पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन के अनुसार, भविष्य में पटकथा लेखन में होने वाले 3 बदलाव

भविष्य में सफल होने के लिए पटकथा लेखकों को क्या जानने की ज़रुरत है? लिंडा एरोनसन एक पुरस्कार-विजेता पटकथा लेखिका, उपन्यासकार, नाटककार, और पटकथा लेखन गुरु हैं, और वो पटकथा लेखन के उद्योग पर नज़र रखती हैं। और ऐसा नहीं है कि केवल माध्यम में तेज़ी से बदलाव हो रहा है, बल्कि फ़िल्म और टीवी शो से दर्शकों की उम्मीदें भी तेज़ी से बदल रही हैं। जी हाँ, फ़िल्मकारों के पास अपनी ख़ुद की फ़िल्में बनाने, अपने ख़ुद के वेब एपिसोड प्रकाशित करने, और किसी वितरण कंपनी के बिना अपनी कहानियों को बाज़ार में बेचने के लिए सभी टूल्स मौजूद हैं। लेकिन लेखकों को भी अपनी भविष्य की पटकथाओं में इन तकनीकी चीज़ों पर ध्यान देना चाहिए।

अपनी जगह पर बने रहें!

SoCreate पटकथा लेखन सॉफ़्टवेयर का पहले ऐक्सेस पाएं। साइन अप करनामुफ़्त है!

1. एक कथानक पर्याप्त नहीं होगा

एरोनसन ने हमें बताया कि, "अगर आप पेशेवर पटकथा लेखक बनना चाहते हैं तो आपको एक से ज़्यादा कथानक और नायकों को बनाना और उन्हें एक साथ पिरोना सीखना होगा।"

एरोनसन सुझाव देती हैं कि आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि प्रत्येक नायक का एक कथानक हो, इसके लिए आप अपना मुख्य कथानक एक समूह के बारे में रख सकते हैं जो किसी लक्ष्य की खोज में एक साथ आता है या आप समूह के प्रत्येक सदस्य को एक ही नायक के अलग-अलग रूपों की तरह सोचकर ऐसा कर सकते हैं, जो समान परिस्थिति में अपने-अपने तरीके से प्रतिक्रिया करते हैं।

डिजिटल मीडिया के आने की वजह से अब ऐसा हो गया है कि लोग चीज़ों को कहीं ज़्यादा तेज़ी से समझने लगे हैं। पहले अंक का निर्णायक मोड़ लगभग 20 मिनट में आया करता था। लेकिन अब यह 15, 10 मिनट में ही आ जाता है। [पटकथा लेखकों] को एक से ज़्यादा नायकों और उनकी कहानियां बनाने और उन्हें एक साथ पिरोने की समस्याओं को समझने की ज़रुरत है, क्योंकि टेलीविज़न इसी पर आधारित है।
लिंडा एरोनसन

2. फॉर्मेट बहुत कम मायने रखेगा

"अब टेलीविज़न और फ़िल्म आपस में बदल रहे हैं। सब कुछ एक साथ मिल रहा है," एरोनसन ने कहा। "तो, ऐसा मत कहें कि टेलीविज़न देखते समय मैं एक साथ कई कथानक देखूंगा, लेकिन फ़िल्म देखने जाने पर, मैं एक अकेले नायक की कहानी देखना चाहूँगा।"

कहानियां देखने के लिए दर्शकों द्वारा प्रयोग किये जाने वाले फॉर्मेट और माध्यम में तेज़ी से बदलाव हो रहा है, और मेरी राय में यह बदलाव हर रोज़ हो रहा है। YouTube वेबिसोड, IGTV, Netflix के मिनी सीरीज़, Quibi के 10 मिनट के एपिसोड से लेकर, एक साथ देखने, और स्ट्रीम करने लायक सभी सामग्रियों तक, लोग आपकी सामग्री को अलग-अलग तरीकों, और अलग-अलग अवधियों में देखने के लिए तैयार हैं, इसलिए आपको पन्नों की संख्या के बारे में बहुत ज़्यादा सोचने की ज़रुरत नहीं है, इसके बजाय आपको दर्शकों का ध्यान अपनी ओर बनाये रखने और आगे क्या होता है यह जानने के लिए उन्हें उत्साहित रखने की ज़रुरत होगी।

3. दर्शक तेज़ होंगे

"डिजिटल मीडिया के आने की वजह से अब ऐसा हो गया है कि लोग चीज़ों को कहीं ज़्यादा तेज़ी से समझने लगे हैं," उन्होंने कहा। "पहले अंक का निर्णायक मोड़ लगभग 20 मिनट में आया करता था। लेकिन अब यह 15, 10 मिनट में ही आ जाता है, क्योंकि दर्शक ज़्यादा तेज़ हो गए हैं।"

