पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पटकथा लेखन के लिए 10 सलाहें जिनके बारे में हर पटकथा लेखक को पता होना चाहिए

10

पटकथा लेखन की सलाहेंजिनके बारे में हर पटकथा लेखकको पता होना चाहिए

भरोसा करिये, पटकथा लेखन के बारे में आपको अनगिनत सलाहें मिलेंगी, मैंने ख़ुद बहुत सारी सलाहें पढ़ी हैं! लेखक के रूप में, आपको पटकथा लेखन की सलाह के रूप में "आपको ये ज़रूर करना चाहिए" और "आपको वो कभी नहीं करना चाहिए" जैसी चीज़ें हमेशा देखने को मिल सकती हैं। मैंने अपने ख़ुद के अनुभवों के आधार पर पटकथा लेखन से संबंधित निम्नलिखित सलाहों की सूची तैयार की है, जो मुझे सबसे ज़्यादा उपयोगी और मददगार लगीं!

  1. लिखने के लिए हासिल करने लायक लक्ष्य रखें

    ऐसे लक्ष्य न रखें जिन्हें आप कभी पूरा नहीं कर सकते! सही लक्ष्य रखने की कोशिश करें जो आप कर सकते हैं और जो आपको थोड़ा प्रोत्साहित भी करें; अगर इसका मतलब दिन में बस कुछ पन्ने लिखना है तो वो भी ठीक है!

  2. पढ़ें!

    बहुत सारी पटकथाएं पढ़ें! पटकथाएं पढ़ना बहुत ज़रूरी है! अपनी मनपसंद फ़िल्मों और टीवी कार्यक्रमों की पटकथाएं पढ़ना इस कला को सीखने और इसमें बेहतर होने का सबसे अच्छा तरीका है।

  3. किसी भी चीज़ को पत्थर की लक़ीर न मानें

    एक दिन मैं ट्विटर पर थी, और किसी ने यह ट्वीट किया था कि उसके पटकथा लेखन के प्रोफेसर ने कहा है कि उन्हें कभी भी अपनी पटकथाओं में सपने, फ़्लैशबैक, या उपचार शामिल नहीं करने चाहिए। पटकथा लेखन के संबंध में मैं कभी भी किसी चीज़ को बिल्कुल सिरे से नहीं नकार सकती। जो चीज़ दूसरे के लिए काम की साबित नहीं हुई, क्या पता किसी और के काम आ जाये। यह बस इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी पटकथा के लिए कौन सी चीज़ काम करती है।

  4. रूपरेखा लिखें, लेकिन इससे बहुत ज़्यादा लगाव न रखें

    यह मुश्किल है, लेकिन कहानी की रूपरेखा तैयार करने, और लिखते समय खोज और अनुभूतियों के लिए जगह छोड़ने के बीच संतुलन बनाकर चलना आपके लेखन के लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकता है। आपको इसका अंदाज़ा होना चाहिए कि आप अपने लेखन में कहाँ जा रहे हैं, लेकिन आप जो कहानी बता रहे हैं अगर वो ख़ुद आपके सामने कथानक के महत्वपूर्ण बिंदुओं को ज़ाहिर करे तो वो भी रोमांचक हो सकता है!

  5. ज़्यादा से ज़्यादा सीखें, लेकिन हर चीज़ को बिल्कुल पकड़कर न रखें

    पटकथा लेखन के बारे में सभी किताबें पढ़ें, सारी कक्षाओं में जाएँ, और इस कला से संबंधित ज़्यादा से ज़्यादा लेख पढ़ें। सभी सलाह लें, लेकिन सभी लोगों के विश्वासों को मानने की कोशिश न करें। कितनी सारी किताबें और लेख एक-दूसरे के विपरीत होती हैं। ज़रूरी नहीं है कि कुछ लेखकों के लिए जो चीज़ काम कर गयी वो दूसरे के लिए भी करे। आपको कैसे पता चलेगा कि कौन सी सलाह लेनी है? एक लेखक होने के नाते, आप ख़ुद यह फैसला करेंगे कि कौन सी सलाह को मानना है और किसे नहीं मानना है। आपके लिखने के तरीके के लिए जो जानकारी फ़ायदेमंद और उपयोगी होगी आपको उन्हीं सलाहों पर चलना है, और जिन सलाहों की वजह से आपको मुश्किल आती है या जिनकी वजह से आप अटकते हैं आपको उन्हें पीछे छोड़ना होगा।

  6. लोगों से जुड़ें, संपर्क बनाएं

    लिखने की वजह से आप बहुत अकेले पड़ सकते हैं, इसलिए लोगों से जुड़ना ज़रूरी है! उद्योग में शुरुआत करने के लिए किसी प्रशिक्षक की तलाश करना बहुत अच्छा तरीका हो सकता है। ट्विटर और इंस्टाग्राम पर दूसरे लेखकों से जुड़ने से न डरें। लोगों को संदेश भेजें और उनसे सवाल करें!

    मेंटरशिप और फेलोशिप कार्यक्रमों के लिए आवेदन करें। नए पटकथा लेखकों के लिए काफ़ी सारे कार्यक्रम मौजूद हैं, जैसे एनबीसी का राइटर्स ऑन द वर्ज कार्यक्रम, सनडांस इंस्टीट्यूट और डिज्नी/एबीसी का लेखन कार्यक्रम।

  7. ज़िम्मेदारी लें!

