पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

अपनी पटकथा को लेकर निष्पक्ष कैसे बनें

बनें अपनी पटकथा को लेकर निष्पक्ष

लेखक के रूप में हमेशा बढ़ते रहने के लिए, हमें निष्पक्ष फीडबैक की ज़रुरत पड़ती है। फीडबैक कई रूपों में मिल सकते हैं, लेकिन अपनी पटकथा लेखन प्रक्रिया की शुरुआत में, आप शायद ख़ुद ही अपने आपको फीडबैक देते हैं। ज़्यादातर लेखकों के मामले में, ऐसे पटकथा लेखन ड्राफ्ट तक पहुंचने में कई रीराइट और ड्राफ्ट की ज़रुरत होती है, जिसे आप किसी के साथ आराम से शेयर कर सकते हैं। लेकिन क्या आप अपनी पटकथा के शुरूआती चरणों के दौरान ख़ुद को रचनात्मक और कभी-कभी आलोचनात्मक फीडबैक देने के लिए अपने ऊपर भरोसा कर सकते हैं? उन लेखकों के लिए यहाँ कुछ तकनीकें दी गयी हैं, जो अपनी आलोचना नहीं सह सकते।

हमारे साथ बने रहिये! हम जल्दी ही सीमित संख्या में बीटा टेस्टरों के लिए SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर लॉन्च करने वाले हैं। इस पेज से बाहर निकले बिना,

हमने रचनात्मक-असाधारण ब्रायन यंग से यह पूछने के साथ शुरुआत की कि वह अपनी रोज़मर्रा की लेखन प्रक्रिया और उत्पादकता में निरंतरता कैसे बनाए रखते है। वह StarWars.com, SyFy.com, और HowStuffWorks.com जैसे प्रकाशनों के लिए पटकथाएं, किताबें, पॉडकास्ट और लेख लिखते हैं, इसलिए अपने रचनात्मक कार्यों पर आलोचनात्मक टिप्पणियां पाना उनके लिए नयी बात नहीं है। उन्होंने कहा कि सुसंगत, गुणवत्तापूर्ण लेखन के लिए आपको सबसे पहले आत्म-निरीक्षण करना पड़ता है।

यंग ने बताया कि, "जहाँ तक मेरा मानना है, अपने काम में सुसंगतता बनाये रखने के लिए अपने काम की स्थिति को लेकर ख़ुद से ईमानदार रहने की कोशिश करना सबसे महत्वपूर्ण है।"

हम जो कुछ भी लिखते हैं, उससे स्वाभाविक रूप से भावनात्मक तरीके से जुड़ जाते हैं - चाहे ऐसा उसकी विषय-वस्तु के कारण हो, जो हमारे लिए व्यक्तिगत हो सकती है, या इसपर बिताये गए समय के कारण हो। किसी को भी अपना काम फेंकना अच्छा नहीं लगता या ऐसा सोचना अच्छा नहीं लगता कि उनका काम अच्छा नहीं है।

तो आप अपनी पटकथा को निष्पक्ष तरीके से देखकर यह कैसे जानते हैं कि आपको कहाँ पर सुधार करने की ज़रुरत है। यदि आप इसे अभी तक किसी और के साथ साझा करने के लिए तैयार नहीं हैं तो अपनी पटकथा को एक बार निष्पक्ष तरीके से देखने के लिए इन उपायों का प्रयोग करें।

अपने लेखन को लेकर निष्पक्ष कैसे बनें:

1. ब्रेक का समय निकालें

यंग ने कहा, "मैं किसी परियोजना को तब तक वापस संशोधित करने नहीं जाता जब तक मैं दूसरी नहीं लिख लेता। हर बार कोई परियोजना लिखकर ख़त्म करने पर, आप लिखने के बारे में और ज़्यादा जानते हैं, और आपको अपनी कला के बारे में ज़्यादा पता चलता है। इसकी वजह से, मैं अपनी पिछली परियोजनाओं पर लिए गए सभी कलात्मक फैसलों को भूल जाता हूँ, इसलिए जब आप इसपर आते हैं तो आप एक बेहतर लेखक होते हैं।"

