पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

हताशा की वजह से पटकथा लेखन में सफलता पाने का मौका न गंवाएं

पटकथा लेखन में करियर बनाना वैसे ही इतनी बड़ी चुनौती है, इसलिए ख़ुद इसे और ज़्यादा मुश्किल बनाने की कोशिश न करें! हमने इस बारे में बहुत सारे पेशेवर पटकथा लेखकों से सवाल किया कि पटकथा लेखन में सफलता के सफर के दौरान हमें कौन सी गलतियों से बचने की ज़रुरत होती है। लेकिन पटकथा लेखक रिकी रॉक्सबर्ग का जवाब शायद सबसे कठिन था: क्या आप ज़्यादा हताश हैं?

जहाँ तक रिकी की बात है वो डिज्नी टेलीविज़न एनीमेशन के लिए लेखक हैं, जिनके क्रेडिट्स में "सेविंग सैंटा," "रैपुन्ज़ेल्स टैंगल्ड एडवेंचर," "स्पाई किड्स: मिशन क्रिटिकल," और "बिग हीरो 6: द सीरीज," शामिल हैं। वो उन कुछ भाग्यशाली लोगों में से हैं जो पटकथा लेखन को अपना फुल टाइम काम बनाने में सफल हुए हैं, वहीं, ज़्यादातर लेखकों के लिए, यह अक्सर फ्रीलान्स गिग होता है। अपने पूरे सफर के दौरान, उन्होंने इस बात पर ध्यान दिया कि लेखकों से कहाँ गलती होती है।

पटकथा लेखन की गलती #1: बहुत हताश होना

"वो गलतियां जो लोगों को लेखन में करियर बनाने से रोकती हैं: उनमें से एक है, हताशा," उन्होंने कहा। "वो बहुत घबराये से, या बहुत हताश, चिड़चिड़े और अजीब तरीके से मीटिंग में आते हैं।"

एक और चीज़ जो लोगों को सफल होने से रोकती है वो यह कि वो एक चीज़ लिख लेते हैं, और उन्हें लगता है वही उनका मकसद है, और उन्हें लगता है कि उतना काफी है। उन्हें लगता है, ओह, पहली पटकथा लिखने में बहुत ज़्यादा मेहनत लग गयी, और उन्हें यह समझ नहीं आता कि आपकी पहली चीज़ बेकार होती है … और यहाँ तक कि आपकी दूसरी, तीसरी, और चौथी चीज़ भी।
रिकी रॉक्सबर्ग
पटकथा लेखक

मुझे आपका नहीं पता, लेकिन मुझे हताश शब्द सुनने में बहुत बेकार लगता है, जैसे मैं कुछ ज़्यादा ही कोशिश कर रही हूँ, या मैं बहुत मुश्किल हालात में हूँ, या फिर किसी ऐसी जगह पहुँच गयी हूँ जहाँ से मैं उस जगह नहीं पहुँच पा रही हूँ जहाँ मुझे होना चाहिए। आपको पता है उससे भी ज़्यादा बुरा क्या है? यह कि लेखन में करियर बनाना इतना मुश्किल होता है कि कई लेखक हताश हो ही जाते हैं। खैर, इस मामले में देखा जाए तो मुझे ये चीज़ उतनी बुरी नहीं लगती। आप लिखने में अपनी हर चीज़ लगा देते हैं – कोशिश, समय, पैसे, यहाँ तक कि अपनी नींद भी - लेकिन फिर भी अक्सर आपको न तो इसके कोई पैसे मिलते हैं और न ही कोई पहचान। आप बहुत संवेदनशील थे, और आपने अपने दिमाग में आने वाली हर चीज़ पन्ने पर उतार दी है। तो फिर, "हताशा" इतना गन्दा शब्द क्यों है? इसका मतलब है आप अपने सपनों का पीछा करने के लिए बेचैन हैं, और यह अच्छी बात है। हमें बस उस जुनून को अलग तरीके से पेश करना सीखने की ज़रुरत होती है।

