पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

टीवी और फ़िल्मों में कॉमेडी लिखने के लिए कॉमेडियन मोनिका पाइपर के कुछ महत्वपूर्ण उपाय

किस चीज़ से कुछ मज़ेदार बनता है? हालाँकि, यह हर इंसान के हिसाब से अलग-अलग हो सकता है, फिर भी सिद्धांतकारों और हास्य कलाकारों दोनों ने कुछ ऐसे दिशानिर्देश तैयार किये हैं जो कुछ बेहतर और मज़ेदार लिखने की गारंटी दे सकते हैं। एक कॉमेडियन के साथ किये गए हमारे साक्षात्कार में, ज़्यादा वैज्ञानिक सुझावों को मिलाकर (जी हाँ, ऐसे लोग भी हैं जो कॉमेडी पढ़ते हैं), आज हम अपनी अगली पटकथा में मज़ेदार चीज़ ढूंढने में आपकी मदद करने वाले हैं।

मोनिका पाइपर एक एमी-विजेता लेखिका, कॉमेडियन, और निर्माता हैं जिनका नाम आपने "रोज़ीन," "रुग्रेट्स," "आह! रियल मॉन्स्टर्स," और "मैड अबाउट यू," जैसे हिट कार्यक्रमों से सुना होगा। उनका स्वभाव काफी मज़ाकिया है, लेकिन वो कहती हैं कि कोई भी मज़ाकिया बन सकता है।

उन्होंने बताया, "मज़ाक हर जगह है। बस आपके ऐंटेना को पता होना चाहिए कि यह कहाँ है," क्योंकि फिर आपको खुद मज़ाक ढूंढना नहीं पड़ेगा, और जैसा कि मोनिका ने हमें बताया, "मज़ाक ख़ुद आपको ढूंढ लेता है।"

पीटर मैक्ग्रा और जोएल वार्नर के अनुसार, सभी संस्कृतियों में ज़्यादातर मज़ाकिया चीज़ें, कॉमेडी के कई सिद्धांतों में से एक में बिल्कुल फिट बैठती हैं। उन्होंने कॉमेडी के एकीकृत, वैश्विक सिद्धांतों के बारे में स्लेट में यह लेख लिखा है।

श्रेष्ठता का सिद्धांत कहता है कि लोगों को दूसरों के दुःख पर हंसी आती है – जैसे, स्लैपस्टिक या चिढ़ाने को ही ले लीजिये। राहत का सिद्धांत कहता है कि लोग अपने मानसिक तनाव को दूर करने, अपने संकोच से छुटकारा पाने, और दबे हुए डर या इच्छाओं को ज़ाहिर करने के साधन के रूप में हंसते हैं, इसीलिए कुछ लोगों को गंदे चुटकुले बहुत मज़ेदार लगते हैं। सौम्य उल्लंघन का सिद्धांत कहता है कि जब कोई चीज़ गलत या ख़तरनाक होकर भी, ठीक या सुरक्षित रहते हुए, एक अच्छा संतुलन बनाती है तो वो मज़ेदार होती है। ज़ाहिर तौर पर, आपके चुटकुले के साथ-साथ वो इंसान भी बहुत अहमियत रखता है, जिसे आप अपना चुटकुला सुनाते हैं।

मोनिका ने मुझे बताया, "सबसे ज़्यादा मज़ेदार चुटकुले चौंकाने वाली उम्मीदों से आते हैं।" जो असंगति के सिद्धांत का आधार है – जहाँ जो होने की उम्मीद होती है और जो वास्तव में होता है उनके बीच एक असंगति होती है।

लेकिन सिद्धांतों के अलावा, मोनिका ने बताया कि सबसे मज़ाकिया लम्हें, ख़ासकर कि टीवी और फिल्मों में, आख़िरकार किरदार से निकलते हैं।

मज़ाक हर जगह है। बस आपके ऐंटेना को पता होना चाहिए कि यह कहाँ है। कभी-कभी आपको ख़ुद मज़ाक की तलाश नहीं करनी पड़ती। मज़ाक ख़ुद आपको ढूंढ लेता है।
मोनिका पाइपर

मज़ाकिया पटकथाएं लिखने के उपाय उसकी कहानी में बसे होते हैं:

  • कॉमेडी में थोड़ी सच्चाई होनी चाहिए

  • कॉमेडी का एक दृष्टिकोण होना चाहिए

  • कॉमेडी भावनात्मक रूप से तटस्थ नहीं हो सकती

"मुझे कैसा लग रहा है? मुझे क्या पसंद नहीं है? मुझे क्या पसंद है? मैं किस चीज़ से परेशान होती हूँ? इसे बढ़ा-चढ़ाकर बताना होता है," उन्होंने कहा।

