पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अनुभवी टीवी लेखक रॉस ब्राउन: शानदार दृश्य और घटनाक्रम बनाने के लिए पटकथा लेखक का मार्गदर्शक

पटकथा में कौन सी चीज़ शानदार दृश्य बनाती है? हमने टीवी के अनुभवी लेखक रॉस ब्राउन से इसके बारे में पूछा, जिन्हें आप "स्टेप बाय स्टेप" और "हू इज़ द बॉस" जैसे बेहद लोकप्रिय कार्यक्रमों से जानते होंगे। वर्तमान में, ब्राउन सांता बारबरा के एंटिऑक विश्वविद्यालय में MFA प्रोग्राम के निर्देशक के रूप में रचनात्मक लेखकों को अपनी कहानी के आईडिया को रूपहले पर्दे के लिए लिखना सिखाते हैं। नीचे, उन्होंने दृश्यों और घटनाक्रमों के विकास के लिए अपने उपायों के बारे में बताया है जो आपकी पटकथा को आगे बढ़ाते हैं।

"दृश्य और घटनाक्रमों को बनाते समय, आपको खुद से यह पूछना पड़ता है कि उस दृश्य या घटनाक्रम का क्या उद्देश्य है, और इसके बाद आपको ध्यान रखना पड़ता है कि आप उन उद्देश्यों को पूरा कर रहे हैं।"

यह उपाय बहुत महत्वपूर्ण है, और यहीं आकर बहुत सारे पटकथा लेखक गलतियां करते हैं। क्या आपका दृश्य कहानी को आगे बढ़ाने के लिए कुछ कर रहा है? पटकथा का हर दृश्य गतिशील होना चाहिए जो कहानी को आगे बढ़ाये और इसमें परिचय, दिशा में बदलाव, कामयाबी या हार, और कुछ ऐसा होना चाहिए जो अगले दृश्य पर जाने में मदद करे। अगर यह बस मज़े के लिए है तो इसे बाहर निकाल दें। क्योंकि यह बस आपके पाठक को धीमा करेगा।

"किसी फ़िल्म के दृश्य में, आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रुरत होती है कि आप इसमें जाने में ज़्यादा से ज़्यादा देर करें और जितना जल्दी हो सके बाहर निकल जाएँ। दृश्य की शुरुआत में आने वाली फालतू की चीज़ें हटाएं, जैसे 'हाय, हाय, मैं यहाँ मिस्टर फलां से मिलने आया हूँ। ठीक है, एक मिनट रुकिए, मैं आपको ले चलता हूँ …' किसी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। बस उस इंसान को बैठाएं और दृश्य शुरू करें।"

दृश्य की गति दूसरा पेज पढ़ने वाले, या 120वां पेज पढ़ने वाले के बीच का अंतर हो सकती है। बेकार की चीज़ें हटाएं और अच्छी चीज़ों पर आएं। आपका हीरो एक कैफ़े में बैठा हुआ है यह समझने के लिए आपको हीरो को कैफ़े जाते हुए दिखाने की ज़रुरत नहीं होती।

"मुझे लगता है किसी भी दृश्य में एक शुरुआत, मध्य, और अंत होना चाहिए, जैसे कि पूरी कहानी में होता है। और क्या इसमें बढ़ती हुई गतिविधि होती है? आगे बढ़ते हुए दृश्य ज़्यादा दिलचस्प होता है या कम दिलचस्प होता है? आपको ख़ुद पता है कि कौन सा ज़्यादा अच्छा है।"

हर दृश्य में आपके किरदार का एक लक्ष्य होना चाहिए, उसे संघर्ष का सामना करना चाहिए, और उसे अपना लक्ष्य पाने में कामयाब या नाकाम होना चाहिए। हर दृश्य में एक रूपांतरण होना चाहिए और इससे हमें नायक की प्रेरणाओं और बाधाओं के बारे में ज़्यादा पता चलना चाहिए।

आम तौर पर, ज़्यादातर दृश्य तीन मिनट के होंगे, लेकिन ज़ाहिर तौर पर, इसमें अपवाद भी होते हैं। इन दिनों, दृश्य और ज़्यादा छोटे हो रहे हैं, क्योंकि फ़िल्म निर्माता कहानी को दर्शकों के लिए दिलचस्प बनाये रखने के लिए इसकी रफ़्तार को तेज़ रखना चाहता है, क्योंकि अब दर्शक ज़्यादा समय तक अपना ध्यान एक चीज़ पर नहीं रख पाते हैं। हर दृश्य के लिए तीन पेज का लक्ष्य रखें।

