पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

उदाहरण के साथ, संवाद से जुड़े 7 भयानक पाप

उदाहरण के साथ, संवाद से जुड़े 7 भयानक पाप

हालाँकि, पटकथाओं में बहुत ज़्यादा संवाद रखने की ज़रूरत नहीं होती (या यूं कहें तो आप कोई संवाद न रखें तो भी चलेगा), लेकिन ज़्यादातर पटकथा लेखक अपनी कहानी को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए संवादों का सहारा लेते हैं। संवाद आपकी पटकथा में किरदारों के बीच बोले गए कोई भी शब्द या बातचीत होते हैं। यह यथार्थवादी लगता है, लेकिन अगर आप थोड़ा गहराई में देखें तो आपको पता चलेगा कि असल में हम असली ज़िन्दगी में ऐसे बात नहीं करते। क्योंकि, पटकथा में संवाद का एक केंद्रित, तात्कालिक उद्देश्य होना चाहिए। पटकथा में कोई बड़बड़ाहट नहीं होती; सबसे अच्छी पटकथाओं में संवाद सीधे असल मुद्दे पर आते हैं।

अपनी कहानी में असरदार संवाद लिखने के कुछ साधारण नियम हैं और कुछ चीज़ें हैं जिनसे आपको कोसों दूर रहना चाहिए। मुझे पता चला कि संवाद लिखने के बारे में सबसे मूल्यवान मार्गदर्शकों में से एक में बताया गया है कि आपको क्या नहीं करना है। डेविड ट्रॉटियर की द स्क्रीनराइटर्स बाइबिल में संवाद से जुड़े 7 भयानक पाप इन चीज़ों के बारे में विस्तार से बताते हैं: जबर्दस्ती के प्रदर्शन हटाएं, ओवरराइट न करें, किरदार की भावनाओं को बढ़ा-चढ़ाकर न लिखें, रोज़मर्रा की बातचीत से बचें, जानकारी दोहराना बंद करें, सबटेक्स्ट के लिए जगह छोड़ें, और पुरानी चीज़ों से बचें।

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

ट्रॉटियर कहते हैं, "फ़िल्म के संवाद को स्नैप, क्रैकल और पॉप होना चाहिए।"

स्नैप यानी स्पष्टता, क्रैकल ताज़गी, और पॉप अंतर्निहित विषय होता है। स्पष्ट संवाद छोटा और केंद्रित होता है। ताज़ा संवाद असली होता है।

"टेक्स्ट के स्नैप और क्रैकल होने पर अंतर्निहित विषय पॉप होता है," वो आगे कहते हैं।

यानी, यह ज़रूरी नहीं है कि आप क्या कहते हैं, बल्कि यह ज़रूरी है कि आप इसे कैसे कहते हैं।

अगर आपके पास ट्रॉटियर की बाइबिल नहीं है तो मैं आपको अभी इसकी एक कॉपी लेने की सलाह देती हूँ। उन्होंने लिखने से जुड़े सबकों को इतने अच्छे से समझाया है कि वो तुरंत समझ आ जाते हैं। तो आज, मैं आप सबके साथ संवाद से जुड़े 7 भयानक पापों के बारे में विस्तार से बात करुँगी और बोनस के रूप में उदाहरण भी दूंगी। सबको उदाहरण अच्छे लगते हैं, है न?