ऐसी समय-सीमा में बंधकर काम करने की कोशिश न करें, जहाँ आपको अपनी पटकथा से दूर जाकर इसे अकेला छोड़ने का समय नहीं मिलता। आप कम समय में कई ड्राफ्ट पर काम करने की कोशिश करके ख़ुद को नुकसान पहुंचा रहे हैं, क्योंकि आप काम के बहुत करीब होंगे। आपको थोड़ा पीछे हटना होगा, किसी और चीज़ पर काम करना होगा, उसके बाद अपने ड्राफ्ट पर वापस आएं ताकि आप इसे और अधिक निष्पक्ष रूप से देख सकें।

2. इसे फेंक दें (या कहीं और रख दें)

जब आप चीज़ों को ज़्यादा निष्पक्ष होकर देखते हैं तो आपको अपने प्रिय चरित्रों को मारने में ज़्यादा आसानी होगी, और आप यह आसानी से पता लगा पाएंगे कि असल में कहाँ पर गलती हो रही है," यंग ने आगे कहा।

"किल योर डार्लिंग्स" एक लोकप्रिय वाक्य है, जिसे आप पटकथा लेखन में अक्सर सुनते हैं, लेकिन यह केवल अनावश्यक चरित्रों और कथानक बिंदुओं से छुटकारा पाने पर लागू नहीं होता। आपको ऐसा कुछ भी फेंकने के लिए तैयार रहना चाहिए जो काम का नहीं है, और इसका मतलब पटकथा के पन्ने, आपके मनपसंद कथानक बिंदु आदि हो सकते हैं। अगर यह सही नहीं है, तो इसे जबरदस्ती डालने की कोशिश न करें। नयी नज़र से दोबारा शुरुआत करें।

संपादन के समय किसी नए पन्ने पर टाइप करें, ताकि आपका मूल ड्राफ्ट और काम न खोये। जब आपको पता होता है कि आप कभी भी वापस पीछे जा सकते हैं तो आपके लिए हटाने, दोबारा लिखने, और संपादित करने की ज़्यादा संभावना होती है। अपनी मूल पटकथा को दोबारा टाइप करने से भी मदद मिलती है, जिससे आप यह देख पाते हैं कि यह अभी भी पहली बार जैसा लग रहा है या नहीं। इस तरह आप गलतियों और कमियों को भी पकड़ सकते हैं।

अगर आपको अपनी पसंद की कोई चीज़ हटाने की आवश्यकता है, तो उसे एक नए "बाद में उपयोग करें" दस्तावेज़ में पेस्ट करें, ताकि आप भविष्य की पटकथा में उस अच्छे संवाद और उन शानदार किरदारों का प्रयोग कर सकें!

3. अपने अंदर की आवाज़ सुनें

हमारी पटकथाओं को लेकर हमारी भावनाएं सच्चाई के रास्ते में आ सकती हैं। अपने अंदर की आवाज़ सुनें – अगर आप दुविधा में हैं, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि आपको कोई चीज़ बदलने की ज़रुरत है और आप किसी ऐसी जगह आ गए हैं, जहाँ आप मेहनत नहीं करना चाहते या कड़े फैसले नहीं लेना चाहते। आलस्य और ज़्यादा काम के खतरे को महानता के आड़े न आने दें।

4. अपनी निष्पक्षता परखें

तैयार होने पर, और अपने काम पर और जहाँ चीज़ों को बदलने की ज़रुरत है उसपर आलोचनात्मक टिप्पणियां करने के बाद, इसे किसी ऐसे दोस्त या परिवार के सदस्य को दिखाएं जिसकी सलाह पर आपको भरोसा है। क्या वो आपकी टिप्पणियों से सहमत हैं? जब आपको पता होगा कि कोई और भी आपके फीडबैक की पुष्टि करेगा तो आप अपने ऊपर रहम नहीं करेंगे। और, अगर वो आपकी टिप्पणियों से सहमत होते हैं तो अगली पटकथा की बारी आने पर आपको अपने ऊपर ज़्यादा भरोसा होगा।

अपना और अपनी कड़ी मेहनत का सामना करना आसान काम नहीं है। यह काफी कष्टदायक हो सकता है। लेकिन आप तकलीफ सहने के बाद ही बढ़ते हैं, और क्या आप अपने रचनात्मक कामों पर चिंतन करने के बारे में सबसे अच्छी चीज़ जानना चाहते हैं? इससे आपको ख़ुद को यह बताने को मिलता है कि आपको कहाँ सुधार करने की ज़रुरत है और आप कहाँ पहले से ही अच्छा कर रहे हैं! उस दूसरे भाग को न भूलें।

