पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अस्वीकृति को बेहतर तरीके से कैसे हैंडल करें

"टेलीविज़न के लिए लिखने का अस्वीकृति से बहुत बड़ा नाता है। आपको बार-बार अस्वीकार किया जायेगा। और आप इसके लिए दुखी भी नहीं हो सकते, जो बहुत मुश्किल होता है। इसमें वही लोग सफल होते हैं जो बहुत उत्पादक होते हैं, जो ज़्यादा से ज़्यादा चीज़ें बना सकते हैं और कभी भी लिखना बंद नहीं करते।"

स्क्रिप्ट कोऑर्डिनेटर और टीवी लेखक मार्क गैफन

अगर लेखक इस व्यवसाय में सफलता पाना चाहते हैं तो उन्हें केवल प्रतिभा की ही नहीं बल्कि व्यक्तिगत कौशलों की भी ज़रूरत पड़ती है। अस्वीकृति हैंडल करना आना चाहिए, क्योंकि, आपको अक्सर अस्वीकार किया जाता है। चाहे यह पेशेवर अस्वीकृति हो, या फिर व्यक्तिगत और रोमांटिक, इन सबकी वजह से होने वाला दर्द एक ही जैसा होता है।

आपके लिए बुरी ख़बर क्या है? अस्वीकृति आसान नहीं होती है। ख़ास तौर पर रचनात्मक लोगों को लम्बे समय तक अस्वीकृति का अनुभव करना पड़ता है। लेकिन जहाँ तक अस्वीकृति की बात आती है तो इसमें बुराई से कहीं ज़्यादा अच्छाई है। आप मजबूत होते हैं। चीज़ों का सामना करने के तरीके सार्वभौमिक होते हैं, इसलिए उन्हें अभी सीख लेने पर आपको अपनी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में आने वाली किसी भी तरह की अस्वीकृति का सामना करने में मदद मिलेगी। और हम सबको अपनी ज़िन्दगी में किसी न किसी तरह की अस्वीकृति का सामना करना पड़ता है, इसलिए आप इसमें अकेले नहीं हैं।

अपनी जगह पर बने रहें! हम जल्द ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

इसके बारे में ज़्यादा जानकारी देने के लिए स्क्रिप्ट कोऑर्डिनेटर मार्क गैफेन हमारे साथ जुड़े हैं ताकि हम अपने दुःख में ख़ुद को थोड़ा कम अकेला महसूस करें। मार्क हॉलीवुड में दो दशकों से काम कर रहे हैं (स्क्रिप्ट कोऑर्डिनेटर, टीवी लेखक, ग्राफिक उपन्यासकार, आदि के रूप में), इसलिए वो अस्वीकार होने में विशेषज्ञ बन चुके हैं। और सच कहूं तो वो अपने काम में बहुत अच्छे हैं, लेकिन बात यह है कि कोई भी इससे बच नहीं सकता।

"मैं एक व्यक्ति को जानता हूँ जो बहुत सफल टीवी शो पर co-EP हैं। उन्हें तीन पायलट लिखने के लिए काम पर रखा गया था, और आख़िर में, उनके तीनों पायलट अस्वीकार कर दिए गए। और इसलिए, मूल रूप से, वो अभी भी वहीं अटके हुए हैं जहाँ वो पहले थे। मैं उन लोगों को जानता हूँ जो शोरनर हैं। मैं उन लोगों को जानता हूँ जो एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं। मैं अपने जैसे लोगों को जानता हूँ, और हम सब धीरे-धीरे टीवी या फ़िल्मों पर उन सभी चीज़ों की ओर बढ़ रहे हैं और अपना रास्ता बना रहे हैं जो हमारे दिमाग में हैं। यह मुश्किल है। बहुत-बहुत मुश्किल। आपको बार-बार मना किया जाता है। अचानक हमारी सालों की कड़ी मेहनत अस्वीकार और समाप्त होने की वजह से, हम सबकी ज़िन्दगी में रो-रोकर अपना तकिया भिगाने और चीखने-चिल्लाने के क्षण आये हैं। आप सबकी ज़िन्दगी में वो काला दिन आएगा जब आपको लगता है कि कोई उस चीज़ को नहीं ख़रीदेगा जो आप चाहते हैं और कोई आपकी बात नहीं सुनेगा।"

