पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

फ़िल्म ट्रीटमेंट के उदाहरण

पटकथा लिखना पटकथा लेखक के काम का केवल एक हिस्सा है। एक पटकथा लेखक को अपने काम को सारांशित करने और बेचने में भी सक्षम होना चाहिए। प्रत्येक पटकथा लेखक के लिए शानदार ट्रीटमेंट लिखने का महत्वपूर्ण कौशल विकसित करना ज़रूरी है। फ़िल्म ट्रीटमेंट क्या है, और आप इसे कैसे लिखते हैं? आगे पढ़िए क्योंकि आज मैं आपको ट्रीटमेंट की दुनिया में ले जाने वाली हूँ और साथ ही कुछ फ़िल्म ट्रीटमेंट के उदाहरण भी दूंगी!

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

फ़िल्म ट्रीटमेंट के उदाहरण

फ़िल्म में ट्रीटमेंट क्या है?

सही मायनों में, फ़िल्म ट्रीटमेंट को आपकी फ़िल्म का ब्लूप्रिंट माना जा सकता है। ट्रीटमेंट एक ऐसा दस्तावेज़ है, जो पटकथा का सारांश देने के लिए लिखा जाता है। फ़िल्म के ट्रीटमेंट को कहानी की रूपरेखा बतानी चाहिए, किरदारों का विवरण देना चाहिए, और प्रमुख विषयों व टोन के बारे में बताना चाहिए। ट्रीटमेंट 5-15 पेजों तक का हो सकता है।

ट्रीटमेंट लिखने के लिए उद्योग में कोई मानक तय नहीं है, इसलिए आप थोड़ी रचनात्मकता डाल सकते हैं। ट्रीटमेंट में संवाद के सैंपल, स्थान की जानकारी, विशेष शॉट के उदाहरण, यहाँ तक कि संगीत के विवरण भी हो सकते हैं। आपके ट्रीटमेंट में वो सब कुछ शामिल होना चाहिए जो आपकी स्क्रिप्ट की दुनिया को जीवंत बनाने के लिए आवश्यक है, लेकिन बहुत ज़्यादा विवरणों से इसे गहन या बोझिल न बनाएं।

यदि स्क्रिप्ट किसी टेलीविज़न शो का पायलट है, तो ट्रीटमेंट अक्सर शो के पहले सीज़न के बारे में ज़्यादा गहराई से बताएगा, जिसमें एपिसोड के छोटे सारांश और शो के संपूर्ण कथानक की योजना प्रदान की जाती है।

आपको अपनी फ़िल्म के लिए स्क्रिप्ट ट्रीटमेंट की आवश्यकता क्यों है?

किसी लेखक के लिए उसकी पटकथा को और विकसित करने और योजना बनाने में मदद करने के लिए एक फ़िल्म ट्रीटमेंट एक उपयोगी उपकरण हो सकता है। कुछ लेखक पहला ड्राफ्ट लिखने से पहले ट्रीटमेंट लिखते हैं क्योंकि यह पूरी कहानी को मैप करने और किरदारों को बेहतर बनाने का एक तरीका हो सकता है।

अपनी परियोजना को एजेंटों, निर्माताओं या कार्यकारियों के सामने पिच करने के लिए भी ट्रीटमेंट का प्रयोग किया जा सकता है। एक आकर्षक ट्रीटमेंट लोगों को आपकी स्क्रिप्ट पढ़ने और इसे बेचने में मदद करने के लिए आकर्षित कर सकता है। संभावित निवेशकों को अपनी फ़िल्म समझाने में मदद करने के लिए भी ट्रीटमेंट एक उपयोगी उपकरण हो सकता है।

ट्रीटमेंट के प्रमुख तत्व क्या हैं?

ट्रीटमेंट के कुछ प्रमुख घटकों में शामिल हैं:

  • शीर्षक

  • लेखक का नाम और संपर्क जानकारी

  • लॉगलाइन

  • शैली

  • सारांश

  • चरित्र विवरण

  • विषय

  • टोन

यदि ट्रीटमेंट एक पायलट स्क्रिप्ट के लिए है, तो इसमें यह भी शामिल होना चाहिए:

  • सीज़न 1 के लिए एपिसोड के संक्षिप्त सारांश

  • भविष्य के सीज़न कहाँ जा रहे हैं इसका विवरण

फ़िल्म ट्रीटमेंट के उदाहरण

मैं फ़िल्म ट्रीटमेंट और उनमें शामिल प्रमुख तत्वों के बारे में विस्तार से बता सकती हूँ, लेकिन कभी-कभी उदाहरण सीखने का सबसे अच्छा तरीका होता है। यहाँ फ़िल्म ट्रीटमेंट के कुछ उपयोगी उदाहरण दिए गए हैं, जो दिखाते हैं कि विभिन्न ट्रीटमेंट कैसे हो सकते हैं।

  • "हैलोवीन H2O: 20 इयर्स लेटर" (1998)

    केविन विलियम्सन द्वारा लिखित यह ट्रीटमेंट फ़िल्म के कथानक का पूरा विवरण देता है। इसमें संवाद के कुछ क्षण हैं, लेकिन इस ट्रीटमेंट का मुख्य फोकस तीन अंकों को विभाजित करके कहानी की व्याख्या करना है।

  • "मिस्टर एंड मिसेज स्मिथ" (2005)

