पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अपनी कहानी के प्रकार के आधार पर शब्दों की संख्या कैसे चुनें

चुनें अपनी कहानी के प्रकार के आधार पर शब्दों की संख्या

मैं उन सभी विकल्पों पर शोध कर रही थी जिनके माध्यम से लेखक अपनी कहानियां लोगों तक पहुंचा सकते हैं, जिनमें पटकथा से लेकर उपन्यास तक, कविता से लेकर पिक्चर बुक तक और ड्रिबल से लेकर ड्रेबल्स तक सभी शामिल हैं। चाहे आपके पास बहुत समय हो या थोड़ा, आपके पास कई विकल्प मौजूद हैं।

आज, मैं विभिन्न प्रकार की कहानियों की परिभाषा के बारे में बात करने वाली हूँ, जिन्हें आप लिख सकते हैं और उनसे पाठक की अपेक्षाएँ क्या होंगी, जिसमें शब्द की संख्या, प्रकाशन के विकल्प और उनमें से प्रत्येक के साथ आने वाली चुनौतियाँ शामिल हैं।

अपनी जगह पर बने रहें! हम जल्द ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

प्रकाशक अक्सर कुछ कारणों से नीचे दिए गए दिशानिर्देशों का पालन करते हैं: आप जिस तरह की कहानी कह रहे हैं उसके आधार पर पाठकों को पता चलेगा कि उन्हें क्या उम्मीद करनी चाहिए; क्योंकि अगर शब्दों की संख्या नीचे दिए गए दिशानिर्देशों से कम या ज़्यादा होती है तो उससे अनुभवहीनता का पता चलता है; और अगर कोई कहानी इन श्रेणियों में से किसी एक में ठीक से नहीं आती तो उसे बेचना मुश्किल हो जाता है। सामान्य तौर पर, प्रकाशक छोटी कहानियों को पसंद करते हैं, क्योंकि उन्हें प्रिंट करने में कम लागत आती है।

इस गाइड से आपको अपनी कहानी के लिए सही फिट खोजने में मदद मिलेगी। आपकी कहानी के लिए कौन सा फॉर्मेट सबसे सही है, यह देखने के लिए आप लंबे से छोटे तक अलग-अलग फॉर्मेट के साथ प्रयोग भी कर सकते हैं!

उपन्यास

उपन्यास एक काल्पनिक कहानी है, जिसमें 50,000 से 110,000 शब्द तक होते हैं। लेकिन प्रकाशन के विशेषज्ञों का कहना है कि अधिकांश प्रकाशक न्यूनतम 70,000 शब्द और अधिकतम 90,000 शब्द ज़्यादा पसंद करते हैं। उससे थोड़ा भी ऊपर जाने पर बजट बढ़ सकता है। अगर यह यंग एडल्ट फिक्शन है, तो यह आम तौर पर कम शब्दों में होता है। Masterclass.com के अनुसार, शब्दों की संख्या के मामले में विशिष्ट शैलियों की अपनी अपेक्षाएं होती हैं; थ्रिलर में 70,000 – 90,000 शब्द होते हैं; साइंस फिक्शन और फैंटेसी की दुनिया बनाने में ज़्यादा तत्वों की ज़रूरत होती है, इसलिए वो 90,000 – 120,000 शब्दों जितने लंबे होते हैं; रोमांस उपन्यास पढ़ने में तेज़ और मज़ेदार होने चाहिए, इसलिए उनके लिए 50,000 शब्दों का लक्ष्य रखा जाता है; और हिस्टोरिकल फिक्शन की दुनिया बनाने में भी ज़्यादा शब्दों की ज़रूरत होती है, इसलिए इनके लिए लेखकों को 100,000 शब्दों का लक्ष्य रखना चाहिए।