अगर आपको कोई चुटकुला लिखने में परेशानी हो रही है तो पीछे से लिखना शुरू करें। क्या मज़ाकिया नहीं है? सिद्धांतकारों के अनुसार, अगर कोई चुटकुला सौम्य और उल्लंघन के पलड़े पर किसी एक तरफ़ बहुत ज़्यादा झुक जाता है तो शायद उससे दर्शकों को मज़ा न आये। आपके लिए संतुलन खोजना बहुत ज़रुरी है।

मोनिका ने कहा कि, "कहानी को एक ब्रेसलेट की तरह समझिये। इसमें सजावटी चीज़ें लगाने से पहले आपको ब्रेसलेट की ज़रुरत होगी, और आपके चुटकुले वही सजावटी चीज़ें हैं।"

यह सचमुच मज़ेदार है,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

3 Serious Mistakes Screenwriters Can Make, According to the Hilarious Monica Piper

मज़ेदार मोनिका पाइपर के अनुसार, वो 3 गंभीर गलतियां जो पटकथा लेखक कर सकते हैं

मुझे हैरानी है कि आपने मुझे एमी-विजेता लेखिका, कॉमेडियन और निर्मात्री, मोनिका पाइपर, के साथ मेरे हालिया साक्षात्कार के ज़्यादातर हिस्से में मुझे ठहाके लगाते हुए नहीं सुना, जिनका नाम आपने "रोज़ीन," "रगरैट्स," "आह! रियल मॉन्स्टर्स," और "मैड अबाउट यू" जैसे हिट कार्यक्रमों से सुना होगा। वो बहुत मज़ाकिया हैं, और उनके मज़ाक बहुत आसानी माहौल में घुलते हैं। उनके पास इसका काफ़ी अनुभव है कि मज़ेदार क्या होता है, और पटकथा लेखन करियर के बारे में कुछ गंभीर सलाह देने के लिए उन्होंने काफ़ी गलतियां भी देखी हैं। मोनिका ने अपने पूरे करियर के दौरान लेखकों को देखा है, और वो कहती हैं...

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

हमारे पिछले ब्लॉग पोस्ट में, हमने आपको पटकथा लेखन के पहले 10 पन्नों के बारे में "मिथक" या वास्तव में कहें तो तथ्य के बारे में बताया। ऐसा नहीं है कि केवल वे महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की बात आती है तो निश्चित रूप से वो सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। इसपर ज्यादा जानकारी पाने के लिए कृपया हमारे पिछले ब्लॉग पर जाएँ: "मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?" अब जबकि हमें उनकी महत्ता के बारे में अच्छी समझ है तो चलिए उन कुछ तरीकों के बारे में जानते हैं जिनका ध्यान रखकर हम अपनी पटकथा के पहले कुछ पन्नों को शानदार बना सकते हैं! 1. वो दुनिया तैयार करें जिसके चारों ओर आपकी कहानी घूमती है। अपने पाठकों को कुछ संदर्भ प्रदान करें। दृश्य तैयार करें। ...

एक आकर्षक लॉगलाइन बनाएं

एक ना भुलाये जा सकने वाले लॉगलाइन के साथ कुछ सेकंड में पाठक को आकर्षित करें।

एक आकर्षक लॉगलाइन कैसे बनाएं

अपनी 110 पेज की पटकथा को एक वाक्य में लिखना आसान नहीं होता है। अपनी पटकथा के लिए लॉगलाइन लिखना एक कठिन काम हो सकता है, लेकिन एक पूर्ण और अच्छी लॉगलाइन उन सबसे बहुमूल्य मार्केटिंग उपकरणों में से एक है, जो अपनी पटकथा बेचने के लिए आवश्यक होती है। आज के "कैसे करें" पोस्ट में उल्लेखित युक्तियों से एक आकर्षक लॉगलाइन बनाएं और पाठकों को मोहित करें! एक ना भुलाये जा सकने वाले लॉगलाइन के साथ कुछ सेकंड में पाठक को आकर्षित करें। लॉगलाइन क्या है? कल्पना करिये कि अपनी नयी स्क्रिप्ट के बारे में किसी को बताने के लिए आपके पास केवल दस सेकंड का समय है। आप उन्हें क्या बताएँगे? आपकी पूरी कहानी का यह संक्षिप्त, सरल विवरण ही आपका लॉगलाइन है। विकिपीडिया के अनुसार लॉगलाइन ...

टिप्पणियां