    साइमन किंडबर्ग द्वारा लिखित यह ट्रीटमेंट, स्पष्ट और संक्षिप्त ट्रीटमेंट का एक अच्छा उदाहरण है, जो किरदारों को कुशलता से सेट करता है और कहानी की व्याख्या करता है।

  • "माई ओन प्राइवेट आइडाहो" (1991)

    गस वान सैंट द्वारा लिखित, यह ट्रीटमेंट इस बात में दिलचस्प है कि यह तैयार फ़िल्म से कितना अलग है, ख़ासकर मुख्य चरित्र के संबंध में। यह स्थान के आधार पर फ़िल्म को विभाजित करता है और संवाद के क्षण पेश करता है।

  • "द शाइनिंग" (1980)

    स्टेनली कब्रिक द्वारा लिखित, यह ट्रीटमेंट लगभग 80 पेज का है! यह ट्रीटमेंट इस रूपांतरण के लिए कब्रिक के कलात्मक दृष्टिकोण में दिलचस्प अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।

  • "द टर्मिनेटर" (1984)

    अपने लंबे ट्रीटमेंट के लिए मशहूर जेम्स कैमरून द्वारा लिखित यह ट्रीटमेंट फ़िल्म की कहानी का विस्तृत विवरण प्रदान करता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है, इस ब्लॉग से आपको फ़िल्म ट्रीटमेंट के बारे में ज़्यादा जानने में मदद मिली होगी! अपने ख़ुद के फ़िल्म ट्रीटमेंट तैयार करने में मदद पाने के लिए इन उदाहरणों का प्रयोग करें। याद रखें, आपके ट्रीटमेंट को आपके स्क्रिप्ट की दुनिया दिखानी चाहिए और इसे जीवंत करना चाहिए! अपने ट्रीटमेंट में बेकार के विवरण न भरें; केवल वही रखें जो आपकी कहानी को दर्शाने के लिए ज़रूरी है। लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

प्रश्न चिन्ह

क्या कहा?! पटकथा लेखन से संबंधित शब्द और अर्थ

माहिर पटकथा लेखक कहते हैं कि पटकथा लिखना सीखने के सबसे अच्छे तरीकों में से एक है ऐसी पटकथाओं को पढ़ना जो पहले ही बनाई जा चुकी हैं। ऐसा करते समय आपके सामने कुछ अपरिचित शब्द आये होंगे, विशेष रूप से अगर आप इस कला में नए हैं तो ऐसा जरूर हुआ होगा। हमने आपके लिए एक क्विक रीड तैयार किया है ताकि ऐसे किसी अनजान शब्द या संक्षिप्त रूप के सामने आने पर आप इसे देख सकें। निश्चित रूप से, अगर आप अपनी पटकथा लिखने वाले हैं तो भी इन्हें जानना अच्छा होता है! गतिविधि - आमतौर पर गतिविधि से दिखाना संवाद के माध्यम से कहने से ज्यादा बेहतर होता है। गतिविधि दृश्य का विवरण होता है यह कि चरित्र क्या कर रहा है, और अक्सर ध्वनि का विवरण भी होता है। एंगल ऑन - एक कैमरा शॉट जो निर्देशक को यह बताने ...

अपनी पटकथा बेचें

अपनी पटकथा कैसे बेचें

आपने अपनी पटकथा पूरी कर ली है, और पूरी करने से मेरा मतलब है आपने इसे बिल्कुल पूरा कर लिया है। आपने इसे लिखने के बाद, दोबारा दोहरा लिया है, इसे संपादित कर लिया है, और अब आप इसे बेचना चाहते हैं। आप वो कैसे करते हैं?! आज मैं आपको अपनी पटकथा बेचने के तरीकों के बारे में बताने वाली हूँ। मैनेजर या एजेंट पाएं: मैनेजर किसी लेखक की विकसित होने में मदद करते हैं। वे आपको फ़ीडबैक देते हैं जिससे आपकी पटकथा ज़्यादा मजबूत होगी, नेटवर्क बनाने में आपकी मदद करते हैं, और इंडस्ट्री के पेशेवर लोगों का ध्यान आपकी ओर आकर्षित करने की कोशिश करते हैं। मैनेजर आपके लिए एक ऐसा एजेंट खोजने में...

मशहूर मूवी पिच डेक के उदाहरण

मशहूर मूवी पिच डेक के उदाहरण

किसी निर्माण कंपनी के कार्यकारी के सामने अपनी पटकथा पिच करना मुश्किल काम हो सकता है। कभी-कभी तो आपका मन होता है कि काश आप उस निर्माता के दिमाग में घुसकर उसे अपनी फ़िल्म की परिकल्पना दिखा पाते! लेकिन दुःख की बात यह है कि तकनीक अभी तक वहां नहीं पहुंची है। और इसीलिए हम पिच डेक तैयार करते हैं! पिच डेक मूल रूप से पिच मीटिंग के दौरान अपनी फ़िल्म का सार समझाने में मदद करने के लिए एक दृश्यात्मक सहायता है। यह आम तौर पर बहुत सारे विज़ुअल और कम से कम टेक्स्ट वाला स्लाइड प्रेजेंटेशन होता है, जिसे ऐसी परिस्थितियों में प्रयोग किया जाता है जब अपनी एलीवेटर पिच की वजह से आप निर्माता के दरवाज़े तक पहुंच जाते हैं...