मुझे लगता है, रिकी यह कहना चाहते हैं कि हताशा हमारे रास्ते का काँटा बन सकती है – चाहे वो हमारे जॉब इंटरव्यू में हो या फिर फ़िल्मकारों के साथ संपर्क बनाने की कोशिश करते समय। हम काम पाने के लिए इतने बेचैन होते हैं कि हम वैसे लग सकते हैं जैसा उन्होंने बताया - घबराये हुए और अजीब। आपको यह याद रखना होगा कि दूसरी तरफ बैठा हुआ इंसान आपकी प्रतिभा और उपलब्धियों के अलावा भी बहुत सारी चीज़ें देखता है। वो आपको अन्दर से बाहर तक देखता है।

"जब आप किसी से मिलते हैं, वो बस इतना नहीं कहते, "क्या मुझे इस इंसान का लिखा हुआ पसंद है?" वो कहते हैं, "क्या मैं इस इंसान के साथ चार या तीन साल तक काम कर सकता हूँ।"

मुझे यक़ीन है आप पहले से ऐसे इंसान हैं जिसे लोग पसंद कर सकते हैं, इसलिए आपको बहुत ज़्यादा परेशान होने की ज़रुरत नहीं है। ज़ाहिर तौर पर, हमें थोड़ी-बहुत घबराहट हो सकती है, लेकिन सामान्य बैठक या पिच बैठक में अपना सबसे अच्छा रूप दिखाने के कुछ तरीके होते हैं। जहाँ तक लिखने की बात है, ख़ुद को पेश करते समय अभ्यास करना सबकुछ होता है। आपका आकर्षण, गर्मजोशी, और दूसरों को ख़ुद से जोड़ने की क्षमता किसी भी अच्छे इंटरव्यू के लिए सबसे ज़रुरी चीज़ है, जो सबको स्वाभाविक रूप से नहीं मिलती (ख़ासकर, हम अंतर्मुखी लोगों को)।

पटकथा लेखन की गलती #2: कड़ी मेहनत भूलना जो काम का हिस्सा है

"एक और चीज़ जो लोगों को सफल होने से रोकती है वो यह कि वो एक चीज़ लिख लेते हैं, और उन्हें लगता है वही उनका मकसद है, और उन्हें लगता है कि उतना काफी है," रिकी ने कहा। "उन्हें लगता है, ओह, पहली पटकथा लिखने में बहुत ज़्यादा मेहनत लग गयी, और उन्हें यह समझ नहीं आता कि आपकी पहली चीज़ बेकार होती है … और यहाँ तक कि आपकी दूसरी, तीसरी, और चौथी चीज़ भी।"

मैं यह नहीं कह रही हूँ कि पटकथा लेखन में कभी-कभार चमत्कार नहीं होते, लेकिन ऐसा बहुत कम होता है कि आपकी पहली पटकथा मास्टरपीस बनकर तैयार हो जाए। पटकथा लेखन का मतलब है, दोबारा लिखना। यह दूसरी शैलियों को आजमाना है, यह दूसरे फिल्मकारों के साथ मिलकर काम करना है, और यह विनम्रता के साथ कड़ी प्रतिक्रिया स्वीकार करना और नोट्स पर काम करने में समर्थ होना है। यह अपनी कला में माहिर होने के लिए एक दिनचर्या बनाना है। और पता है क्या? यह थोड़ा आसान हो सकता है, लेकिन यह कभी रुकता नहीं है।

हालाँकि, पटकथा लेखन की कला अभी चुनौतीपूर्ण लग सकती है, लेकिन SoCreate का पटकथा लेखन सॉफ्टवेयर शुरू होने के बाद यह कहीं ज़्यादा आसान और मज़ेदार हो जाएगी।

[कुछ लेखक] यह नहीं समझते कि इसमें हमेशा कड़ी मेहनत लगती है," उन्होंने अंत में कहा, "और आपको काम करते रहना पड़ता है।"