नोवेला

नोवेला 10,000 शब्दों जितने छोटे और 50,000 शब्दों जितने लंबे हो सकते हैं। इस प्रकार की कहानी कहने की कला काफी हद तक शॉर्ट स्टोरी और उपन्यास के बीच आती है। इसे अभी भी एक "शॉर्ट फिक्शन" फॉर्मेट माना जाता है, लेकिन यह इस श्रेणी में सबसे लंबा है। इसकी लंबाई लेखक को एक असरदार कहानी बताने और ज़्यादा चरित्रों और विवरण को शामिल करने के लिए पर्याप्त समय देती है। विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि प्रकाशक नोवेला को प्रिंट करने से दूर जा रहे हैं, और उसके बजाय उनके ई-प्रकाशन को ज़्यादा प्राथमिकता दे रहे हैं। अधिकांश नोवेला रोमांस, साइंस फिक्शन और फैंटसी शैलियों में आते हैं।

नावलेट

नावलेट नोवेला से भी छोटा होता है, जिसमें शब्दों की संख्या 7,500 और 20,000 शब्दों के बीच होती है। नावलेट किसी भी शैली में हो सकते हैं, लेकिन रोमांस से उत्पन्न होते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि कहानी की यह विचित्र लंबाई ज़्यादातर ई-बुक के लिए होती है, क्योंकि यह किसी पत्रिका में डालने के लिए बहुत लंबी होती है, लेकिन प्रिंट करने के लिए बहुत छोटी होती है। नावलेट को एक लंबी शॉर्ट स्टोरी या शॉर्ट नोवेला के रूप में भी जाना जाता है।

छोटे उपन्यास

छोटे उपन्यास ज़्यादा बेचने योग्य हो सकते हैं। छोटे उपन्यास नोवेला जैसे ही होते हैं और आम तौर पर उनमें 20,000 से 40,000 शब्द होते हैं, लेकिन उन्हें 10,000 जितना छोटा और 50,000 जितना लंबा होने के लिए जाना चाहता है। पाठकों को छोटे उपन्यास अच्छे लगते हैं, क्योंकि वो उन्हें थोड़े समय में पूरा कर सकते हैं।

महाकाव्य उपन्यास (या सुपर नावेल)

महाकाव्य उपन्यासों को सुपर नावेल भी कहा जाता है, जो बहुत लंबे होते हैं। अधिकांश विशेषज्ञ आपको तब तक महाकाव्य लिखने की सलाह नहीं देंगे, जब तक कि आपने पहले से ही किसी प्रकाशक के साथ अनुबंध न किया हो। इसकी लंबाई की वजह से इसे बेचना कठिन हो सकता है और यह पाठकों के लिए डराने वाली हो सकती है। इन उपन्यासों से पाठकों को जोड़े रखना भी चुनौतीपूर्ण होता है। आम तौर पर, 110,000 शब्दों से ज़्यादा की किसी भी कहानी को महाकाव्य माना जाता है। इसकी कहानी अक्सर सालों तक एक महान नायक पर केंद्रित होती है और पौराणिक कथाओं या ऐतिहासिक कथाओं पर आधारित होती है। इसके उदाहरणों में, जे.आर.आर. टॉल्किन द्वारा लिखित "लॉर्ड ऑफ़ द रिंग्स," और हरमन मेलविल की "मोबी डिक" शामिल हैं।

शॉर्ट स्टोरी

शॉर्ट स्टोरी 1,000 से लेकर लगभग 7,500 शब्दों तक की होती है। यह एक आत्म-निहित कहानी होती है, जिसमें केवल कुछ चरित्र शामिल होते हैं और यह केवल एक घटना या मुद्दे पर केंद्रित होती है। हालाँकि, शॉर्ट स्टोरी प्रतियोगिताएं अक्सर शब्दों की इस संख्या को और भी कम तक सीमित कर देती हैं, जो लगभग 2,500 शब्दों तक हो सकता है, और नियतकालिक पत्रिकाएं और मैगज़ीन में कहानी जमा करने के लिए उनके ख़ुद के दिशानिर्देश हो सकते हैं।

फ़्लैश फिक्शन (या शॉर्ट शॉर्ट)

फ़्लैश फिक्शन 1,000 शब्दों से ज़्यादा लंबा नहीं होता है। ये कहानियां पत्रिकाओं के बीच लोकप्रिय है, क्योंकि यह बहुत अधिक जगह नहीं लेती हैं, लेकिन मनोरंजक होती हैं। फिर भी इन कहानियों में एक शुरुआत, मध्य और अंत होता है, और अक्सर अंत में एक मोड़ होता है। फ़्लैश फिक्शन में आपको निम्नलिखित भी मिल सकते हैं:

