पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक कर्टनी मेजरनिच

फ़िल्म निर्माण के इतिहास में यह महीना - अप्रैल 2021 राउंड अप

  • इतिहास में इस दिन

    स्टीमबोट
         बिल, जूनियर

    पटकथा

    • कार्ल हर्बोग

    स्टीमबोट बिल, जूनियर -

    बस्टर कीटोन की एक्शन-कॉमेडी फ़िल्म "स्टीमबोट बिल, जूनियर" का प्रीमियर 1928 में आज ही के दिन कैलिफ़ोर्निया के सांता मारिया में हुआ था। यह उनकी आख़िरी फ़िल्म थी जो उन्होंने यूनाइटेड आर्टिस्ट्स के लिए बनाई थी और यह उनकी सिग्नेचर स्टाइल में बनाई गयी अंतिम फ़िल्म से पहले आयी थी। इस फ़िल्म की कहानी कार्ल हर्बोग ने लिखी थी, जो एक नाव के कप्तान के बेटे पर आधारित है जो अपने पिता के चालक दल के साथ शामिल हो जाता है और उसे अपनी प्रतिस्पर्धी से प्यार हो जाता है। इस फ़िल्म में कीटोन का एक सबसे मशहूर स्टंट दिखाया गया है, जहाँ घर के सामने का हिस्सा उनके ऊपर गिर जाता है, लेकिन वो धीरे से खिड़की में से बाहर निकल जाते हैं और खड़े रहते हैं। बरसों से इस स्टंट को कई बार दोहराया गया है, और फ़िल्म के शीर्षक ने वॉल्ट डिज्नी की "स्टीमबोट विली" को प्रेरित किया था, जिसे मिकी माउस की शुरुआत माना जाता है।

  • इतिहास में इस दिन

    पीपिंग
        टॉम

    पटकथा

    • लियो मार्क्स

    पीपिंग टॉम -

    आधुनिक स्लेशर फ़िल्मों के सबसे शुरूआती पूर्वजों में से एक "पीपिंग टॉम" को 1960 में आज ही के दिन प्रीमियर किया गया था। यह ब्रिटिश हॉरर-थ्रिलर एक वोयर सीरियल किलर की कहानी बताती है, जो मरने से पहले अपने शिकारों के हाव-भाव को रिकॉर्ड करता है। अपने बेहद क्रूर विषय की वजह से आलोचकों ने इस फ़िल्म की बहुत निंदा की थी, लेकिन अब यह एक कल्ट क्लासिक बन चुकी है और इसे अब तक की सर्वश्रेष्ठ ब्रिटिश फ़िल्मों में से एक माना जाता है। दूसरे विश्वयुद्ध के पूर्व क्रिप्टोग्राफर से पटकथा लेखक बने लियो मार्क्स ने उन लोगों के आधार पर अपनी फ़िल्म की पटकथा लिखी थी जिनसे वो लंदन में पलने-बढ़ने के दौरान अपने पिता के बुक स्टोर के आसपास मिले थे। मार्क्स ने कहा था कि वह एडगर एलन पो की कहानियां पढ़ने के बाद डरावनी फ़िल्म लिखने के लिए प्रेरित हुए थे।

  • इतिहास में इस दिन

      मिस्टर डीड्स
    गोज़ टू टाउन

    पटकथा

    • रॉबर्ट रिस्कीन

    मिस्टर डीड्स गोज़ टू टाउन -

    रॉबर्ट रिस्कीन ने "मिस्टर डीड्स गोज़ टू टाउन" की पटकथा लिखी थी, जो 1936 में आज ही के दिन रिलीज़ हुई थी। फ़िल्म में गैरी कूपर को एक ऐसे व्यक्ति के रूप में दर्शाया गया है, जिसे हाल ही में अपने अमीर चाचा की संपत्ति विरासत में मिली है और यह उन लालची लोगों की कहानी पर केंद्रित है जो इसका एक हिस्सा पाना चाहते हैं। इस फ़िल्म के लिए फ्रैंक कैप्रा को उस साल का सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का ऑस्कर पुरस्कार मिला था। इसने स्मॉल-टाउन अमेरिका के उत्तम उदाहरण के रूप में मैंड्रेक फॉल्स के वर्मोन्ट टाउन को मानचित्र पर जगह भी दी थी, जहाँ से प्रमुख किरदार आता था। और एक और मजेदार तथ्य: "डूडल," शब्द, जिसे हम आज जानते हैं, वो भी इस फ़िल्म के अंतिम दृश्य से आया था, जहाँ मुख्य किरदार न्यायाधीश को डूडलर को कागज़ पर बेकार के डिज़ाइन बनाने वाले व्यक्ति के रूप में समझाता है। उससे पहले इस शब्द का मतलब था, बेकार समय गंवाना। हमें इस बात की बहुत ख़ुशी है कि रिस्कीन ने यह शब्द ईजाद किया, नहीं तो SoCreate का नूडल डूडल कभी नहीं आता!