संवाद से जुड़े 7 भयानक पाप

1. जबर्दस्ती के प्रदर्शन

आपके किरदारों को कभी भी एक-दूसरे को कुछ ऐसा नहीं कहना चाहिए जो वो पहले से जानते हैं या जिसके बारे में दर्शक पहले से जानते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि आपके किरदार एक-दूसरे से बात करें, न कि दर्शक से, ताकि आपकी कहानी जबर्दस्ती के प्रदर्शनों से बच सके। दर्शकों को एक ही बार में सब कुछ जानने की ज़रूरत नहीं होती है। इसे अक्सर "ऑन-द-नोज़" संवाद कहा जाता है। यह तब होता है जब कोई किरदार बिल्कुल वही बोलता है जो वो अपने मन में सोच रहा होता है या फिर जो कहानी को आगे बढ़ाने के लिए दर्शक को जानने की ज़रूरत होती है, जिसमें कोई सूक्ष्मता नहीं होती। जैसे यह लाइन, "अरे नहीं! वो रहा वो!" जबकि वो हमें सामने दिखाई देता है। याद रखें, आपके दर्शक जो देख रहे हैं, उसे आपको अपने मुंह से बताने की ज़रूरत नहीं होती।

जबर्दस्ती के प्रदर्शन का स्क्रिप्ट स्निपेट

सारा

कल रात तुम्हारे दोस्त की मौत के बारे में सुनकर बहुत दुःख हुआ, जैरी।

जैरी

मैं बहुत दुखी हूँ। वो एक कार दुर्घटना में मारा गया।

इन दोनों पंक्तियों को बताने के बजाय दिखाया जा सकता था। सारा जैरी को गले लगाकर कह सकती है, "ख़ुद को संभालो," जबकि जैरी चर्च में मसीह को देखते हुए इस सोच में डूबा होता है कि जीवन कितना छोटा है। ठीक है, यह थोड़ा ज़्यादा दुखी हो रहा है। चलिए आगे चलते हैं। आप मेरी बात समझ गए!

2. ओवरराइटिंग

कुछ कहने के लिए ज़रूरत से ज़्यादा शब्दों का प्रयोग न करें। यह आपकी पटकथा को धीमा कर देता है, और अंत में, इसकी वजह से आपके कलाकार भी धीमे हो जाते हैं। इसके कारण, आपके दर्शक भी बेहद बोर हो जाते हैं। आप कभी नहीं चाहेंगे कि आपके दर्शक मन में यह सोचें कि, "अब आगे भी बढ़ो"। विशेष रूप से, ट्रॉटियर सवाल-जवाब के सत्रों, पुलिस की पूछताछ और भाषण देने वाले दृश्यों से बचने का सुझाव देते हैं। सामान्य बातचीत की तरह किरदारों को एक-दूसरे से बातचीत करने का और बीच में टोकने का मौका दें। संवाद के लंबे भागों को एक आईडिया तक सीमित रखें। अपने दृश्य और एक्शन विवरणों में भी ओवरराइटिंग से बचें।

ओवरराइटिंग स्क्रिप्ट स्निपेट

बर्थोलोमेव

जब वो कमरे में आती है, तो बाकी सब गायब हो जाते हैं। मैं उससे बहुत प्यार करने लगा हूँ।

अरे बार्ट! हमें पहले ही वाक्य से पता चल गया था कि तुम उससे बहुत प्यार करते हो - दूसरे वाक्य में ओवरराइटिंग की कोई ज़रूरत नहीं है।

3. बढ़ा-चढ़ाकर लिखना

अगर आप किरदारों का (चिल्लाना), (फुसफुसाना) आदि दिखाने के लिए उनके संवाद में अतिशयोक्तिपूर्ण विराम चिन्ह या कोष्ठक आदि लगा रहे हैं तो यह इस बात का संकेत है कि आपके किरदारों में संदर्भ, प्रेरणा, या स्पष्टता की कमी है। अगर आपके किरदार उतने मजबूत हैं, जितना उन्हें होना चाहिए तो उनके संवाद के टोन के बारे में कोई सवाल ही नहीं उठता – आपके पाठक को पता चल जाना चाहिए कि वो कोई लाइन कैसे बोलने वाले हैं। थोड़ा ही काफी होता है।

बढ़ा-चढ़ाकर लिखने का स्क्रिप्ट स्निपेट

केली

(सुबकते हुए)

हे भगवान। तुम मेरे साथ ऐसा कैसे कर सकती हो?!

