पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पारंपरिक पटकथा लेखन में हॉरर पटकथा लिखने के 6 उपाय

टॉप 6 उपाय हॉरर पटकथा लिखने के

हॉरर! एक ऐसी शैली है, जो अच्छी होने पर बहुत अच्छी होती है, लेकिन अगर ये बुरी हुई तो बहुत ज़्यादा बुरी हो सकती है। तो कोई इंसान अच्छी हॉरर फ़िल्म कैसे लिखता है? कौन सी चीज़ों पर ध्यान देना ज़रूरी होता है? आपको कैसे पता चलता है कि कोई पटकथा डरावनी है या नहीं? अपने स्टीफेन किंग के अवतार में आने के लिए यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं!

  • हॉरर पटकथा की संरचना जानें

    क्या आपकी फ़िल्म हिंसक हत्या वाली फ़िल्म है? किसी दानव की फ़िल्म है? या किसी भूत की कहानी है? इसके जैसी दूसरी फ़िल्मों को अच्छी तरह से समझें। किसी ख़ास तरह की फ़िल्म को आप जितना ज़्यादा अच्छे से जानते हैं, आप उसके दर्शकों की उम्मीदों को उतना ज़्यादा अच्छे से समझ पाएंगे और उन्हें अपने फ़ायदे के लिए इस्तेमाल कर पाएंगे।

    जैसे उदाहरण के तौर पर, केविन विलियम्सन द्वारा लिखी गयी फ़िल्म "स्क्रीम" को ले लीजिए, जो हिंसक हत्या पर आधारित है। "स्क्रीम" एक स्व-जागरूक फिल्म है, जो उस शैली और प्रकार को स्वीकार करती है जिसमें यह बनी है। इसलिए, यह उन चीज़ों का मज़ाक उड़ाने में सक्षम है जो आमतौर पर हत्या वाली फ़िल्मों में होती हैं, या अप्रत्याशित चीज़ शामिल करके इसे पहले की इसी शैली की दूसरी फ़िल्मों से बिल्कुल अलग बनाती है। यह फ़िल्म ऐसा केवल इसलिए कर पायी क्योंकि लेखक इस विषय पर इससे पहले आयी हिंसक हत्या वाली फ़िल्मों के बारे में जागरूक था।

  • आपको कौन सी चीज़ डराती है?

    अपने ख़ुद के अनुभव से काम करना हमेशा अच्छा रहता है, और इसकी बहुत ज़्यादा संभावना होती है कि जिस चीज़ से आपको डर लगता है उससे दूसरे लोग भी घबराते होंगे! साथ ही, लोग वास्तविकता के लिए प्रतिक्रिया देते हैं। अगर आपको बंद जगहों से डर लगता है और आप अपनी कहानी में इसका इस्तेमाल करते हैं तो दर्शक शायद आपके उस असली डर को समझ पाएं, जिसे आपने अपनी पटकथा में शामिल किया है।

  • पात्रों के प्रति सहानुभूति

    पात्रों के लिए और उनके माध्यम से सहानुभूति महसूस करना किसी भी हॉरर फ़िल्म के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। दर्शक पात्रों के माध्यम से किसी डरावनी और भयानक चीज़ का अनुभव कर सकते हैं। किसी हॉरर फ़िल्म में अगर दर्शकों को मुख्य पात्र के लिए सहानुभूति महसूस होती है और वो उसका समर्थन करते हैं तो उससे ज़्यादा संतोषजनक चीज़ और कुछ नहीं हो सकती।  

    हॉरर फ़िल्म के दर्शकों के लिए यह ज़रूरी है कि वो उसके पात्रों के जीने या मरने की फ़िक्र करें। अपने पात्रों को अच्छे से लिखना न भूलें, ताकि दर्शक उनसे जुड़ सकें और उन्हें महसूस कर सकें!

  • अपने खलनायक पर ध्यान दें

    हॉरर फ़िल्म में खलनायक सबकुछ होता है! कोई भी हॉरर फ़िल्म अपने खलनायक की ताकत के आधार पर बॉक्स ऑफिस पर चल सकती है या बर्बाद हो सकती है। खलनायक के संबंध में सोचने के लिए आपके पास बहुत कुछ होता है: आप दर्शकों को उसकी बारीकियां दिखाते हैं या अँधेरे में रखते हैं? क्या वो हमेशा परछाई में रहता है, या फिर हमें उसे पूरी तरह से देखने का मौका मिलता है?

    क्या वो किसी ऐसी चीज़ पर आधारित है जो पहले से मौजूद है, या यह कोई असली प्राणी है?

