पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

ऐसे लेखन लक्ष्य कैसे निर्धारित करें जो टिके रहें

मुझे आपका नहीं पता, लेकिन मुझे अक्सर ऐसे लेखन लक्ष्य बनाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, जिन्हें मैं निर्धारित समय में पूरा कर सकूँ। कभी-कभी ढेर सारी रचनात्मकता का मतलब होता है कि मैं छोटी-छोटी अवधियों के लिए बहुत सारा लिख सकती हूँ। कभी-कभी यह काम करता है, लेकिन कभी-कभी यह जल्दबाज़ी जैसा महसूस होता है या मैं तनाव में हो जाती हूँ। लंबे समय तक छोटे-छोटे हिस्सों में लिखने का लक्ष्य निर्धारित करने से आपको अपने लिखने के समय में राहत महसूस करने में मदद मिल सकती है।

SoCreate सदस्यताएँ जल्द ही आ रही हैं!

बीटा परीक्षण भरे हुए हैं, लेकिन आपकी सदस्यता सेवा शुरू होने के बाद आप अधिसूचित होने के लिए साइन अप कर सकते हैं।

ऐसे लेखन लक्ष्य कैसे निर्धारित करें जो टिके रहें

पूरा करने योग्य लक्ष्यों को निर्धारित करना भी आपको पूर्ण और सफल महसूस कराता है, जब आप उन्हें पूरा करते हैं। यह जानने के लिए आगे पढ़ें कि लेखन के ऐसे लक्ष्य कैसे निर्धारित करें जो टिके रहें!

निर्धारित करें ऐसे लेखन लक्ष्य जो टिके रहें

अपने लक्ष्यों के पीछे के अर्थ पर विचार करें

अपना लक्ष्य निर्धारित करने से पहले, इसपर विचार करने के लिए समय निकालें और सोचें कि आप क्या हासिल करना चाहते हैं। ख़ुद से निम्नलिखित सवाल पूछने की कोशिश करें:

  • अभी आप क्या लिखना चाहते हैं? क्या यह परियोजना आपको उत्साहित करती है और परिपूर्ण महसूस कराती है?

  • क्या आप इसपर काम करने के बारे में सोचने भर से ख़ुश हो जाते हैं, या इस परियोजना की संभावना से ही आपको डर लगता है?

  • आपके लिखने के पीछे की वर्तमान प्रेरणा क्या है? क्या आप यह अपनी ख़ुशी के लिए करते हैं, पैसों के लिए करते हैं, या फिर लेखक के रूप में अपना करियर बनाने के लिए करते हैं?

  • क्या आपकी कोई समय-सीमा है, जिसे आपको पूरा करना है?

  • लेखन को देने के लिए वास्तव में आपके पास कितना समय है? इसपर विचार करें कि दूसरी नौकरियों पर आपको कितने घंटे काम करना पड़ता है और आपके जीवन की अन्य ज़िम्मेदारियों में आपको कितना समय लगता है।

  • आपके वर्तमान लेखन का अंतिम लक्ष्य क्या है? आप अपनी पूर्ण रचना को किसी प्रतियोगिता में जमा करना चाहते हैं या फिर इसे बेचना चाहते हैं?

  • अपने लेखन को आगे बढ़ाने के लिए आपको क्या करने की आवश्यकता है? क्या इस वर्तमान परियोजना के लिए शोध आवश्यक है?

इन सवालों पर ध्यान केंद्रित करने से आपको अपनी लेखन की स्थिति की वास्तविकता और आप क्या हासिल करना चाहते हैं, इसके बारे में स्पष्टता प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

यदि आप मेरे जैसे हैं और अक्सर ऐसे लक्ष्य निर्धारित करते हैं जो बहुत मुश्किल हैं या जिन्हें हासिल करना बहुत तनावपूर्ण होगा तो इन सवालों से आपको यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि ज़्यादा यथार्थवादी लक्ष्य कैसे हो सकते हैं।

