पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अच्छे दृश्य बनाने के लिए सकारात्मक और नकारात्मक आवेशों को कैसे प्रयोग करें

"आदर्श रूप में, हर दृश्य कहानी की एक घटना है।"

रॉबर्ट मैकी

आप अच्छे दृश्य कैसे बनाते हैं? हर दृश्य को अपनी ख़ुद की कहानी बतानी चाहिए, किरदारों का आदर्श ज़ाहिर करना चाहिए, और कथानक को आगे बढ़ाना चाहिए। अगर यह ऐसा नहीं करता तो इसे निकाल देना चाहिए। कम से कम, पुरस्कार विजेता पटकथा लेखक, पत्रकार, लेखक और पॉडकास्टर ब्रायन यंग (SyFy.com, StarWars.com, /Film, HowStuffWorks.com) और पटकथा लेखन गुरु रॉबर्ट मैकी का तो यही कहना है।

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

हमने अपनी पटकथा में अच्छे दृश्य और घटनाक्रम लिखने के विषय पर ब्रायन का साक्षात्कार लिया था, और उन्होंने कहा कि यह दो चीज़ों पर निर्भर करता है: सकारात्मक और नकारात्मक आवेश।

"जहाँ तक दृश्यों और घटनाक्रमों के विकास की बात है, मैं रॉबर्ट मैकी के काम, ख़ासकर उनकी किताब "स्टोरी" पर वापस जाता हूँ [और] दृश्यों के सकारात्मक या नकारात्मक आवेशों के उनके सिद्धांत को देखता हूँ," ब्रायन ने बताया। "अगर आपको अपने दृश्य को आगे बढ़ाने में या अपने दृश्य के विकास में समस्या आ रही है तो इस बात का ध्यान रखें कि आपको एक आवेश पर दृश्य में प्रवेश करना होता है और दूसरे आवेश पर दृश्य से बाहर निकलना होता है।"

इसका मतलब है कि दृश्य को बदलने की और फ़िल्म के अंदर अपनी ख़ुद की फ़िल्म के रूप में काम करने की ज़रुरत होती है। दृश्य में कुछ संघर्ष होने चाहिए, चाहे वो किरदार के अंदर हो, किरदार के रास्ते में आने वाली कोई बाधा हो, या नायक के लिए कोई चीज़ दांव पर लगी हो – यह सच्चाई, प्यार, या कोई दूसरी चीज़ हो सकती है।

"मैं इसके लिए "स्टार वार्स" का बहुत ज़्यादा उदाहरण देता हूँ," ब्रायन से शुरू किया। "ल्यूक स्काईवॉकर रोबोट्स को लेकर बहुत उत्साहित और उत्सुक रहता है। लेकिन जैसे ही दृश्य ख़त्म होने वाला होता है, यह नकारात्मक आवेश पर ख़त्म होता है क्योंकि उसके अंकल कहते हैं, "नहीं, तुम अपने दोस्तों के साथ घूमने नहीं जा सकते या खेत से बाहर नहीं जा सकते। तुम्हें इन रोबोट्स को साफ करना है।"

ल्यूक के अंकल उसके और उसके एडवेंचर के बीच आ जाते हैं।

"जब आप ल्यूक के साथ अगले दृश्य में जाते हैं तो हम उस नकारात्मक आवेश से शुरू करते हैं। वो अपने खिलौनों से खेल रहा है। वह दुखी है।" ब्रायन बताते हैं।

लेकिन फिर सबकुछ बदल जाता है।

"वो उत्साहित हो जाता है क्योंकि उसे राजकुमारी का संदेश मिलता है। दृश्य सकारात्मक आवेश पर ख़त्म होता है, क्योंकि वह इस रोमांचक संभावना को लेकर उत्साहित है।"

और ऐसे ही चलता रहता है।

"यह बारी-बारी से दृश्यों के इन बदलते हुए आवेशों से गुज़रता है।"

अगर आप अपनी पटकथा में दृश्यों के सकारात्मक और नकारात्मक आवेशों को स्थापित कर पाते हैं तो आपकी पटकथा में कहीं कोई नीरसता नहीं होगी। इसमें निरंतर, गतिशील परिवर्तन होंगे, और इसकी वजह से पटकथा में जान आ जाएगी, और यह आपकी पटकथा को ऐसा बना देगा कि इसे पढ़ने वाले लोग आगे की कहानी जानने के लिए एक के बाद एक पन्ना पलटने पर मजबूर हो जायेंगे।
ब्रायन यंग
पटकथा लेखक

