पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक विक्टोरिया लूसिया

पटकथा की रूपरेखा कैसे लिखें

पटकथा की रूपरेखा लिखें

तो, आपके दिमाग में एक पटकथा की योजना है, अब क्या करें? क्या आप तुरंत बैठकर लिखना शुरू कर देते हैं, या लिखने से पहले थोड़ा-बहुत काम करते हैं? सबके शुरुआत करने का तरीका अलग होता है, लेकिन आज मैं यहाँ आपको पटकथा की रूपरेखा बनाने के फ़ायदों के बारे में बताने वाली हूँ।

मैंने दिमाग में आईडिया आते ही तुरंत पटकथा लिखना भी शुरू किया है और साथ ही अच्छी तरह से रूपरेखा बनाकर भी पटकथा लिखने की शुरुआत की है। मैं कौन सा तरीका इस्तेमाल करती हूँ यह पटकथा पर निर्भर करता है। जब मैं तुरंत लिखना शुरू करती हूँ तो उसमें एक तरह की स्‍वाभाविकता होती है जो कुछ परियोजनाओं के मामले में काम आती है और लिखने की प्रक्रिया के दौरान मेरे सामने चीज़ें ज़ाहिर करती है। अगर आपकी कहानी जटिल है, इसमें बहुत सारी परतें हैं, या अगर आपको इसमें सचमुच मुश्किल आ रही है तो शुरुआत करने से पहले रूपरेखा तैयार करने से आपको बहुत मदद मिल सकती है।

पटकथा की रूपरेखा कैसी दिखनी चाहिए?

आप रूपरेखा इसलिए तैयार कर रहे हैं ताकि आपको वो कहानी ठीक तरीके से व्यवस्थित करने में मदद मिल सके जिसे आप बताने की कोशिश कर रहे हैं, इसलिए रूपरेखा दिखने में कैसी भी हो सकती है!

शायद आप कुछ बीट शीट जैसा बनाना चाहें जो बहुत ज़्यादा विस्तृत न हो। यह कुछ ऐसा होता है जो कहानी के बड़े पलों को रेखांकित करने में मदद करता है। और ऐसी चीज़ केवल कुछ पन्नों में ही सिमटकर रह सकती है।

या फिर आप ज़्यादा गहराई में भी जा सकते हैं। मैं किसी ख़ास दृश्य के विवरण, चरित्र की बारीकियों, पटकथा की दुनिया के बारे में महत्वपूर्ण टिप्पणियों के बारे में बात कर रही हूँ। अगर आप चाहें तो हर एक दृश्य सूचीबद्ध करें। इसे अपना बनाएं, और वो हर चीज़ शामिल करें जो आपके अनुसार पटकथा के लिए ज़रूरी होने वाली है। इस तरीके का इस्तेमाल करने पर आपकी रूपरेखा लगभग 40 पन्नों के आसपास तक पहुँच सकती है। अगर आप विस्तृत रूपरेखा तैयार करते हैं तो पटकथा लिखते समय आपके लिए आसानी होना तय है क्योंकि आपके पास पहले से सबकुछ योजनाबद्ध तरीके से मौजूद होता है!

आप इसे चाहे जैसे भी करना चाहें, रूपरेखा बनाने में अपनी अंक संरचना की सहायता लेना काफ़ी मददगार साबित होता है। तो, अगर आपके पास तीन अंक वाली संरचना है तो आप अंक I, अंक II, अंक III से चीज़ों को बाँट सकते हैं, और इसके बाद सोच सकते हैं कि हर अंक में क्या होने वाला है। निम्नलिखित रूप में, बीट्स के बारे में सोचें:

  • अंक I

    उत्तेजक घटना

  • अंक II

    बाधाएं, मध्य बिंदु

  • अंक III

    चरम, अंतिम गतिविधि

अपनी पटकथा के लिए रूपरेखा बनाते समय, आप ज्यादा गहराई में जा सकते हैं, और पलटाव, बाधाएं, मोड़, या आप उन पलों को चाहे जो भी नाम दें, उन्हें शामिल कर सकते हैं। बस अपनी पटकथा के सभी ज़रूरी पलों के बारे में सोचें, और उन्हें अपनी पटकथा में शामिल करना न भूलें।

मैं पटकथा की रूपरेखा कैसे लिखूं?

मैं लिखने से पहले के काम पुराने तरीके से करती हूँ, यानी मैं अपने हाथों से रूपरेखा लिखती हूँ। मुझे इंडेक्स कार्ड्स का इस्तेमाल करके रूपरेखा बनाना पसंद है। या तो मैं हर दृश्य के लिए चीज़ें लिखने के लिए अपने इंडेक्स कार्ड्स का इस्तेमाल करती हूँ या फिर व्यापक रूपरेखा बनाने के लिए इंडेक्स कार्ड्स इस्तेमाल करती हूँ जो ज़रूरी बीट्स शामिल करते हैं। मुझे इंडेक्स कार्ड्स इसलिए पसंद हैं क्योंकि मुझे सभी चीज़ें अपनी आँखों के सामने रखना पसंद है, और साथ ही मुझे कार्ड्स को पकड़कर या पलटकर छू पाना भी अच्छा लगता है।

आपको रूपरेखा बनाने का वो तरीका चुनना चाहिए जो आपको अपने लिए सबसे अच्छा समझ आता है। टाइप किया गया दस्तावेज़, हाथ से लिखी गयी नोटबुक, या इंडेक्स कार्ड्स पर लिखी गयी रूपरेखा आपके काम आएगी; इसमें से जो भी योजना बनाने में आपकी मदद करे, उसका इस्तेमाल करें!