सिबिल

(आँख घुमाते हुए)

तुम कितना नाटक करती हो।

हम जानते हैं कि केली बहुत नाटकीय, अत्यधिक-भावुक है और सिबिल दोस्तों के समूह में सबसे दयालु है (जिसे हमने पहले ही उनके काल्पनिक चरित्र विवरण में जान लिया था), इसलिए कोष्ठक में किसी कमेंट की ज़रूरत नहीं है। विस्मयादिबोधक चिह्न भी अनावश्यक है, क्योंकि हम पहले से ही जानते हैं कि केली नाटकीय प्रश्न कैसे उठाएगी।

4. रोज़मर्रा की बातचीत

जितनी जल्दी हो सके किसी दृश्य से अंदर और बाहर करें। क्या आपने कभी कोई ऐसी अच्छी फ़िल्म देखी है जिसमें ऐसा होता हो कि, "हे सैली, आज तुम कैसी हो? मैं अच्छी हूँ, बिल, पूछने के लिए धन्यवाद। और तुम्हारे बच्चे - वो कैसे हैं?" अगर आपको एक भी ऐसी फ़िल्म पता है तो मुझे बताइये; मैं इंतज़ार कर रही हूँ… … …

जान-पहचान, बक-बक, और गपशप पटकथा में भी उतने ही बोरिंग लगते हैं जितने कि असली ज़िन्दगी में होते हैं।

रोज़मर्रा की बातचीत का स्क्रिप्ट स्निपेट

रॉय

हे, मैं तुम्हें याद हूँ? मैं अकाउंटिंग वाला रॉय हूँ।

जील

ओह, हे रॉय। मुझे याद है। तुम्हारा वो प्यारा कुत्ता कैसा है?

रॉय

तुम्हें याद है! वो अच्छा है। और तुम्हारी बिल्ली?

मैं बस इसे यहीं रोक रही हूँ, क्योंकि मैं और बर्दाश्त नहीं कर सकती!

5. बेकार के दोहराव

अगर दर्शकों को पिछले दृश्य में किसी चीज़ का पता चल चुका है तो बाद के दृश्य में इसे संवाद के माध्यम से दोहराने का कोई मतलब नहीं बनता। एक दृश्य में एक्शन विवरण का यह उदाहरण, और उसके बाद अगला संवाद देखें।

बेकार के दोहराव का स्क्रिप्ट स्निपेट

स्टीव अपनी जमी हुई उंगलियों पर नियंत्रण पाने की कोशिश करता है, डेटोनेशन बटन से चूकने से बचता है, और बम को नष्ट करने के लिए तार काटता है।

जिलियन

स्टीव, तुमने कर दिखाया। तुमने बम नष्ट कर दिया।

यह अपने आपमें काफी स्पष्ट है, इसलिए, इसे समझाने की ज़रूरत नहीं है।

6. सबटेक्स्ट के लिए कोई जगह नहीं

सबटेक्स्ट के लिए जगह छोड़कर अपने किरदारों को उस बात का संकेत देने दें जो उनका मतलब है। जिसे परिस्थिति, शारीरिक हाव-भाव, रवैये, रूपक, और दोहरे अर्थों के माध्यम से कहा जा सकता है। सबटेक्स्ट को बताने की ज़रूरत नहीं होती।

सबटेक्स्ट के लिए कोई जगह नहीं का स्क्रिप्ट स्निपेट

लैमर

मेरी शर्ट बर्बाद हो गयी!

