पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पारंपरिक पटकथा में टेक्स्ट मैसेज कैसे लिखें

पारंपरिक पटकथा में टेक्स्ट मैसेज लिखें

ओह, 21वीं सदी की ज़िन्दगी। इसमें कोई उड़ती हुई कारें नहीं हैं, और हम अभी भी धरती पर ही रहने के लिए मज़बूर हैं। हालाँकि, अब हम टेक्स्ट से बातचीत कर सकते हैं, जो एक ऐसी चीज़ है जिसने हमारे पूर्वजों को ज़रूर प्रभावित किया होता। हमें आधुनिक समय में स्थापित अपनी पटकथाओं में बातचीत करने के तरीके में हुए ऐसे महत्वपूर्ण बदलावों पर बहुत ध्यानपूर्वक विचार करना चाहिए। तो आज, मैं यहाँ पटकथा में टेक्स्ट मैसेज लिखने के बारे में बात करने वाली हूँ! आप इसे कैसे फॉर्मेट करते हैं? यह कैसा दिखाई देना चाहिए?

टेक्स्ट मैसेजों के लिए कोई स्टैंडर्ड फॉर्मेटिंग नहीं है, तो ये उन चीज़ों में से एक है जिसके मामले में आप "जो चाहे वो कर सकते हैं जब तक कि आप जो चीज़ कहने की कोशिश कर रहे हैं वो साफ़ तरीके से ज़ाहिर हो रही है।"

अगर आपकी पटकथा में कोई ऐसी बातचीत है जो टेक्स्ट मैसेज में हो रही है तो इसे संवाद के रूप में मानकर चलना इसे फॉर्मेट करने का सबसे आसान तरीका है, और इसके बाद कोष्ठक में यह दिखाएं कि यह टेक्स्ट है।

पटकथा का संक्षिप्त भाग

केली का फोन बजता है।

जिम (टेक्स्ट)

तुम जगी हो?

केली हंसती है, लेकिन तुरंत वापस टाइप करती है।

केली (टेक्स्ट)

मज़ाक कर रहे हो???

टिन। टिन।

जिम (टेक्स्ट)

क्या?

केली (टेक्स्ट)

तुम्हें टीना को मैसेज नहीं करना चाहिए?

जिम (टेक्स्ट)

कौन??

केली मिडिल फिंगर वाली इमोजी के साथ जवाब देती है।

मैंने टेक्स्ट मैसेजों को इसलिए टेढ़ा किया है ताकि उनमें और वास्तव में बोले गए संवाद के बीच अंतर दिखाई पड़े।

अगर आपके पास कोई ऐसी टेक्स्ट पर होने वाली बातचीत है जहाँ आप चरित्रों को आगे-पीछे दिखाते रहना चाहते हैं तो यह इंटरकट इस्तेमाल करने का बहुत अच्छा मौक़ा हो सकता है! मैंने अपने पिछले ब्लॉग में इंटरकट के बारे में बात की है, लेकिन संक्षेप में इसका यह मतलब है कि किसी स्लगलाइन के बिना दो दृश्यों को एक साथ एक समय पर चलाने के लिए इंटरकट का प्रयोग किया जा सकता है। इंटरकट आम तौर पर फोन पर होने वाली बातचीत के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं, इसलिए, ये टेक्स्ट पर होने वाली बातचीत के लिए भी बहुत अच्छा विकल्प है!

पटकथा का संक्षिप्त भाग

जिम/केली की टेक्स्ट बातचीत में इंटरकट

जब वो दोनो एक-दूसरे को मैसेज करते हैं तब स्क्रीन पर टेक्स्ट बबल दिखाई देते हैं।

जिम (टेक्स्ट)

तुम जगी हो?

केली (टेक्स्ट)

मज़ाक कर रहे हो???

जिम (टेक्स्ट)

क्या?

केली (टेक्स्ट)

तुम्हें टीना को मैसेज नहीं करना चाहिए?

जिम (टेक्स्ट)

कौन??

केली मिडिल फिंगर वाली इमोजी के साथ जवाब देती है।

इस उदाहरण के साथ, मैं यह भी बताना चाहती हूँ कि जब किरदार एक-दूसरे को मैसेज करते हैं उस समय उनके टेक्स्ट मैसेज स्क्रीन पर दिखाई देने चाहिए। अंत में, यह निर्देशक पर निर्भर करता है, लेकिन फिर भी आप यह सलाह दे सकते हैं कि टेक्स्ट मैसेज स्क्रीन पर दिखाई देना चाहिए या नहीं, चाहे यह फोन पर दिखाया जाए, या फिर इसे वॉइस-ओवर में पढ़ा जाए। निर्देशक वही करेगा जो वो चाहेगा, लेकिन कम से कम आपको उस दृश्य के लिए अपना नज़रिया सामने रखना चाहिए!

