पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

शोरनर सू ह्यूग बताती हैं कि किसी किताब को टीवी शो में कैसे बदला जाता है

हम जानना चाहते थे कि: शोरनर किसी किताब को टीवी शो में कैसे बदलते हैं? इसलिए, हमने सू ह्यूग के साथ बैठकर बात की, जो इस समय अपनी बड़ी सफलताओं की वजह से स्पॉटलाइट में हैं, जिनके कामों में "The Terror," "The Whispers," और हाल ही में, Apple TV+ की सीरीज़ "Pachinko" शामिल है।

ये तीनों सीरीज़ किताब से रूपांतरित की गई हैं, और, समीक्षकों की मानें तो टीवी के लिए इन्हें बहुत अच्छे से लिखा गया है।

किसी किताब को टीवी शो में बदलने के लिए चार मूलभूत चीज़ों में शामिल हैं:

  1. कहानी का सार पता करें

  2. कहानी की संरचना समझें

  3. अपने कहानीकार चुनें

  4. उपन्यास को प्रेरणा बनाएं, न कि नियम-पुस्तिका

अपनी जगह पर बने रहें! हम जल्द ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

आपके लिए ख़ुशी कि बात है कि हाल ही में अपने इंटरव्यू के दौरान सू ने अपने किताब के रूपांतरण से जुड़े रहस्यों के बारे में हमें ढेर सारी जानकारी दी है। अगर आपके पास कोई ऐसी किताब है जिसके बारे में सोचने से आप ख़ुद को नहीं रोक पा रहे हैं और आपको लगता है कि उससे एक शानदार टीवी सीरीज़ बनाई जा सकती है तो पढ़ते रहें।

क्योंकि नीचे, चार प्रमुख चरणों में आप जानेंगे कि किसी किताब को टीवी शो में कैसे बदला जाता है।

किसी किताब को टीवी शो में कैसे बदला जाता है

सू ने शुरुआत करते हुए कहा, "मुझे लगता है, हर किताब के साथ काम करने का एक अलग तरीका होता है।"

पिछले कुछ सालों में सू ने तीन अलग-अलग शोज़ में काम किया है, जिनमें से सभी को अलग-अलग रास्तों से स्क्रीन पर लाया गया था। वो लेखकों को कहानी की सामग्री पर अच्छे से ध्यान देने की और आगे बढ़ने से पहले यह पता लगाने की सलाह देती हैं कि उस कहानी को दिखाया जा सकता है या नहीं।

यह एक ऐसा कारक है जिसके बारे में "The Terror" के साथ आगे बढ़ने से पहले उन्हें बहुत गहराई से सोचना पड़ा था।

उन्होंने कहा, "वो किताब बहुत अच्छी है, लेकिन उसमें इतने सारे अलग-अलग टोन थे कि उन्हें पूरी सच्चाई के साथ रूपांतरित कर पाना मुश्किल होता।"

लेकिन इसका यह मतलब नहीं था कि काम नहीं किया जा सकता।

"जब हम सीधे सीरीज़ पर गए और रूम में आये तो हमें किताब के रूपांतरण के बारे में बहुत सारी चर्चाएं करनी पड़ी थीं क्योंकि वो किताब कालानुक्रमिक क्रम में नहीं थी। उसमें कई अलग-अलग शैलियां थीं। तो, "The Terror" की चुनौती थी कि यह क्या है? क्योंकि यदि आप सीधे-सीधे उस किताब का रूपांतरण करने बैठते तो यह 20, 30-घंटे का रूपांतरण हो जाता। लेकिन साथ ही, मैं सोचती हूँ कि इसे फ़िल्मी माध्यम पर कैसे प्रस्तुत किया जाए।"

तो, आप पन्नों पर दिए गए शब्दों को स्क्रीन पर लोगों तक कैसे पहुंचाते हैं? सू के अनुसार और टीवी के लिए उनकी सबसे हालिया रूपांतरण "Pachinko" के आधार पर आपको चार मुख्य चरणों पर विचार करना पड़ता है:

1. कहानी का सार पता करें

"जब आप शो का टोन और शो की सीमाओं का पता लगा लेते हैं तब आपके अनुसार किताब का कौन सा ऐसा हिस्सा है जिसके सार को आपको बचाने की ज़रूरत होती है?"