लेखन के लक्ष्यों के बारे में अपने सोचने के तरीके को बदलें

लेखन के लक्ष्यों को ऐसी योजनाओं के रूप में न समझें जिन्हें पूरा करना ही होगा, बल्कि ऐसी चीज़ों के रूप में समझें जिनकी आप पूरा होने की उम्मीद करते हैं। कभी-कभी, किसी व्यस्त हफ्ते में उन लक्ष्यों को पूरा करना मुश्किल लग सकता है। यदि आपके जीवन में ऐसे दिन या हफ्ते आते हैं जहाँ आप इन लक्ष्यों को पूरा नहीं कर सकते तो कोई बात नहीं। अपने लक्ष्यों को पूरा करने पर ख़ुद को बधाई दें, और भले ही आप उन्हें पूरा नहीं कर पाते हैं फिर भी जानें कि आप अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं।

यथार्थवादी समय-सीमा का लक्ष्य रखें

आपने शायद दूसरे लेखकों को यह सुझाव देते हुए सुना होगा कि हर दिन लिखना ही इसका एकमात्र तरीका है, लेकिन यह सबके लिए काम नहीं करता है। जिन सवालों का मैंने पहले उल्लेख किया है, उनके जवाबों पर विचार करके, शायद आप यह महसूस करेंगे कि सप्ताह में तीन बार लिखना भी आपके लिए सही रहेगा। ऐसी योजना बनाएं जो आपके लिए सबसे अच्छा काम करे।

इस पर विचार करें कि आप प्रतिदिन या साप्ताहिक रूप से लिखने में कितना समय देना चाहते हैं। यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं तो लिखने के लिए अलग-अलग समय समर्पित करने का अभ्यास करें। पता करें कि आपके लिए सबसे अच्छा क्या है। और यह पता करते समय अपने लक्ष्यों को समायोजित करने से न डरें। हो सकता है कि आपने सोचा हो कि हर दिन एक घंटे के लिए लिखना आपके लिए ठीक रहेगा, लेकिन फिर आपने पाया कि सप्ताह में चार बार 35 मिनट के लिए लिखने से आपको बेहतर परिणाम मिलते हैं। यह बहुत अच्छी खोज होगी, और आपको अपना शेड्यूल बदलने में गर्व महसूस होगा!

अपने लिखने का शेड्यूल तैयार होने पर, डिज्नी और ड्रीमवर्क्स के पटकथा लेखक रिकी रॉक्सबर्ग की इन शेड्यूलिंग युक्तियों का पालन करें।

अपनी भावनाओं पर विचार करें

यह जानें कि काम के बारे में आपकी भावनाएं तय कर सकती हैं कि आप उस पर कितना समय खर्च करने को तैयार हैं। यदि आप किसी ऐसी चीज़ पर काम कर रहे हैं जो आपको आकर्षित और उत्साहित करती है, तो आपको उस पर बार-बार काम करना आसान लग सकता है। यदि यह एक ऐसी परियोजना है जिसे आपको समय-सीमा के उद्देश्यों के लिए पूरा करना होगा, लेकिन आप इसके बारे में उत्साहित नहीं हैं तो अधिक दिनों के लिए कम समय के लिए लिखने से आपको इसे पूरा करने में मदद मिल सकती है।

कैलेंडर प्रयोग करें या रिमाइंडर सेट करें

कुछ लोगों के लिए आगे की योजना बनाना और एक कैलेंडर पर अपने लेखन के लक्ष्यों को चिह्नित करने से उन्हें अपनी योजना पर टिके रहने में मदद मिल सकती है; वहीं दूसरों को यह चुनौतीपूर्ण लग सकता है। जिस भी दिन आपने लिखने की योजना बनाई है उसके लिए अपने फोन पर रिमाइंडर रखने पर आप ज़्यादा सहज महसूस कर सकते हैं।

अपनी जीत का जश्न मनाएं

जब कभी भी आपका लिखने का दिन अच्छा जाए और आप अपने लक्ष्यों को पूरा करें तो उसका जश्न मनाना न भूलें। उसके बाद, कुछ ऐसा करें जो आपको अच्छा लगता है, जैसे अपना मनपसंद शो देखें या कुछ अच्छा खाएं। लिखने में सफलता को दूसरी अच्छी चीज़ों से जोड़ें!

