पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

किसी फ़िल्म में डक सीन क्या होता है?

डक सीन क्या होता है?

आप डेविड लिंच को "इरेज़रहेड," "ट्विन पीक्स," या "मलहॉलैंड ड्राइव" जैसे अजीब कार्यों के निर्देशक के रूप में जानते होंगे। डेविड लिंच को नए फ़िल्म निर्माताओं को प्रोत्साहित और शिक्षित करने के लिए भी जाना जाता है। रचनात्मकता और फ़िल्म पर उनका अपना मास्टरक्लास भी है।

डेविड लिंच की फ़िल्म निर्माण से जुड़ी एक सलाह मेरे दिमाग में बस गई है, और मैं इसपर थोड़ा और विचार करना चाहती हूँ। क्या आपने कभी यह वाक्य सुना है "द आई ऑफ़ द डक"? इसका क्या मतलब है, और फ़िल्म निर्माण और पटकथा लेखन से इसका क्या लेना-देना है?

डक सीन एक ऐसा दृश्य होता है जो फ़िल्म और इसके किरदारों के विभिन्न पहलुओं को जोड़ता है। ज़रूरी नहीं है कि यह क्लाइमेक्स हो या फिर कथानक के लिए ज़रूरी हो, बल्कि यह एक अच्छी तरह से रखा हुआ दृश्य होता है जो फ़िल्म के विषय की पुष्टि करने में मदद करता है।

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

आगे पढ़ते रहिये क्योंकि आज मैं आपको बताने वाली हूँ कि डक सीन क्या होता है और हम सब मशहूर प्रगतिशील निर्देशक डेविड लिंच से कैसे सीख सकते हैं।

द आई ऑफ़ द डक सीन के लिए डेविड लिंच का आईडिया कहाँ से आया?

डेविड लिंच ने एक बत्तख और फ़िल्म की अपनी तुलना के बारे में नीचे समझाया है।

"बत्तख सबसे सुंदर जानवरों में से एक है। यदि आप बत्तख पर गौर करें तो आपको कुछ चीज़ें दिखाई देंगी: उनकी चोंच एक निश्चित बनावट और निश्चित लंबाई में होती है; सिर एक निश्चित आकार में होता है; उनकी चोंच का टेक्सचर बहुत चिकना होता है, और इसमें कुछ सटीक बारीकियां होती हैं और यह आपको कुछ हद तक पैरों की याद दिलाता है, पैर थोड़े ज़्यादा रबड़ जैसे होते हैं। उनका शरीर बड़ा, मुलायम होता है, और टेक्सचर बहुत ज़्यादा स्पष्ट नहीं होता। पूरे बत्तख में सबसे महत्वपूर्ण उसकी आँखें और उनका स्थान होता है। यह छोटे से रत्न जैसा होता है। यह रत्न की तरह दिखने के लिए बिल्कुल सही जगह लगा होता है – सिर के बिल्कुल बीच में, S कर्व के बगल में, जहाँ से चोंच बाहर निकलती है, लेकिन फिर भी यह इतनी दूरी पर रहता है कि आँख बिल्कुल अलग और व्यवस्थित लगे। जब आप किसी फ़िल्म पर काम कर रहे होते हैं, तो कई बार आपको चोंच, पैर, शरीर और सब कुछ मिल सकता है, लेकिन बतख की यह आँख एक निश्चित दृश्य है, यह गहना है, अगर यह वहाँ है तो फ़िल्म बेहद खूबसूरत बन जाती है। यह बहुत ही शानदार है।"

तो, आप शायद ख़ुद से पूछ रहे होंगे, "वो क्या बोल रहे हैं कुछ समझ नहीं आ रहा?" यदि आप डेविड लिंच को जानते हैं, तो आप जानते होंगे कि उनका काम कभी-कभी अपने असली स्वरूप में चुनौतीपूर्ण हो सकता है। "बतख की आँख" की उनकी अवधारणा को समझाना भी उससे अलग नहीं है, इसलिए थोड़ा धैर्य रखिये मैं आपको सबकुछ समझाती हूँ!