सामाजिक अस्वीकृति का शारीरिक दर्द और मनोवैज्ञानिक प्रभाव

शोध बताते हैं कि अस्वीकृति का दर्द भी शारीरिक दर्द के समान महसूस किया जा सकता है।

लेकिन आम तौर पर सामाजिक अस्वीकृति का व्यक्ति की मनोवैज्ञानिक स्थिति और समाज पर भी गंभीर प्रभाव पड़ता है। अस्वीकृति की भावना भावनाओं, अनुभूति और यहां तक कि शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकती है। बहिष्कृत लोग कभी-कभी आक्रामक हो जाते हैं और हिंसा पर उतर सकते हैं। हम हर दिन ख़बरों में अस्वीकृति के इन संकेतों को देख सकते हैं।

जिस तरह से हमें खाने और पानी की ज़रूरत होती है, वैसे ही सकारात्मक बातचीत और संबंधों की भी ज़रूरत होती है। इसकी जड़ें हमारे विकास से गहराई में जुड़ी हुई हैं। उदास महसूस करने पर इस चीज़ को याद रखना बहुत ज़रूरी होता है। आप अकेले नहीं हैं। असल में, हम सबने सामाजिक दर्द के प्रति इस सटीक प्रतिक्रिया को विकसित कर लिया है।

क्या अस्वीकृति आपके लिए अच्छी हो सकती है?

हालाँकि, अस्वीकृति कष्टदायक हो सकती है, लेकिन इसमें एक आशा की किरण भी है, और अगर हम अस्वीकृति के लिए अपनी संवेदनशीलता को कम कर सकें तो हम इसकी अच्छाई को भी देख सकते हैं।

हालाँकि, पहली बार अस्वीकृत होने का कारण यह नहीं था कि हमने ख़राब काम किया था लेकिन अस्वीकृति हम सभी को बेहतर करने के लिए प्रेरित करती है। हम स्थिति का विश्लेषण करते हैं और यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि अगली बार हम बेहतर प्रदर्शन कैसे कर सकते हैं। यह हमें याद दिलाती है कि हम केवल इंसान हैं। यह हमें धैर्यवान और लचीला बनना सिखाती है। यह हमें आगे बढ़ने और नए रास्ते बनाने के लिए एक नया तरीका निकालने के लिए मजबूर करती है। यह हमें वापस इसपर विचार करने पर मजबूर करती है कि हम सच में क्या चाहते हैं, और कौन सी चीज़ हमें मजबूत बनाती है। कठिनाइयों से हम हमेशा आगे बढ़ते हैं।

अस्वीकृति और सामाजिक दर्द से कैसे निपटें?

अस्वीकृति से कोई नहीं बच सकता। यह ज़िन्दगी का हिस्सा है। लेकिन आप जिस तरह से इसके लिए अपनी प्रतिक्रिया देते हैं वो आपके करियर को बना भी सकती है और बिगाड़ भी सकती है। यहाँ पर कुछ उपाय दिए गए हैं जिनकी मदद से अस्वीकृति के लिए संवेदनशील रचनात्मक लोग इस दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।

याद रखें:

  1. अस्वीकृति ज़िन्दगी का हिस्सा है।

  2. अस्वीकृत महसूस करने में कोई बुराई नहीं है।

  3. अस्वीकृति अस्थायी है।

  4. अस्वीकृति आपको कुछ न कुछ सिखाती है।

  5. आप अपनी गलतियों से सीख सकते हैं।

  6. धैर्य बहुत ज़रूरी है।

अपनी आलोचना करने से बचें

अस्वीकृति आपके बारे में नहीं होती। वास्तव में, ज़्यादातर चीज़ें आपके बारे में नहीं होतीं, लेकिन इस टॉपिक पर हम किसी दूसरे ब्लॉग में बात करेंगे। जब कोई हमें "ना" बोल देता है तो भले ही हमारा अपनी आलोचना करने का और अपने आपको बुरा-भला कहने का कितना भी क्यों न मन हो, लेकिन हमें अस्वीकृति की वजह से ख़ुद की आलोचना करने से बचने की ज़रूरत होती है। इसकी वजह से आप अपने बारे में एक ऐसी कहानी बना लेंगे जिसमें ज़रा भी सच्चाई नहीं है, इसलिए पीछे हटें और ख़ुद को याद दिलाएं कि आपको ख़ुद से नकारात्मक बातें नहीं करनी हैं।

