पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

एमी-विजेता लेखक रिकी रॉक्सबर्ग के साथ, अपने लिए पटकथा लेखन का सही शेड्यूल कैसे बनाएं

क्या देरी करना पटकथा लेखक का सबसे बड़ा दुश्मन है? सबसे ज़्यादा हानिकारक से सबसे कम हानिकारक के क्रम में, मेरे हिसाब से देरी करना इस क्रम में आत्म-संदेह और रचनात्मक अवरोधों के साथ ऊपर स्थित है। लेकिन अच्छी बात यह है कि हमारे पास इन सभी चुनौतियों का समाधान है, और आपको बस उन्हें लागू करने की ज़रुरत होती है। पहला चरण: लिखने का एक ऐसा समय बनाएं जिसपर आप टिक सकें। मुझे सचमुच लगता है कि अगर लेखक चीज़ें पूरी करने और बेहतर होने को लेकर गंभीर है तो उनका अपना एक शेड्यूल होना बहुत ज़रुरी है। और पता है क्या? मेरी इस बात का समर्थन करने के लिए मेरे पास एक एमी-विजेता विशेषज्ञ की राय भी है।

"अगर कोई इंसान आज यह फ़ैसला करता है कि वो एक पटकथा लेखक बनना चाहता है तो मैं उन्हें सबसे पहली चीज़ यह करने के लिए कहूंगा कि इसे ऐसे मानें जैसे कि आपको कोई नयी नौकरी मिली है। और मैं कहूंगा कि अपने लिए एक शेड्यूल बनाएं।"

रिकी रॉक्सबर्ग डिज्नी टेलीविज़न एनीमेशन के लेखक हैं और हाल ही में डेटाइम एमी विजेता बने हैं। वो उस टीम का हिस्सा हैं जो "टैंगल्ड: द सीरीज़" जैसे कार्यक्रमों और "सेविंग सैंटा" फ़िल्म के लिए जिम्मेदार है।

"आपको ऐसी बहुत सारी चीज़ें सुनने को मिलेंगे कि आपको इसके लिए बस दिन में दस मिनट देने होते हैं। या पांच मिनट देने होते हैं। ऐसा न करें," रॉक्सबर्ग ने कहा "कम से कम कुछ घंटे निकालें और इसे नियमित रूप से करें।"

रिकी ने हमें अपने पिछले साक्षात्कार में बताया था कि अपने नियमित लेखन कार्य के अलावा, वो हर दिन चार घंटे से ज़्यादा समय तक लिखने का अभ्यास करते हैं। और हालाँकि शायद उनका शेड्यूल आपके लिए उपयोगी न हो, इसलिए लिखने के लिए आपको अपना ख़ुद का शेड्यूल तैयार करना चाहिए और इसपर टिककर रहना चाहिए।

आपको पटकथा लिखने का शेड्यूल क्यों बनाना चाहिए:

  1. ख़ुद को जिम्मेदार बनाएं

    कोई आपके ऊपर नज़र नहीं रखने वाला, विशेष रूप से तब जब आप किसी की नौकरी नहीं कर रहे होते। शेड्यूल से आप जिम्मेदार बनते हैं। तो, अगर आपके दोस्त डिनर पर जाना चाहते हैं तो उनसे माफ़ी मांगें और कहें कि आपको लिखना है। नेटफ्लिक्स पर कोई नया शो आया है? आप इसे कभी भी देख सकते हैं। शेड्यूल की वजह से आप बहानेबाज़ी नहीं कर पाएंगे, क्योंकि अगर आप काम छोड़ देते हैं तो फिर यह छूट जायेगा। और आप जानते हैं कि किसी असली नौकरी में शिफ्ट छोड़ने पर क्या होता है।

  2. इसे आधिकारिक बनाएं

    बहुत सारे लेखकों को अपने ऊपर संदेह से जूझना पड़ता है और वो इंपोस्टर सिंड्रोम से पीड़ित रहते हैं। और आपको ऐसा लग सकता है कि आप "असली लेखक" नहीं हैं, लेकिन मैं यहाँ आपको यह बताने के लिए मौजूद हूँ कि ये बिल्कुल बकवास बात है। इस बारे में सोचें कि कौन सी चीज़ से आपको पेशेवर जैसा महसूस होगा, और यह समझने की कोशिश करें कि यह चाहे जो कुछ भी हो - कोई भुगतान वाला गिग, आपका चमकता हुआ नाम - अगर आप मौके का फ़ायदा उठाने के लिए तैयार रहते हैं तो यह तुरंत हो सकता है। आप असली लेखक हैं, और पटकथा लिखने का शेड्यूल आपको यही बनाता है। यह आपको उस दिन के लिए भी तैयार करता है जब आपको कोई लिखने के लिए पैसे देगा।

  3. अभ्यास

    पटकथा लिखने का शेड्यूल आपको हर दिन अभ्यास करने के लिए मजबूर करता है भले ही आप यह न करना चाहते हों, या आप बीमार महसूस कर रहे हों, या आप थके हुए हों, या उस दिन के लिए आप चाहे कोई भी बहाना बना लें। आप देरी करने की आदत को दूर रखते हुए नियमित रूप से अपने पटकथा लिखने के कौशल को बेहतर बनाते हैं।

  4. कुछ पूरा करें

    किसी चीज़ को पूरा करने से ज़्यादा अच्छा और कुछ नहीं होता। कोई परियोजना पूरी करने पर रॉक्सबर्ग खुद को तीन दिन की छुट्टी देते हैं। पटकथा लेखन के शेड्यूल से आपको यह अंदाज़ा लगाने में मदद मिलेगी कि योजना पर टिके रहने पर अपनी पटकथा पूरी करने में आपको कितना समय लगेगा।

  5. अपने काम पर गर्व करें और इसमें ख़ुशी पाएं

    ज़रा सोचिये, जब आपके दोस्त या परिवार वाले आपसे पूछते हैं कि आपने इस हफ़्ते कुछ लिखा या नहीं, तो आप इसके जवाब में उन्हें कह पाएंगे कि आपने 20 घंटे, या पांच दिन लिखा, या 30 पन्ने पूरे किये। अपने सभी लक्ष्यों को पूरा करने के लिए आपको अपने ऊपर गर्व होगा, और उसे दिखाने में आपको ख़ुशी मिलेगी।

ठीक है तो अब जबकि आप इसकी अहमियत समझ गए हैं तो आप पटकथा लिखने का शेड्यूल बनाने के लिए तैयार हैं!