फ़िल्म बत्तख के शरीर की तरह होती है

डेविड लिंच एक पूरी फ़िल्म की तुलना बत्तख के शरीर से करते हैं। उनका कहना है कि बत्तख के शरीर में सबसे महत्वपूर्ण उसकी आँखें होती हैं, जिसमें उसकी सुंदरता और स्थान दोनों शामिल हैं। वो कहते हैं कि जब आप किसी बत्तख को देखते हैं तो उसके शरीर के संबंध में उसकी आँखें बिल्कुल सही जगह लगी होती हैं। अगर ये आँखें शरीर में कहीं और लगी होतीं तो बिल्कुल अजीब या गलत लगतीं; इसके बिना, बत्तख अजीब दिखाई देता। बत्तख की आँख की स्थिति बिल्कुल सही लगती है और उसके रूप को पूरा करती है।

किसी फ़िल्म को बत्तख में बदलें

उसके बाद, इस सोच को किसी फ़िल्म की बॉडी में ट्रांसफर किया जा सकता है। इसमें एक ऐसा दृश्य, "द आई ऑफ़ द डक" या "द डक सीन," होना चाहिए जो बिल्कुल सही जगह पर फिट हो और फ़िल्म व इसके किरदारों के बारे में कुछ बिल्कुल सच्चा व्यक्त करे।

बत्तख आँख के बिना ज़िंदा रह सकते हैं

किसी बत्तख की तरह, फ़िल्म भी अपनी आँख के बिना रह सकती है। यह डक सीन सिमटकर क्लाइमेक्स या किसी महत्वपूर्ण व्याख्यात्मक क्षण में आ सकता है। डक सीन को कहानी आगे बढ़ाने की ज़रूरत नहीं होती है। यह भी ज़रूरी नहीं है कि डक सीन कहानी के केंद्र में हो, लेकिन इसमें कुछ ऐसा होता है जो फ़िल्म के पहलुओं की पुष्टि करता है, उन्हें स्थिर करता है, या जोड़ता है।

यह कोई सटीक विज्ञान नहीं है

किसी फ़िल्म में डक सीन का पता लगाना कोई सटीक विज्ञान नहीं है। डेविड लिंच को अपनी फ़िल्मों में डक सीन को याद करने या उनका पता लगाने में मुश्किल होती है! ज़रूरी नहीं है कि डक सीन कहानी की संरचना के बारे में हो, बल्कि यह भावना और समझ के बारे में है। यह एक ऐसा क्षण है जहाँ सब कुछ एक साथ सही जगह पर आता है और पूरी फ़िल्म के लिए संयोजी ऊतक और फ़िल्म की सच्चाई के एक दृश्य प्रतिनिधि के रूप में काम करता है। मैं डक सीन को फ़िल्म के मूल तक जाने के रूप में समझती हूँ।

निष्कर्ष

मैं एक डक सीन को किसी कथात्मक या संरचनात्मक पहलू के रूप में परिभाषित नहीं करती, बल्कि एक ऐसे दृश्य के रूप में बताती हूँ, जो कारकों (विषय, किरदार, गतिविधियों इत्यादि) का एक अनूठा और सही मिश्रण प्राप्त करता है, जो पूरी फ़िल्म को दर्शाता है और जोड़ता है।

फ़िल्म निर्माण की कला में दूसरे फिल्मकारों के तरीकों को जानना बहुत आकर्षक हो सकता है। अगली बार डेविड लिंच की कोई फ़िल्म देखते समय, देखिये कि आप डक सीन का पता लगा पाते हैं या नहीं। या अपनी ख़ुद की पटकथाओं और फ़िल्मों में डक सीन का पता लगाने की कोशिश करें! यदि आपको लगता है कि आप ऐसा नहीं कर सकते तो परेशान न हों। डक सीन कोई ठोस क्षण नहीं, बल्कि काफी हद तक एक भावना है।

आपको यह ब्लॉग पोस्ट कैसा लगा? इसे अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पर शेयर करें! हम इसकी बहुत सराहना करते हैं।