अपने बारे में हर अच्छी चीज़ का नोट बनाएं

आपके आत्म-सम्मान को चोट लगने पर, अपने आपको यह याद दिलाना ज़रूरी होता है कि आप कौन हैं और क्या कर सकते हैं। आत्म-सम्मान की भावनाओं को बढ़ावा देने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने व्यक्तित्व के उन पहलुओं को देखें जो आपके लिए बहुत कीमती हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि आपके अंदर ऐसी कितनी सारी चीज़ें हैं जो आपको अनोखा और मूल्यवान बनाती हैं।

अपने ऐसे पांच गुणों की सूची बनाएं जो दूसरों के लिए महत्वपूर्ण हैं। ये ऐसे गुण हो सकते हैं जो आपके रिश्तों, दोस्तों या कर्मचारियों के लिए महत्वपूर्ण हैं। अगर यह सूची पर्याप्त नहीं है, तो उन गुणों पर एक पूरा पैराग्राफ लिखें कि ये गुण या कौशल क्यों महत्वपूर्ण हैं और आपने उन्हें इस परिदृश्य में कैसे इस्तेमाल किया होता। इस चीज़ को लिखना ज़रूरी है, न कि सिर्फ अपने दिमाग में रखना क्योंकि हम इस स्थिति में थोड़ी तर्कसंगतता वापस लाने के लिए अपने दिमाग से ज़्यादा से ज़्यादा दूर जाने की कोशिश करते हैं।

दूसरों से जुड़ें

सामाजिक प्राणी होने के नाते, हमें ऐसे लोगों की ज़रूरत होती है जो हमें चाहें और अहमियत दें। जब वो ऐसा नहीं करते, तो हम परेशान और अलग-थलग महसूस करते हैं। ज़्यादा सहज और लोगों से जुड़ा हुआ महसूस करने के लिए हमें ख़ुद को यह याद दिलाने की ज़रूरत होती है कि लोग हमें पसंद करते हैं और हमें प्यार करते हैं। अगर कोई एजेंट आपकी क्वेरी को अस्वीकार कर देता है या कोई प्रतियोगिता आपको अगले दौर में नहीं ले जाती, तो किसी ऐसे लेखन मित्र से मिलें जो आपकी सराहना कर सके। अगर कोई निर्माता आपको वापस कॉल नहीं करता, तो अपने दादा-दादी को कॉल करें और उनसे बात करें। ज़रूरी नहीं है कि हम आमने-सामने बात करें, लेकिन किसी से वो कनेक्शन महसूस करना ज़रूरी है। अस्वीकृति में कभी कोई मज़ा नहीं होता, लेकिन यह जानना कि इसके प्रभाव को कैसे कम किया जा सकता है और ऐसा होने पर अपनी आत्म-सम्मान की भावना को वापस पैदा करना ज़्यादा तेज़ी से रिकवर होने में और आत्म-विश्वास के साथ आगे बढ़ने में हमारी मदद कर सकता है।

लिखते रहें

"इसे जारी रखें। एक स्क्रिप्ट ख़त्म हो गयी, बहुत अच्छी बात है, अब अगले पर जाएँ। अगला आईडिया सोचें क्योंकि आपको बार-बार अस्वीकार किया जायेगा। जो भी पहली चीज़ आप लिखते हैं, आपको लगता है कि वो शानदार है, कि वो आज तक की सबसे अच्छी चीज़ है। लेकिन शायद यह सच न हो, लेकिन हर बार लिखने पर आप बेहतर होते हैं। और यह एक मांसपेशी है जिसे आपको मजबूत करते रहना होता है। और कभी न कभी, आपको कोई ऐसा ज़रूर मिलेगा जिसे वैसा ही आईडिया पसंद आएगा जो आपको पसंद है। अगर वो आपकी लिखी गयी किसी चीज़ पर एक सीरीज़ बनाना चाहते हैं तो वो यह भी पूछेंगे कि "आपके पास और क्या है?" और उस वक़्त आपके पास पांच-छह ऐसे दूसरे आईडिया होने चाहिए जिन्हें आप पिच कर सकें क्योंकि उस समय उनके आगे जाने की ज़्यादा उम्मीद होती है।"

संक्षेप में कहूं तो अगर आप कड़ी मेहनत करना जारी रखते हैं तो आख़िर में आपको नतीजे दिखने शुरू हो जायेंगे।

