पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अपनी पटकथा में रोमांचक मोड़ कैसे लिखें

मुझे मोड़ बहुत पसंद हैं! लेकिन दुर्भाग्य से, अक्सर ऐसे मोड़ का आसानी से अनुमान लगाया जा सकता है। मैं लगभग हमेशा पहले अंक में ही आने वाले मोड़ के बारे में बता सकती हूँ, और इसकी वजह से मेरे साथ फ़िल्म या टीवी देखने वाले लोग परेशान हो जाते हैं। इसलिए, अगर आप अपनी पटकथा में रोमांचक मोड़ लिखना चाहते हैं तो ऐसी कुछ जाँची-परखी हुई तकनीकें मौजूद हैं जो आपके दर्शकों को आगे आने वाले मोड़ के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगी। और, शायद आप मुझे भी इसका अंदाज़ा लगाने पर मजबूर कर दें!

ब्रायन यंग एक फ़िल्म निर्माता, पटकथा लेखक, और कुछ शानदार वेबसाइटों के पत्रकार हैं, जिनमें StarWars.com, HowStuffWorks.com, Syfy.com, और /Film शामिल हैं, और उन्होंने दुनिया की कुछ सबसे पसंदीदा फ़िल्मों का विश्लेषण करके यह पता लगाने की कोशिश की है कि वो फ़िल्में क्यों चलीं। हम जानना चाहते थे कि किसी पटकथा में कौन सी चीज़ बेहतरीन मोड़ लाती है, और आप ऐसा मोड़ कैसे लिख सकते हैं?

"अगर आप कोई बेहद रोमांचक मोड़ लिखने की कोशिश में हैं तो आपको एक चीज़ बहुत ज़्यादा सुनने को मिलेगी कि आपको इसे हैरानी भरा, लेकिन अनिवार्य बनाने की ज़रुरत होती है," यंग बताते हैं। "आपको सभी रहस्यों को उस मोड़ से दूर रखना होता है, या उन्हें उस मोड़ की ओर लाने की ज़रुरत होती है, या उस मोड़ की ओर इशारा करने वाले संकेतों की ज़रुरत होती है ताकि दर्शकों को यह मोड़ विश्वासघात जैसा न लगे।"

पढ़ें: यह अनिवार्य होना चाहिए, लेकिन अपेक्षित नहीं। आपको अपने दर्शकों को मोड़ के अंत तक ले जाना होता है, लेकिन अपने सभी संकेतों को ज़ाहिर न होने दें ताकि उन्हें इसका बहुत जल्दी पता न चल पाए।

यहाँ कुछ उपकरण दिए गए हैं जिनकी मदद से आप दर्शकों को अंदाज़ा लगाते रहने के लिए मजबूर कर देंगे:

  • रेड हेरिंग्स

    यह एक वाक्यांश है जो झूठी जानकारी को दर्शाता है और आपके पाठक को गुमराह करने के लिए होता है।

  • डेड एंड

    आपके दर्शकों को लगता है कि वो यह जानते हैं कि क्या होने वाला है जब तक कि वो डेड एंड तक नहीं पहुंचते। आप उन्हें दिखाते हैं कि शायद यह कहानी उनकी शुरूआती सोच के अनुसार आगे नहीं बढ़ेगी। आप इस डिवाइस को कई बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • गुमराह करना

    आप उस अनुभव को समझते होंगे जब कोई जादूगर आपको अपने जादू से मोहित रखता है और अपने दाएं हाथ से अपना ट्रिक दिखाता है, लेकिन बाद में आपको यह एहसास होता है कि आपको नहीं पता कि उस पूरे समय के दौरान उसका बायां हाथ क्या कर रहा था? संकेतों को ऐसी जगह रखें जहाँ दर्शक किसी और चीज़ पर ध्यान दे रहा होता है।

  • पूर्वाभास

    पूर्वाभास न केवल संकेत देता है, बल्कि अंत में जब आप अपना मोड़ दर्शकों के सामने लाते हैं तो उन्हें विश्वासघात भी महसूस नहीं होता। उन्हें ऐसा लगता है कि यही नतीजा होने वाला था, भले ही उन्होंने शुरुआत में इसके संकेतों को नहीं पहचाना। इस डिवाइस का इस्तेमाल करने के लिए, बहुत सूक्ष्म तरीके से दर्शाएं कि कुछ हो सकता है और अपनी पटकथा में किसी जगह पर ऐसा होने भी दें। अगर आप आगे चलकर संकेत का कोई इस्तेमाल नहीं करने वाले हैं तो पूर्वाभास का प्रयोग न करें।

  • सहायक कथानक

    क्या आपने कभी पटकथा में "कहानी A" और "कहानी B" के बारे में सुना है? इसमें एक मुख्य कथानक होता है जो सबके सामने ज़ाहिर होता है, और अक्सर एक सहायक कथानक भी चल रहा होता है जो कहानी को ज़्यादा गतिशील बनाता है। सहायक कथानक दर्शकों का ध्यान मुख्य कथानक से हटा सकता है, जिससे मोड़ लाने के लिए जगह मिल जाती है, या यह मुख्य कथानक के नतीजे में सक्रिय भूमिका निभा सकता है। यहाँ आपको बस इस बात का ध्यान रखना पड़ता है कि इसकी वजह से आपकी कहानी ज़्यादा जटिल न बने।