    मेहनत करें और आज तक का सबसे यादगार खलनायक बनाएं।

  • परिवेश

    दर्शकों के लिए डर का माहौल तैयार करने के मामले में परिवेश बहुत कुछ कर सकता है। ऐसी बहुत सारी दूसरी शैलियां नहीं हैं, जहाँ भयानक डर के परिवेश से इतना ज़्यादा फायदा मिलता है। 

    आप लोगों को डराने के लिए परिवेश का इस्तेमाल करना चाहते हैं! एक ऐसी दुनिया बनाएं जहाँ दर्शकों को घबराहट, बेचैनी महसूस हो, और वो डरने के लिए तैयार हों। ऐसा परिवेश बनाने के लिए समय निकालें जो बाद में डर की भरपाई करने का मौका दे।

  • इसे दोस्तों और परिवार पर आजमाएं!

    दोस्तों और परिवार पर आजमाने के लिए हॉरर बहुत अच्छी शैली है। भले ही वो पटकथा लेखन में विशेषज्ञ न हों फिर भी आपकी पटकथा पढ़ने भर से उन्हें डर महसूस होना चाहिए।

ईश्वर करे आपके शब्द बहुत भयानक और डरवाने हों!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

लेखक के अवरोध को दूर करें

अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

लेखक के अवरोध को दूर करें - अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

चलिए, हम सभी मान लेते हैं कि हम ऐसी स्थिति में रह चुके हैं। आखिरकार, आप आराम से बैठकर लिखने का समय निकालते हैं। आप पेज खोलते हैं, कीबोर्ड पर उंगली रखते हैं, और इसके बाद...कुछ नहीं। एक भी रचनात्मक विचार आपके दिमाग में नहीं आता। लेखक का भयानक अवरोध एक बार फिर से वापस आ गया, और आप अटक गए। यह याद रखना जरुरी है कि आप ऐसे अकेले नहीं हैं! दुनिया भर के लेखक हर दिन इस अवरोध का सामना करते हैं, लेकिन इस खालीपन की भावना पर काबू पाकर आगे बढ़ना संभव है! यहाँ अपनी रचनात्मकता को दोबारा प्रवाहित करने के लिए हमारे 10 पसंदीदा उपाय दिए गए हैं: 1. किसी अलग जगह लिखने का प्रयास करें। क्या आप हमेशा अपने डेस्क पर लिखते हैं? या अपने किचन टेबल पर लिखते हैं? इसे बदलें! ...

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

हमारे पिछले ब्लॉग पोस्ट में, हमने आपको पटकथा लेखन के पहले 10 पन्नों के बारे में "मिथक" या वास्तव में कहें तो तथ्य के बारे में बताया। ऐसा नहीं है कि केवल वे महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की बात आती है तो निश्चित रूप से वो सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। इसपर ज्यादा जानकारी पाने के लिए कृपया हमारे पिछले ब्लॉग पर जाएँ: "मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?" अब जबकि हमें उनकी महत्ता के बारे में अच्छी समझ है तो चलिए उन कुछ तरीकों के बारे में जानते हैं जिनका ध्यान रखकर हम अपनी पटकथा के पहले कुछ पन्नों को शानदार बना सकते हैं! 1. वो दुनिया तैयार करें जिसके चारों ओर आपकी कहानी घूमती है। अपने पाठकों को कुछ संदर्भ प्रदान करें। दृश्य तैयार करें। ...
6

करने के उपायमजबूतलेखन लक्ष्य

मजबूत लेखन लक्ष्य निर्धारित करने के 6 उपाय

चलिए मान लेते हैं कि हम सभी ऐसी स्थिति में रह चुके हैं। हम अपने लिए लेखन के लक्ष्य निर्धारित करने का प्रयास करते हैं, और हम पूरी तरह से विफल हो जाते हैं। जब आपके पास एक दूसरी फुल-टाइम नौकरी होती है, आपको परिवार का ध्यान रखना पड़ता है, या आपके पास दुनिया के सबसे बड़े भटकाव, अर्थात इंटरनेट, का कोई भी एक्सेस होता है तो अपनी पटकथा पर काम करना मुश्किल हो सकता है। आपको बुरा महसूस करने की कोई जरुरत नहीं है; यह हम सबके साथ होता है। चलिए भविष्य की ओर देखते हैं और निराशा की उन भावनाओं को पीछे छोड़ना शुरू करते हैं! चलिए इन 6 उपायों के प्रयोग से कुछ मजबूत लेखन संबंधी लक्ष्य निर्धारित करते हैं! 1. एक कैलेंडर बनाएं - हालाँकि ऐसा लग सकता है कि यह बहुत ज्यादा समय ले रहा है, लेकिन...

टिप्पणियां