    लेखकों के किसी समूह का हिस्सा बनें या इसकी शुरुआत करें! पटकथा पूरी करने के लिए प्रेरणा खोजने में मुश्किल का सामना होने पर, अगर आपको समूह के सामने पेश करने के लिए पेजों को पूरा करने की ज़रूरत होती है, तो इससे आपको बहुत मदद मिल सकती है।

  8. वो लिखें जो आप चाहते हैं

    चलन में फंसने की कोशिश न करें; क्योंकि इसकी वजह से आपको हमेशा देर हो जाएगी। ऐसी चीज़ लिखें जिसमें आपको दिलचस्पी है और जो आपको रोमांचित करती है। आपकी पटकथा में मौजूद उत्साह का स्तर और आप जिस तरह से अपनी कहानी को लोगों के सामने रखते हैं उससे लोगों को आपके ऊपर भरोसा होगा और उनके अंदर रूचि जागेगी।

  9. अपने दर्शकों को कम न आंकें

    आजकल के दर्शक पहले से कहीं ज़्यादा बुद्धिमान हो गए हैं; उन्हें कथानक के बिंदुओं को समझाने की ज़रूरत नहीं पड़ती। उन्हें अपने आईडिया और कथानक के लिए ख़ुद दिमाग लगाने दें, और चीज़ों को अपने से जोड़कर देखने का मौका दें।

  10. हार न मानें!

    शायद यह इस कारोबार के लिए सबसे महत्वपूर्ण सुझाव है! आपका दृढ़ संकल्प ज़रूरी है! टिके रहें और अपनी कला को बेहतर बनाने पर ध्यान दें। उन लक्ष्यों की सूची बनाएं जिन्हें आप हासिल करना चाहते हैं। इंकार सुनने पर या बुरी प्रतिक्रिया मिलने पर हताश न हों। अपने काम और अपनी ख़ुद की प्रगति पर ध्यान दें। सबसे ज़रूरी है कि बस लिखते रहें!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

हमारे पिछले ब्लॉग पोस्ट में, हमने आपको पटकथा लेखन के पहले 10 पन्नों के बारे में "मिथक" या वास्तव में कहें तो तथ्य के बारे में बताया। ऐसा नहीं है कि केवल वे महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की बात आती है तो निश्चित रूप से वो सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। इसपर ज्यादा जानकारी पाने के लिए कृपया हमारे पिछले ब्लॉग पर जाएँ: "मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?" अब जबकि हमें उनकी महत्ता के बारे में अच्छी समझ है तो चलिए उन कुछ तरीकों के बारे में जानते हैं जिनका ध्यान रखकर हम अपनी पटकथा के पहले कुछ पन्नों को शानदार बना सकते हैं! 1. वो दुनिया तैयार करें जिसके चारों ओर आपकी कहानी घूमती है। अपने पाठकों को कुछ संदर्भ प्रदान करें। दृश्य तैयार करें। ...
हाथ एक आवर्धक काँच को पकड़े हुए

मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?

कई लेखक अक्सर पटकथा के पहले 10 पन्नों से जुड़े "मिथक" के बारे में पूछते हैं। वे पूछते हैं, "क्या यह सच है? क्या मेरी पटकथा के केवल पहले 10 पन्ने महत्वपूर्ण हैं?" हालाँकि यह कहना दुर्भाग्यशाली है, लेकिन यह "मिथक" वास्तव में काफी हद तक सत्य है। हालाँकि, केवल पहले 10 पन्ने ही अहमियत नहीं रखते, फिर भी जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की और संभवतः खरीदे जाने की बात आती है तो इसमें इनका बहुत बड़ा योगदान होता है। स्क्रिप्ट पत्रिका में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार, हम यह अनुमान लगा सकते हैं कि हर साल 200,000 से ज्यादा पटकथाएं पूरी की जाती हैं। यदि हम यह मानकर चलें कि 200,000 पटकथाओं में से प्रत्येक में औसतन 110 पन्ने हैं तो इसका अर्थ है कि 22 मिलियन से ज्यादा पन्ने पढ़े जाने के इंतज़ार में हैं। ...

लेखक के अवरोध को दूर करें

अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

लेखक के अवरोध को दूर करें - अपनी रचनात्मकता दोबारा शुरू करने के 10 उपाय

चलिए, हम सभी मान लेते हैं कि हम ऐसी स्थिति में रह चुके हैं। आखिरकार, आप आराम से बैठकर लिखने का समय निकालते हैं। आप पेज खोलते हैं, कीबोर्ड पर उंगली रखते हैं, और इसके बाद...कुछ नहीं। एक भी रचनात्मक विचार आपके दिमाग में नहीं आता। लेखक का भयानक अवरोध एक बार फिर से वापस आ गया, और आप अटक गए। यह याद रखना जरुरी है कि आप ऐसे अकेले नहीं हैं! दुनिया भर के लेखक हर दिन इस अवरोध का सामना करते हैं, लेकिन इस खालीपन की भावना पर काबू पाकर आगे बढ़ना संभव है! यहाँ अपनी रचनात्मकता को दोबारा प्रवाहित करने के लिए हमारे 10 पसंदीदा उपाय दिए गए हैं: 1. किसी अलग जगह लिखने का प्रयास करें। क्या आप हमेशा अपने डेस्क पर लिखते हैं? या अपने किचन टेबल पर लिखते हैं? इसे बदलें! ...

टिप्पणियां