अगर किसी दृश्य की शुरुआत और अंत में कोई विपरीत आवेश नहीं होता तो आपको ख़ुद से यह सवाल करना चाहिए कि पटकथा में उस दृश्य का क्या उद्देश्य है। जैसा कि मैकी "स्टोरी" में बताते हैं, अक्सर लेखक कहेंगे कि दृश्य पटकथा के लिए किसी व्याख्या के रूप में काम करता है, चाहे वो स्थिति हो, वर्तमान घटनाएं हों, या पृष्ठभूमि, लेकिन एक महान लेखक उस व्याख्या को कहीं और जोड़ेगा। इसे एक पूरा दृश्य नहीं होना चाहिए। "अगर आप अपनी पटकथा में दृश्यों के सकारात्मक और नकारात्मक आवेशों को स्थापित कर पाते हैं तो आपकी पटकथा में कहीं कोई नीरसता नहीं होगी। इसमें निरंतर, गतिशील परिवर्तन होंगे, और इसकी वजह से पटकथा में जान आ जाएगी, और यह आपकी पटकथा को ऐसा बना देगा कि इसे पढ़ने वाले लोग आगे की कहानी जानने के लिए एक के बाद एक पन्ना पलटने पर मजबूर हो जायेंगे।"

हम ऐसी ही पटकथा चाहते हैं, जो पेज पलटने पर मजबूर कर दे।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

अच्छी कहानी कैसे बनती है?

अच्छी कहानी कैसे बनती है?

माध्यम चाहे जो भी हो - पटकथा लेखन, उपन्यास लेखन, या यहाँ तक कि निबंध - कहानी सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। अच्छी कहानी के बिना आपके पास क्या होता है? अच्छे किरदार रोचक हैं, लेकिन वो कहाँ जा रहे हैं? आपने जो दृश्य सेट किया है वो बहुत खूबसूरत है, लेकिन उसमें हो क्या रहा है? आपको अपने दर्शकों को इस बात पर ध्यान देने के लिए मजबूर करना पड़ता है कि क्या चल रहा है, और आप वो कहानी के माध्यम से करते हैं जो उन्हें आकर्षित करती है और उनकी दिलचस्पी जगाती है। तो, अच्छी कहानी कैसे बनती है? आज, मैं आपको इसके ज़रुरी भागों के बारे में बताने वाली हूँ। नाटक - आपको संघर्ष की ज़रुरत होती है! नाटक कम करके ख़ुद को धोखा देने की कोशिश न करें...
Veteran TV Writer Ross Brown Tells Writers How to Come Up With New Ideas

अनुभवी टीवी लेखक रॉस ब्राउन के साथ, अपनी पटकथा के लिए नया आईडिया कैसे सोचें

अनुभवी टीवी लेखक और निर्माता रॉस ब्राउन ने 80 और 90 के दशक के अमेरिका के कुछ सबसे पसंदीदा सिटकॉम पर काम किया है, जिनमें "स्टेप बाय स्टेप," "द फैक्ट्स ऑफ़ लाइफ," "हूज़ द बॉस," और "द कॉस्बी शो" शामिल हैं, इसलिए उन्हें लगभग हर दिन अपनी कहानी के लिए नए आईडिया सोचने की ज़रुरत पड़ती थी। हम जानना चाहते थे: फुल टाइम काम करने वाले रचनात्मक लोग यह कैसे करते हैं? उनके जवाब ने मुझे आश्चर्यचकित कर दिया, और उनकी लिखने की फ्रीक्वेंसी को देखते हुए, आपको अपनी अगली पटकथा शुरू करने के लिए अपने ख़ुद के आईडिया के बारे में सोचने के लिए इस तकनीक का प्रयोग करने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए...

Actes, scènes et séquences - Quelle devrait être la durée de chaque section ?

Si je devais nommer mon adage préféré, c'est que les règles sont faites pour être enfreintes (la plupart d'entre elles - les limites de vitesse sont exemptées !), mais vous devez connaître les règles avant de pouvoir les enfreindre. Alors, gardez cela à l'esprit lorsque vous lisez ce que j'appellerais les "directives" de la synchronisation des actes, des scènes et des séquences d'un scénario. Il y a cependant une bonne raison à ces directives (tout comme les limitations de vitesse 😊), alors ne vous éloignez pas trop du standard ou vous pourriez payer le prix pour cela plus tard. Commençons par le début...