पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अपनी रचनात्मकता तक पहुँचने के लिए पटकथा लेखक के ध्यान का प्रयोग करें

हाल ही में एक ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से मेरा सामना डॉ. मिहाइला ईवान होल्ट्ज़ से हुआ जिसमें उन्होंने ज्यादा परिपूर्ण कलाकार होने के बारे में लिखा था। मैंने SoCreate के ट्विटर खाते से उनके ब्लॉग का लिंक पोस्ट किया था, और यह हमारा आज तक का सबसे ज्यादा क्लिक किया गया लेख बना हुआ है। फिल्म, टीवी, और प्रदर्शन एवं फाइन आर्ट्स से संबंधित लोगों का इलाज करने में विशेषज्ञ होने के नाते, उनके पास रचनात्मक अवरोधों को पार करने के संबंध में हमारे लिए एक विशेष दृष्टिकोण था। उनका तरीका ऐसा नहीं था जिसे मैंने पहले कभी किसी पटकथा लेखन ब्लॉग पर देखा हो, जो ज्यादातर कैसे करें के निर्देशों, पेशेवर लोगों के साथ साक्षात्कारों और फॉर्मेटिंग के नियमों पर आधारित होते हैं। यह उससे भी ज्यादा गहराई में जाता है, और मुझे पता था कि मैं इसे पटकथा लेखन समुदाय के साथ साझा करना चाहूंगी।

लाइन में अपनी जगह पकड़ो, पटकथा लेखक! हम SoCreate स्क्रीन राइटिंग सॉफ़्टवेयर को लॉन्च करने के करीब पहुंच रहे हैं, सीमित संख्या में बीटा परीक्षक।

तो नीचे, आपको डॉ. होल्ट्ज़ का गेस्ट पोस्ट, और एक ध्यान मिलेगा जिसे उन्होंने विशेष रूप से आप, पटकथा लेखकों, के लिए लिखा और रिकॉर्ड किया था। ये दोनों अपनी रचनात्मकता तक पहुँचने और अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान से जुड़ने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। एक लम्बी सांस लें और इसका आनंद उठाएं!

पटकथा लेखक का ध्यान सुनें ध्यान तकिया

ध्यान से अपनी रचनात्मकता तक पहुँचें

एक लेखक के रूप में, आपके अंदर एक अपना भावनात्मक, रचनात्मक स्थान होता है। जब आप वहां होते हैं, तो आपको महसूस होता है कि आप वहीं के लिए बने हैं। आपके विचार अपने आप खुलकर आपके सामने प्रकट होने लगते हैं। आप अपनी रचनात्मकता के साथ एक जैविक संबंध का अनुभव करते हैं।

और कभी-कभी, कुछ बहुत चमत्कारी होता है। एक ऐसा पल आता है जब आपके विचार और प्रेरणा अचानक आपकी प्रतिभा और कौशलों से मिल जाते हैं। आपका हृदय और मस्तिष्क एक बन जाता है। आपकी कहानी आकार लेने लगती है।

अब, आप पूरी तरह से अपने लेखन पर केंद्रित हैं, और कोई दूसरी चीज आपका ध्यान नहीं खींच सकती। आप एक स्थिर स्थान में प्रवेश करते हैं जहाँ सबकुछ संभव है; सबकुछ जुड़ा हुआ है; सबकुछ प्रवाहित होता है। आप छवियों, चरित्रों और कहानी को देखते एवं महसूस करते हैं। इसमें कोई शक नहीं है कि आप सही स्थान में हैं। ऐसा लगता है आप अपनी रचनात्मकता के साथ अपने घर पर हैं। आप बिल्कुल स्वच्छ, मजबूत, और अपनी रचना के साथ जुड़ा हुआ महसूस करते हैं। आप अपनी लिखी हुई चीज पर भरोसा करते हैं। आप जानते हैं कि आपकी कहानी किसी से बातें करेगी।

उस स्थान पर, कोई भी चीज आपको अपनी शक्तिशाली भावनाओं और कल्पना के साथ मिलने से नहीं रोक सकती है। आपकी प्रतिभाएं और कौशल पूरी तरह से संतुलित और जागरूक हैं। आप केवल इसे जाहिर करना चाहते हैं, इसके साथ खेलना चाहते हैं और देखना चाहते हैं कि यह आपको कहाँ ले जा सकती है। यहाँ कोई डर, संदेह, या असुरक्षा नहीं है। आपकी जिज्ञासा आपको आगे बढ़ाती है। आप अपनी कहानी खोजने पर पूरी तरह से केंद्रित हैं। आपको कुछ साबित नहीं करना। आप केवल आपने पास मौजूद चीजों से रचना करते हैं।