मुझे उम्मीद है कि बत्तख की आँख के बारे में बात करने से आपको यह सोचने में मदद मिली होगी कि आपके दृश्य कैसे महसूस होते हैं और आपके दर्शकों के सामने कैसे आते हैं। लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

How Do You Create Climactic Twists in Your Screenplay? Screenwriter Bryan Young Explains

अपनी पटकथा में रोमांचक मोड़ कैसे लिखें

मुझे मोड़ बहुत पसंद हैं! लेकिन दुर्भाग्य से, अक्सर ऐसे मोड़ का आसानी से अनुमान लगाया जा सकता है। मैं लगभग हमेशा पहले अंक में ही आने वाले मोड़ के बारे में बता सकती हूँ, और इसकी वजह से मेरे साथ फ़िल्म या टीवी देखने वाले लोग परेशान हो जाते हैं। इसलिए, अगर आप अपनी पटकथा में रोमांचक मोड़ लिखना चाहते हैं तो ऐसी कुछ जाँची-परखी हुई तकनीकें मौजूद हैं जो आपके दर्शकों को आगे आने वाले मोड़ के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगी। और, शायद आप मुझे भी इसका अंदाज़ा लगाने पर मजबूर कर दें! ब्रायन यंग एक फ़िल्म निर्माता, पटकथा लेखक, और कुछ शानदार वेबसाइटों के पत्रकार हैं, जिनमें StarWars.com...

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

मोंटाज़। हम सभी देखने पर इसे जान जाते हैं, लेकिन असल में वहां क्या हो रहा होता है? मैं अपनी पटकथा में मोंटाज़ कैसे फॉर्मेट करूँ? अगर मेरा मोंटाज़ एक से ज्यादा स्थानों में हो रहा है तो क्या होगा? यहाँ मोंटाज़ लिखने के बारे में कुछ उपाय और सुझाव दिए गए हैं जिनसे मुझे अपने लेखन में मदद मिली है। वास्तव में मोंटाज़ क्या होता है? मोंटाज़ छोटे दृश्यों या पलों का संग्रह होता है जिसे तेजी से समय का बीतना दिखाने के लिए एक साथ जोड़ा जाता है। आमतौर पर, मोंटाज़ में बहुत कम, या बिल्कुल संवाद नहीं होते हैं। मोंटाज़ का इस्तेमाल समय को संक्षिप्त करने के लिए किया जा सकता है और छोटी अवधि में हमें कहानी का बड़ा हिस्सा बताया जा सकता है। मोंटाज़ का प्रयोग कई स्थानों पर मौजूद चरित्रों को ऐसी चीजें करते हुए दिखाने के लिए किया जा ...

पारंपरिक पटकथा में दृश्य का विवरण

पारंपरिक पटकथा में दृश्य का विवरण कैसे लिखें

आदर्श रूप से, मैं दृश्य के ऐसे विवरण लिखना चाहती हूँ जो दिलचस्प, साफ हों, और पन्ने से दृश्यों को बाहर निकाल सकें। मैं चाहती हूँ कि मेरी पटकथा पढ़ने में पाठक को आसानी हो, और ऐसे दृश्य विवरण रखना चाहती हूँ जो आसानी से पाठकों की रूचि बढ़ाएं, और उन्हें मेरी कहानी की दुनिया में ज्यादा से ज्यादा गहराई में उतार दें। मैं चाहती हूँ कि मेरे दृश्य विवरणों में ये विशेषताएं हों, लेकिन अफ़सोस, मेरे पास जाहिर करने के लिए बहुत ज्यादा शब्द हैं। इसपर मेरा कोई बस नहीं। अक्सर मेरे पहले ड्राफ्ट लम्बे विवरणों से भरे होते हैं, और मेरे दृश्य विवरण इनसे अलग नहीं हैं। यहाँ कुछ उपाय दिए गए हैं जिनकी मदद से मैं अपने दृश्य विवरणों को पारंपरिक पटकथाओं के अनुरूप रखती हूँ! अपने दर्शकों को कम न समझें। बहुत ज्यादा चिंता न करें; आप जो बताना चाहते ...