  • इतिहास में इस दिन

    द ब्लू
        एंजेल

    पटकथा

    • कार्ल ज़ुकमायर
    • कार्ल वोल्मोलर
    • रॉबर्ट लैबमन

    द ब्लू एंजेल -

    पहली बोलती हुई फीचर-लेंथ जर्मन फ़िल्म, "द ब्लू एंजेल" 1930 में आज ही के दिन आयी थी। कार्ल ज़ुकमायर, कार्ल वोल्मोलर, और रॉबर्ट लेबमैन ने हेनरिक मान के उपन्यास "प्रोफेसर फिल्थ" के आधार पर इस फ़िल्म की पटकथा लिखी थी। इस फ़िल्म की कहानी एक प्रोफेसर पर केंद्रित है, जो एक कैबरे कलाकार के साथ ईर्ष्या में पागल हो जाता है, और आख़िरकार एक अपमानजनक कैबरे जोकर बन जाता है। फ़िल्म को इस उम्मीद में जर्मन और अंग्रेज़ी में एक साथ शूट किया गया था कि दोहरी भाषा की वजह से बॉक्स ऑफिस पर ज़्यादा मुनाफा मिलेगा। लेकिन, कलाकारों को अंग्रेज़ी शब्द बोलने में मुश्किल आ रही थी, इसलिए जर्मन फ़िल्म को श्रेष्ठ माना गया है।

  • इतिहास में इस दिन

    ओलंपिया पार्ट वन:
         फेस्टिवल्स ऑफ़ द 
              नेशंस

    पटकथा

    • लेनी रिफेनेस्टहल

    ओलंपिया पार्ट वन: फेस्टिवल्स ऑफ़ द नेशंस -

    हालाँकि, इस फ़िल्म का राजनीतिक संदर्भ विवादास्पद है, लेकिन लेनी रिफेनेस्टहल के "ओलंपिया पार्ट वन: फेस्टिवल ऑफ़ द नेशंस" को इतिहास में अपने समय की उन्नत फ़िल्म तकनीकों के एक शानदार उदाहरण के रूप में जाना जाएगा। यह नाज़ी जर्मन प्रचार फ़िल्म 1938 में आज ही के दिन बर्लिन में आयी थी, जिसमें कैमरा को बहुत प्रभावशाली तरीके से रखकर 1936 की गर्मियों के ओलंपिक्स को कवर किया गया था, इनमें कैमरा को पानी के नीचे रखकर, ब्लीचर, और यहाँ तक कि गुब्बारों के साथ जोड़कर भी दृश्यों को क़ैद किया गया था और उन्हें फ़िल्म को वापस रिफेनेस्टहल को देने के निर्देश दिए गए थे। इस फ़िल्म को स्मैश कट, एक्सट्रीम क्लोज़अप, और अन्य नए कैमरा एंगलों के प्रयोग के लिए जाना जाता है।

  • इतिहास में इस दिन

    द पब्लिक
           एनिमी

    पटकथा

    • हार्वे एफ. थेव

    द पब्लिक एनिमी -

    सबसे शुरूआती गैंगस्टर उपशैली वाली फ़िल्मों में से एक "द पब्लिक एनिमी" 1931 में आज ही के दिन न्यूयॉर्क सिटी में प्रीमियर हुई थी। इसकी कहानी अमेरिका में निषेध-काल के अपराध के समय के एक अपराधी के जीवन पर केंद्रित है। हार्वे एफ. थेव ने इसकी पटकथा लिखी थी, जो "बीयर एंड ब्लड" नामक एक पुस्तक पर आधारित थी, जिसे दो पत्रकारों ने लिखा था, जो शिकागो में अल कपोन के गिरोह के विरोधियों का अनुसरण करते थे। इस फ़िल्म को अभी भी अपने अभिनय और कहानी के लिए सराहा जाता है, जिसे चौथे अकादमी पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ कहानी के लिए नॉमिनेट किया गया था।