फ़्लैश फिक्शन के प्रकार

  • सडन फिक्शन:

    सडन फिक्शन फ़्लैश फिक्शन की तुलना में थोड़ी लंबी कहानियों को दर्शाता है। ये कहानियां आम तौर पर कम से कम 500 शब्दों से अधिक लंबी होती हैं।

  • पोस्टकार्ड फिक्शन:

    पोस्टकार्ड फिक्शन पोस्टकार्ड पर फिट होने लायक होना चाहिए, यानी यह 250 शब्दों से ज़्यादा नहीं हो सकता है, लेकिन 25 शब्दों जितना छोटा हो सकता है। आम तौर पर, इस कहानी में एक तरफ छवि होती है, और दूसरी तरफ कहानी होती है।

  • माइक्रो फिक्शन या नैनोफिक्शन:

    माइक्रो और नैनोफिक्शन फ़्लैश फिक्शन की सबसे छोटी श्रेणी है, जिसमें 300 शब्दों से ज़्यादा लंबी कहानियां नहीं होती हैं।

  • ड्रेबल:

    ड्रेबल में 100 शब्द होते हैं, लेकिन फिर भी इसमें एक शुरुआत, मध्य, अंत, संघर्ष और समाधान होता है।

  • ड्रिबल या मिनी सागा:

    ड्रिबल में 50 शब्द होते हैं।

  • 6-शब्द की कहानियां:

    इसके नाम से ही पता चलता है कि यह छह शब्दों की होती है। यह केवल छह शब्दों में, एक पूरी कहानी बताती है और पाठक को यह अनुमान लगाने देती है कि क्या हुआ है। इसके उदाहरणों में शामिल हैं, डेव एगर्स द्वारा लिखित “Found true love. Married someone else,” अर्नेस्ट हेमिंग्वे द्वारा लिखित “Please help. Huge baby at large.”

यंग एडल्ट नावेल

यंग एडल्ट नावेल, जिन्हें अक्सर संक्षिप्त रूप में YA कहा जाता है, किशोरों के लिए बनाये जाते हैं, लेकिन फिर भी भारी-भरकम विषयों पर केंद्रित होते हैं। ये आम तौर पर 80,000 शब्दों से अधिक नहीं होते हैं।

बच्चों की किताब

बच्चों की किताब की लंबाई और विषय-वस्तु काफी हद तक बच्चे की उम्र पर निर्भर करेगी। माध्यमिक स्कूल के छात्रों के लिए, लेखकों को अधिकतम 20,000 से 50,000 शब्दों का लक्ष्य रखना चाहिए। नर्सरी के बच्चों और अध्याय पुस्तकों के शुरूआती पाठकों लिए, 4,000 से 15,000 शब्दों का लक्ष्य रखें।

पिक्चर बुक

पिक्चर बुक अक्सर सबसे कम उम्र के पाठकों के लिए तैयार की जाती है, जो शायद इसे अपने से नहीं पढ़ सकते, और कोई और इसे उनके लिए पढ़ता है। इसके बावजूद, किताब में एक असरदार कहानी होनी चाहिए। बोर्ड बुक के लिए (कड़े पन्नों वाली किताब, ताकि बच्चे उन्हें फाड़ न सकें) 100 शब्दों तक शामिल करें। कम उम्र के बच्चों की पिक्चर बुक के लिए, यह संख्या 400 शब्दों तक जा सकती है। और एक सामान्य पिक्चर बुक के लिए अधिकतम 600 शब्द लिखें।

अब जब आप कहानी कहने की कला के विकल्पों को समझ गए हैं, तो लिखने के लिए तैयार हो जाइये! लेखिका विक्टोरिया लूसिया की थोड़ी मदद लेकर तुरंत शुरुआत करने के लिए तेज़ी से किसी कहानी का आईडिया उत्पन्न करें, या डिज्नी और ड्रीमवर्क्स के लेखक रिकी रॉक्सबर्ग के इन कहानी के आईडिया वाली विधियों का प्रयोग करें।

आपके लिए अनंत संभावनाएं हैं,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