कहानी का टोन स्थापित करने के साथ शुरुआत करें जिसे आप बताना चाहते हैं, और ज़रूरी नहीं है कि आपका टोन उस किताब के टोन से मैच करे जिसे आप रूपांतरित कर रहे हैं। कई किताबों में कई टोन होते हैं, जिसकी वजह से टीवी शो देखने वाले दर्शक उलझन में पड़ सकते हैं।

उदाहरण के लिए टोन भयानक, शरारती, पूर्वाभास, गर्मजोशी भरा, या हल्का-फुल्का हो सकता है।

वहीं, सीमाएं लेखकों को वो ढाँचा और दायरा प्रदान करती हैं जिनके अंदर उन्हें काम करना होता है। ऐसी कौन सी चीज़ है जो किरदार कभी नहीं करेंगे? आपको इस शो में किस तरह के संवाद कभी नहीं मिलेंगे? इससे महत्वपूर्ण लेखन निर्णय लेना आसान हो जाता है।

अंत में, अपने शो का सार पता करें। किताब में ऐसी कौन सी महत्वपूर्ण चीज़ उभरकर सामने आती है जिसे आप अपनी टेलीविज़न सीरीज़ में नहीं खोना चाहते हैं? क्या यह कोई बड़ा विचार, भावना, संसार, या कोई और चीज़ है? इस बात का ध्यान रखें कि आपकी कहानी इसी सार पर केंद्रित हो।

2. कहानी की संरचना समझें

"जब मैंने पहली बार "Pachinko" पढ़ी थी तो मुझे यह बहुत अच्छी लगी। भले ही मैंने इसे हवाई जहाज़ में पढ़ना शुरू किया था और इसे नीचे नहीं रख पा रही थी, फिर भी मुझे तुरंत ऐसा नहीं लगा था कि मैं यह कर सकती हूँ। और भले ही मुझे यह किताब बहुत अच्छी लगी थी, लेकिन इसके रूपांतरण को लेकर मेरे मन में एक संकोच था क्योंकि इस किताब की संरचना कुछ ऐसी थी जो सीधे रूपांतरित होने के लिए मुझे बहुत ज़्यादा आकर्षक नहीं लगी, और ऐसा इसलिए क्योंकि इसे कालानुक्रमिक रूप में बताया गया था। और मुझे इस बात की चिंता थी कि इसमें कोरियाई मास्टरपीस थिएटर जैसा अनुभव होगा – क्योंकि यह पुराने समय की कहानी थी और 100 साल की अवधि में थी। और मुझे मास्टरपीस थिएटर बहुत पसंद है; लेकिन मैं वैसे निर्माण के लिए सही इंसान नहीं हूँ।

इसलिए, शुरू में मैं इसके साथ काम कर रही थी और अपने एजेंट से बात कर रही थी। और फिर, एक ऐसा समय आया, जब मुझे समझ आया कि किताब के बारे में जो चीज़ मुझे सच में बहुत पसंद है वो यह कि कैसे एक पीढ़ी का बलिदान अगली पीढ़ी के लिए फायदेमंद साबित होता है या उसे शाप देता है। मुझे एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी के बीच की बातचीत में बहुत दिलचस्पी थी। और अगर मैं किताब को कालानुक्रमिक रूप से बताती तो चौथे सीज़न तक, यानी सीरीज़ के अंत तक मुझे कहानी का मुख्य विचार बताने का मौका नहीं मिलता। और मुझे सचमुच ऐसा लगता था कि इसकी वजह से किताब व्यर्थ हो गई है और इसके रूपांतरण के शानदार होने की संभावना ख़त्म हो गई है।"

जिस तरह से किताब आगे बढ़ती है, ज़रूरी नहीं है कि उस कहानी को बताने का वही सबसे अच्छा तरीका हो, लेकिन वो तरीका अपने माध्यम के लिए सही हो सकता है। इसी प्रकार, टीवी शो को हर हफ्ते, हर एपिसोड में अपने दर्शकों को बांधकर रखना पड़ता है।

मान लीजिये आपने किसी टेलीविज़न सीरीज़ को उसी क्रम में लिखा है जैसे किताब लिखी गई थी। ऐसे में, आपके पास बहुत कम रोचक कहानियां होंगी, बहुत सारे अनसुलझे सवाल होंगे, और अचानक ऐसे किरदार दिखाई देंगे जिनका उन किरदारों से कोई लेना-देना नहीं होगा जिनसे आपके दर्शक पहले ही मिल चुके हैं।

इससे बचने के लिए, किसी कहानी को अध्यायों में मानने के बजाय सम्पूर्ण मानें।

हर एपिसोड में आप क्या सार रखना चाहते हैं? आप ज़रूरी दृश्यों को कैसे व्यवस्थित कर सकते हैं ताकि घटनाओं का क्रम समझने के लिए दर्शकों के पास सारी जानकारी हो? बाद के एपिसोड में कहानी समझ आने के लिए दर्शकों को किससे पहले ही मिलने की ज़रूरत होती है?