अपने दर्शकों का धैर्य न आजमाएं। अब लोग ज़्यादा देर तक किसी चीज़ पर ध्यान नहीं दे पाते, इसलिए आपको अपने दर्शकों का ध्यान हमेशा अपनी ओर बनाये रखना होगा, एरोनसन ने अपने पहले बिंदु में यही कहा है। उन्हें ऐसी कहानियां बताएं जहाँ दर्शक एक से ज़्यादा किरदारों के प्रति सहानुभूति रख पाएं, जिसमें ज़्यादा चुनौतियों का सामना करने की ज़रुरत हो, और जिसे देखने के एक से ज़्यादा कारण हों।

एरोनसन ने अंत में कहा कि, "हर किसी को एक से ज़्यादा नायकों और उनकी कहानियां बनाने और उन्हें एक साथ पिरोने की समस्याओं को समझने की ज़रुरत है क्योंकि टेलीविज़न इसपर ही केंद्रित है।"

जितना ज़्यादा, उतना अच्छा,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

So, You Want to Be a Screenwriter? TV Writer Monica Piper Says to First Ask Yourself This Question

नए पटकथा लेखकों के लिए कॉमेडियन और टीवी लेखिका मोनिका पाइपर के पांच सुझाव

अगर आपने हाल ही में पटकथा लेखन में अपना हाथ आजमाने की कोशिश करने का फ़ैसला किया है और इसलिए आप इस ब्लॉग तक पहुंचे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर हैं! चाहे आप अपनी ख़ुशी के लिए लिखते हों या इस उम्मीद में लिखते हों कि किसी दिन इससे आपको पैसे कमाने का मौका मिलेगा तो ऐसे में दूसरे प्रतिभाशाली लेखकों के सुझाव सुनना बहुत अच्छा होता है जिनके पास पहले से एक सफल करियर है। आज, आपको वो सुझाव एमी पुरस्कार की विजेता कॉमेडियन, टीवी लेखिका और निर्माता मोनिका पाइपर से मिलने वाले हैं। पाइपर ने "रोज़िन," "रुग्रेट्स," "आह!!! रियल मॉन्स्टर्स," और "मैड अबाउट यू," जैसे टीवी...
ग्राफ़िक पर लेखन परामर्श दाता डैनी मानस जिसपर लिखा है "पटकथा लेखकों के लिए 5 व्यावसायिक सुझाव"

पटकथा लेखन परामर्शदाता डैनी मानस पटकथा लेखकों को व्यवसाय के 5 ज़रूरी सुझाव देते हैं

पटकथा लेखन परामर्शदाता डैनी मानस पूर्व विकास कार्यकारी रह चुके हैं, इसलिए उन्होंने दूसरी तरफ रहकर पटकथा लेखन व्यवसाय के काम करने के तरीके को देखा है। अब वह अपनी ख़ुद की परामर्श कंपनी, No BullScript Consulting, चलाते हैं, ताकि वो पटकथा लेखकों को वो सारी चीज़ें सीखा सकें, जो मनोरंजन इंडस्ट्री में पेशेवर पटकथा लेखक के रूप में सफल करियर बनाने के लिए उनके लिए जानना बेहद ज़रूरी है। और यहाँ आपके लिए एक संकेत है: यह पटकथा के बारे में नहीं होता। उनकी चेकलिस्ट सुनें और काम पर लग जाएं...
Screenwriter Linda Aronson Says It's Normal to Get Stuck, and Here's How to Get Back to Writing

क्या आपको अपने पटकथा कौशलों को लेकर बुरा महसूस हो रहा है? पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन, अपने पटकथा लेखन की उदासी से उबरने के 3 तरीके बताती हैं

किसी-किसी दिन आपके अंदर प्रेरणा की आग जलती है – आप पन्ने पर पन्ने भरे जाते हैं, और आपके दिमाग में न जाने कहाँ-कहाँ से शानदार संवादों के आईडिया आते रहते हैं। और कभी-कभी ऐसा होता है कि आपकी आँखों के सामने खाली पन्ने पड़े रहते हैं और ऐसे ही खाली पड़े रह जाते हैं। अगर ज़रुरत पड़ने पर आपके आसपास आपको प्रोत्साहित करने के लिए कोई मौजूद नहीं है तो अपने आपको पटकथा लेखन की उदासी के बादलों से बाहर निकालने के लिए पटकथा लेखन गुरु लिंडा एरोनसन के इन तीन उपायों को बुकमार्क करने के बारे में सोचें। एरोनसन एक मशहूर पटकथा लेखिका, उपन्यासकार, नाटककार, एवं मल्टीवर्स...