एक घटनाक्रम तीन से सात दृश्यों, या 10-15 पेजों से बना होता है। आम तौर पर, एक पटकथा में आठ घटनाक्रम होते हैं, जिसमें सेटअप/उकसाने वाली घटना, चुनौती और लॉक-इन, पहली रूकावट, मध्य बिंदु, सहायक कथानक और बढ़ती हुई गतिविधि, निर्णायक बिंदु या मुख्य अंत, मोड़ और नया तनाव, और संकल्प शामिल होता है। पटकथा की रूपरेखा की संरचना के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, हम आपको महत्वाकांक्षी पटकथा लेखिका एश्ली स्टॉर्मो के साथ बनाई गयी हमारी सीरीज़ देखने का सुझाव देते हैं, जहाँ वो रूपरेखा के उन 18 चरणों के बारे में बताती हैं जिन्हें वो अपनी पटकथा में सही दृश्य और घटनाक्रम बनाने के लिए इस्तेमाल करती हैं।

इसे आगे बढ़ाते रहें,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

अंक, दृश्य और घटनाक्रम - इनमें से प्रत्येक कितना लम्बा होना चाहिए?

अगर मुझे अपनी पसंदीदा कहावत कहनी हो तो ये यह होगा कि नियम तो टूटने के लिए ही बने होते हैं (ज्यादातर - लेकिन गति सीमाएं इसमें नहीं आती हैं!), लेकिन नियमों को तोड़ने से पहले आपके लिए उनको जानना चाहिए। इसलिए, जैसे-जैसे मैं आपको पटकथा में अंकों, दृश्यों और घटनाक्रमों के समय के बारे में "दिशानिर्देश" देती हूँ इसे दिमाग में रखते जाइये। इन दिशानिर्देशों के होने का एक अच्छा कारण है (बिलकुल गति सीमाओं की तरह 😊) इसलिए इसमें बहुत ज्यादा गलती न करें, नहीं तो बाद में आपको इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। चलिए बिलकुल ऊपर से शुरू करते हैं। एक 90-110-पृष्ठ की पटकथा मानक होती है और इससे डेढ़ से दो घंटे तक की फिल्म बनती है। टीवी नेटवर्क डेढ़ घंटे की फिल्म को ज्यादा पसंद कर सकते हैं ...

पटकथा की रूपरेखा लिखें

पटकथा की रूपरेखा कैसे लिखें

तो, आपके दिमाग में एक पटकथा की योजना है, अब क्या करें? क्या आप तुरंत बैठकर लिखना शुरू कर देते हैं, या लिखने से पहले थोड़ा-बहुत काम करते हैं? सबके शुरुआत करने का तरीका अलग होता है, लेकिन आज मैं यहाँ आपको पटकथा की रूपरेखा बनाने के फ़ायदों के बारे में बताने वाली हूँ। मैंने दिमाग में आईडिया आते ही तुरंत पटकथा लिखना भी शुरू किया है और साथ ही अच्छी तरह से रूपरेखा बनाकर भी पटकथा लिखने की शुरुआत की है। मैं कौन सा तरीका इस्तेमाल करती हूँ यह पटकथा पर निर्भर करता है। जब मैं तुरंत लिखना शुरू करती हूँ तो उसमें एक तरह की स्‍वाभाविकता होती है...
पटकथा लेखन कार्टून में एक हरा क्या है

पटकथा लेखन में एक बीट क्या है?

फिल्म उद्योग में, बीट शब्द का अक्सर जिक्र आता है, और इसका हमेशा एक ही मतलब नहीं होता। पटकथा के संदर्भ में, और इसके विपरीत फिल्म के समय-निर्धारण के संदर्भ में बात करने पर बीट के विभिन्न मतलब होते हैं। समझ नहीं आया! डरिये नहीं, हमारा विश्लेषण यहाँ मौजूद है। पटकथा में बीट क्या है? आमतौर पर संवाद में बीट का मतलब होता है कि पटकथा का लेखक विराम दर्शाना चाहता है। यह एक नाट्‍य संबंधी शब्द है जिसे आपको सीधे पटकथा में प्रयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह अभिनेता और/या निर्देशक के लिए निर्देश के रूप में दिखाई देता है। और अभिनेताओं और निर्देशकों को हमेशा यह सुनना पसंद नहीं होता कि उन्हें क्या करना है! इसके अलावा, पटकथा में केवल बीट जोड़ देने से चरित्र-चित्रण में कोई वृद्धि नहीं होती। ...

टिप्पणियां