किसी किताब को टीवी शो में बदलते समय कहानी के क्रम को समझना आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण चरणों में से एक होता है। ध्यान रखें कि फ़िल्मी संस्करण को ज़्यादा रोचक बनाने के लिए किताब के संपूर्ण खंडों को हटाने की ज़रूरत पड़ सकती है।

"शो की संरचना समझने के बाद, अचानक, मेरे दिमाग में विचारों की लहर चलने लगी, और मुझे वो सारे शोध करने में बहुत मज़ा आया। सबसे पहले, कहानी का बहुत सारा हिस्सा अज्ञात था, न केवल मेरे लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए, और शोध करना सचमुच बहुत संतोषजनक था।"

3. अपने कहानीकार चुनें

"तो फिर मैंने फैसला किया कि मैं इसे किताब की तरह घटनाओं के क्रम में नहीं बताऊंगी। इसलिए, हमने अपनी एक किरदार – सुंजा, हमारी मुख्य किरदार की कहानी – को क्रॉस-कट किया, और वो 1989 में हमारे तथाकथित वर्तमान दिन में उसके पोते की कहानी के साथ क्रॉस-कट करता है। और हमारे शो के चारों सीज़न उसकी दादी की शुरू से अंत तक की कहानी और हमारे अपने सोलोमन के उतार-चढ़ाव के बीच की परस्पर क्रिया है।"

किसी किताब को टीवी स्क्रिप्ट में बदलते समय, हर किरदार को जगह नहीं मिल पाती। कुछ किरदार एक ही किरदार में मिल जाते हैं, जो कहानी में एक से ज़्यादा लक्ष्यों को पूरा करता है।

दृश्यात्मक कहानी सरल होने पर सबसे अच्छी होती है, जो टीवी के मामले में और भी महत्वपूर्ण है। दर्शक यह समझना चाहते हैं कि बाकी के सीज़न में वो किसे देखने वाले हैं, और वो करने के लिए, आपको उन लोगों की सूची को सरल बनाने की ज़रूरत पड़ती है जिनसे उन्हें मिलना है। नहीं तो, आपके पायलट में बस किरदार ही किरदार दिखाई देंगे और कहानी के लिए बहुत कम जगह बचेगी।

इसके अलावा, आपको टीवी स्क्रिप्ट को उसी दृष्टिकोण से लिखने की ज़रूरत नहीं होती जिस दृष्टिकोण से किताब या उपन्यास लिखा गया था। कोई दूसरा कहानीकार चुनने पर नए विचारों को उत्पन्न होने का मौका मिलेगा, और शायद, ज़्यादा शक्तिशाली संदेश भी मिल सकता है।

4. किताब को अपनी प्रेरणा बनाएं

"वास्तव में, मुझे लगता है कि हर किताब के लिए एक अलग प्रक्रिया होगी। लेकिन कम से कम जहाँ तक मेरी बात है, और ऐसे बहुत सारे लोगों के लिए जिनसे मैं बात करती हूँ, सभी रूपांतरणों के मामले में एक समानता होती है, वो यह है कि किताब को आपकी प्रेरणा होना चाहिए, लेकिन यह आपके लिए स्टेप-बाई-स्टेप मैन्युअल नहीं बन सकता … मुझे ऐसा लगता है कि आपको किताब को अंदर से बाहर तक पूरा समझना पड़ता है। और इससे मेरा यह मतलब है कि एक समय ऐसा आएगा जब आपको असली मूल सामग्री को जाने देना पड़ता है और अपनी कहानी में एक ऐसी जान भरनी पड़ती है जिसे फिल्माया जा सके, ठीक है? फ़िल्मी माध्यम बहुत अलग होता है।"