यंग ने अंतिम में कहा, "[अब] आपके पास एक बिल्कुल नया परिपेक्ष्य है ताकि आप इस बारे में ख़ुद से ईमानदार रह सकें कि आपकी पटकथा कैसे काम करती है या कैसे नहीं करती है।

जैसा कि लेखक और उद्यमी जेम्स अल्टुचेर ने कहा है, "ईमानदारी किसी गलती को विफलता में बदलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है।"

हम आपको सफल होते हुए देखना चाहते हैं, पटकथा लेखक!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

Veteran TV Writer Ross Brown Tells Screenwriters How to Approach a Rewrite

दिग्गज टीवी लेखक रॉस ब्राउन पटकथा लेखकों को बताते हैं कि अपनी पटकथा दोबारा कैसे लिखी जाती है

मुझे भरोसा है आपने यह पहले भी सुना है कि दोबारा लिखना ही लिखना होता है। चाहे यह आपका पहला ड्राफ्ट हो या 100वां संशोधन, अपनी पटकथा को अच्छा आकार देने के लिए कुछ आसान चीज़ें की जा सकती हैं। "रॉस ब्राउन ने बताया, "दोबारा लिखना बहुत मुश्किल भरा हो सकता है क्योंकि हम सभी अपनी लिखी हुई चीज़ को देखकर यह कहना चाहते हैं कि, 'यह शानदार है। मुझे इसमें एक भी शब्द बदलने की ज़रुरत नहीं है!' और ऐसा बहुत कम होता है।," उन्होंने "स्टेप बाय स्टेप" और "द कॉस्बी शो" जैसे बेहद लोकप्रिय कार्यक्रम लिखे हैं। अब वह सांता बारबरा के एंटिऑक विश्वविद्यालय में MFA प्रोग्राम के निर्देशक के रूप में...

डालें अपनी पटकथा में भावना

अपनी पटकथा में भावना कैसे डालें

क्या आपने कभी भी अपनी पटकथा पर काम करते हुए ख़ुद से यह पूछा है, "इसमें भावना कहाँ है?" "क्या फ़िल्म देखते वक़्त किसी को कुछ महसूस होगा?" ऐसा हममें से बहुत सारे लोगों के साथ होता है! जब आप संरचना पर, कथानक के बिंदु A से B पर जाने पर, और अपनी कहानी की सभी कार्यप्रणालियों के काम करने पर केंद्रित होते हैं तो आप पा सकते हैं कि आपकी पटकथा में कुछ भावनात्मक बीट्स गायब हो गए हैं। तो आज, मैं आपको कुछ ऐसी तकनीकों के बारे में बताने वाली हूँ, जिससे आप अपनी पटकथा में भावना डालना सीख सकते हैं! आप संघर्ष, क्रिया, संवाद और तुलना के माध्यम से...

पटकथा में 4 सामान्य संवाद संबंधी समस्याएं

पटकथाएं कसी हुई, सटीक, और पढ़ने में बिलकुल सहज होनी चाहिए। लेकिन कुछ ऐसी संवाद समस्याएं हैं जो किसी भी पटकथा की शुद्धता को खराब कर देती हैं, और सबकुछ पाठक के सिर के ऊपर से चला जाता है। सौभाग्य से, दोबारा लिखने के दौरान इन समस्याओं का पता लगाना आसान होता है। पटकथा की चार सामान्य संवाद समस्याओं के बारे में पढ़िये जिन्हें आप अभी ढूंढ (और ठीक कर) सकते हैं। हमने हाल ही में SoCreate में "गेट राइटिंग" की एक पृष्ठ की पटकथा प्रतियोगिता समाप्त की है, और इसके परिणाम बेहद आकर्षक हैं। जहाँ कुछ लेखकों ने यह शिकायत की कि केवल एक पृष्ठ पर अच्छी तरह से फॉर्मेट किये गए दृश्य को फिट करना बिलकुल असंभव है, वहीं दूसरों ने इसमें शानदार सफलता हासिल की। सफल लेखकों ने बेकार ...