लेकिन आप हमेशा इस तरह से अपनी रचनात्मक ऊर्जा के संपर्क में नहीं रहते। बहुत सारे कारक आपको अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान से बाहर निकाल सकते हैं। रचनात्मक इंसान के रूप में जीवन चुनौतीपूर्ण हो सकता है। आप अनजानी चीजों, अस्वीकृतियों और प्रतिस्पर्धा से भरी हुई दुनिया से गुजरते हैं। आप खुद को दबाव में महसूस कर सकते हैं। तनाव, अवसाद, चिंता या उपचार नहीं किये गए भावनात्मक दर्द आपके और आपकी रचनात्मकता के बीच में आ सकते हैं।

तो आप अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान में वापस कैसे जाते हैं, और अपनी रचनात्मक ऊर्जा से वापस कैसे जुड़ सकते हैं?

हालाँकि आपके सचेत मस्तिष्क में आपकी थोड़ी रचनात्मक शक्ति मौजूद होती है, लेकिन यह आपकी पूर्ण रचनात्मक क्षमता का केवल एक छोटा सा पहलू है। आपका सचेत मस्तिष्क एक अच्छा संपादक हो सकता है जो जानता है कि आपको अपनी कहानी कैसे व्यवस्थित करनी है लेकिन कुछ सार्थक लिखने के लिए आपको अपनी रचनात्मकता के सच्चे स्रोत, अपने अवचेतन मस्तिष्क, तक पहुँचने की जरूरत होती है।

आपके अवचेतन मस्तिष्क में आपकी कल्पना का खजाना और आपकी सच्ची रचनात्मक क्षमता मौजूद होती है। आपने जो कुछ भी अनुभव किया है, जो कुछ भी आपकी वास्तविक मानवता ने अपने अंदर समाया है, वो सबकुछ आपके मस्तिष्क के उस हिस्से में होता है। आपके जीवन के खुशी, आश्चर्य, या विस्मय के वो सभी पल उस हिस्से में रहते हैं। आपके जीवन के संघर्ष, डर या निराशा के वो सभी पल उस हिस्से में रहते हैं। आपका अवचेतन मन असीम रचनात्मकता का भंडार है।

अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान तक पहुँचने के लिए, आपके सचेत और अवचेतन मन को एक साथ मिलकर काम करना पड़ता है। आपको अपने तार्किक मस्तिष्क के शोर और भटकावों को शांत करने में समर्थ होने की जरूरत होती है ताकि आप अपनी कल्पना की गहराई और इसके सबसे शक्तिशाली हिस्सों तक जा सकें।

जब आपके अवचेतन मन की धाराएं, आपकी खुली सचेत जागरूकता के साथ मिलकर एक हो जाती हैं, तब आप अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान में जा सकते हैं। इसी समय आपको अपनी सबसे असली, सच्ची, और मानवीय कहानियां मिलती हैं। ये कहानियां ही लोगों को प्रभावित करती हैं और चरित्रों को ज़िंदा कर देती हैं। आप अपने दर्शकों को हंसी, आश्चर्य, संदेह, डर, रहस्य, प्रेम या लड़ाई के पलों से प्रेरित करते हैं। यहाँ, आप एक लेखक के रूप में सबसे ज्यादा शक्तिशाली और प्रभावशाली बनते हैं।

ध्यान आपके भावनात्मक, रचनात्मक स्थान के लिए एक स्वस्थ और विश्वसनीय रास्ता हो सकता है।

एक कलाकार के रूप में, स्वभाविक रूप से आपका झुकाव अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान की ओर होता है। कभी-कभी रोजमर्रा के मानवीय अनुभव आपकी रचनात्मकता की दुनिया का दरवाज़ा खोल देते हैं। प्यार, व्यायाम, गाड़ी चलाना, बहते हुए पानी की आवाज़, या प्रकृति में टहलने से आप वहां पहुँच सकते हैं। और, दुर्भाग्य से, बहुत सारे रचनाकारों ने पता लगाया है कि शराब और नशीली दवाएं भी वहां तक पहुँचने का रास्ता प्रदान करती हैं। नशीली दवाओं और शराब से रचनात्मकता और किसी व्यक्ति की भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य को नुकसान होता है, और कभी-कभी इसके असर को बदल पाना संभव नहीं होता।