बेट्टी

थोड़े से टाइड और गर्म पानी से दाग चला जाएगा।

लैमर ने अपनी गंदी शर्ट को गंदे कपड़ों की टोकरी में फेंक देता है। बेट्टी, नाराज़ होकर, फर्श को साफ़ करते हुए ऊपर की ओर देखती है।

बेट्टी

ठीक है, मैं ये कर दूंगी।

लैमर को शर्ट का दाग हटाने का तरीका बताने के बावजूद बेट्टी कहती है कि वो इसे साफ़ कर देगी, लेकिन यहाँ असल में वो यह कहना चाहती है कि घर का सारा काम उसे अकेले करना पड़ता है। यही सबटेक्स्ट है।

7. पुराने या कहीं से लिए गए संवाद

इसे दिखाने के लिए, यहाँ पर उन पुराने वाक्य और संवादों की सूची दी गयी है जिन्हें दूसरी फ़िल्मों से लिया गया है जिसे आपकी पटकथा में कोई नहीं सुनना चाहता। अगर आपके पास ऐसा करने का कोई अच्छा कारण है तो बेशक आप इन्हें अपनी पटकथा में डालिये, लेकिन ये मत कहियेगा कि मैंने आपको बताया नहीं।

  • अब हम कांसस में नहीं हैं।

  • घर जैसी कोई जगह नहीं होती।

  • मुझे पैसे दिखाओ।

  • मैं दुनिया का राजा हूँ!

  • हम इसे आसानी से या मुश्किल से कर सकते हैं।

  • मैं वापस आऊंगा।

  • अलविदा, बेबी।

  • हिलाया हुआ, मिलाया हुआ नहीं।

  • यहाँ तुम्हें देख रहा हूँ, किड।

  • आपको एक बड़ी नाव की ज़रूरत होगी।

  • अगर तुम इसे बनाते हो तो वो आयेंगे।

  • बस तैरते रहो।

  • क्या आप मुझसे बात कर रहे हैं?

  • मानो जैसे!

  • मैं वही लूँगा जो वो ले रही है।

  • कोई भी बेबी को कोने में नहीं रखता।

  • इससे बाहर निकलो!

  • हॉस्टन, हमारे पास एक समस्या है।

  • तुम सच्चाई हैंडल नहीं कर सकते।

  • हैलो बोलते ही मैं तुम्हारा हो गया था।

  • तुम मुझे धीरे-धीरे मार रहे हो!

  • तुम निकल लो!

  • यह फटने वाला है!

  • हमारे साथ कोई है।

  • वो मेरे पीछे हैं, है न?

  • मरो मत,

  • वहाँ से बाहर निकलो!

  • क्या तुम्हारे पास इतना ही है?

  • तुम इससे कभी नहीं बचोगे! - मुझे देखो।

  • यह कितना मुश्किल हो सकता है?

  • मैं तैयार ही पैदा हुआ था।

  • मैंने तो अभी शुरू किया है।

  • मेरी देखरेख में नहीं!

  • रुको! मैं समझा सकता हूँ।

ज़ाहिर तौर पर, ऊपर दी गयी सूची बहुत लंबी नहीं है। अगर आपका संवाद ऐसा लगता है जैसे आपने इसे पहले कहीं सुना है तो शायद आपका सोचना सही है। अपने ख़ुद के शब्दों में लिखें! इस समय वास्तविकता बेहद लोकप्रिय है (देखा, मैंने वहाँ क्या किया)।

क्या आप संवादों के पापी हैं या संत? हम कभी भी ख़ुद को बेहतर बना सकते हैं, इसलिए मुझे उम्मीद है आप अपनी पटकथा में संवाद से जुड़े इन 7 पापों को ढूंढने की कोशिश करेंगे और इसे सही करेंगे, या फिर ज़रूरत पड़ने पर बाहर निकालेंगे। अगर आप अच्छे संवाद लिखने में और मदद पाना चाहते हैं तो पटकथा लेखिका विक्टोरिया लूसिया के पटकथा में संवाद लिखने के टॉप 5 उपाय पर जाएं। अभ्यास करते रहें, और कुछ ही समय में हारून सॉर्किन को आप पर गर्व होगा 😊

मैंने जो कहा वो ज़रूरी नहीं है, बल्कि मैंने इसे कैसे कहा वो ज़रूरी है,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