"कहानियां क्यों लिखें" के ग्राफ़िक पर जोनाथन मैबेरी, जीन बोमरन, और डग रिचर्डसन

कहानियां क्यों लिखें? ये 3 पेशेवर अपने जवाब से हमें जीवन दे रहे हैं

पिछले साल एक साक्षात्कार सत्र के दौरान हम पेशेवर रचनात्मक लोगों के इस प्रभावशाली-पैनल को किसी तरह एक साथ जुटाने में सफल हुए थे, और यहाँ कहानियों के विषय पर बहुत शानदार चर्चा हुई, विशेष रूप से इस बारे में कि हम कहानियां क्यों लिखते हैं। लिखने की प्रेरणा पाने के लिए नीचे साक्षात्कार से लिखने के लिए प्रेरणादायक अनमोल वचन पढ़ें या पांच मिनट समय निकालकर वीडियो साक्षात्कार देखें। इस चर्चा में अलग-अलग पृष्ठभूमियों से आने वाले हमारे कुछ पसंदीदा लेखक मौजूद थे। जोनाथन मैबरी न्यूयॉर्क टाइम्स के बेस्टसेलिंग सस्पेंस लेखक, कॉमिक बुक लेखक, नाटककार और शिक्षक हैं। मैबेरी की बेहद लोकप्रिय कॉमिक सीरीज़ पर आधारित नेटफ्लिक्स की सीरीज़ "वी-वॉर्स" 2019 में आयी थी। जीन वी. बोवेरमन पटकथा लेखिका, पाइपलाइन आर्टिस्ट्स की प्रमुख संपादिका...
"कहानियां क्यों लिखें?" के ग्राफ़िक पर माइकल स्टैकपोल और पीटर डन

एमी विजेता पीटर डन और एनवाई टाइम्स बेस्ट सेलर माइकल स्टैकपोल SoCreate से कहानी की बात करते हैं

लेखक कहानियां क्यों लिखते हैं? SoCreate में, हमने उपन्यासकारों से लेकर पटकथा लेखकों तक, ज़्यादातर लेखकों के सामने यह सवाल रखा है, क्योंकि उनके जवाब हमेशा आपको प्रेरणा देते हैं। हालाँकि, आम तौर पर हम यह जानना चाहते हैं कि फ़िल्मों के लिए कहानियां कैसे लिखी जाती हैं, लेकिन "क्यों" भी उतना ही ज़रूरी है, जितना कि "कहाँ"। लेखकों को लिखने के लिए प्रेरणा कहाँ से मिलती है? लिखी जाने वाली कहानियों से लेकर, लिखने के लिए प्रेरणा पाने तक, हर लेखक का अलग उद्देश्य और दृष्टिकोण अलग होता है। एमी विजेता पीटर डन और न्यूयॉर्क टाइम्स के बेस्टसेलिंग लेखक माइकल स्टैकपोल के साथ हमारा साक्षात्कार भी अलग नहीं था। मुझे उम्मीद है कि उनके जवाब आपको लिखने की प्रेरणा देंगे...
Is It Hard to be a Screenwriter? Writer Robert Jury Answers

क्या पटकथा लेखक बनना मुश्किल है? लेखक रॉबर्ट जूरी जवाब देते हैं

पटकथा लेखक, निर्माता और निर्देशक रॉबर्ट जूरी ने अपनी कठिन मेहनत और दृढ़-संकल्प से हॉलीवुड की सीढ़ियां चढ़ी हैं। उन्होंने एलए वाली चीज की है, और वह लोवा शहर के अपने वर्तमान घर में रहते हुए भी एक सफल लेखक हैं। पिछले कुछ दशकों के दौरान, जूरी ने सीखा कि दृढ़ता और जुनून की जगह और कोई चीज नहीं ले सकती है। तो, जब हमने उनसे वो सवाल पूछा जो बहुत सारे महत्वाकांक्षी लेखक हमसे पूछते हैं कि, "क्या पटकथा लेखक बनना मुश्किल है?" तो हमें उनका जवाब बहुत अच्छा लगा। जूरी ने पटकथा रीडर के रूप में अपने करियर की शुरुआत की, वार्नर ब्रदर्स पिक्चर्स में प्रशिक्षण पाया और टचस्टोन पिक्चर्स...