  • इतिहास में इस दिन

    डॉ. माब्यूज़
        द गैम्बलर

    पटकथा

    • थिया वॉन हरबौ

    डॉ. माब्यूज़ द गैम्बलर -

    चार घंटे लम्बी "डॉ. माब्यूज़ द गैम्बलर" का प्रीमियर 1922 में आज ही के दिन हुआ था। यह फ़िल्मकार फ्रिट्ज लैंग द्वारा निर्देशित और थिया वॉन हरबौ द्वारा लिखित तीन-भाग वाली जर्मन मूक फ़िल्म श्रृंखला का पहला भाग था। इस फ़िल्म की कहानी दूसरे विश्वयुद्ध के बाद के जर्मनी में लगभग एक डिस्टोपियन युग के दौरान घटित होती है, और इसमें जर्मन समाज के पतन, बुराई की ताकत और निगरानी के भारी विषयों को शामिल किया गया है। आख़िरकार, बहुत ज़्यादा संपादित करने के बाद, 1927 में जब इसके दो घंटे लम्बे संस्करण को रिलीज़ किया गया तब भी आलोचकों ने इसकी लंबाई को लेकर काफी शिकायत की थी। 70 के दशक के पहले तक इसके पूर्ण संस्करण को यूएसए में प्रीमियर नहीं किया गया था, जहाँ आगे चलकर न्यूयॉर्क फ़िल्म फेस्टिवल में इसके हिट होने की प्रशंसा की गयी थी। 1922 में अपने रिलीज़ के बाद, आलोचकों ने कहा था कि जब लोग आज से 50 से 100 साल बाद इस फ़िल्म को देखेंगे तो उन्हें "एक ऐसे युग का पता चलेगा जिसकी ऐसे किसी दस्तावेज़ के बिना कल्पना करना मुश्किल है।"

  • इतिहास में इस दिन

    ब्राइड्समेड्स

    पटकथा

    • क्रिस्टन वाईग
    • एनी मुमोलो

    ब्राइड्समेड्स -

    कॉमेडी फ़िल्म "ब्राइड्समेड्स" का प्रीमियर 2011 में आज ही के दिन वेस्टवुड, कैलिफोर्निया में हुआ था, जो महिलाओं पर केंद्रित कॉमेडी फ़िल्मों को स्पॉटलाइट में लायी थी। क्रिस्टन वाईग और एनी मुमोलो पहली बार लॉस एंजेल्स के इम्प्रोव कॉमेडी ट्रुप में एक-दूसरे से मिली थीं, उसके बाद वाईग ने न्यूयॉर्क में "सैटरडे नाइट लाइव" पर काम करते हुए और मुमोलो ने एलए से काम करते हुए इस फ़िल्म की पटकथा के बारे में बात की। उन्होंने तब तक एक साथ इसकी पटकथा लिखने की योजना नहीं बनाई जब तक कि निर्देशक जूड अपाटो ने वाईग से यह नहीं पूछा कि क्या उन्होंने कभी ख़ुद कोई पटकथा लिखने के बारे में नहीं सोचा - जो उस वक़्त "नॉक्ड अप" पर वाईग के साथ काम कर रहे थे। इसी तरह, एपेटो ने स्टीव कैरेल से भी यही सवाल पूछा था, जिसने उन्हें "40-ईयर-ओल्ड वर्जिन" लिखने के लिए प्रेरित किया।

  • इतिहास में इस दिन

    मेक वे
             फॉर टुमारो

    पटकथा

    • विना डेल्मर

    मेक वे फॉर टुमारो -

    विना डेल्मर ने "मेक वे फॉर टुमारो" की पटकथा लिखी थी, जिसे 1937 में आज के दिन सीमित संख्या में रिलीज़ किया गया था। अवसाद-युग की यह फ़िल्म एक बुजुर्ग दंपति पर केंद्रित है, जिन्हें अपना घर खोने के बाद अलग होना पड़ता है, और उनका कोई भी बच्चा उन दोनों को अपने साथ रखने को तैयार नहीं होता। कुछ आलोचकों ने महसूस किया कि कहानी अत्यधिक कष्टदायक थी। लेकिन, हाल के दिनों में, परिवार और बुढ़ापे के अपने ईमानदार चित्रण के लिए इसकी कहानी को "हॉलीवुड की श्रेष्ठ गुमनाम कृति" माना गया है। निर्देशक लियो मैकरी को लगता था कि यह उनकी सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म है, और उसी वर्ष रिलीज़ हुई एक और फ़िल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का ऑस्कर स्वीकार करते हुए, उन्होंने दर्शकों से कहा कि उन्हें गलत फ़िल्म के लिए पुरस्कार दिया गया है।