आप किसी किताब से बहुत सारी प्रेरणा ले सकते हैं, जिसमें उसके किरदार, आर्क्स और रिश्ते, प्रमुख दृश्य और क्षण, और यहाँ तक ​​कि एक शानदार अंत भी शामिल है। लेकिन याद रखें कि टीवी शो छोटी फ़िल्मों की तरह होते हैं; प्रत्येक एपिसोड को अपनी ख़ुद की कहानी की ज़रूरत पड़ी है, जिसमें एक रोचक परिस्थिति होनी चाहिए जो आपको अगले हफ्ते वापस आने पर मजबूर कर दे।

किताब अपने आप यह काम पूरा नहीं करता।

अपनी किताब को कहानी की प्रेरणा की तरह इस्तेमाल करें, लेकिन कभी भी पूरे टीवी शो की रूपरेखा के रूप में नहीं।

सारांश

किसी किताब को टीवी शो के लिए रूपांतरित करना इसे फ़िल्म के लिए रूपांतरित करने से ज़्यादा बड़ी चुनौती हो सकता है; टीवी शो तीन अंक की पारंपरिक संरचना का पालन नहीं करते हैं, और आपके पास अपनी बात रखने के लिए और भी कम समय होगा। हालाँकि, प्रेरणा के रूप में प्रयोग करने पर, टीवी सीज़न के माध्यम से सार, मुख्य किरदारों, और दृष्टिकोण को चमकने का मौका देकर लेखक टीवी के माध्यम के लिए रूपांतरित किताब में जादू खोज सकते हैं।

अपनी प्रेरणा के लिए किसी शानदार किताब पर विचार करें, और कहानी कहने का एक नया, दृश्यात्मक तरीका निर्धारित करते हुए इसे पृष्ठभूमि में रहने दें।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

ग्राफ़िक पर लेखक मार्क गैफेन जिसपर लिखा है, "ग्राफ़िक उपन्यास लिखने के बारे में आपको क्या पसंद है"

आपकी अगली कहानी एक ग्राफ़िक उपन्यास क्यों होनी चाहिए

कोई भी कहानी बताने के इतने सारे तरीके हैं, लेकिन ज़्यादातर लेखकों को अपनी पसंद के आर्ट फॉर्म में ही लिखने में मज़ा आता है और वो इसपर टिके रहते हैं। उपन्यास से लेकर वेब सीरीज़ तक और पटकथाओं से लेकर कॉमिक बुक्स तक, लेखकों को अपने आपसे यह पूछने की ज़रूरत होती है कि उनके आईडिया को लोगों तक पहुंचाने के लिए उनके लिए कौन सा माध्यम सबसे अच्छा रहेगा। लेकिन मैं हर लेखक को कभी-कभी अपने मनपसंद स्टोरीटेलिंग प्लेटफॉर्म के अलावा भी किसी दूसरे अलग माध्यम को आजमाने के लिए प्रोत्साहित करूंगी। यह एक रचनाकार के रूप में विकसित होने में आपकी मदद करेगा, नए दृष्टिकोणों को प्रकट करेगा जिन्हें आपने पहले कभी नहीं देखा, या फिर आपको ख़ुद को व्यक्त करने का एक नया पसंदीदा तरीका भी मिल सकता है...

किताब का रूपांतरण लिखने का अधिकार कैसे पाएं

किताब का रूपांतरण लिखने का अधिकार कैसे पाएं

हम सबने कोई अच्छी किताब पढ़ने के बाद यह ज़रुर सोचा होगा कि, "वाह, इसपर अच्छी फ़िल्म बनेगी!" हममें से कितने लोगों ने स्क्रीन के लिए किसी किताब पर आधारित पटकथा लिखने के बारे में सोचा होगा? आप वो कैसे करेंगे? आपको किस तरह के अधिकार लेने की ज़रुरत पड़ती है? यह जानने के लिए आगे पढ़ें कि किताब का रूपांतरण लिखने का अधिकार कैसे पाया जाता है। किताब का रूपांतरण कहाँ से शुरू करें - जहाँ तक किताब का रूपांतरण लिखने की बात आती है, आपको इसके अधिकार ख़रीदने के बारे में सोचने की ज़रुरत होती है। आप किसी किताब या पहले से मौजूद कृति पर पटकथा लिखकर, बाद में इसे बेचने की उम्मीद नहीं कर सकते हैं...