पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अच्छे नौसिखिया लेखक महान पेशेवर लेखक कैसे बन सकते हैं

हर पेशेवर लेखक कभी नौसिखिया था, जिसने हार नहीं मानी। मुझे यकीन है, आपने यह वाक्य पहले भी सुना होगा, और इसका मूल मंत्र बस यही है कि पेशेवर बनने के लिए, आपको अपनी नज़र महान बनने पर रखने की ज़रुरत होती है (और केवल लेखन पर नहीं, लेकिन उसके बारे में हम किसी और ब्लॉग पोस्ट में बात करेंगे)। पेशेवरों को केवल इसलिए पेशेवर नहीं माना जाता, क्योंकि उन्हें अपने काम के पैसे मिलते हैं। मुझे नहीं लगता भुगतान किसी भी तरह का पैमाना होना चाहिए। लेखन में असली पेशेवर वो लोग होते हैं, जो केवल ठीक-ठाक पर नहीं रुकते।

हैलो पटकथा लेखक! क्या आप SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर आजमाने वाले पहले लोगों में से एक बनना चाहते हैं? इस पेज से बाहर निकले बिना अभी

तो, आप अपनी लिखने की कला को अच्छे से महान में, नौसिखिया से पेशेवर में कैसे बदलते हैं? पटकथा लेखक, पत्रकार, लेखक, और पॉडकास्टर ब्रायन यंग कहते हैं कि अभ्यास आपको महान बनाता है।

"मेरे हिसाब से जो चीज़ किसी लेखक को नौसिखिया से महान बनाती है, वो है अभ्यास और अपनी कला में सुधार करना, निरंतर रूप से बेहतर होने की कोशिश करना, और ज़्यादा सीखना," ब्रायन ने शुरू किया। "अगर कोई आपसे यह कहता है कि उन्होंने किसी विषय के बारे में सबकुछ सीख लिया है, तो इसका मतलब है कि शायद वो अपने अधिकतम पर पहुंच गए हैं, और उन्हें कभी भी महान बनने का मौका नहीं मिलेगा।"

हमेशा सीखते रहें। हमेशा ख़ुद को और अपने दायरे को बढ़ाने की कोशिश करें, चाहे वो पटकथा में हो या किसी और चीज़ में।
ब्रायन यंग
पटकथा लेखक और पत्रकार

SoCreate में, हम हर उस चीज़ में महानता का यह सिद्धांत लागू करते हैं जो हम करते हैं। हम हमेशा सर्वश्रेष्ठ बनने की कोशिश में रहते हैं। यही वो चीज़ है जो SoCreate को दूसरी कंपनियों से अलग बनाती है; सामग्री से लेकर टीम के साथ बातचीत, उपकरण, जिस तरह से हम अपनी फाइलों के नाम रखते हैं तक, हम हमेशा इसे बेहतर तरीके से करने की कोशिश करते हैं और इस दौरान सीखने की कोशिश करते हैं। पटकथा लेखक होने के नाते, आपको भी ऐसा ही करना चाहिए।

ब्रायन हर सुबह अपनी अपनी कला को बेहतर बनाने में कुछ घंटे बिताते हैं, जिसका यह मतलब नहीं है कि उस समय वो हमेशा लिख रहे होते हैं। वो ट्रेड पढ़ सकते हैं, कनेक्शन बना सकते हैं, कोई नया टूल सीख सकते हैं, या अपनी पसंदीदा पटकथाएं देख सकते हैं और यह समझने की कोशिश कर सकते हैं कि उनके सफल होने का क्या कारण है। उन्होंने कहा कि उन्हें कभी भी सबकुछ पता नहीं होगा।

"हमेशा सीखते रहें," ब्रायन ने हमें बताया। "हमेशा सीखते रहें। हमेशा ख़ुद को और अपने दायरे को बढ़ाने की कोशिश करें, चाहे वो पटकथा में हो या किसी और चीज़ में। आपको शायद ऐसा लगे कि आप उस महान के दायरे को पार कर लेंगे, लेकिन आपके पास हमेशा सीखने के लिए और चीज़ें होंगी।"

नौसिखिया और पेशेवर पटकथा लेखकों में मुख्य अंतर:

  • पेशेवर लेखक कभी भी नई चीज़ें पाने की कोशिश करना नहीं छोड़ते हैं, और वो निरंतरता को महत्व देते हैं। नौसिखिया लेखक कोई लक्ष्य हासिल करने के बाद कोशिश छोड़ देते हैं और निरंतर अभ्यास नहीं करते।

  • पेशेवर लेखक जानते हैं कि उनका काम हमेशा बेहतर हो सकता है। नौसिखिया लेखक सोचते हैं कि वो पहले से महान हैं और सब कुछ जानते हैं।

  • पेशेवर लेखक जानते हैं कि फीडबैक को कैसे स्वीकार किया जाता है, उसका विश्लेषण किया जाता है और उसे लागू किया जाता है, और वो फीडबैक को सीखने का अवसर मानते हैं। नौसिखिया लेखक अपना बचाव करने लगते हैं और अपने काम को सही ठहराने की कोशिश करते हैं।