पटकथा लिखने का शेड्यूल कैसे बनाएं:

  1. पता करें कि आपका दिमाग सबसे ज़्यादा तरोताज़ा कब रहता है।

    आप रात में ज़्यादा अच्छे से काम करते हैं या सुबह के समय, या क्या आप दोपहर में ज़्यादा अच्छा लिख सकते हैं?

  2. समय निर्धारित करें और यथार्थवादी रहें।

    आप इसके लिए दिन में एक घंटा, या प्रति दिन दो घंटे, या हफ़्ते में तीन दिन दे सकते हैं। ज़रुरी नहीं है कि आपका लिखने का समय हर दिन एक ही हो, लेकिन अगर ऐसा होता है तो आपको चीज़ों को अपने लिए सुसंगत बनाने में मदद मिल सकती है। और यह न भूलें कि छुट्टियों की ज़रुरत सबको होती है। अपना शेड्यूल बहुत ज़्यादा लम्बा न बनाएं, नहीं तो आप इसपर टिककर नहीं रह पाएंगे, और आप अत्यधिक थकावट का शिकार हो सकते हैं।

  3. अपना फ़ोन दूर रखें। अपना वाई फाई बंद करें।

    और मुझे यह नहीं सुनना है कि "लेकिन इसके लिए शोध करने की ज़रुरत होगी।" यह शोध नहीं है। शोध के भेष में छिपी हुई देरी करने की आदत आपके लिए बिल्कुल भी लाभदायक नहीं होती है। अगर आपको किसी चीज़ का नाम, या युग, या सही शब्द नहीं पता है तो अपनी पटकथा में उस भाग को हाईलाइट करें और बाद में समय निकालकर इसे देखें।

  4. अपने लिखने के शेड्यूल को काम करने लायक और स्पष्ट बनाएं।

    मैं यहाँ बस कुछ घंटों और दिनों की बात नहीं कर रही। आपको इसकी सही तरीके से योजना बनानी चाहिए कि आप हर दिन किस चीज़ पर काम करने वाले हैं। चाहे यह आपका शोध हो (ऊपर देखें), 20 पन्ने हों, 1,000 शब्द हों, नोट्स या दस पन्ने हों, या अपने पहले अंक को दोबारा लिखना हो। ऐसा लक्ष्य बनाएं जिसे आप हासिल कर सकें ताकि लिखने के निर्धारित सत्र के दौरान आप अपनी उपलब्धि महसूस कर सकें, और आपको इसके बारे में अच्छी तरह से पता हो कि अपने अगले निर्धारित सत्र के दौरान आप किस चीज़ पर काम करने वाले हैं। पटकथा लेखिका एश्ली स्टॉर्मो इसमें माहिर हैं। इस अभ्यास का असली ज़िन्दगी में उदाहरण देखने के लिए उनकी ज़िन्दगी के एक दिन के बारे में उनका वीडियो देखें

  5. अपनी पूरी परियोजना के लिए ख़ुद के लिए एक समय-सीमा तय करें।

    क्या आप महीने के अंत तक एक शॉर्ट फ़िल्म पूरी करने की कोशिश कर रहे हैं? या फिर, किसी पटकथा लेखन प्रतियोगिता की समय-सीमा पूरी होने वाली है। अगर आप इसकी सावधानीपूर्वक योजना बनाते हैं कि हर लिखने के दिन पर आप क्या पूरा करने वाले हैं तो आप यह अच्छे से अनुमान लगा पाएंगे कि इसे पूरा करने की तिथि क्या होगी, और आप इसपर अडिग रह पाएंगे।

  6. स्टार स्टीकर और कैलेंडर इस्तेमाल करें।

    मुझे पता है, यह थोड़ा बच्चों जैसा लगता है। लेकिन मेरे लिए यह सभी चीज़ों में काम करता है! मैं अपने वर्कआउट रूटीन पर अच्छे से चलने पर, तीन गिलास पानी पीने पर, या अपनी सहायक परियोजनाओं का कम से कम एक काम पूरा करने पर ख़ुद को एक स्टार देती हूँ। इससे आप अपनी आँखों से यह देख पाते हैं कि अपने लिए तय किये गए लक्ष्यों की दिशा में आप कितने अच्छे से काम कर रहे हैं, और अपने प्लानर या कैलेंडर पर हर दिन स्टार देखकर बहुत ख़ुशी होती है। हालाँकि, जहाँ मैं अपने आईफोन के आउटलुक कैलेंडर से जीती और मरती हूँ, वहीं अपने लक्ष्यों को लिखने के लिए एक असली कैलेंडर होना बहुत अच्छा रहता है और इसे ऐसी जगह रखें जहाँ हर समय आपकी नज़र इसपर जा सके।

"इसे अपनी दूसरी नौकरी, या फुल-टाइम जॉब की तरह मानें," रॉक्सबर्ग ने अंत में कहा।

ही-हो, ही-हो,

टिप्पणियां