  • विश्वासघाती किरदार

    ऐसे किरदार खोजें जिनपर आपका नायक निर्भर हो सकता है और उनपर भरोसा कर सकता है, और जिसपर शुरुआत में दर्शक भी भरोसा करें। लेकिन, पूर्वाभास का इस्तेमाल करके दिखाएं कि इस किरदार का कोई और इरादा हो सकता है। कभी-कभी, आप देखते हैं कि यह तकनीक नैरेटर के साथ इस्तेमाल की जाती है जो कहानी बता रहा होता है, लेकिन बाद में पता चलता है कि वो कुछ छिपा रहा है या उससे जुड़ी कोई ऐसी चीज़ है जो हमें नहीं दिखाई दी।

  • "गेम ऑफ़ थ्रोन्स" का तरीका

    लेखक और दर्शकों दोनों के लिए, ऐसे किरदारों को मारना मुश्किल होता है, जिनसे लोगों की भावनाएं जुड़ी है। लेकिन, उन किरदारों को मारना सबसे बड़ा मोड़ होता है जिन्हें दर्शक सोचते हैं कि वो कहानी में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे, क्योंकि इससे दर्शकों को ऐसा लगता है कि कोई भी सुरक्षित नहीं है और वो अंदाज़ा लगाते रहते हैं कि अब "अगला कौन होगा।" हमने यह "गेम ऑफ़ थ्रोन्स" के लगभग हर एक एपिसोड में देखा था। ज़ाहिर तौर पर, आपको इस डिवाइस को ध्यान से इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि आप केवल लोगों को हैरान करने के लिए किरदारों को नहीं मारना चाहेंगे। क्योंकि इसकी वजह से दर्शक गुस्सा हो जायेंगे।

यंग ने हमें बताया, "वापस जाकर पूरी पटकथा को दोबारा पढ़ने, या फ़िल्म को दोबारा देखने पर, वो देख पाएंगे कि आपने कितने सही तरीके से सभी संकेत रखे थे। यह इतना आश्चर्यजनक और हैरानी भरा होगा कि उन्हें लगेगा कि ऐसा कैसे हो गया, लेकिन सभी संकेतों के एक साथ मिलने पर उन्हें यह आसानी से समझ आ जाता है कि इसे शुरुआत से ही बनाया जा रहा था। ऐसे क्लाइमेक्स पर जाते हुए, इसे हैरानी भरा, लेकिन अनिवार्य बनाने पर ध्यान दें।"

अपने मोड़ के लिए जल्दी और बार-बार आधार तैयार करें, और इस तरह आप अपने दर्शकों को एक ऐसे सफर पर ले जा सकेंगे जिसे वो जल्दी नहीं भूल पाएंगे।

और आप यही चाहते हैं, है न!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

अपनी पटकथा में

कहानी का मोड़ लिखें

कहानी का मोड़! अपनी पटकथा में मोड़ कैसे लिखें

यह सब एक सपना था? वो असल में उसका बाप था? पूरे समय हम पृथ्वी ग्रह पर थे? फ़िल्मों में कहानी के मोड़ का एक लंबा-चौड़ा इतिहास रहा है, और इसका अच्छा कारण भी है। किसी फ़िल्म के मोड़ से पूरी तरह से हैरान होने से ज़्यादा मज़ेदार और क्या हो सकता है? कहानी का अच्छा मोड़ चाहे जितना भी मज़ेदार क्यों न हो, लेकिन हम सभी इसके विपरीत अनुभव के बारे में भी बहुत अच्छी तरह से जानते हैं, जहाँ हमें बहुत पहले ही कहानी में आने वाले मोड़ का पता चल जाता है। तो, आप अपना ख़ुद का असरदार मोड़ कैसे लिखते हैं? यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जिनकी मदद से आप अपनी पटकथा में...

अपनी पटकथा में सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए 5 चरण

अपनी पटकथा में सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए 5 चरण

अक्सर किसी फ़िल्म का अंत किसी भी दूसरे पहलू से कहीं ज़्यादा महत्वपूर्ण हो सकता है। पटकथाएं अपने अंत की वजह से अच्छी और बुरी हो सकती हैं। कोई बहुत अच्छी फ़िल्म भी अपने ख़राब अंत की वजह से बर्बाद हो सकती है, और अच्छी तरह सोचा-समझा हुआ अंत किसी सामान्य फ़िल्म को भी बेहतरीन बना सकता है। अगर आप अपनी पटकथा का अंत अच्छा नहीं रखते तो आपके मज़बूत हुक और हैरानी भरे मोड़ सब भुला दिए जायेंगे, तो यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जो आपकी पटकथा को अच्छी जगह पर ख़त्म करने में मदद करेंगे! अपनी पटकथा का सबसे अच्छा अंत लिखने के लिए चरण 1: चीज़ों की अच्छी...
Screenwriter Bryan Young Tells Writers How to Get Through Act 2 Problems

पारंपरिक पटकथा में दूसरे अंक की समस्याओं को कैसे दूर करें

मैंने एक बार सुना था कि पटकथा का दूसरा अंक ही आपकी असली पटकथा होती है। यह एक सफर है, चुनौती है, और आपकी पटकथा और भावी फ़िल्म का सबसे लम्बा हिस्सा है। आपकी पटकथा के 60 पन्नों या 50 प्रतिशत (या उससे ज़्यादा) के आसपास आने वाला, दूसरा अंक आम तौर पर, आपके किरदार और आपके लिए, सबसे मुश्किल हिस्सा होता है। और इसका मतलब है कि यही वो जगह है जहाँ चीज़ें गलत दिशा में जा सकती हैं। समय के साथ मैंने कुछ उपाय सीखे हैं, जिन्हें आपके साथ शेयर करके मुझे ख़ुशी होगी ताकि आप उस स्थिति से बच सकें जिसे अक्सर "दूसरे अंक के दबाव" के रूप में जाना जाता है...

टिप्पणियां