अपनी रचनात्मकता तक लगातार पहुँचने के सबसे जैविक, सच्चे और शक्तिशाली तरीकों में से एक है, ध्यान, सचेतन और कल्पना का प्रयोग करना। ये गतिविधियां आपके सचेत मन को शांत कर देती हैं ताकि आप अपने अवचेतन मन को खोल सकें और उसपर ध्यान केंद्रित कर सकें। ध्यान की वजह से, आप ज्यादा आसानी से अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान के रास्ते पर चल सकते हैं।

ध्यान से आप अपने अवचेतन मन के संपर्क में रह सकते हैं। इसके साथ ही, यह आपकी अपने अचेत मन के साथ रहने की और इसके सामने जाहिर होने वाली चीजों का सामना करने की क्षमता को मजबूत बनाता है। यह आपको अपने मन की गहन परतों में मौजूद रहने में और उनके प्रति जागरूक रहने में सक्षम करता है और आप यह समभाव(ऐक्वानिमिटी) के साथ कर सकते हैं। "ऐक्वानिमिटी" एक लैटिन शब्द से आता है जिसका अर्थ होता है "समान भाव"। इसका अर्थ होता है, समय जो भी आपके सामने लाये उसकी परवाह किये बिना वर्तमान अनुभवों के साथ "अच्छे" से रहना।

इस ध्यान की मुद्रा वाली अवस्था में, आप अपने अवचेतन मन को सचेत वर्तमान क्षण में उभरने की अनुमति दे सकते हैं। आपको अपने वर्तमान सतर्क सचेत मस्तिष्क और आपके अवचेतन समृद्ध अनुभवों के कटाव पर अपना भावनात्मक, रचनात्मक स्थान मिलता है। आप अपने मन की गहन परतों, साथ ही साथ जीवन के अनुभवों, विचारों और भावनाओं को उनमें फंसे बिना और उनके द्वारा नियंत्रित हुए बिना देख सकते हैं। वास्तव में, ध्यान के माध्यम से, आप अपने मस्तिष्क के इन पहलुओं को जोड़ सकते हैं और रचना करने में मदद पाने के लिए खुद के सभी हिस्सों का प्रयोग कर सकते हैं।

मैंने एक छोटे ध्यान का निर्माण किया है जिसमें अपने भावनात्मक, रचनात्मक स्थान के साथ जुड़ने में मदद पाने के लिए सचेतन और कल्पना के सभी तत्व शामिल हैं। सुबह उठने पर सबसे पहले या रात में सोते समय इसे सुनना सबसे ज्यादा उपयोगी होता है। हालाँकि, ध्यान के लिए कोई भी समय अच्छा होता है।

यह ध्यान करते समय अगर आप खुद को चिंतित, क्रोधित या भावनात्मक रूप से उत्तेजित पाते हैं तो शायद आप किसी उपचार नहीं किये गए भावनात्मक दर्द का सामना कर रहे हैं। इन समस्याओं को ठीक करने के लिए आप मनोचिकित्सा पर विचार कर सकते हैं।

डॉ. मिहाइला ईवान होल्ट्ज़ ने क्रिएटिव माइंड्स साइकोथेरेपी की स्थापना की, जो अपरिपूर्ण रचनाकार या कलाकार के लिए एक परिवर्तनकारी यात्रा है। वह निजी और पेशेवर चुनौतियों, संबंध अवरोधों, रचनात्मक अवरोधों, चिंता, अवसाद और नशीली चीजों की लत के संबंध में रचनात्मक लोगों और कलाकारों की मदद करती हैं। उन्होंने पेपरडाइन विश्वविद्यालय से नैदानिक मनोविज्ञान में डॉक्टर की डिग्री ली है, और द राइट इंस्टीट्यूट, लॉस एंजिल्स से मनोविश्लेषण में भी प्रमाणित हैं। मनोविश्लेषण, मनोचिकित्सा की न्यूरोबायोलॉजी और परस्पर संबंधों, ध्यान, पारिवारिक प्रणालियों, संज्ञानात्मक व्यवहार मनोचिकित्सा, समाधान-आधारित तकनीकों, और सकारात्मक मनोविज्ञान में उनका प्रशिक्षण उन्हें समस्या की जड़ तक पहुँचने की अनुमति देता है, साथ ही वो व्यक्ति को वर्तमान में परिवर्तनों की तरफ भी ले जाती हैं। CreativeMindsPyschotherapy.com पर और अधिक जानें।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

