पटकथा लेखन ब्लॉग
पर प्रविष्ट किया लेखक अल्ली अनगर

आज के पटकथा लेखकों के लिए रीमेक और रिबूट के लिए हॉलीवुड के प्रेम का क्या अर्थ है

टॉम्ब रेडर, एक्स-फाइल्स, ब्यूटी एंड द बीस्ट, स्टार वार्स, रोज़ेन, जुरासिक वर्ल्ड। यह सूची ऐसे ही जारी रहती है...

लाइन में अपनी जगह पकड़ो, पटकथा लेखक! हम SoCreate स्क्रीन राइटिंग सॉफ़्टवेयर को लॉन्च करने के करीब पहुंच रहे हैं, सीमित संख्या में बीटा परीक्षक।

हॉलीवुड साइन

कभी-कभी ऐसा लगता है कि जैसे ही आप अपना टीवी या वेब ब्राउज़र खोलते हैं तो फिर से किसी फिल्म के रीमेक या टेलीविज़न शो के रिबूट के लिए एक नए ट्रेलर के साथ आपका स्वागत किया जाता है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि इन रीमेक और रिबूट के लिए हॉलीवुड के मन में एक विशेष जगह है। लेकिन क्या अफवाहें सही हैं? क्या हम सचमुच में वास्तविक पटकथा की मौत का दौर देख रहे हैं जैसा कि कई दर्शक कहते हैं? चलिए इसे करीब से देखते हैं!

द ड्रॉइड यू आर लुकिंग फॉर डेटा ब्लॉग के अनुसार, 2003 से 2012 के बीच सिनेमाघरों में 122 रीमेक रिलीज़ किये गए हैं। रॉटेन टोमैटोस पर इन सभी फिल्मों का औसत क्रिटिक स्कोर क्या है? 46% के आसपास, जबकि मूल फिल्मों का औसत स्कोर 78% था। क्रिटिक स्कोर कम है, लेकिन बॉक्स ऑफिस कलेक्शन? यह काफी ज्यादा है। इन सभी रीमेक का कुल बॉक्स ऑफिस कलेक्शन $12 बिलियन था।

इससे पहले कि हम इसपर आएं कि इसका लेखकों के लिए क्या अर्थ है, चलिए एक बार उन कुछ कारणों के बारे में सोचकर देखते हैं कि कोई भी स्टूडियो वास्तविक कहानी से पहले रीमेक या रिबूट का चयन क्यों करता है।

स्टूडियो रीमेक या रिबूट का चुनाव क्यों करेंगे?

  • जोखिम से बचाव

    द इकोनॉमिक टाइम्स जोखिम से बचने वाले व्यक्ति को एक ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित करता है "जो अज्ञात जोखिमों के साथ ज्यादा मुनाफा पाने के बजाय, ज्ञात जोखिमों के साथ कम मुनाफा पाना पसंद करता है...वह ज्यादा जोखिम वाले निवेश से बचता है और ऐसे निवेश करना चाहता है जिससे उसे निश्चित मुनाफा मिल सके।"

    जोखिम से बचने की इच्छा शायद वो सबसे बड़ा कारण है जिसकी वजह से आज हम हॉलीवुड "रीमेक युग" नामक स्थिति में हैं। किसी भी स्टूडियो के लिए रीमेक या रिबूट बनाना बहुत ज्यादा आसान है क्योंकि उन्हें पता है कि फिल्म या सीरीज पहले सफल रह चुकी है। उन्हें पता होता है कि वे ऐसी चीज में अपने पैसे लगा रहे हैं जिसके लिए पहले से दर्शक मौजूद हैं और जो उनके लिए लाभदायक हो सकता है, या जो कम से कम उनके निर्माण के लागत की भरपाई कर सकता है। दुर्भाग्यशाली सच्चाई यह है कि नया हॉलीवुड को डरावना लग सकता है।

किसी फिल्म परियोजना पर पैसे लगाना जुए पर दांव लगाने जैसा है; 20th सेंचुरी फॉक्स, पैरामाउंट पिक्चर्स, यूनिवर्सल, और सोनी के पास अपने तहखानों में पैसे छापने की मशीन नहीं है, इसलिए वे अपना भाग्य आजमाने और वास्तविक कहानी पर आधारित पटकथा पर पैसे लगाने के बजाय सुरक्षित रहना चाहते हैं और पहले से आजमाए हुए सफल सिद्धांतों का चुनाव करते हैं।

कोरा थ्रेड, के माध्यम से अलेक्स डिआज़-ग्रानडोस ("हाल में हॉलीवुड में इतने सारे रिबूट और रीमेक क्यों बन रहे हैं?")
  • मार्केटिंग पर शुरूआती बढ़त

