पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

एपल टीवी+ के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर "Pachinko" को रूपांतरित करने पर शोरनर सू ह्यूग

"Pachinko" इस वसंत ऋतु में एपल टीवी+ पर आने वाली नई सीरीज़ है, जो 25 मार्च को प्रीमियर होने वाली है। आठ हफ्ते की यह सीरीज़ इसी नाम के मिन जिन ली के न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलिंग उपन्यास का रूपांतरण है।

हमें इस सीरीज़ की शोरनर के साथ बैठकर बातचीत करने का सौभाग्य मिला, जिनसे हमने जाना कि एक परिवार के समाज में फिट होने के संघर्ष की अद्भुत कहानी उपन्यास के पन्नों से निकलकर स्क्रीन पर कैसे आयी। नीचे शोरनर सू ह्यूग के साथ हमारा साक्षात्कार देखें!

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

बैकग्राउंड में किरदार के चेहरों के साथ Pachinko सीरीज़ का प्रमोशन

"Pachinko" टीवी सीरीज़ कैसे बनी?

जैसे ही "Pachinko" न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर्स की सूची में आयी, इस किताब के प्रशंसकों ने सोचना शुरू कर दिया कि "Pachinko" को फ़िल्म में रूपांतरित किया जा रहा है या नहीं। लेकिन फ़िल्म के बजाय इसे एक अलग तरीके से पेश किया जा रहा है। एपल टीवी+ "Pachinko" के आठ एपिसोड वाले टेलीविज़न रूपांतरण के माध्यम से इस सीरीज़ को जीवंत करने वाला है।

"Pachinko" की टेलीविज़न सीरीज़ एक अद्भुत कहानी, दृढ़-निश्चयी एजेंट, और शोरनर का नतीजा है, जो इस परियोजना के लिए सबसे अनुकूल साबित हुए हैं।

"Pachinko" की शोरनर सू ह्यूग ने पहले AMC के "The Terror" का निर्देशन किया है और नेटफ्लिक्स पर "The Killing" और ABC पर "The Whispers" जैसे शोज़ के लिए लिखा भी है। यह भाग्य का खेल ही था कि लंदन से घर वापस आते समय मिन जिन ली का उपन्यास आख़िरकार सू के हाथों में आ गया।

"मैं अपने पिछले शो, "The Terror," के पहले सीज़न के दौरान बहुत ज़्यादा व्यस्त थी, और उस समय, मेरी एजेंट थेरेसा कांग-लोव ने मुझसे कहा कि "Pachinko" नाम की एक किताब है जिसे मुझे ज़रूर पढ़ना चाहिए।"

सू ने थोड़े समय तक उस किताब को हाथ नहीं लगाया क्योंकि वो अपने काम में बहुत ज़्यादा व्यस्त थीं।

"उस वक़्त थेरेसा ने मुझे बहुत परेशान कर दिया था कि "तुमने इसे पढ़ना या नहीं, पढ़ा या नहीं?" लंदन से हवाई जहाज़ का सफ़र सात घंटे का था, और मेरे पास वो किताब पड़ी हुई थी, और मैं पूरी तरह तंग आ चुकी थी," सू ने बताया। "और फिर मैंने सोचा, आज मैं इसे पढ़कर रहूंगी।"

उसके बाद, सू किताब को वापस नीचे नहीं रख पायीं, उन्हें एक दृश्य बहुत ज़्यादा अच्छा लगा, जिसे उन्होंने तुरंत एक ऐसी थीम के रूप में पहचान लिया था जो पूरे शो को लेकर चल सकती थी।

"यह किताब में काफी पहले आता है, मैं अपने लिए हमेशा इसे एक भावनात्मक रूप से महत्वपूर्ण दृश्य की तरह बताती हूँ, और साथ ही, जहाँ तक मुझे लगता है, शो के लिए यही मुझे एक थीम के रूप में दिखाई दिया," सू ने बताया। "इसमें यांगजिन नाम की एक किरदार रहती है। उसकी बेटी सुंजा की बस अभी-अभी शादी हुई है, और वो अपनी बेटी की सुहागरात के लिए थोड़े सफ़ेद चावल ख़रीदना चाहती है। और उस समय कोरिया में, सफ़ेद चावल का उत्पादन और बिक्री दोनों बहुत प्रतिबंधित थे। तो यांगजिन अपनी गरिमा बनाये रखने की कोशिश करती है, और अनाज बेचने वाले से कहती है, "मैं अपनी बेटी को जाने से पहले सिर्फ एक कटोरी सफ़ेद चावल देना चाहती हूँ।"

वो भावनात्मक दृश्य सू के लिए महत्वपूर्ण मोड़ था, और फिर वहीं से टेलीविज़न रूपांतरण का सपना शुरू हुआ।

"मैं हवाई जहाज़ में बैठकर वो दृश्य पढ़ रही हूँ, और बस रोये जा रही हूँ। और मुझे लगता है, मेरे आसपास बैठे लोग बस यही सोच रहे थे कि यहाँ क्या चल रहा है? और जहाँ तक मुझे लगता है, वही वो दृश्य था जहाँ मुझे पता चल गया कि मुझे ये शो करना है।"

Pachinko की कहानी क्या है?