Vallelonga & D'Aquila: Chip Away at Your Script Until It Looks Like 2 Oscars

लेखक वेलेलॉन्गा और डिक्विला: अपनी पटकथा में तब तक काट-छांट करते रहिये जब तक यह 2 ऑस्कर पुरस्कारों के लायक नहीं लगने लगती

निक वेलेलॉन्गा और केनी डिक्विला को कोई शीर्षक देना कठिन है। यहाँ हम अपने उद्देश्यों के लिए, उन्हें पटकथा लेखक कहेंगे, लेकिन यह जोड़ी बहुमुखी प्रतिभा वाली है। ऐसा शायद ही कभी होगा कि उनके बगल में खड़ा होकर भी आप कुछ रचनात्मक करने के लिए प्रेरित ना हों। आप 2019 के अकादमी पुरस्कारों में दो बार ऑस्कर जीतने वाले (कोई बड़ी बात नहीं है!) वेलेलॉन्गा से परिचित हो सकते हैं, जिन्हें ये दोनों पुरस्कार "ग्रीन बुक" की मूल पटकथा और सर्वश्रेष्ठ पिक्चर के लिए मिले थे। यह फिल्म वेलेलॉन्गा के पिता टोनी लिप की सच्ची कहानी से प्रेरित है, जिन्होंने 60 के दशक में प्रसिद्ध पियानोवादक डॉ डोनाल्ड शर्ली के साथ दक्षिण की यात्रा की थी। लेकिन वेलेलॉन्गा ने फिल्म का निर्माण भी किया है, कई अन्य फिल्में, नाटक निर्देशित किये हैं, और पटकथा और ...
Why Screenwriter Dale Griffiths Stamos Doesn't Get Writer's Block

पटकथा लेखिका डेल ग्रिफिथ्स स्टेमस को लेखक अवरोध क्यों नहीं होता है

साहसी डेल ग्रिफिथ्स स्टेमस हवा के ताज़े झोंके की तरह हैं, और अपने सबसे चुनौतीपूर्ण दिनों में भी लिखना जारी रखने के लिए आपके लिए एक जरूरी प्रेरणा की तरह काम कर सकती हैं। यह पटकथा लेखिका, नाटककार, निर्माता और निर्देशक एक लेखन शिक्षिका भी हैं और आप उनकी सलाह से काफी कुछ पाएंगे। सैन लुइस ओबिस्पो अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव में उन्होंने खुशी-खुशी हमारे साथ कुछ बिंदु साझा किये। ग्रिफिथ्स स्टेमस को डेटाइम एमी नॉमिनेशन मिला है, साथ ही उन्हें हीडमैन पुरस्कार, ज्वेल बॉक्स प्लेराइटिंग पुरस्कार, और राइटर्स डाइजेस्ट स्टेज प्ले प्रतियोगिता में दो शीर्ष-दस जीतों से पुरस्कृत किया गया है। 'डर्टी लिटिल सीक्रेट,' 'द डिनर गेस्ट,' और 'अनइन्टेन्डेड' सहित, उनकी हालिया शॉर्ट्स में कुछ ए-लिस्ट खिलाड़ियों को प्रदर्शित किया गया है और सभी ...
पटकथा लेखक एक खिड़की के सामने ऊपर की ओर खिंचता है

6 स्ट्रेच जो पटकथा लेखकों को रोज करने चाहिए

मैंने एक बार एक कंपनी के लिए काम किया था जहाँ इसके कर्मचारियों के लिए "एर्गो-ब्रेक" लेना जरूरी था। यह सुनने में अजीब लगता है - इसका नाम और साथ ही यह तथ्य भी कि इसे एक टाइमर से लागू किया जाता था जो हर घंटे की शुरुआत में कर्मचारियों के कंप्यूटर के लिए किल स्विच के रूप में काम करता था - लेकिन लिखना बंद करने के लिए और अपने शरीर को मोड़ने के लिए यह छोटा विराम प्रभावशाली होता है, विशेष रूप से हममें से उन लोगों के लिए जो अपने काम में फंसे रहते हैं। इन सरल स्ट्रेचेस से आपके शरीर में दोबारा रक्तप्रवाह शुरू हो जाता है, शारीरिक तनाव से आराम मिलता है, और आपके अंदर बहुत सारी ऊर्जा का संचार होता है, और उत्पादकता बढ़ती है। तो, अगर किसी दृश्य की वजह से गुस्से से आप अपने दांत पीस रहे हैं, और सस्पेंस ...

टिप्पणियां