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

इतिहास में इस दिन

द साउंड
   ऑफ़ म्यूजिक

पटकथा

  • अर्नेस्ट लेहमैन

फ़िल्म निर्माण के इतिहास में यह महीना - मार्च 2021 राउंड अप

"द साउंड ऑफ़ म्यूजिक" 1965 में आज ही के दिन सिनेमाघरों और दर्शकों के दिलों में उतरी थी। अर्नेस्ट लेहमैन ने मारिया वॉन ट्रैप के 40वें साल के संस्मरण "द स्टोरी ऑफ़ द ट्रैप फैमिली सिंगर्स" के आधार पर इस फ़िल्म की पटकथा लिखी थी। यह म्यूजिकल ड्रामा दर्शकों के बीच बहुत बड़ी हिट रही, जो 1965 की सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली फ़िल्म थी और इसने 29 देशों में बॉक्स ऑफिस रिकॉर्ड तोड़ा था। दर्शकों को इस फ़िल्म का संगीत और एक युवा औरत की कहानी बहुत पसंद आयी, जो एक अकेले आदमी के सात बच्चों की आया बनती है, और इस दौरान उसे उससे प्यार हो जाता है। इस फ़िल्म ने एकेडमी अवॉर्ड्स और...

इतिहास में इस दिन

हाउस ऑफ़
  कार्ड्स

निर्माता

  • ब्यू विलिमॉन

फ़िल्म निर्माण के इतिहास में यह महीना - फरवरी 2021 राउंड अप

ब्यू विलिमॉन द्वारा निर्मित "हाउस ऑफ़ कार्ड्स" के पहले सीजन के सारे एपिसोड्स 2013 में आज ही के दिन नेटफ्लिक्स पर आये थे। विलिमॉन को इसका आईडिया 1990 के इसी नाम के BBC मिनी सीरीज़ से आया था, जो यूके की राजनीति पर आधारित थी। मीडिया राइट्स कैपिटल ने "हाउस ऑफ़ कार्ड्स" के अधिकार ख़रीदकर, इसका आईडिया शोटाइम और HBO सहित, कई नेटवर्क्स के सामने पिच किया था। लेकिन, नेटफ्लिक्स ने यह कहकर सबसे ज़्यादा बोली लगायी कि इसके दर्शकों के डेटा के आधार पर इस तरह की कहानी, कलाकार, और कर्मचारी उसकी मूल प्रोग्रामिंग के लिए सबसे उपयुक्त हैं। विलिमॉन को वॉशिंगटन...

इतिहास में इस दिन

अर्नेस्ट
    टाइडीमैन

  • 93 साल पहले पैदा हुए

फ़िल्म निर्माण के इतिहास में यह महीना - जनवरी 2021 राउंड अप

लेखक और पटकथा लेखक अर्नेस्ट टाइडीमैन सातवीं कक्षा से आगे नहीं पढ़े थे, लेकिन उन्होंने यह साबित किया कि औपचारिक शिक्षा न मिलने के बावजूद पर्याप्त अभ्यास करके आप सफल हो सकते हैं। टाइडीमैन 1928 में इसी दिन पैदा हुए थे, और जूनियर हाई छोड़ने के बाद, महज़ 14 साल की उम्र में उन्होंने कॉपीबॉय के रूप में काम करना शुरू कर दिया था। अपनी सबसे मशहूर कहानी "शाफ़्ट" लिखने से पहले वो क्राइम रिपोर्टर के रूप में काम करते थे। उपन्यास से पटकथा में बदली गयी यह कहानी एक अफ्रीकी अमेरिकी डिटेक्टिव पर आधारित थी, "एक अश्वेत नायक जो ख़ुद को एक इंसान समझता था...

टिप्पणियां