जापान में, Pachinko एक पिनबॉल गेम है जो कोरियाई जापानी अप्रवासी समुदाय के बीच बेहद लोकप्रिय है। लेकिन एक कोरियाई अप्रवासी परिवार की कई पीढ़ियों द्वारा बताई गई अविस्मरणीय कहानी एक आर्केड गेम से कहीं ज़्यादा है।

"Pachinko" उपन्यास में, बेक परिवार के प्रत्येक सदस्य की नज़रों से उम्मीद, जुड़ाव, समुदाय, और अस्तित्व के विषयों को बताया गया है, जो जापान शासित कोरिया में 20वीं शताब्दी की शुरुआत से शुरू होता है।

16 साल की सुंजा को एक बड़े उम्र के आदमी से प्यार हो जाता है। वो गर्भवती हो जाती है, लेकिन फिर उसे पता चलता है कि वो आदमी पहले से शादीशुदा है।

उसके परिवार को बदनामी से बचाने के लिए, एक ईसाई मंत्री सुंजा से शादी करने के लिए कहता है और उसे उसके गरीब और गुलाम देश से जापान ले जाता है। लेकिन जापान में, सुंजा के लिए हालात और बिगड़ जाते हैं, उसके पति को ईसाई धर्म का प्रचार करने के लिए गिरफ्तार कर लिया जाता है, दूसरा विश्व युद्ध होता है, और फिर कोरिया युद्ध शुरू हो जाता है।

युद्ध के बाद, सुंजा के कोरिया वापस अपने घर लौटने की बहुत कम उम्मीद बाकी रह जाती है। इस दौरान, कोरियाई जापानी लोगों को पचिनको पार्लर चलाने का मौका मिल जाता है, लेकिन जापानी लोग इन खेल को जुए और आपराधिक गतिविधियों के अड्डे के रूप में देखते हैं।

सुंजा का एक बेटा इस व्यवसाय में बहुत फलता-फूलता है, लेकिन दूसरा बस सम्मान चाहता है और जापानी संस्कृति में शामिल होना चाहता है, जिसे वो अपना घर कहता है।

पूरी कहानी के दौरान, किरदारों को नस्लवाद और रूढ़िवादी विचारधाराओं का सामना करना पड़ता है।

Pachinko का आईडिया कहाँ से मिला?

कोरियाई-अमेरिकी लेखिका मिन जिन ली ने अपने पिछले साक्षात्कारों में कहा था कि उन्हें इस काल्पनिक कहानी का आईडिया जापान में दशकों से कोरियाई-जापानी समुदाय द्वारा सामना की जाने वाली वास्तविक कठिनाइयों के बारे में जानने से आया था। कुछ जगहों पर यह समुदाय अभी भी भेदभाव का सामना कर रहा है।

यह बेस्ट-सेलिंग उपन्यास इस पंक्ति के साथ शुरू होता है, "इतिहास ने हमें निराश किया है, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता," यानी इतिहास हमें कई साधारण लोगों की कहानी नहीं बताती है। लेकिन इतिहास की किताबों में ज़्यादा जानकारी नहीं होने के बावजूद, ली जापान के इन सामान्य, दूसरे दर्जे के नागरिकों की व्यक्तिगत कहानियों को जानना चाहती थीं।

उन्होंने अस्सी के दशक के अंत में एक अमेरिकी मिशनरी से एक कहानी सुनी थी, जो इतने सालों के बाद भी आज तक उन्हें याद थी। वो मिशनरी जापान में कोरियाई जापानी के साथ काम करता था, ख़ासकर एक कोरियाई परिवार के साथ। उसे एक 13 साल के बच्चे के बारे में पता चला। जिसका जन्म जापान में हुआ था, और उसके माता-पिता का जन्म भी वहीं हुआ था, लेकिन उसका परिवार मूल रूप से कोरिया से था। उसके माता-पिता ने बताया कि दूसरे बच्चों ने उसके ईयरबुक में बहुत बुरी चीज़ें लिखी थीं, जिसमें उन्होंने उसे वापस घर जाने के लिए, और मरने के लिए कहा था।