अपने विचारों की रूपरेखा बनाने के लिए समय निकालने पर, आपको एक चुस्त, अच्छी तरह से सोची-समझी गयी कहानी लिखने में मदद मिल सकती है। इसके बाद ड्राफ्ट बनाने में भी आपका काफ़ी समय बच सकता है क्योंकि आप कोई ऐसी बड़ी गलतियाँ या चीज़ें नहीं करेंगे जो कहानी के संबंध में काम नहीं करती हैं, क्योंकि रूपरेखा बनाने के दौरान आप पहले ही उन पहलुओं पर गौर कर चुके होते हैं। तो अगली बार जब आपको किसी नयी पटकथा का आईडिया आये तो रूपरेखा लिखने की कोशिश करें!

लिखने के लिए शुभकामनाएं!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

पटकथा का सार लिखें

पटकथा का सार कैसे लिखें

पटकथा का सार लिखने में ऐसा क्या है जो मुझे इसमें इतनी परेशानी होती है? मुझे हाल ही में एक पटकथा का सार लिखना पड़ा था, और मुझे बताते हुए बहुत शर्मिंदगी हो रही है कि इसे पूरा करने में मुझे बहुत ज़्यादा समय लगा। मैं बैठकर यही सोचती रह गयी कि मुझे इसमें क्या शामिल करना चाहिए, मैं परियोजना की भावना को कैसे ज़ाहिर करूँ, और यह सबकुछ तब जबकि ये बस एक पन्ने तक सिमटा हुआ था। कोई भी असली लेखन का काम करने के बजाय मैंने ख़ुद को पहले से कहीं ज़्यादा बेकार में सोशल मीडिया पर खोया हुआ पाया। यह बहुत बुरा था, लेकिन प्यारे पाठकों, मैंने इतना सब इसलिए सहा ताकि...

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

पारंपरिक पटकथा में मोंटाज़ लिखने के 2 तरीके

मोंटाज़। हम सभी देखने पर इसे जान जाते हैं, लेकिन असल में वहां क्या हो रहा होता है? मैं अपनी पटकथा में मोंटाज़ कैसे फॉर्मेट करूँ? अगर मेरा मोंटाज़ एक से ज्यादा स्थानों में हो रहा है तो क्या होगा? यहाँ मोंटाज़ लिखने के बारे में कुछ उपाय और सुझाव दिए गए हैं जिनसे मुझे अपने लेखन में मदद मिली है। वास्तव में मोंटाज़ क्या होता है? मोंटाज़ छोटे दृश्यों या पलों का संग्रह होता है जिसे तेजी से समय का बीतना दिखाने के लिए एक साथ जोड़ा जाता है। आमतौर पर, मोंटाज़ में बहुत कम, या बिल्कुल संवाद नहीं होते हैं। मोंटाज़ का इस्तेमाल समय को संक्षिप्त करने के लिए किया जा सकता है और छोटी अवधि में हमें कहानी का बड़ा हिस्सा बताया जा सकता है। मोंटाज़ का प्रयोग कई स्थानों पर मौजूद चरित्रों को ऐसी चीजें करते हुए दिखाने के लिए किया जा ...

पारंपरिक पटकथा में फ्लैशबैक कैसे लिखें

समय में पीछे जाना: पारंपरिक पटकथा में फ्लैशबैक कैसे लिखें

“फ्लैशबैक” शब्द सुनते ही मेरा दिमाग "वेन्स वर्ल्ड" पर चला जाता है, जहाँ वेन और गार्थ अपनी उंगलियां हिलाते हुए कहते हैं, "डिडले-इडले-उम, डिडले-इडली-उम" और हम अतीत में मिल जाते हैं। काश, सभी फ्लैशबैक इतने ही आसान और मज़ेदार होते! अगर आप यह सोच रहे हैं कि फॉर्मेट, और उन्हें पेश करने दोनों के संबंध में पारंपरिक पटकथा में फ्लैशबैक कैसे लिखा जाता है, तो यहाँ आपके लिए कुछ उपाय दिए गए हैं जिनसे आपको मदद मिल सकती है! इस बात का ध्यान रखें कि आपके फ्लैशबैक का कोई उद्देश्य हो । फ्लैशबैक केवल तभी शामिल किया जाना चाहिए जब चरित्र के बारे में कोई महत्वपूर्ण चीज उजागर किये बिना या बताये बिना पटकथा में आगे बढ़ने का कोई रास्ता न दिखाई दे। इसे चरित्र की गतिविधियों और चुनावों के पीछे के इरादों ...

टिप्पणियां