकथा लेखकों के लिए 5 चरण वाली योजना।

पटकथा लेखन में मिलने वाली अस्वीकृति से कैसे उबरें:

1. स्वीकार करें कि आप इंसान हैं।

जब कोई आपकी पटकथा को अस्वीकार करता है, उनसे संपर्क करने के आपके प्रयास को अनदेखा करता है, या आपको समय नहीं देता तो ऐसे में बुरा लगना सामान्य है। विज्ञान भी यही कहता है! दर्द को स्वीकार करें। चोट सहें। यही चीज़ें हमें इंसान बनाती हैं।

2. अपने आत्मसम्मान को दोबारा ज़िंदा करें।

चाहे आपको एक बार अस्वीकार किया जाए या कई बार, एक लेखक होने के नाते आपको यह याद रखना होगा कि आप क्यों लिखते हैं। यह आपके लिए क्या करता है? इसने दूसरों के लिए क्या किया है? लिखने के बारे में सभी सकारात्मक चीज़ों को सूचीबद्ध करें, और अपने सकारात्मक गुणों को सूचीबद्ध करें। अब, उस समय को याद करें जब किसी और ने उन गुणों के मूल्य को पहचाना था।

3. ख़ुद को अपने काम से अलग करें।

जैसा कि हमारे सीईओ जस्टिन काउटो कहते हैं, आप वो नहीं हैं, जो आप करते हैं! याद रखें, ज़रुरी नहीं है कि किसी प्रतियोगिता में हारना, किसी एजेंट द्वारा अस्वीकार किया जाना, या सोशल मीडिया पर किसी आलोचक से खराब टिप्पणी पाना आपके बारे में हो। यह आपके द्वारा निर्मित किसी चीज़ के बारे में हो सकता है, या यह किसी दूसरे व्यक्ति की अपनी ख़ुद की समस्याओं, पक्षपात, या आवश्यकताओं के बारे में हो सकता है। भले ही आप अपने लेखन के भीतर अपने बहुत सारे व्यक्तिगत अनुभवों के बारे में बताते हैं, लेकिन फिर भी आप अपना लेखन नहीं हैं।

4. ऐसे लोगों के बीच रहें जो आपके काम को महत्व देते हैं।

चाहे वो आपके दोस्त हों, आपका परिवार हो, या इंटरनेट पर कोई अजनबी हो, उन लोगों की तलाश करें जो आपके काम को अहमियत देंगे और आपको याद दिलाएंगे कि आप क्यों लिखते हैं।

5. अस्वीकृति में अपनी ज़िम्मेदारी स्वीकार करें।

शुरुआती चोट से गुज़रने के बाद, एक कदम पीछे लेकर यह समझने की कोशिश करें कि आपको अस्वीकार क्यों किया गया है। हो सकता है कि इसमें आपकी कोई गलती न हो, लेकिन हो सकता है कि आपका लेखन ऐसा न हो जैसा इसे होना चाहिए था? हो सकता है कि आपने सबमिशन नियमों का 100% पालन न किया हो? हो सकता है कि आपका लेखन बहुत अच्छा था, लेकिन किसी और का उससे भी बेहतर था?

रॉस ने अंत में कहा, "सेंट्रल कोस्ट राइटर्स कॉन्फ्रेंस में किसी ने कहा था कि यह कहने के बजाय कि,"मैं एक लेखक हूँ," कहें, "मैं लिखता हूँ," संज्ञा के बजाय क्रिया का उपयोग करें, और मुझे यह सलाह अच्छी लगी।"

आगे और ऊपर की ओर,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

Screenwriter Linda Aronson Says It's Normal to Get Stuck, and Here's How to Get Back to Writing

क्या आपको अपने पटकथा कौशलों को लेकर बुरा महसूस हो रहा है? पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन, अपने पटकथा लेखन की उदासी से उबरने के 3 तरीके बताती हैं

किसी-किसी दिन आपके अंदर प्रेरणा की आग जलती है – आप पन्ने पर पन्ने भरे जाते हैं, और आपके दिमाग में न जाने कहाँ-कहाँ से शानदार संवादों के आईडिया आते रहते हैं। और कभी-कभी ऐसा होता है कि आपकी आँखों के सामने खाली पन्ने पड़े रहते हैं और ऐसे ही खाली पड़े रह जाते हैं। अगर ज़रुरत पड़ने पर आपके आसपास आपको प्रोत्साहित करने के लिए कोई मौजूद नहीं है तो अपने आपको पटकथा लेखन की उदासी के बादलों से बाहर निकालने के लिए पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन के इन तीन उपायों को बुकमार्क करने के बारे में सोचें। एरोनसन एक मशहूर पटकथा लेखिका, उपन्यासकार, नाटककार, एवं मल्टीवर्स...
Screenwriter Bryan Young Tells Screenwriters How to Stay Inspired

अगर आपकी कोई पटकथा नहीं बिक रही है तो भी प्रोत्साहित रहना क्यों ज़रूरी है

ठोकर लगने पर भी आगे बढ़ते रहना मुश्किल है। आप जितने चाहे उतने प्रेरणादायक वाक्य पढ़ सकते हैं, लेकिन वापस खड़ा होना कभी भी आसान नहीं होता। इसीलिए, मुझे लेखक, पॉडकास्टर, और फ़िल्म निर्माता ब्रायन यंग की यह सलाह बहुत पसंद आयी। वह StarWars.com, Syfy, और HowStuffWorks.com पर हमेशा आते रहते हैं। उनकी सलाह में भावना का कम और दिमाग का ज़्यादा इस्तेमाल है। आप एक रिमाइंडर के रूप में उनकी इस सलाह को हमेशा अपने पास रख सकते हैं कि आपको यह नहीं सोचना होता है कि ये होगा या नहीं होगा, बल्कि ये सोचें कि कब होगा। "अगर आपकी...

पाएं लिखने की प्रेरणा

लिखने की प्रेरणा कैसे पाएं

कभी-कभी अचानक ही आपके अंदर प्रेरणा आ जाती है। और कभी-कभी प्रेरणा ढूंढना रेगिस्तान में पानी ढूंढने के बराबर हो सकता है। तो, प्रेरित रहने के क्या तरीके हैं? किसी कामकाज़ी लेखक को निरंतर प्रेरणा कैसे मिलती है, जिसे एक शेड्यूल के हिसाब से चलना पड़ता है? यह ब्लॉग प्रेरणा से जुड़ी सभी चीज़ों के लिए आपका स्रोत है, इसलिए इसे बुकमार्क करें और जब कभी भी आपको जल्दी से प्रेरणा की ज़रुरत पड़े तो इसपर वापस आएं! प्रेरणा बनाये रखना: किसी रचनात्मक क्षेत्र में काम करना और नयी प्रेरणा खोजना मुश्किल हो सकता है। आपको यह महसूस हो या न हो, आपको रचनात्मक रहना पड़ता है, तो फिर आप ऐसी प्रक्रिया कैसे बनाते हैं जिससे सफलता मिलना निश्चित होता है...