मोंटाज़। हम सभी देखने पर इसे जान जाते हैं, लेकिन असल में वहां क्या हो रहा होता है? मैं अपनी पटकथा में मोंटाज़ कैसे फॉर्मेट करूँ? अगर मेरा मोंटाज़ एक से ज्यादा स्थानों में हो रहा है तो क्या होगा? यहाँ मोंटाज़ लिखने के बारे में कुछ उपाय और सुझाव दिए गए हैं जिनसे मुझे अपने लेखन में मदद मिली है। वास्तव में मोंटाज़ क्या होता है? मोंटाज़ छोटे दृश्यों या पलों का संग्रह होता है जिसे तेजी से समय का बीतना दिखाने के लिए एक साथ जोड़ा जाता है। आमतौर पर, मोंटाज़ में बहुत कम, या बिल्कुल संवाद नहीं होते हैं। मोंटाज़ का इस्तेमाल समय को संक्षिप्त करने के लिए किया जा सकता है और छोटी अवधि में हमें कहानी का बड़ा हिस्सा बताया जा सकता है। मोंटाज़ का प्रयोग कई स्थानों पर मौजूद चरित्रों को ऐसी चीजें करते हुए दिखाने के लिए किया जा ...
3 Ways to Write a Phone Conversation in a Traditional Screenplay

पटकथा लेखक डग रिचर्डसन के अनुसार, पारंपरिक पटकथा में फोन पर बातचीत लिखने के 3 तरीके

एक फोन कॉल कब सिर्फ एक फोन कॉल नहीं होता? जब आपको इसे बताना नहीं, बल्कि दिखाना होता है। आप अपनी पटकथा में फोन कॉल कैसे लिखते हैं? अगर आप अपनी पटकथा में फोन पर बातचीत शामिल करना चाहते हैं तो आपको कम से कम तीन अलग-अलग परिदृश्यों पर विचार करने की ज़रूरत होती है। हमने पटकथा लेखक डग रिचर्डसन ("बैड बॉयज़," "होस्टेज," "डाई हार्ड 2") से पूछा कि वह अपनी पटकथा में टेलीफोन पर बातचीत कैसे लिखते हैं, और उन्होंने बताया कि पटकथा लेखकों को फोन कॉल की इन परिस्थितियों पर विचार करना चाहिए:...
डग रिचर्डसन का ग्राफ़िक जो कहता है "थोड़े या बिना किसी संवाद वाली पटकथा कैसे लिखें"

मौन पर वापसी: थोड़े या बिना किसी संवाद वाली पटकथा कैसे लिखें

शॉर्ट फिल्मों से लेकर फीचर फिल्मों तक, आजकल ऐसी फिल्में बनाई जा रही हैं जिनमें थोड़े संवाद से लेकर कोई भी संवाद नहीं होते हैं। और इन फिल्मों की पटकथा अक्सर इसका सबसे अच्छा उदाहरण होती है कि पटकथा कैसी होनी चाहिए, जो केवल विजुअल स्टोरीटेलिंग की तकनीकों के प्रयोग से बताने का नहीं, बल्कि दिखाने का प्रदर्शन होती हैं। । हमने पटकथा लेखक डग रिचर्डसन ("बैड बॉयज़," "डाई हार्ड 2," "होस्टेज") से पूछा कि उनके अनुसार थोड़े संवाद या बिना किसी संवाद वाली पटकथा लिखने में सफल होने के लिए क्या महत्वपूर्ण है। उन्होंने हमें बताया, "ओह, यह बहुत आसान है। थोड़े या बिना किसी संवाद वाली पटकथा कैसे लिखें, और पाठक की दिलचस्पी कैसे बनाये रखें? यह बहुत आसान चीज है। एक ऐसी कहानी बताएं जो पाठक को पेज पलटने पर मजबूर कर दे।"पटकथाएं फिल्म का नक्शा होती हैं, ...