लचीले रहें

पीछे होने पर अपने लेखन के लक्ष्यों में लचीलापन लाने की योजना बनाना मददगार हो सकता है। छूटे हुए दिनों की भरपाई करने के लिए अपने शेड्यूल में लिखने के अतिरिक्त दिनों को जोड़ने पर विचार करें।

निष्कर्ष

अपने लिखने के लक्ष्यों पर टिके रहना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन उम्मीद है कि ये टिप्स आपको उनमें से कुछ को पूरा करने में मदद करेंगे! याद रखें, लिखना कठिन है, और यहाँ तक कि सबसे अच्छे लेखक भी इसमें संघर्ष करते हैं। अगर आप पिछड़ रहे हैं या हर लक्ष्य को पूरा नहीं कर पा रहे हैं तो ख़ुद पर ज़्यादा सख्त न हों। इसपर टिके रहना सबसे ज़रूरी है और कोशिश करते रहें। अपने ऊपर दया करें, और लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

ग्राफ़िक के ऊपर पटकथा समन्वयक मार्क गैफेन जिसपर लिखा है "अपनी लेखन प्रक्रिया कैसे विकसित करें?"

अपनी लेखन प्रक्रिया कैसे विकसित करें

कम से कम शुरू में, लिखना मुझे हमेशा से अस्त-व्यस्त सा लगता है। चाहे मैं कोई ईमेल लिख रही हूँ या ब्लॉग पोस्ट, अपने शब्दों को कागज़ (या स्क्रीन) पर उतारने से पहले मेरे शरीर में थोड़ा तनाव रहता है: प्रत्याशा, ख़ुद की आलोचना, उलझन, बहुत ज़्यादा विश्लेषण, ये सारी चीज़ें मेरे रास्ते में आकर खड़ी हो जाती हैं। लेकिन अपनी उंगलियों को चलाना शुरू करने पर, मैं रेस के तैयार हो जाती हूँ! लिखना ख़त्म करने के बाद, मैं उस प्रक्रिया को दोहराने का तरीका ढूंढती हूँ, ताकि मैं यह दोबारा कर सकूँ -- बल्कि अगली बार -- ज़्यादा अच्छे से कर सकूँ। इस बात का ध्यान रखें कि मैं लगभग 15 साल से पेशेवर तौर पर लिख रही हूँ...

लिखें 21 दिन में पटकथा

21 दिन में पटकथा कैसे लिखें

गति ही सबकुछ नहीं होती। क्या कछुए और खरगोश की कहानी से आपने यह नहीं सीखा? इसलिए, मैं आपको कभी भी जल्दबाज़ी में अपनी पटकथा पूरी करने का सुझाव नहीं दूंगी। लेकिन अगर आप कोई ऐसे इंसान हैं जिन्हें ट्रैक पर रहने में और अपना पहला ड्राफ्ट पूरा करने में परेशानी होती है तो फिर मैं आपको अपना पहला ड्राफ्ट पूरा करने में मदद करने के लिए एक समय-विशिष्ट शेड्यूल आजमाने का सुझाव ज़रूर दूंगी। और इसके लिए मेरे पास एक योजना है! इस रणनीति से आप 21 दिन में अपनी पटकथा पूरी कर लेंगे...
How to Maintain Consistency In Your Screenwriting

निरंतर लेखक कैसे बनें

निरंतरता दोहरी होती है। अगर आप निरंतर रूप से लिखते हैं तो इससे आपको मदद मिलेगी, लेकिन आख़िर में आपके लेखन में एक निरंतर एहसास होना चाहिए, चाहे वो किसी पटकथा में हो या किसी अन्य रचनात्मक लेखन में। इस शब्द की बात आने पर आप मात्रा और गुणवत्ता दोनों चाहते हैं। आप निरंतर लेखक बनना सीखना चाहते हैं। मैंने अनुभवी टीवी लेखक रॉस ब्राउन से बात की, जिन्होंने "स्टेप बाय स्टेप" और "द फैक्ट्स ऑफ़ लाइफ" जैसे शो पर काम किया है। उन्होंने नाटक और किताब भी लिखी है। वह सांता बारबरा, कैलिफोर्निया के एंटिऑक विश्वविद्यालय में नए लेखकों को क्रिएटिव राइटिंग...