अब, अगर आप किसी को टेक्स्ट मैसेज दिखाना चाहते हैं तब क्या होगा? फिर आप क्या करते हैं? यह आसान है! यहाँ, केली अपनी दोस्त वांडा को वो टेक्स्ट दिखाना चाहती थी जो उसे जिम ने भेजा था।

पटकथा का संक्षिप्त भाग

केली अपना फोन उठाकर वांडा को दिखाती है।

केली का फोन

जिम के टेक्स्ट मैसेज में लिखा है: "तुम जगी हो?"

दृश्य पर वापस जाएँ

या फिर इससे भी आसान तरीका है

पटकथा का संक्षिप्त भाग

केली अपना फोन उठाकर वांडा को दिखाती है।

जिम के टेक्स्ट मैसेज में लिखा है: "तुम जगी हो?"

यह आसान है, है न?

ये बस उन संभावित परिदृश्यों के उदाहरण हैं जिनकी आपको पटकथा में टेक्स्ट मैसेज फॉर्मेट करने के लिए ज़रूरत पड़ सकती है। चूँकि, टेक्स्ट मैसेजों के लिए कोई तय नियम नहीं हैं, इसलिए इन उदाहरणों का इस्तेमाल करके आप चीज़ों को फॉर्मेट करने की योजना बना सकते हैं। पटकथा लेखन में सभी चीज़ों की तरह, एक बार फॉर्मेटिंग स्टाइल तय करने के बाद, इसे न भूलें और अपनी पूरी पटकथा में हर जगह बस इसी स्टाइल का प्रयोग करें!

उम्मीद है इससे आपको मदद मिली होगी! आपसे बाद में मिलती हूँ।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पटकथा का सार लिखें

पटकथा का सार कैसे लिखें

पटकथा का सार लिखने में ऐसा क्या है जो मुझे इसमें इतनी परेशानी होती है? मुझे हाल ही में एक पटकथा का सार लिखना पड़ा था, और मुझे बताते हुए बहुत शर्मिंदगी हो रही है कि इसे पूरा करने में मुझे बहुत ज़्यादा समय लगा। मैं बैठकर यही सोचती रह गयी कि मुझे इसमें क्या शामिल करना चाहिए, मैं परियोजना की भावना को कैसे ज़ाहिर करूँ, और यह सबकुछ तब जबकि ये बस एक पन्ने तक सिमटा हुआ था। कोई भी असली लेखन का काम करने के बजाय मैंने ख़ुद को पहले से कहीं ज़्यादा बेकार में सोशल मीडिया पर खोया हुआ पाया। यह बहुत बुरा था, लेकिन प्यारे पाठकों, मैंने इतना सब इसलिए सहा ताकि...

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

मोंटाज़। हम सभी देखने पर इसे जान जाते हैं, लेकिन असल में वहां क्या हो रहा होता है? मैं अपनी पटकथा में मोंटाज़ कैसे फॉर्मेट करूँ? अगर मेरा मोंटाज़ एक से ज्यादा स्थानों में हो रहा है तो क्या होगा? यहाँ मोंटाज़ लिखने के बारे में कुछ उपाय और सुझाव दिए गए हैं जिनसे मुझे अपने लेखन में मदद मिली है। वास्तव में मोंटाज़ क्या होता है? मोंटाज़ छोटे दृश्यों या पलों का संग्रह होता है जिसे तेजी से समय का बीतना दिखाने के लिए एक साथ जोड़ा जाता है। आमतौर पर, मोंटाज़ में बहुत कम, या बिल्कुल संवाद नहीं होते हैं। मोंटाज़ का इस्तेमाल समय को संक्षिप्त करने के लिए किया जा सकता है और छोटी अवधि में हमें कहानी का बड़ा हिस्सा बताया जा सकता है। मोंटाज़ का प्रयोग कई स्थानों पर मौजूद चरित्रों को ऐसी चीजें करते हुए दिखाने के लिए किया जा ...

पटकथा की रूपरेखा लिखें

पटकथा की रूपरेखा कैसे लिखें

तो, आपके दिमाग में एक पटकथा की योजना है, अब क्या करें? क्या आप तुरंत बैठकर लिखना शुरू कर देते हैं, या लिखने से पहले थोड़ा-बहुत काम करते हैं? सबके शुरुआत करने का तरीका अलग होता है, लेकिन आज मैं यहाँ आपको पटकथा की रूपरेखा बनाने के फ़ायदों के बारे में बताने वाली हूँ। मैंने दिमाग में आईडिया आते ही तुरंत पटकथा लिखना भी शुरू किया है और साथ ही अच्छी तरह से रूपरेखा बनाकर भी पटकथा लिखने की शुरुआत की है। मैं कौन सा तरीका इस्तेमाल करती हूँ यह पटकथा पर निर्भर करता है। जब मैं तुरंत लिखना शुरू करती हूँ तो उसमें एक तरह की स्‍वाभाविकता होती है...

टिप्पणियां