    जानकारी और अनगिनत विज्ञापनों से भरी हुई इस दुनिया में, रीमेक या रिबूट की बात आने पर स्टूडियो अत्यधिक फायदे में रहते हैं क्योंकि उनके पास पहले से शुरूआती बढ़त होती है! इस मामले में पहले से ऐसे दर्शक मौजूद होते हैं जो फिल्म या कार्यक्रम की मूल कहानी से परिचित हैं। दर्शक ऐसी चीजों को देखने की इच्छा प्रकट कर सकते हैं जिसका वो पहले आनंद उठा चुके हैं या जिसमें पहले से उनकी रूचि है।

    मूलभूत कहानी पहले से स्पष्ट होने पर विक्रेताओं के पास अपने प्रयासों से अलग सोचने का भी अवसर उपलब्ध होता है। कई मामलों में, उन्हें चरित्रों का परिचय देने की या कोई दृश्य सेटअप करने की भी जरुरत नहीं होती, ताकि उनका प्रचार ज्यादा नया या सबसे अलग लग सके।

    चलिए, उदाहरण के लिए, अमेरिका के पसंदीदा टीवी क्लासिक, "रोज़ेन," के रिबूट को ले लेते हैं। 27 मार्च, 2018 को जारी किये गए, इस रिबूट के पहले एपिसोड को 18 मिलियन से भी ज्यादा दर्शकों ने देखा।

    यदि हम इस ट्रेलर को शो का संदर्भ जाने बिना देखते तो शायद यह इतना प्रभावशाली ना होता। लेकिन, चूँकि विक्रेताओं को पता है कि ज्यादातर लक्षित दर्शकों ने मूल कार्यक्रम देखा होगा और जानते होंगे कि यह किस बारे में है, इसलिए वे एक अलग तरीका अपना सकते हैं। वे हमें इस बारे में कुछ नहीं बताते कि कार्यक्रम पर क्या होता है या रोज़ेन कौन है, बल्कि इसके बजाय वो वास्तविक कलाकारों के पुनर्मिलन और रोज़ेन की यादगार हंसी को दिखाकर, पुरानी यादों पर ध्यान आकर्षित करते हैं।

  • नयी और आधुनिक तकनीक

    स्टूडियो द्वारा मूल कहानी के लिए रीमेक या रिबूट बनाने का चुनाव करने का तीसरा मुख्य कारण है, आधुनिक तकनीकों की पहुंच। पिछली सदी के दौरान स्पेशल इफेक्ट्स का शानदार विकास हुआ है! नयी तकनीक और संपादन की क्षमताओं से स्टूडियो कुछ सबसे प्रसिद्ध और सबसे पसंदीदा कहानियों को नए विज़ुअल इफेक्ट्स, साफ और स्पष्ट छवि, और बेहतर ध्वनि के साथ दोबारा निर्मित कर सकते हैं, जिससे कहानी को नयी ऊंचाइयां मिलती है।

    आप इसे पसंद करें या ना करें, इस प्रगति का एक बहुत अच्छा उदाहरण किंग कॉन्ग के रीमेक में देखा जा सकता है। तब और अब के साथ इस विकासात्मक वीडियो में परिवर्तनों को देखें:

इसका लेखकों के लिए क्या अर्थ है?

तो, रीमेक और रिबूट के लिए हॉलीवुड के प्रेम का हमारे जैसे लेखकों के लिए क्या मतलब निकलता है? क्या हम अपने लैपटॉप बांधें और निकल जाएँ?

बिलकुल नहीं!

फिल्म और टेलीविज़न के इतिहास में थोड़ा गहराई में जाने पर हमें पता चलता है कि इनमें से कई अत्यधिक सफल फिल्में और टीवी कार्यक्रम भी पुरानी कहानियों से बनाये गए बेहतर संस्करण थे। रीमेक और रिबूट के लिए इस लगाव में कुछ भी नया नहीं है, और सफलता पाने तक हमें उद्योग के इस कठिन मार्ग पर किसी तरह से आगे बढ़ते रहना होगा।

पत्रकार, शेन शो, अपने लिंक्डइन लेख में इसे सबसे अच्छी तरह से प्रस्तुत करते हैं, "हॉलीवुड हर साल ज्यादा सीक्वल क्यों बनाता है।"

"फिल्म उद्योग निश्चित दांवों का भूखा जरूर है, लेकिन लोग केवल अच्छी कहानियों के भूखे हैं, जिसके कारण अगला हिट बनाने की उम्मीद में उद्योग वास्तविक पटकथाओं में निवेश जारी रखता है।"

शेन शो

हाँ, यह काफी हद तक सच है कि ज्यादातर हॉलीवुड निश्चित सोने की खानों की तलाश में रहता है, फिर भी नेटफ्लिक्स, अमेज़न, और हुलु जैसी विशाल ऑनलाइन स्ट्रीमिंग कंपनियों सहित, निर्माण के लिए नए मार्गों के विकास के साथ वास्तविक पटकथाओं के लिए लेखकों के लिए संभावनाओं में वृद्धि हुई है।