विफलता जैसी कोई चीज़ नहीं होती। केवल प्रतिक्रिया होती है। अस्वीकृति के हर अनुभव से सीखें और मजबूत बनने के लिए इसका इस्तेमाल करें। याद रखें कि लोग रचनात्मक कार्य को इसलिए अस्वीकार करते हैं क्योंकि यह उनके लिए सही नहीं था, लेकिन वो सबकुछ नहीं हैं! आपको इस बात की तसल्ली होनी चाहिए कि कम से कम उन्होंने आपकी चीज़ को पढ़ा। उनका काम कुछ ऐसा ढूंढना होता है, जो उनकी कंपनी के लिए सही हो।

"बहुत समय तक ऐसे ही चलता रहता है, और फिर अचानक आपको सफल होने के लिए बस एक चीज़ की ज़रूरत होती है," मार्क ने अंत में कहा।

नहीं ना सुनें,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

Is It Hard to be a Screenwriter? Writer Robert Jury Answers

क्या पटकथा लेखक बनना मुश्किल है? लेखक रॉबर्ट जूरी जवाब देते हैं

पटकथा लेखक, निर्माता और निर्देशक रॉबर्ट जूरी ने अपनी कठिन मेहनत और दृढ़-संकल्प से हॉलीवुड की सीढ़ियां चढ़ी हैं। उन्होंने एलए वाली चीज की है, और वह लोवा शहर के अपने वर्तमान घर में रहते हुए भी एक सफल लेखक हैं। पिछले कुछ दशकों के दौरान, जूरी ने सीखा कि दृढ़ता और जुनून की जगह और कोई चीज नहीं ले सकती है। तो, जब हमने उनसे वो सवाल पूछा जो बहुत सारे महत्वाकांक्षी लेखक हमसे पूछते हैं कि, "क्या पटकथा लेखक बनना मुश्किल है?" तो हमें उनका जवाब बहुत अच्छा लगा। जूरी ने पटकथा रीडर के रूप में अपने करियर की शुरुआत की, वार्नर ब्रदर्स पिक्चर्स में प्रशिक्षण पाया और टचस्टोन पिक्चर्स...
How to Stay Inspired After Rejection, with Veteran TV Writer & Producer Ross Brown

अपने नजरिये में यह बदलाव करके पटकथा लेखक अस्वीकृति को ज़्यादा अच्छे से हैंडल कर सकते हैं

मिशिगन विश्वविद्यालय के एक अध्ययन से पता चलता है कि हमारा मस्तिष्क अस्वीकृति को वैसे ही महसूस करता है, जिस तरह से यह शारीरिक दर्द को महसूस करता है। दुर्भाग्य से, पटकथा लेखकों को बहुत सारा दर्द महसूस करने के लिए ख़ुद को तैयार करना पड़ता है। और आप ऐसा कैसे महसूस न करें, पन्नों पर अपना दिल और आत्मा उतारने के बाद, अगर कोई आपसे यह कहे कि यह उतना अच्छा नहीं है तो आपको कैसा लगेगा? हालाँकि, अस्वीकार होने की चुभन कभी आसान नहीं हो सकती (आख़िरकार, यह हमारे अंदर है), लेकिन फिर भी पटकथा लेखकों के लिए ऐसे तरीके मौजूद हैं, जिनसे वो इसे अच्छे से संभाल सकते हैं, और मनोरंजन के व्यापार में ऐसा कर पाना...
Screenwriter Bryan Young Tells Screenwriters How to Stay Inspired

अगर आपकी कोई पटकथा नहीं बिक रही है तो भी प्रोत्साहित रहना क्यों ज़रूरी है

ठोकर लगने पर भी आगे बढ़ते रहना मुश्किल है। आप जितने चाहे उतने प्रेरणादायक वाक्य पढ़ सकते हैं, लेकिन वापस खड़ा होना कभी भी आसान नहीं होता। इसीलिए, मुझे लेखक, पॉडकास्टर, और फ़िल्म निर्माता ब्रायन यंग की यह सलाह बहुत पसंद आयी। वह StarWars.com, Syfy, और HowStuffWorks.com पर हमेशा आते रहते हैं। उनकी सलाह में भावना का कम और दिमाग का ज़्यादा इस्तेमाल है। आप एक रिमाइंडर के रूप में उनकी इस सलाह को हमेशा अपने पास रख सकते हैं कि आपको यह नहीं सोचना होता है कि ये होगा या नहीं होगा, बल्कि ये सोचें कि कब होगा। "अगर आपकी...