ली उन लोगों का साक्षात्कार लेने के लिए कोरिया वापस गईं जो उस समय के दौरान ज़िंदा थे। इस तरह, "Pachinko" का जन्म हुआ।

"Pachinko" के टेलीविज़न रूपांतरण के बारे में

क्या आप सोच रहे हैं कि बहुप्रतीक्षित ड्रामा सीरीज़ "Pachinko" कहाँ देखी जा सकती है? "Pachinko" के आठ-एपिसोड की सीरीज़ के पहले तीन एपिसोड 25 मार्च को एपल टीवी+ पर प्रसारित होंगे, उसके बाद, अप्रैल में उन्हें साप्ताहिक रूप से रिलीज़ किया जायेगा।

एपल टीवी+ इस सीरीज़ को इस रूप में बताता है, "एक व्यापक गाथा जो चार पीढ़ियों के दौरान एक कोरियाई अप्रवासी परिवार की आशाओं और सपनों का वृत्तांत बताती है, जिसमें वो ज़िंदा रहने और आगे बढ़ने की अदम्य खोज में अपनी मातृभूमि छोड़ते हैं।"

इसके प्रसिद्ध कलाकारों की सूची में मोज़ासू के रूप में सोजी अरई, सोलोमन के रूप में जिन हा, यांगजिन के रूप में इंजी जियोंग, हंसू के रूप में ली मिन-हो, एत्सुको के रूप में काहो मिनामी, इसाक के रूप में स्टीव संघ्युन नोह, नाओमी के रूप में अन्ना सवाई, योसेब के रूप में जुनवू हान, छोटे क्युंगी के रूप में जंग यून-चाई, और टॉम एंड्रयूज के रूप में जिमी सिम्पसन शामिल हैं।

यह ड्रामा सीरीज़ तीन भाषाओं में है: अंग्रेज़ी, जापानी और कोरियाई।

जस्टिन चोन और कोगोनाडा ने इस सीरीज़ का निर्देशन किया है, और दोनों कार्यकारी निर्माता की भूमिका में काम करते हैं। रिचर्ड मिडलटन, कन्जिरो सकुरा, लिंडसे स्प्रिंगर, थेरेसा कांग-लोव और माइकल एलेनबर्ग को भी कार्यकारी निर्माता के क्रेडिट प्राप्त हैं। दानी गोरिन, डेविड किम, सेबस्टियन ली, और जेसिका लेविन सह-कार्यकारी निर्माता, और लिन बेस्पफ्लग, युका काटो, जॉर्डन मर्सिया और ब्रायन शेरविन सभी परियोजना पर निर्माता के रूप में काम करते हैं।

यह सीरीज़ कनाडा और जापान में शूट की गई है।

Pachinko में सुंजा की भूमिका कौन निभाने वाला है?

तीन अलग-अलग कलाकार सुंजा की भूमिका निभाएंगी। मिन-हा किम एक किशोरी के रूप में सुंजा की भूमिका निभाएंगी, जीन यू-ना एक बच्चे के रूप में सुंजा की भूमिका निभाएंगी, और ऑस्कर विजेता अभिनेत्री यूं युह-जुंग बड़ी सुंजा की भूमिका निभाएंगी।

नीचे आधिकारिक ट्रेलर देखें।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

साक्षात्कार: नया NBC यूनिवर्सल राइटर इनक्यूबेटर प्रोग्राम एशियन पैसिफिक कहानियों की तलाश में है

शोरनर सू ह्यूग के नए एशियन पैसिफिक राइटर इनक्यूबेटर प्रोग्राम में आवेदन करने के लिए अभी भी समय है। आवेदन का समय 31 मार्च, 2022 तक है। हमने हाल ही में सू और उनकी पूर्व सहायक, रिया टोबैकोवाला (जो अब इनक्यूबेटर को संभालने वाली हैं), से बात की ताकि एशियन पैसिफिक द्वीपसमूह के प्रवासी की कहानियों को उजागर करने के कार्यक्रम के मिशन के बारे में अधिक जान सकें। इनक्यूबेटर का नाम, द थाउज़ेंड माइल्स प्रोजेक्ट, एक प्राचीन चीनी कहावत से लिया गया है: "हज़ार मील का सफ़र हमेशा पहले कदम के साथ शुरू होता है।" यह हॉलीवुड स्टूडियो प्रोडक्शन सिस्टम में आगे बढ़ने की लंबी यात्रा में प्रवेश करने के समान है, क्योंकि सू और रिया ने इसे ख़ुद अनुभव किया है...