अभी पिछले वर्ष ही, अमेज़न के "मेनचेस्टर बाई द सी" को सर्वश्रेष्ठ मूल पटकथा और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (केसी अफ्लेक) के लिए ऑस्कर प्राप्त हुआ है, और स्ट्रीमिंग सेवा द्वारा जारी की गयी यह आज तक की पहली ऐसी फिल्म थी जिसे इस प्रतिष्ठित सर्वश्रेष्ठ पिक्चर पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था। 

इसलिए, लिखते रहिये। जी हाँ, लिखते रहिये! हॉलीवुड के लोगों को खुद को निराश करने का मौका मत दीजिये। क्या पता कब कौन से नए अवसर आपकी तलाश में खड़े हों।

वास्तविक पटकथा अमर रहे!

आपको इसमें भी दिलचस्पी हो सकती है...

हाथ एक आवर्धक काँच को पकड़े हुए

मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?

कई लेखक अक्सर पटकथा के पहले 10 पन्नों से जुड़े "मिथक" के बारे में पूछते हैं। वे पूछते हैं, "क्या यह सच है? क्या मेरी पटकथा के केवल पहले 10 पन्ने महत्वपूर्ण हैं?" हालाँकि यह कहना दुर्भाग्यशाली है, लेकिन यह "मिथक" वास्तव में काफी हद तक सत्य है। हालाँकि, केवल पहले 10 पन्ने ही अहमियत नहीं रखते, फिर भी जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की और संभवतः खरीदे जाने की बात आती है तो इसमें इनका बहुत बड़ा योगदान होता है। स्क्रिप्ट पत्रिका में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार, हम यह अनुमान लगा सकते हैं कि हर साल 200,000 से ज्यादा पटकथाएं पूरी की जाती हैं। यदि हम यह मानकर चलें कि 200,000 पटकथाओं में से प्रत्येक में औसतन 110 पन्ने हैं तो इसका अर्थ है कि 22 मिलियन से ज्यादा पन्ने पढ़े जाने के इंतज़ार में हैं। ...

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

अपनी पटकथा के पहले 10 पन्ने लिखने के 10 उपाय

हमारे पिछले ब्लॉग पोस्ट में, हमने आपको पटकथा लेखन के पहले 10 पन्नों के बारे में "मिथक" या वास्तव में कहें तो तथ्य के बारे में बताया। ऐसा नहीं है कि केवल वे महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन जहाँ तक आपकी पूरी पटकथा पढ़े जाने की बात आती है तो निश्चित रूप से वो सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। इसपर ज्यादा जानकारी पाने के लिए कृपया हमारे पिछले ब्लॉग पर जाएँ: "मिथक का खंडन: क्या केवल पहले 10 पन्ने अहमियत रखते हैं?" अब जबकि हमें उनकी महत्ता के बारे में अच्छी समझ है तो चलिए उन कुछ तरीकों के बारे में जानते हैं जिनका ध्यान रखकर हम अपनी पटकथा के पहले कुछ पन्नों को शानदार बना सकते हैं! 1. वो दुनिया तैयार करें जिसके चारों ओर आपकी कहानी घूमती है। अपने पाठकों को कुछ संदर्भ प्रदान करें। दृश्य तैयार करें। ...
एक सफेद काउंटर टॉप पर डॉलर का बिल

टीवी लेखन उद्योग में स्पष्टता और समानता लाने के लिए अनाम गूगल सर्वेक्षण के प्रयास

क्या आपने नया अनाम रूप से निर्मित गूगल सर्वेक्षण देखा जो सोशल मीडिया नेटवर्कों पर अपनी जगह बना रहा है? यदि आपको अभी तक इसे देखने का मौका नहीं मिला तो पूरे दस्तावेज़ के लिए यहाँ लिंक दिया गया है। पिछले हफ्ते की शुरुआत में हॉलीवुड के पटकथा लेखकों का अनाम सर्वेक्षण शुरू हुआ। चूँकि, इसे मंगलवार, 23 जनवरी को इंटरनेट पर प्रकाशित किया गया था, इसलिए इसे सैकड़ों प्रतिक्रियाएं प्राप्त हुई हैं। प्रतिक्रिया देने वालों में नए से लेकर अनुभवी लेखकों तक, निर्माता, और विभिन्न स्टूडियो, नेटवर्कों के निर्देशक, और टीवी कर्मचारी, लेखन कर्मचारी, समन्वयक, और सहायक जैसे पदों पर काम करने वाले लोग शामिल हैं। यह सर्वेक्षण मनोरंजन उद्योग में "वेतन के कुछ रहस्यों" को उजागर करने में सहायता करता है, और नए एवं स्थापित ...

टिप्पणियां