घबराये नहीं और अपनी प्रतिभा को बोलने दें,

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

Screenwriting Consultant Danny Manus' Advice for Aspiring Screenwriters

इस लोकप्रिय हॉलीवुड परामर्शदाता के अनुसार, पटकथा लेखक बनने में सफलता कैसे पाएं

अगर आप इस व्यवसाय में सीधा-सरल जवाब पाना चाहते हैं तो नो बुलस्क्रिप्ट कंसल्टिंग के मालिक डैनी मानस से पूछें। वो हॉलीवुड के जाने-माने पटकथा लेखन परामर्शदाता हैं, और उन्होंने ये सब देखा है! इसलिए, ज़ाहिर सी बात है, जब हम पटकथा लेखन पर, या, ख़ास तौर पर, पटकथा लेखन में सफलता पाने के बारे में उनका साक्षात्कार लेने बैठे तो हमारे पास उनके लिए बहुत से सवाल थे। सामान्य बैठकों से लेकर पिच मीटिंग, और व्यावसायिक सुझावों से लेकर जिन बड़ी गलतियों से आपको बचना चाहिए तक, इन सभी चीज़ों के लिए आप उनकी सलाह देख सकते हैं। लेकिन आज, हम बस यह सच जानना चाहते...
3 Serious Mistakes Screenwriters Can Make, According to the Hilarious Monica Piper

मज़ेदार मोनिका पाइपर के अनुसार, वो 3 गंभीर गलतियां जो पटकथा लेखक कर सकते हैं

मुझे हैरानी है कि आपने मुझे एमी-विजेता लेखिका, कॉमेडियन और निर्मात्री, मोनिका पाइपर, के साथ मेरे हालिया साक्षात्कार के ज़्यादातर हिस्से में मुझे ठहाके लगाते हुए नहीं सुना, जिनका नाम आपने "रोज़ीन," "रगरैट्स," "आह! रियल मॉन्स्टर्स," और "मैड अबाउट यू" जैसे हिट कार्यक्रमों से सुना होगा। वो बहुत मज़ाकिया हैं, और उनके मज़ाक बहुत आसानी माहौल में घुलते हैं। उनके पास इसका काफ़ी अनुभव है कि मज़ेदार क्या होता है, और पटकथा लेखन करियर के बारे में कुछ गंभीर सलाह देने के लिए उन्होंने काफ़ी गलतियां भी देखी हैं। मोनिका ने अपने पूरे करियर के दौरान लेखकों को देखा है, और वो कहती हैं...

पटकथा लेखक एडम जी. साइमन का "बहुमूल्य ना बनें," एवं अन्य सुझाव

हॉलीवुड से लेकर पाकिस्तान तक, दुनिया भर के पटकथा लेखकों ने पटकथा लेखक एडम जी. साइमन से अपने पटकथा लेखन के करियर को आगे बढ़ाने के बारे में सवाल पूछने के लिए हमारी इंस्टाग्राम स्टोरी का रुख किया। उन्होंने लेखन समुदाय से बताया कि, "मुझे योगदान करना पसंद है क्योंकि वास्तव में मेरी किसी ने मदद नहीं की थी। मैं चाहता हूँ कि ज्यादा लोग सफलता पाएं। मैं चाहता हूँ कि ज्यादा लोग अंदर आएं। मैं चाहता हूँ कि ज्यादा लोग योजनाएं बनाएं। उद्योग में अंदर आने से पहले, मेरे पास बैंक खाते में नेगेटिव 150 डॉलर और पटकथाओं का एक झोला था। इसने मुझे एक ऐसी स्थिति में डाल दिया था जहाँ मेरे लिए करो या मरो की स्थिति हो गयी थी। उस समय थोड़ी सलाह मेरे लिए अच्छी होती।" और इसलिए, उन्होंने सलाह दी! साइमन ने शिया लाबियॉफ़ ...

टिप्पणियां