  • पेशेवर लेखक अपने स्वयं के काम का विश्लेषण करते हैं कि चीज़ें कहाँ गलत हुईं और चीज़ें कहाँ अच्छी हुईं, और वो हमेशा अपनी प्रक्रियाओं में सुधार करते हैं। नौसिखिया लेखकों के पास कोई प्रक्रिया नहीं होती है।

  • पेशेवर लेखक आगे देखते हैं। नौसिखिया लेखक केवल छोटे लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

  • पेशेवर लेखक दूसरे लेखकों को बनाते हैं और उनका सहयोग करते हैं। नौसिखिया लेखक दूसरों की आलोचना करते हैं और उनकी बुराई करते हैं।

  • पेशेवर लेखक अपने लिखने की कला की ज़िम्मेदारी लेते हैं और दूसरों को दोष नहीं देते या कोई बहाना नहीं बनाते। नौसिखिया लेखकों के पास ना लिखने का हर बहाना होता है, और वे अपने काम के लिए ख़ुद को ज़िम्मेदार नहीं ठहराते।

  • पेशेवर लेखक हर दिन कुछ नया सीखते हैं। नौसिखिया लेखक सीखने के लिए समय नहीं देते हैं।

"मैं कहूंगा कि ज्ञान की लालसा होना ही किसी लेखक को अच्छा से महान बनाता है," ब्रायन ने अंत में कहा।

तो, आप किस तरह के लेखक बनेंगे?

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

How Screenwriters Can Go From Good to Great, with Veteran TV Writer Ross Brown

अच्छे पटकथा लेखक से महान पटकथा लेखक बनने के 3 तरीके

टिंसलटाउन का आकर्षण बहुत तेज़ होता है, विशेष रूप से US में रहने वाले लेखकों के लिए। भारत में, यह मुंबई या नाइजीरिया में लेगोस हो सकता है, लेकिन हर जगह का आकर्षण एक जैसा है: इन जगहों को महानता से जोड़ा जाता है। अगर आपने यहाँ अपनी पहचान बना ली है तो बहुत अधिक संभावना है कि आप अपनी लेखन प्रतिभा के लिए मशहूर होंगे, आपने फ़िल्म निर्माण इंडस्ट्री में मजबूत नेटवर्क बनाया होगा, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि आपको स्थायी रूप से भुगतान मिल रहा होगा। लेकिन महान, सफल पटकथा लेखक से जोड़ी जाने वाली ये चीज़ें केवल कुछ भाग्यशाली लोगों को नहीं मिलती। इन लेखकों ने अपने लेखन को अच्छे से महान तक पहुंचाया होता है...
Learn From What This Screenwriting Consultant Would Tell His Younger Self

2 चीज़ें जो यह पटकथा परामर्शदाता अपने यंगर सेल्फ को बताना चाहेंगे

ऑनलाइन पटकथा लेखन के बारे में सीखने के लिए बहुत कुछ है। आप गूगल से लगभग किसी भी चीज़ के बारे में पूछ सकते हैं – पटकथा की रूपरेखा कैसे लिखें से लेकर पटकथा लेखन की नौकरी कैसे पाएं तक सबकुछ। लेकिन अक्सर, सबसे महत्वपूर्ण सलाह वो समझदारी होती है, जो हम हाउ-टू गाइड से नहीं पा सकते हैं, और इसलिए हमें पटकथा लेखन परामर्शदाता डैनी मानस से इसके बारे में थोड़ा गहराई से जानने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मानस नो बुलस्क्रिप्ट कंसल्टिंग के मालिक हैं, और जो आपको दिखता है वही आपको मिलता भी है: यानी, अपनी पटकथा को लोगों की नज़रों में लाने का व्यावहारिक तरीका। लेकिन उनकी समीक्षा दो कठिन सबकों के साथ आती है...
3 Serious Mistakes Screenwriters Can Make, According to the Hilarious Monica Piper

मज़ेदार मोनिका पाइपर के अनुसार, वो 3 गंभीर गलतियां जो पटकथा लेखक कर सकते हैं

मुझे हैरानी है कि आपने मुझे एमी-विजेता लेखिका, कॉमेडियन और निर्मात्री, मोनिका पाइपर, के साथ मेरे हालिया साक्षात्कार के ज़्यादातर हिस्से में मुझे ठहाके लगाते हुए नहीं सुना, जिनका नाम आपने "रोज़ीन," "रगरैट्स," "आह! रियल मॉन्स्टर्स," और "मैड अबाउट यू" जैसे हिट कार्यक्रमों से सुना होगा। वो बहुत मज़ाकिया हैं, और उनके मज़ाक बहुत आसानी माहौल में घुलते हैं। उनके पास इसका काफ़ी अनुभव है कि मज़ेदार क्या होता है, और पटकथा लेखन करियर के बारे में कुछ गंभीर सलाह देने के लिए उन्होंने काफ़ी गलतियां भी देखी हैं। मोनिका ने अपने पूरे करियर के दौरान लेखकों को देखा है, और वो कहती हैं...